राजनीतिक रूप से अभिरेखन का है अधिक लंबा और विवादास्पद इतिहास

मेरठ

 06-06-2020 10:40 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

आपने अक्सर ही सडकों, भूमिगत स्टेशनों आदि की दीवारों पर कुछ शब्दों, वाक्यों या चित्रों को बने देखा होगा जिन्हें सामान्यतः अभिरेखन या ग्रेफिटी (Graffiti) कहा जाता है। ग्रेफिटी शब्द इतालवी भाषा से आया है जोकि शब्द ‘ग्रेफित्तो’ का बहुवचन है, जिसका अर्थ है खरोंचना। सबसे प्राचीन अभिरेखन लिखित भाषा से पहले बनाये गये थे और दीवारों पर चित्र हजारों साल पहले गुफाओं में दिखायी दिये थे। सांताक्रूज, अर्जेंटीना में स्थित ‘द केव ऑफ हैंड्स (The Cave of Hands)’ शुरूआती समय के आकर्षक प्राचीन अभिरेखनों में से एक है, जोकि 13,000 से 9,000 ईसा पूर्व की पेंटिंग (Painting) है। प्राचीन ग्रीक शहर इफिसस (आधुनिक दिन तुर्की में स्थित) में ‘आधुनिक शैली’ अभिरेaखनों का पहला ज्ञात उदाहरण पाया जा सकता है। प्राचीन रोम के लोगों ने दीवारों और स्मारकों पर अभिरेखन भी उकेरे।

इटली के रोम के पास स्थित एक कमरे की दीवार पर अलेक्सामेनोस (Alexamenos) अभिरेखन, 2ईस्वी के आसपास बनाया गया था और यह ईसा मसीह की शुरुआती ज्ञात छवि में से एक था। यीशु का प्रतिनिधित्व यहाँ एक आदमी के शरीर और एक गधे के सिर के साथ किया गया था। इन अभिरेखनों का उद्देश्य ईसाइयों का अपमान करना और उनका मजाक उड़ाना था। अभिरेखनों का एक और प्रारंभिक रूप हेजिया सोफिया में देखने को मिलता है। शहरी अभिरेखनों की शैली जिसमें स्प्रे कैन (Spray cans) का इस्तेमाल करते हैं, ऐसा लगता है कि 1960 के दशक की शुरुआत में फिलाडेल्फिया में शुरू हुई थी और 1960 के दशक के अंत तक यह न्यूयॉर्क पहुंची तथा सबवे (Subway) रेलगाडियों में उत्पन्न हुई।

70 के दशक के शुरुआती दिनों में लेखक टाकि (TAKI) 183 ने न्यूयॉर्क शहर के अधिकांश हिस्से को अपने टैग (Tag) के साथ अभिरेखनों से आवरित किया तथा इसे एक अलग स्तर दिया। वे वाशिंगटन हाईट्स (Washington heights) में 183 वीं सड़क पर रहते थे और उन्होंने एक संदेशवाहक के रूप में काम किया जो पूरे शहर में घूमते थे। वह जहां भी जाते एक मार्कर (Marker) का उपयोग करके भूमिगत स्टेशनों पर अपना नाम लिखते और अंततः उनके नाम को पूरे शहर में जाना जाता। बाद में, पेंट के स्प्रे कैन का उपयोग करना तुरंत ही लोकप्रिय हो गया जिसका इस्तेमाल ज्यादातर रेलगाड़ियों के बाहर टैगिंग के लिए किया गया। लेखक अपने टैग को किसी और की तुलना में अधिक अद्वितीय और आकर्षक बनाने के लिए अधिक रंगों का उपयोग करता और इस तरह से अभिरेखनों की कला और विज्ञान शुरू हुआ। 1970 के दशक के मध्य में, रेलगाडियों को पूरी तरह से स्प्रे पेंटिंग्स में आवरित किया गया, जिन्हें ‘मास्टरपीस (Masterpiece)’ कहा जाता था।

1980 के दशक तक भूमिगत स्टेशनों और रेलगाडियों पर लिखना काफी कठिन हो गया क्योंकि अक्सर ही कलाकार लिखते हुए पकडे जाते. इस प्रकार अभिरेखन कलाकार अपनी कला के लिए सड़कों, इमारतों या कैनवास (Canvas) की छतों का इस्तेमाल करने लगे। 1980 के दशक की शुरुआत में, एक नई स्टैंसिल (Stencil) अभिरेखन शैली का उदय हुआ तथा ब्लेक ले रैट (Blek le Rat) ने 1981 में पेरिस में इसके कुछ पहले उदाहरण बनाए। कुछ साल बाद स्टैंसिल न्यूयॉर्क शहर, सिडनी और मेलबर्न सहित अन्य शहरों में भी दिखाई देने लगे। कई समकालीन विश्लेषकों और यहां तक कि कला समीक्षकों ने कुछ अभिरेखनों में कलात्मक मूल्य को देखना और इसे सार्वजनिक कला के रूप में पहचानना शुरू किया।

कई कला शोधकर्ताओं के अनुसार, इस प्रकार की सार्वजनिक कला वास्तव में, सामाजिक मुक्ति या एक राजनीतिक लक्ष्य की प्राप्ति का एक प्रभावी उपकरण है। संघर्ष के समय में, इस तरह के अभिरेखनों ने सामाजिक, जातीय या नस्लीय रूप से विभाजित समुदायों के सदस्यों के लिए संचार और आत्म-अभिव्यक्ति का एक साधन पेश किया है और संवाद स्थापित करने में खुद को प्रभावी उपकरण के रूप में साबित किया है। बर्लिन की दीवार भी बड़े पैमाने पर अभिरेखनों द्वारा आवरित की गई थी, जो जीडीआर (GDR) पर दमनकारी सोवियत शासन से संबंधित सामाजिक दबावों को दर्शाती है। ज्यादातर मामलों में, अभिरेखनों के व्यवसायीकरण के साथ, यहां तक कि कानूनी रूप से चित्रित "अभिरेखन" कला के साथ भी अभिरेखन कलाकार गुमनामी का चयन करते हैं, जिसके विभिन्न कारण हो सकते हैं। अभिरेखन अभी भी चार हिप हॉप (Hip Hop) तत्वों में से एक है जिसे ‘प्रदर्शन कला’ नहीं माना जाता है।

कानूनी रूप से, भारत में अभिरेखन प्रति अवैध नहीं है। वास्तव में, अभिरेखन हमेशा भारतीय सामाजिक जीवन का एक हिस्सा रहे हैं। प्राचीन काल से मानव सभ्यता में अभिरेखन पत्थर के चित्रों और दीवार के शिलालेखों के रूप में मौजूद था। यह 1960 के दशक में एक कला के रूप में उभरा जब पूंजीपति प्रणाली के साथ असंतोष व्यक्त करने के लिए श्रमिक वर्ग इसे उपनगरीय न्यूयॉर्क की सड़कों पर ले आया। वर्तमान समय की अभिरेखन कला 1990 के दशक में हिप-हॉप संस्कृति के फैलाव का एक परिणाम है।

भारत में दो प्रकार के अभिरेखन हैं - रचनात्मक और अवक्षेपण। वह अभिरेखन कला जो अपने जीवंत रंगों और हर्षपूर्ण अवधारणाओं के साथ शहर की दीवारों को जीवन में लाने के लिए उपयोग की जाती है, रचनात्मक प्रकार की हैं। भारत में सडक कला धीरे-धीरे महत्व प्राप्त कर रही है क्योंकि अधिकाधिक युवा कलाकार शहर की दीवारों को अपने चित्रों से बदल रहे हैं। भारत में अभिरेखनों के बारे में कानून के कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं हैं। हालाँकि, भारत का संविधान इस संबंध में कुछ प्रावधानों की पैरवी करता है। संविधान का भाग IV राज्य नीति के निर्देशक सिद्धांतों को सुनिश्चित करता है और अनुच्छेद 49, राज्यों को बताता है, कि ‘संसद द्वारा बनाए गए कानून के तहत कलात्मक या ऐतिहासिक हितों के प्रत्येक स्मारक या स्थान या वस्तु की रक्षा या राष्ट्रीय महत्व के प्रत्येक स्मारक या स्थान के विचलन, विघटन, विनाश, निष्कासन, निर्यात आदि के लिए राज्य उत्तरदायी होगा।‘ अनुच्छेद 51A (f) में कहा गया है कि यह प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है कि वह हमारी समग्र सभ्यता और संस्कृति की समृद्ध विरासत को महत्व दे और संरक्षित करे’। इसी प्रकार अनुच्छेद 51A (i) के अनुसार प्रत्येक भारतीय नागरिक का कर्तव्य है कि, वह सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा करे और हिंसा को रोके’।

अवांछित और अप्रिय अभिरेखनों से संरचनाओं के संरक्षण की दिशा में काम करने के लिए इन प्रावधानों में नागरिकों के साथ-साथ राज्य प्राधिकरण दोनों के कर्तव्य शामिल हैं। इनमें सडक कला भी शामिल होगी। राष्ट्रीय और ऐतिहासिक इमारतों, संरचनाओं और स्मारकों पर कलात्मक कार्य अभिरेखनों के साथ निषिद्ध हैं। इससे पता चलता है कि कला और अभिरेखन के बीच अंतर की रेखा सूक्ष्म है, लगभग अस्तित्वहीन है लेकिन इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि, दोनों के बीच अंतर है। यह समझने के लिए कि कला क्या है और क्या नहीं है, प्रमुख रूप से लोगों की व्यक्तिगत अखंडता पर निर्भर है। अमेरिका जैसे देशों (जहां ग्रेफिटी उत्पन्न हुआ) में अभिरेखनों का एक लंबा और राजनीतिक रूप से अधिक विवादास्पद इतिहास रहा है। अभिरेखनों ने मुख्य रूप से जातिवाद के खिलाफ विरोध और गुस्से की अभिव्यक्ति का रूप लिया। इसलिए अभिरेखन को मुख्य रूप से स्थापना-विरोधी (Anti-establishment) माना जाता है।

अमेरिका जैसे देशों में अभिरेखन एक स्थापना-विरोधी अभिव्यक्ति है, क्योंकि सार्वजनिक दीवारों को प्राचीन माना जाता है, और पोस्टर जैसी कलाओं के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि अभिरेखनों को कला का विरोधी माना जाता है। इसलिए - संग्रहालयों और कला दीर्घाओं की उच्च कला के विपरीत अभिरेखनों को ‘विरोधी-कला’ के रूप में देखा गया। एक भूमिगत, स्थापना-विरोधी आंदोलन से मुख्यधारा की कला के रूप में अभिरेखन का परिवर्तन इसके विरोधाभासों के हिस्से के बिना नहीं हुआ है। मूल रूप से, हालांकि, अभिरेखन और सडक कला के कुछ रूप आमतौर पर सरकार या सार्वजनिक संपत्ति पर बिना अनुमति के बर्बरता का कार्य करते हैं लेकिन वे बहुत महत्वपूर्ण बात या मुद्दों पर ध्यान भी आकर्षित करते हैं। इस प्रकार अभिरेखन एक ऐसा परिप्रेक्ष्य प्रस्तुत करते हैं जहाँ विक्षोभ, कला बन जाता है और हमसे एक महत्वपूर्ण प्रश्न पूछता है कि एक समाज के रूप में हमारे अपने सांस्कृतिक मूल्य क्या हैं? अभिरेखन लेखकों और सड़क कलाकारों को एक रचनात्मक आउटलेट (Outlet) प्रदान करना लेखकों और आसपास के समाज के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। यह न केवल व्यक्तिवादी इच्छा को पूरा करता है, बल्कि दर्शकों के रूप में, हमारी खुद की व्याख्याओं को बनाने में भी हमारी रुचि को प्रभावित करता है।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र में भारत के केरल में यह ग्रेफिटी कलाकार देश की इज़्ज़त बड़ा रहे हैं और केवल प्राकृतिक रंगो का प्रयोग करते हैं। (Wikipedia)
2. दूसरे चित्र में केव ऑफ़ हैंड्स का चित्र है। (Wikimedia)
3. तीसरा चित्र भारत में बढ़ते हुए ग्रेफिटी के महत्व को प्रदर्शित कर रहा है। (Freepik)
4. चौथा चित्र ब्लेक के द्वारा तैयार ग्रेफिटी है। (Wikipeida)
5. पांचवे चित्र में यीशु का चित्रण है। (Wikipedia)
6. छठे चित्र में वर्लिन की दीवार पर ग्रेफिटी दिखाई गयी है।(Publicdommainpictures)
7. सातवे चित्र में रेल के ऊपर बनाया गया ग्रेफिटी का कलात्मक उदहारण है।(Flickr)
8. आठवे और नौवें चित्र में आधुनिक ग्रेफिटी के उदहारण है जो क्रमश मलेशिया और यूरोप से हैं। (Wallpaperflare)
संदर्भ:
1. https://bit.ly/2UfP2t6
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Graffiti#Uses
3. https://bit.ly/3dCvVBn
4. https://bit.ly/3eXy2zE
5. https://bit.ly/3dDvCG9

RECENT POST

  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM


  • मेरठ की रानी बेगम समरू की साहसिक कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:10 PM


  • घातक वायरस को समाप्‍त करने में सहायक अच्‍छे वायरस
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:00 AM


  • विदेश की नई संस्कृति में पढ़ाई, छात्रों के लिए जीवन बदलने वाला अनुभव हो सकता है
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     09-05-2022 08:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id