लोहे की खोज से बदला था, इंसानी सभ्यता का रुख

जौनपुर

 21-12-2019 03:12 PM
सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

मानव का अब तक का जीवन काल कई कहानियों और उतार चढ़ाव से होकर के गुजरा है। यह कई लाख सालों का नतीजा है कि आज हम इस प्रकार से जीवन व्यतीत कर रहे हैं। पाषाण कालीन मानव पत्थरों आदि के औजार बना कर अपना जीवन यापन करता था। मानव का शुरूआती जीवन यायावरी में गुजरा लेकिन धातु की खोज ने इसके जीवन को एक नयी दिशा प्रदान की। सर्वप्रथम मानवों ने कांसे के बारे में जाना। कांसे के ज्ञान के बाद ही पूरे विश्व भर में कई सभ्यताओं ने जन्म लिया ये सभ्यताए सिन्धु सभ्यता, मेसोपोटामिया की सभ्यता, मिश्र की सभ्यता आदि हैं। कांसे की खोज जिस काल में हुई और उस काल में जो भी सभ्यताएं बसी उनको कांस्ययुगीन सभ्यता का नाम मिला। कांसे के बाद जिस युग की शुरुआत हुयी उसने वर्तमान विश्व की नीवं रखने में सबसे अहम योगदान का निर्वहन किया। यह खोज थी लोहे की खोज। लोहे की खोज ने मानव जीवन को एक नया आयाम दे दिया। जौनपुर के आस पास के क्षेत्रों में हुयी विभिन्न पुरातात्विक खुदाइयों में इसके ठोस प्रमाण मिले हैं।

उत्तर प्रदेश पुरातत्त्व विभाग ने चंदौली, सोनभद्र आदि जिलों में खुदाइयां कर के दो प्रमुख पुरास्थल खोज निकाले जहाँ पर लोहे के खोज या प्रयोग के प्राचीन साक्ष्य प्राप्त होते हैं। ये पुरातात्त्विक स्थल हैं राजा नल का टीला और मल्हार। इन पुरातात्त्विक स्थलों की खुदाई तत्कालीन निदेशक उत्तर प्रदेश पुरातत्त्व विभाग डॉ राकेश तिवारी के नेतृत्व में की गयी थी। राजा नल के टीले और इससे प्राप्त अवशेषों में चित्रित काले और लाल मृद्भांड मिले हैं जो कि शुरूआती लौह युग से सम्बंधित हैं। ये अवशेष यहाँ के पीरियड 2 के डिपाजिट से मिले हैं। राजा नल के टीले और मल्हार के उत्खनन के पहले जो तिथियाँ प्रस्तुत की गयी थीं वे करीब 700-600 ईसा पूर्व की थी। कालान्तर में चित्रित धूसर मृद्भांड परंपरा के अवशेष मिलने के बाद ये तिथियाँ करीब दूसरी सहस्त्राब्दी ईसा पूर्व तक चली गयी। रेडियो कार्बन तिथि के अनुसार जो कि अतरंजिखेडा, हल्लूर, कौशाम्बी, जाखेरा और नागदा से लोहे के जो स्तरीकृत अवशेष प्राप्त हुए उनकी तिथियों को देखते हुए मध्य भारत के एरण आदि को 1000 ईसा पूर्व का माना गया। लोहे को लेकर सदैव से ही भारतीय विद्वानों में मतभेद था। ऐसा माना जाता है कि भारत प्रारम्भिक लोहे का निर्माण करने वाला एक स्वतंत्र केंद्र था। ताम्रपाषाण काल से सम्बंधित पुरास्थल अहाड़ से उस काल की जमाव में लोहे की उपस्थिति ने एक अलग ही तथ्य प्रस्तुत कर दिया और यह सुझाव प्रस्तुत कर दिया की हो ना हो भारत में सोलहवीं शताब्दी में लोहे के गलाने का कार्य शुरू हो चुका था। हांलाकि यह एक मानक ही था लेकिन यह तो सिद्ध हो ही गया था की हो ना हो भारत में 1300 ईसा पूर्व में लोहे को बड़े पैमाने पर गलाया जाता था। यहाँ से जो तिथियाँ भी प्राप्त हुयी रेडिओ कार्बन डेटिंग के बाद वे 1300 से 1200 ईसा पूर्व की थी। हांलाकि ये जो भी तिथियाँ सामने आयीं वे मध्य भारत आदि की थीं लेकिन मध्य गंगा घाटी की तिथियाँ करीब 800 ईसा पूर्व के आगे नहीं जा रही थी।

इलाहाबाद के समीप झूंसी से मिले लोहे के अवशेष को 1107 से 844 ईसा पूर्व तक माना गया है। इस तिथि ने मध्य गंगा घाटी में लोहे के इतिहास के नए दरवाजों को खोलने का कार्य किया। राजा नल के टीले के पीरियड 1 या काल एक के डिपाजिट में किसी भी प्रकार के धातु के अवशेष नहीं प्राप्त हुए थे। अवधि या पीरियड 2 के मृद्भांड के सम्बन्ध में देखा जाए तो यहाँ चित्रित उत्तरी काली मृद्भांड अवशेष 1.5 से 2 मीटर मोटी परत या जमाव में मिलते हैं। इसी जमाव में लोहा प्राप्त हुआ था। यहाँ से लोहे की तिथियाँ करीब 1400 ईसा पूर्व तक की मापी गयी है। यहाँ से मिले अवशेषों में कील, तीर, चाक़ू, छेनी, पिघले हुए लोहे के अवशेष आदि प्राप्त हुए हैं। यहाँ से प्राप्त इन अवशेषों ने मध्य गंगा घाटी में लौह युग की तिथियों को एक नया आयाम दे दिया। इन तिथियों से यह तो सिद्ध हो गया की सम्पूर्ण भारत भर में लोहे का कार्य नहीं ज्यादा तो 1600 से 1400 ईसा पूर्व के काल में होता रहा था।

सन्दर्भ:-
1.
http://www.rediff.com/news/jan/23iron.htm
2. https://archaeologyonline.net/artifacts/iron-ore.html
3. http://www.bhu.ac.in/aihc/research.htm



RECENT POST

  • ले मोर्ने के तट पर, शानदार भ्रम उत्पन्न करता है मॉरीशस
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:16 PM


  • भार‍तीय फ़ास्ट फ़ूड व् स्‍ट्रीटफूड चाट की बढ़ती लोकप्रियता
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:12 AM


  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id