खतरे में है स्लो लोरिस (Slow Loris) की प्रजाति

जौनपुर

 20-12-2019 01:44 PM
स्तनधारी

जंगली जानवरों को रखना कभी रईसों, राजा महाराजाओं का शौक रहा करता था। लेकिन वर्तमान समय में हर दिन धरती से कई प्रजातियाँ लुप्तप्राय हो रही हैं। मानव द्वारा या तो उनके रहने के इलाके खत्म कर दिए जाते हैं या उनका तब तक शिकार किया जाता है जब तक उनकी प्रजाति संपूर्ण रूप से खत्म न हो जाएं। ऐसे ही भारत में पाई जाने वाली एक प्रजाति है स्लो लोरिस (slow loris) की, जो एक नोक्टुर्नल स्ट्रेप्सिरहाइन प्राइमेट्स (nocturnal strepsirrhine primates) की कई प्रजातियों का एक समूह है जो नक्टिसिसबस वंश से संबंधित हैं।

स्लो लोरिस दक्षिण पूर्व एशिया और सीमावर्ती क्षेत्रों में, पश्चिम में बांग्लादेश और पूर्वोत्तर भारत से लेकर पूर्व में फिलीपींस में सुलु द्वीपसमूह तक, और उत्तर में चीन में युन्नान प्रांत से लेकर दक्षिण में जावा के द्वीप तक हैं पाए जाते हैं। हालांकि कई पिछली वर्गीकरण को एक एकल-समावेशी प्रजाति के रूप में मान्यता प्राप्त है, लेकिन अब इनकी कम से कम आठ प्रजातियाँ हैं जिन्हें वैध माना जाता है: सुंडा स्लो लोरिस, बंगाल स्लो लोरिस, प्याजी स्लो लोरिस, जावा स्लो लोरिस, फिलीपीन स्लो लोरिस, बंगा स्लो लोरिस, बोर्नियन स्लो लोरिस और कायन रिवर स्लो लोरिस।

स्लो लोरिस का सिर गोल, एक संकीर्ण थूथन, बड़ी आंखें, और विभिन्न प्रकार के विशिष्ट रंग पैटर्न होते हैं जो प्रजातियों पर निर्भर करती हैं। इनके हाथ और पैर लगभग बराबर होते हैं और इनका धड़ लंबा और लचीला होता है, जिससे वे पास की शाखाओं पर जाने में समर्थ रहते हैं। स्लो लोरिस के हाथों और पैरों में कई अनुकूलन होते हैं जो उन्हें पिन्सर (pincer) जैसी पकड़ देता है और उन्हें लंबे समय तक शाखाओं को पकड़े रहने में सक्षम बनाता हैं। स्लो लोरिस के विषैले दांत होते हैं, जो स्तनधारियों के बीच एक दुर्लभ और लोरिसिड प्राइमेट (lorisid primates) के लिए अद्वितीय होता है।

यह विष उनकी बांह पर एक यौन ग्रंथि को चाटने से प्राप्त होता है, जो लार के साथ मिश्रित होने पर सक्रिय हो जाता है। इनका ये जहरीले दांत इन्हें शिकारियों से बचाते हैं, और शिशुओं के लिए संरक्षण के रूप में ये स्वयं को चाटने के दौरान इस विष को अपने बालों पर भी लगा देते हैं। स्लो लोरिस जानबूझकर, धीरे-धीरे या बिना शोर किए आगे बढ़ते हैं, और जब किसी शिकारी का एहसास होता है तो ये हिलना बंद कर देते हैं और गतिहीन रहते हैं। इनके केवल प्रलेखित शिकारी, मनुष्यों के अलावा, साँप, परिवर्तनशील बाज़ और आरंगुटान शामिल हैं, हालांकि बिल्लियों, सीविट और भूरे भालू संदिग्ध हैं।

वहीं स्लो लोरिस की प्रजातियों में सबसे बड़ी प्रजाति बंगाल लोरिस की है, ये सिर से पूंछ तक 26 से 38 सेमी और इनका वजन 1 से 2.1 किलोग्राम के बीच तक होता है। इसकी भौगोलिक सीमा किसी भी अन्य स्लो लोरिस की प्रजातियों की तुलना में बड़ी है। इसे 2001 तक सुंडा स्लो लोरिस की उप-प्रजाति माना गया, साथ जातिवृत्तीय विश्लेषण से पता चलता है कि बंगाल स्लो लोरिस सबसे अधिक रूप से सुंडा धीमी लोरिस से संबंधित है। अन्य स्लो लोरिसों की तरह, इनकी नायक भी गीली रहती है, सिर भी गोल है, चेहरा सपाट, बड़ी आँखें, छोटे कान और घने, ऊनी फर होते हैं। इनमें पाए जाने वाला विष भुजा संबंधित ग्रंथि से स्रावित होता है, जो अन्य धीमी लोरिस प्रजातियों से रासायनिक रूप से भिन्न होता है।

अब चूंकि हमने आपको पहले ही बता दिया है कि यह एक विषैले प्राइमेट होते हैं तो समझते हैं कि ये जहर कैसे काम करता है? क्या वे विषैले या जहरीले हैं? और इन दोनों में क्या अंतर है।
इसे समझने के लिए हमें पहले "बांह ग्रंथियों" को समझना होगा, कोहनी की आकुंचक सतह या उदर पक्ष में थोड़ी उभरी हुई लेकिन बमुश्किल दिखाई देने वाली सूजन को बांह ग्रंथि कहा जाता है। घर में रखे गए स्लो लोरिस के अवलोकन से पता चलता है कि जब इन जानवरों को किसी चीज से परेशानी महसूस होती है तो वे अपने बांह ग्रंथि से शिखरस्रावी पसीने (रिसान) के रूप में स्पष्ट, गहन-महक द्रव के 10 माइक्रोलीटर का स्राव करते हैं।

आमतौर पर, नर और मादा स्लो लोरिस परेशान होने पर रक्षात्मक रुख अपनाते हैं। वे अपने सिर को नीचे की ओर झुकाते हैं, जिससे उनके सिर और गर्दन पर बांह ग्रंथि लग जाती है। जैसा की आपको पहले ही बता चुके हैं कि ये इन रसाव को चाटते हैं। स्लो लोरिस में बांह ग्रंथि 6 सप्ताह की उम्र से ही सक्रिय हो जाती है।

अब जानते हैं कि एक विषैला और जहरीला जानवर के मध्य मुख्य अंतर को, दरसल एक विषैला जानवर अपने शिकार के शरीर में काटने या डंक मारने से विषाक्त पदार्थों को डालता है। वहीं एक जहरीला जानवर विषाक्त पदार्थों का उत्पादन करता है जो साँस लेने या डालने के बाद जहरीली होती है जैसे, पफर मछली। चिकित्सा साहित्य से पता चलता है कि मानव में विष स्लो लोरिस के काटने से आती हैं, न कि उनके विषाक्त पदार्थों को साँस के माध्यम से लेने पर।

हालांकि वनों की कटाई, चयनात्मक लकड़ी का कुन्दा और चीर और जलाने वाली कृषि से इनके निवासस्थान को नुकसान पहुंचाया जाता है और पारंपरिक चिकित्सा दवाइयों और मीट साथ ही विदेशी पालतू व्यापार सहित वन्यजीव व्यापार के लिए संग्रह और शिकार किया जाता है। इन और अन्य खतरों के कारण, स्लो लोरिस की सभी पांच प्रजातियों को "अतिसंवेदनशील" या "लुप्तप्राय" के रूप में अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संगठन द्वारा सूचीबद्ध किया गया है। उनके संरक्षण की स्थिति को मूल रूप से 2000 में "कम चिंताजनक" के रूप में सूचीबद्ध किया गया था।

स्लो लोरिस के संबंध में पारंपरिक मान्यताएँ कम से कम कई सौ वर्षों से दक्षिण पूर्व एशिया के लोकगीतों में देखी जा सकती हैं। उनके अवशेषों को अच्छी किस्मत लाने के लिए घरों और सड़कों के नीचे दफनाया जाता है, और उनके शरीर के हर हिस्से का इस्तेमाल पारंपरिक औषधि में किया जाता है, जिसमें कैंसर, कुष्ठ रोग और मिर्गी आदि शामिल हैं। इस पारंपरिक औषधि के प्राथमिक उपयोगकर्ता शहरी, मध्यम आयु वर्ग की महिलाएं शामिल हैं, जो अन्य विकल्पों अपनाने में असहमति को दर्शाती हैं। पालतू जानवर के रूप में अनुकूल न होने के बावजूद स्लो लोरिस को उनके प्यारे रूप के चलते लोगों में इन्हें पालने का सनक देखा गया है। यद्यपि इनका कारोबार करना अवैध है लेकिन फिर भी कई लोगों द्वारा गैरकानूनी रूप से स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों ओर इनका आयात किया जा रहा है। हवाई अड्डों पर सैकड़ों स्लो लोरिस को जब्त किया जाता है, लेकिन क्योंकि उन्हें छिपाना आसान है, इसलिए इन संख्याओं की कुल संख्या का केवल एक छोटा सा हिस्सा माना जा सकता है। व्यापारियों द्वारा इन्हें छोटे बच्चों के लिए एक उपयुक्त पालतू जानवर बनाने के लिए इनके दांतों को काट दिया या निकाल लिया जाता है, इस अभ्यास से अक्सर स्लो लोरिस को अत्यधिक रक्त की हानि, संक्रमण और मृत्यु के दौर से गुजरना पड़ता है।

दांतों के अभाव में स्लो लोरिस खुद को बचा पाने में असमर्थ हो जाते हैं और इसलिए उन्हें जंगल में दोबारा नहीं छोड़ा जा सकता है। व्यवसायों में अधिकांश पकड़े हुए लोरिस भी अनुचित देखभाल के चलते कम पोषण, तनाव या संक्रमण से मर जाते हैं। वहीं कई लोगों द्वार इन्हें पालतू जानवर के रूप में रखा तो जा रहा है, लेकिन वे इन प्रजातियों के बारे में कोई शोध नहीं करते हैं और उन्हें यह मालूम नहीं होता है कि इनकी घर के माहौल में कैसे देखभाल की जानी चाहिए। जिससे पर्यावरण और इन प्रजातियों को बहुत बड़ा खतरा हो रहा है।

संदर्भ :-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Slow_loris
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Bengal_slow_loris
3. https://www.junglesutra.com/the-remarkable-yet-unknown-species-of-india-the-slow-loris/
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Conservation_of_slow_lorises
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Bengal_slow_loris#/media/File:Nycticebus.jpg
2. https://bit.ly/2Z9hj5Y
3. https://bit.ly/2Q2EfQ5



RECENT POST

  • सूफीवाद पर सबसे प्राचीन फारसी ग्रंथ : कासफ़-उल-महज़ोब
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:55 PM


  • जौनपुर की अद्भुत मृदा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:37 PM


  • आईएसएस को आपकी छत से देखा जा सकता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     04-07-2020 07:22 PM


  • भारत के दलदल जंगल
    जंगल

     03-07-2020 03:16 PM


  • शाश्वत प्रतीक्षा का प्रतीक है नंदी (बैल)
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:09 AM


  • शिल्पकारों के कलात्मक उत्साह को दर्शाती है पेपर मेशे (Paper mache) हस्तकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:53 AM


  • इत्र उद्योग में जौनपुर का गुलाब
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:18 PM


  • अंतरिक्ष की निरंतर निगरानी के महत्व को रेखांकित करते हैं, क्षुद्रग्रह हमले
    खनिज

     30-06-2020 06:59 PM


  • परी कथा से कम नहीं है- भारतीय आभूषणों का इतिहास
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:20 AM


  • क्या है, फिल्म शोले के गीत महबूबा से जुड़ा दिलचस्प तथ्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:15 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.