कई लोगों के लिए खौफ का कारण हैं, जहरीले सांप

लखनऊ

 18-11-2021 08:54 AM
रेंगने वाले जीव

इस दुनिया में किसी न किसी व्यक्ति को किसी विशेष प्रकार के जानवर से अत्यधिक डर अवश्य लगता है। जहरीले सांप भी कई लोगों के लिए खौफ का कारण हैं, क्यों कि जहरीले सांप का दंश व्यक्ति के लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है।हालांकि दिलचस्प बात यह है, कि एक जहरीले सांप द्वारा किसी व्यक्ति को काटने की संभावना बहुत कम होती है।इस दुनिया में लोगों के मरने की संभावना सांप के जहर की अपेक्षा कैंसर, हृदय रोग, या वाहन दुर्घटना से अधिक होती है, लेकिन फिर भी कई लोगों के लिए यह अनुचित भय बहुत वास्तविक होता है।ऐसा इसलिए है, क्यों कि हर साल अनेकों लोग सांप द्वारा काटे जाने से मारे जाते हैं। इसके अलावा जिन लोगों को सही उपचार नहीं मिल पाता है,वे विकृति, अवकुंचन, दृश्य हानि, गुर्दे की जटिलताओं और मनोवैज्ञानिक संकट जैसी दीर्घकालिक जटिलताओं से पीड़ित होते हैं। दुनिया भर में हर साल लगभग 54 लाख लोग सर्प दंश से पीड़ित होते हैं। इसके परिणामस्वरूप जहर के कारण होने वाली मृत्यु के 18 से 27 लाख मामले सामने आते हैं।भारत में वर्ष 2000 से लेकर 2019 तक सांप के काटने से अनुमानित 12 लाख लोगों की मौत हुई। ये मामले प्रति वर्ष औसतन 58,000 है।पूरी दुनिया में भारत में सर्पदंश के सबसे अधिक मामले हैं और वैश्विक सर्पदंश से होने वाली मौतों का लगभग 50% हिस्सा भारत में है। किसान, मजदूर, शिकारी, चरवाहे, सांप बचाने वाले, आदिवासी और प्रवासी आबादी, और शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा तक सीमित पहुंच वाले लोग सर्पदंश के प्रति उच्च जोखिम वाले समूह हैं। भारत में सर्पदंश का शिकार होने वाले लोगों की संख्या अधिक इसलिए भी है, क्यों कि लोगों के बीच सांप के काटने को लेकर अनुचित धारणाएं,अपर्याप्त जागरूकता और ज्ञान है। इन सभी चीजों के कारण सर्पदंश के कारण होने वाली मृत्युओं की संख्या और भी बढ जाती है। इसलिए यह आवश्यक है, कि लोगों को इसके बारे में जागरूक किया जाए ताकि वे सर्पदंश को लेकर अपनी धारणाएं बदल सकें। इसके अलावा शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं तक व्यापक पहुंच भी अत्यधिक आवश्यक है। दुनिया भर के कुछ अत्यधिक विषैले सांपों की बात करें तो इनमें ब्लैक मम्बा (Black mamba),बारबा अमरिला (The barba amarilla),बूमस्लैंग (Boomslang),अंतर्देशीय ताइपन (Inland taipan),ईस्टर्न टाइगर स्नेक (Eastern tiger snake),सॉ-स्केल्ड वाइपर (Saw-scaled viper),बैंडेड क्रेट (Banded krait),किंग कोबरा (King cobra) आदि शामिल हैं। वहीं भारत की बात करें तो यहां अत्यधिक जहरीले सांपों की सूची में रैट स्नेक (Rat Snake),कॉमन इंडियन वुल्फ स्नेक (Common Indian Wolf Snake),चेकर्ड कीलबैक (Chequered Keelback), ब्रोंज बैक ट्री स्नेक (Bronze Back Tree Snake),सॉ-स्केल्ड वाइपर,स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा (Spectacled Cobra) आदि शामिल हैं। रैट स्नेक जिसे प्ट्यास म्यूकोसा (Ptyas mucosa) नाम दिया गया है, अपनी रेंगने की गति और बड़े आकार के लिए प्रसिद्ध है। वे चढ़ाई कर सकते हैं, तैर सकते हैं, और जमीन में गहरी खुदाई कर सकते हैं।चेकर्ड कीलबैकदिन, रात में सक्रिय रहते हैं तथा बहुत आक्रामक होते हैं। वे प्रायः चबाने के तरीके से काटते हैं।यह किसी भी छोटे जानवर को खा सकता है।सॉ-स्केल्ड वाइपर निशाचर होते हैं, लेकिन ठंड के मौसम में इन्हें धूप सेंकते देखा जा सकता है।वाइपर एक तरफ रेंगना पसंद करते हैं तथा वे अपने भोजन के लिए छोटे कृन्तकों, स्तनधारियों तथा अकशेरूकीय जैसे बिच्छू आदि पर निर्भर रहते हैं।अधिकांश वाइपर की तरह ही उनके पास हेमोटॉक्सिक (Hemotoxic) जहर होता है।कॉमन क्रेट रात के समय सक्रिय और आक्रामक होते हैं, जबकि दूसरी ओर दिन के समय वे अधिक विनम्र होते हैं।कॉमन क्रेटअन्य सांपों के साथ-साथ कृन्तकों, मेंढकों, टोडों आदि को भी खाते हैं।एक क्रेट के काटने से कोबरा की तरह ही न्यूरोटॉक्सिक (Neurotoxic) विष निकलता है जो पीड़ित के तंत्रिका तंत्र पर कार्य करता है।स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा जिसे नाजा नाजा (Naja naja) कहा जाता है, भी जहरीले सांपों में से एक है, जिसे उकसाने पर यह अपने शरीर के सामने के हिस्से को शरीर की कुल लंबाई के एक तिहाई तक उठा लेते हैं।रसेल वाइपर मुख्य रूप से निशाचर है और मानव-साँप संघर्ष की शीर्ष सूची में हैं।रसेल वाइपर की फुफकार हमारे देश में सांपों की सबसे ऊंची फुफकार में से एक है। उनके पास हेमोटॉक्सिक जहर होता है जो पीड़ित की रक्त कोशिकाओं, ऊतकों और मांसपेशियों पर कार्य करता है।
अगर किसी व्यक्ति को सांप काट लेता है, तो उसके कुशल चिकित्सा प्रबंधन के लिए, आक्रामक प्रजातियों की पहचान के साथ-साथ विष की मात्रा का आकलन बहुत आवश्यक होता है। प्रजातियों की पहचान आम तौर पर पीड़ित या गवाह द्वारा दृश्य विवरण पर आधारित होती है और इसलिए इसके गलत होने की संभावना हो सकती है।।एक रिपोर्ट में कहा गया था, कि इलाज के लिए केवल एक प्रकार के सांप के एंटीवेनम (Antivenom) का ही उपयोग किया जाता है, जिसे पॉलीवैलेंट स्नेक एंटीवेनम (Polyvalent snake antivenom) कहा जाता है।यह एंटीवेनम 'चार बड़े' सांपों से निकाले गए जहर से बना मिश्रण होता है, जिनमें स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा, कॉमन क्रैट, रसेल्स वाइपर,सॉ स्केल्ड वाइपर शामिल हैं।विशेषज्ञों का कहना है कि देश के अलग-अलग हिस्सों से आए सांप के जहर की अलग-अलग विशेषताएं होती है। इसलिए देश के एक हिस्से से एकत्र किए गए जहर का उपयोग करके सांप रोधी जहर(Anti-Snake Venom) बनाने की प्रक्रिया एक त्रुटिपूर्ण प्रक्रिया है। इसलिए यह आवश्यक है, कि सांप के काटने पर बेहतर नियंत्रण,रोकथाम और उपचार की उचित व्यवस्था की जाए।

संदर्भ:
https://bit.ly/3CpTCIw
https://bit.ly/3wW1CQu
https://bit.ly/3CkGWmp
https://bit.ly/3noYnOp
https://bit.ly/3kKNN2s
https://bit.ly/3kJZ0Ae

चित्र संदर्भ   
1. किंग कोबरा, को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. हाथ में काटते सांप को दर्शाता एक चित्रण (Ballistic Magazine)
3. भारतीय रेट स्नेक (Indian rate snake) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. एंटीवेनम के उत्पादन के लिए सांप को दर्शाता एक चित्रण(wikimedia)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id