जैन कला का विकास

लखनऊ

 29-10-2021 06:28 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

यदि आप शिव शंकर शब्द को सुनेगे तो आमतौर पर आपके मष्तिक में ध्यान में मग्न और लंबी जटाओं वाले जिनके माथे पर अर्ध चंद्र विराजमान है, शिव रूप की छवि उभरेगी। इससे यह तथ्य स्पष्ट हो जाता है की, “किसी भी धर्म और देवता की सामाजिक छवि निर्धारित करने और धर्म के विस्तार में कला अथवा मूर्तिकला का एक अहम् योगदान होता हैं”। हम प्रतिमाओं के आधार पर ही किसी भी देवता अथवा अलौकिक व्यक्तित्व की छवि निर्धारित करते हैं। हालांकि अधिकांश धर्मों में मूर्तिकला का विशेष महत्व हैं, किंतु जैन समाज की मूर्ति कला अपने आप में अद्वितीय है। और यही कारण है की यह कला बेहद लोकप्रिय भी है।
भारत में जैन धर्म ने स्थापत्य शैली के विकास में महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। जैन धर्म, सभी जीवों के प्रति अहिंसा का प्रचार करने वाला पारलौकिक धर्म है। इसकी उत्पत्ति भारतीय उपमहाद्वीप में छठी शताब्दी ईसा पूर्व में हुई थी। महावीर (सी। 540–468 ईसा पूर्व) को जैन धर्म के संस्थापक माना जाता है। उनका जन्म एक शाही परिवार में हुआ था, लेकिन उन्होंने एक तपस्वी बनने और जैन धर्म के केंद्रीय सिद्धांतों को स्थापित करने के लिए सांसारिक जीवन को त्याग दिया। भारत में जैन धर्म ने चित्रकला सहित मूर्तिकला और वास्तुकला जैसे कई कलात्मक क्षेत्रों को गहराई से प्रभावित किया है। विशेषतौर पर भारत के पश्चिमी क्षेत्र में आधुनिक और मध्यकालीन जैनियों ने कई मंदिरों का निर्माण किया। उड़ीसा में उदयगिरि और खंडगिरी की गुफाएं सबसे पुराने जैन स्मारकों में मानी जाती हैं, जिन्हें कलिंग के राजा खारवेल (193-170 ईसा पूर्व) के शासनकाल के दौरान जैन भिक्षुओं के लिए आवासीय स्थान के रूप में निर्मित किया गया था। अहिंसा की राह पर चले जैन धर्म को व्यापारी वर्गों और कई शक्तिशाली शासकों का भी साथ मिला। महान मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य (जन्म सी। 340 ईसा पूर्व, शासन सी। 320–298 ईसा पूर्व), लगभग पूरे भारतीय उपमहाद्वीप को जीतने में सफल रहे थे, किन्तु उन्होंने जैन भिक्षु बनने के लिए 42 वर्ष की आयु में अपना सिंहासन त्याग दिया। संप्रति, मौर्य वंश के सम्राट और अशोक महान (304-232 ईसा पूर्व) के पोते भी एक जैन बन गए। आधुनिक और मध्यकालीन जैनियों ने दुनियाभर में कई मंदिरों का निर्माण किया। तत्कालीन जैन कला शैलीगत रूप से हिंदू या बौद्ध कला के समान है, हालांकि इसके विषय और प्रतिमा विशेष रूपसे जैन ही होती हैं। जैन मूर्तिकला को अक्सर ध्यान मुद्रा में उद्धारकर्ताओं, तीर्थकरों या देवताओं के नग्न रूप में चित्रित किया जाता है। जैन चित्रकला और मूर्तिकला सामान्य रूप से चित्रित किये जाने वाले प्रमुख विषय तीर्थंकर, या उद्धारकर्ता, यक्ष और यक्षिणी, और प्रतीक जैसे कमल आदि होते हैं, जो आमतौर पर शांति और कल्याण का प्रतिनिधित्व करते हैं। जैन धर्म के अनुयायी इन छवियों अथवा विषयो की पूजा करते हैं। जैन मूर्तिकला में आमतौर पर पार्श्वनाथ, ऋषभनाथ, या महावीर जैसे लोकप्रिय चौबीस तीर्थकरों को चित्रित किया जाता है। जैन मूर्तियों के निर्माण का एक लंबा इतिहास है, इसके प्रारंभिक उदाहरणों में लोहानीपुर टोरसो शामिल हैं, जिन्हें मौर्य काल से माना जाता है। जैन मूर्तियों में पुरुषों को बैठे और खड़े दोनों मुद्राओं में चित्रित किया गया है। सभी तीर्थंकर या तो पद्मासन (योग मुद्रा में बैठे) या कायोत्सर्ग मुद्रा में खड़े होते हैं। उदाहरण के लिए पार्श्वनाथ की मूर्तियों को आमतौर पर सिर पर सांप के मुकुट के साथ चित्रित किया जाता है। बाहुबली की मूर्तियों को आमतौर पर लताओं से ढका हुआ चित्रित किया जाता है। हालांकि कुछ अंतर के साथ दिगंबर की छवियों को बिना किसी सौंदर्यीकरण के नग्न चित्रित किया जाता है, जबकि श्वेतांबर की छवियों को अस्थायी आभूषणों से सजाया जाता है। जैन मूर्तिकला अपने आप में अद्वितीय हैं, उदाहरण के लिए श्रवणबेलगोला में बाहुबली की एक विशाल अखंड मूर्ति, (जिसने आध्यात्मिक मोक्ष प्राप्त किया ), दक्षिण भारत में कर्नाटक में स्थित है। यह मूर्ति जैन उपासकों के लिए सबसे पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है। मूर्ति को 981 सीई में ग्रेनाइट के एक ब्लॉक से उकेरा गया था यह 57 फीट ऊँची है और प्रथागत रूप से पूरी तरह से नग्न है। जैन सचित्र पांडुलिपियों को ताड़ के पत्ते पर चित्रित किया गया था। इनके शुरुआती चित्र छोटे साधारण चिह्न थे, लेकिन वे धीरे-धीरे अधिक विस्तृत हो गए, जिसमें विभिन्न तीर्थंकरों के जीवन के दृश्यों को विस्तार से दर्शाया गया। 14वीं शताब्दी के बाद से, कागज की बढ़ती उपलब्धता ने बड़े और अधिक विस्तृत जैन सचित्र पांडुलिपियां प्रचलन में आई। हालांकि समय के साथ इस्लाम के उदय ने जैन कला के पतन में अहम् योगदान दिया, लेकिन फिर भी इस कला का पूर्ण उन्मूलन नहीं हुआ। हमारे शहर लखनऊ के संग्रहालय में कई दुर्लभ जैन मूर्तियों और कला के कला के उत्कृष्ट कार्यों के प्रमाण मौजूद हैं, जैसे कि लगभग 15 सीई की 24 तीर्थंकर के साथ ऋषभनाथ और जीना पार्श्वनाथ की मूर्ति यहां पर देखने को मिल जाती हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3EDIaL9
https://bit.ly/3vQH5fD
https://en.wikipedia.org/wiki/Jain_art
https://en.wikipedia.org/wiki/Jain_sculpture

चित्र संदर्भ
1. ग्वालियर किले के अंदर सिद्धाचल गुफाओं में रॉक ने जैन मूर्तियों का एक चित्रण (wikimedia)
2. महावीर (सी। 540–468 ईसा पूर्व) को जैन धर्म के संस्थापक माना जाता है, जिनको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. ऋषभनाथ, मथुरा संग्रहालय, छठी शताब्दी का एक चित्रण (wikimedia)
4. श्रवणबेलगोला में बाहुबली की विशाल अखंड मूर्ति, को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. 1509 सीई कल्पसूत्र पांडुलिपि प्रति, 8वीं शताब्दी जैन पाठ का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id