क्या भविष्य की पीढ़ी के लिए एक लुप्त प्रजाति बनकर रह जाएंगे टिमटिमाते जुगनू?

रामपुर

 14-05-2022 10:07 AM
तितलियाँ व कीड़े

बचपन के वे दिन भी काफी सुहाने हुआ करते थे जब संध्या होते ही दोस्तों के साथ टिमटिमाते जुगनुओं को देखने और पकड़ने का हमारे द्वारा अथक प्रयास किए जाते थे। वाकई वे दिन कभी भूले नहीं जाएंगे, लेकिन क्या आज की पीढ़ी के बच्चे ऐसी यादों के साथ बड़े हो पाएंगे। ऐसे संकेत बताए जा रहे हैं कि इस पीढ़ी के बच्चे जुगनुओं को शायद नहीं देख पाएं। इसके पीछे का कारण पूरे देश में दलदलों और खेतों से जुगनू का गायब होना है। दुनिया भर में पेड़ों को अलंकृत करने वाले जीव लैम्पाइरिडे (Lampyridae) परिवार से संबंधित भृंग हैं।
इनकी ज्ञात 2000 से अधिक प्रजातियां हैं, और प्रत्येक चमकदार प्रजातियों में एक अद्वितीय चमकने का स्वरूप होता है।लेकिन, प्रवासी एक- आदिदारुक तितली की तरह, जुगनू का चमकदार व्यवहार जल्द ही एक लुप्तप्राय अद्भुत घटना बनसकता है।भारत में जुगनू की लगभग 7-8 प्रजातियां ही बची हैं; स्मिथसोनियन (एक यूएस-आधारित पत्रिका) के अनुसार दुनिया भर में 2,000 से अधिक प्रजातियां हैं।मेघालय (Meghalaya) के शिलांग (Shillong) में नॉर्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी (North-eastern Hill University) के प्राणि विज्ञान विभाग में सह-प्राध्यापक डॉ एसआर हाजोंग (SR Hajong) के मुताबिक कि क्या जुगनू की प्रजातियाँ वास्तविकता में विलुप्त हो रही है यह बताने के लिए पर्याप्त विवरण उपलब्ध नहीं है। लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि पूरे देश में और पूरी दुनिया में उनकी आबादी में भारी गिरावट आई है।विशेषज्ञों का कहना है कि जुगनू की आबादी को प्रभावित करने वाले दो प्रमुख कारक कीटनाशकों का उपयोग और बढ़ते प्रकाश प्रदूषण हैं। यदि उन्हें नियंत्रित नहीं किया गया, तो अंततः जुगनू विलुप्त हो जाएंगे, जिससे हमारी गर्मी की रातें कम जादुई हो जाएंगी।हम मनुष्यों द्वारा ही एक समय में बहुतायत में पाए जाने वाले ऐसे कई कीड़ों के विलुप्त होने में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से योगदान दिया है। जब हम रात में अपने बगीचे या आँगन में बाहर रोशनी करते हैं, तब हम अनजाने में अपने क्षेत्र में जुगनू की आबादी में गिरावट में योगदान देते हैं। वैज्ञानिकों ने देखा है कि प्रकाश के कृत्रिम स्रोत के संपर्क में आने के बाद जुगनू अपना रास्ता खो देते हैं और घबराने लगते हैं।घरों, कारों, ट्रेनों, फ्लैशलाइट्स (Flashlights) और स्ट्रीटलाइट्स (Streetlights) से कृत्रिम प्रकाश जुगनुओं के प्रजनन में बाधा डालता है क्योंकि यह जुगनू के संभोग संकेत में हस्तक्षेप करता है।जब हम बाहर रोशनी करते हैं, तो हम जुगनू के संभोग व्यवहार को प्रभावित करते हैं, जिसका अर्थ है कि अगले मौसम के लिए कम अंडे, जिससे इनकी प्रजाति के विलुप्त होने का खतरा अधिक बना रहता है।प्रत्येक प्रजाति एक विशिष्ट संकेत के साथ प्रकाश को चमकाती है, जो मादाओं को अपने नर समकक्षों को पहचानने और उन्हें अन्य प्रजातियों के नर से अलग करने में मदद करती है।
अंधेरे में, जब एक उड़ता हुआ नर मादा के आस-पास एक संकेत करता है, तो वे उसे आकर्षित करने की प्रतिक्रिया में चमकते हैं।जुगनू की संभोग अवधि बहुत सीमित होती है। अंडों के लिए इस अवधि के दौरान विपरीत लिंग के साथ संवाद करना उनके लिए महत्वपूर्ण होता है। इसलिए यदि हम उन्हें परेशान करते हैं, तो प्रभाव गहरा हो जाता है। प्रकाश प्रदूषण, जिसका अभी तक भारत में अध्ययन नहीं किया गया है, उनके लिए एक बहुत ही गंभीर समस्या है।पिछले 20 वर्षों में भारत के विभिन्न हिस्सों में बाहरी रोशनी की चमक लगातार बढ़ रही है।1993 और 2013 के बीच नई दिल्ली, तेलंगाना, महाराष्ट्र, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में प्रकाश प्रदूषण में काफी वृद्धि हुई। पश्चिम बंगाल, गुजरात और तमिलनाडु में भी उच्च प्रकाश प्रदूषण वाले क्षेत्रों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई।वहीं प्रकाश प्रदूषण केवल असम के कस्बों और शहरों, मिजोरम, नागालैंड, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और मणिपुर राज्यों की राजधानियों के पास देखा जाता है। त्रिपुरा उत्तर-पूर्व एक बिजली अधिशेष राज्य है और इसका आसमान रात में उज्जवल होता है। जबकि इस क्षेत्र के शेष क्षेत्र प्रकाश प्रदूषण से मुक्त हैं।प्रकाश प्रदूषण अपेक्षाकृत कम हो सकता है, लेकिन तथ्य यह है कि इन क्षेत्रों में जुगनू पहले की तरह प्रचुर मात्रा में नहीं हैं। उत्तर-पूर्वी भारत के कुछ दूरदराज के स्थानों में जहां बिजली नहीं है में हमें अभी भी जुगनू मिलेंगे, लेकिन उतने नहीं जितने पहले हुआ करते थे।जुगनू के विलुप्त होने में योगदान देने वाला एक अन्य प्रमुख कारक नर और मादा की आबादी में असंतुलन है। यदि किसी प्रजाति में नर कम हैं, तो मादा के पास प्रजनन के लिए पर्याप्त साथी नहीं होंगे। इससे प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा अधिक हो सकता है।कीटनाशक जुगनू को मारकर उनके कीटडिंभ को भी नुकसान पहुंचाते हैं। इसका व्यापक रूप से प्रभाव पड़ता है क्योंकि यह खाद्य श्रृंखला को बाधित करता है और टिड्डों जैसी अन्य प्रजातियों के लिए खतरा बना हुआ है।साथ ही स्वच्छ वातावरण की तलाश में, लोगों द्वारा इनके निवास स्थान दलदलों को भी नष्ट करना शुरू कर दिया है।तेजी से शहरीकरण के कारण दलदली भूमि के सिकुड़ने से जुगनू का आवास समाप्त हो गया है। जुगनू का जीवनकाल कुछ ही हफ्तों का होता है। वे गर्म, आर्द्र क्षेत्रों से प्यार करते हैं और नदियों और तालाबों के पास दलदलों, जंगलों और खेतों में पनपते हैं। स्वच्छ वातावरण की तलाश में और मच्छरों द्वारा फैलने वाली बीमारियों से निपटने के लिए, लोगों ने दलदलों को नष्ट कर दिया है और फलस्वरूप जुगनू के लिए अनुकूल पारिस्थितिकी तंत्र को नष्ट कर दिया गया है।जुगनू अब ग्रामीण इलाकों में भी खतरे का सामना कर रहे हैं। मादा जुगनू आमतौर पर तालाबों, नालों के पास या दलदली इलाकों में जमीन में गिरे हुए पत्तों पर अंडे देती है। लेकिन स्वच्छ वातावरण में रहने के लिए, ग्रामीणों ने भी, झाड़ियों को काटना और दलदलों को भरना शुरू कर दिया है, और जुगनू के आवास को नष्ट करना शुरू कर दिया है।
साथ ही जुगनू चिकित्सकीय और वैज्ञानिक रूप से मनुष्य के लिए उपयोगी हैं। जुगनू का प्रोटीन कैंसर (Cancer) का जल्दी और आसानी से पता लगाने में मदद करता है। यह मानव जाति के लिए वरदान हो सकता है। इससे जुगनू के व्यावसायिक उत्पादन के द्वार भी खुलते हैं।
लूसिफ़ेरेज़ (Luciferase) और लूसिफ़ेरिन (Luciferin) (जुगनू की पूंछ में पाए जाने वाले दो रसायन) एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट (Adenosine triphosphate) की उपस्थिति में प्रकाशित होते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं में असामान्य रूप से उच्च पाया जाता है। जब इंजेक्शन लगाया जाता है, तो रसायन मानव कोशिकाओं में परिवर्तन का पता लगाने में मदद करते हैं जिनका उपयोग कैंसर से लेकर मांसपेशीय दुर्विकास तक कई बीमारियों का अध्ययन करने के लिए किया जा सकता है।लूसिफ़ेरेज़ वैज्ञानिक अनुसंधान, खाद्य सुरक्षा परीक्षण और फोरेंसिक (Forensic) परीक्षणों में उपयोगी साबित हुआ है।कई लोगों के लिए अन्य चिंताएं देश भर में आयोजित होने वाले जुगनू त्योहार हैं, खासकर महाराष्ट्र में। जुगनू त्योहार एक प्रकार का व्यवसाय है। पर्यटक कृत्रिम प्रकाश का उपयोग करके तस्वीरें खींचते हैं क्योंकि वे उत्सव में भाग लेने के लिए भुगतान करते हैं। लेकिन कृत्रिम प्रकाश के साथ तस्वीरें लेना, एक प्रकार से उस क्षेत्र में कृत्रिम प्रकाश को युक्त करके जुगनू को प्रभावित किया जाता है।पर्यटक जुगनू की तलाश में जंगलों में अछूते स्थानों को परेशान करते हैं। ऐसा करते हुए, वे जुगनू के आवास को परेशान और नष्ट कर देते हैं।कुछ वर्षों के बाद, क्षेत्र में कोई जुगनू नहीं बचेगा। हम उन्हें उनके ठिकानों से भगा रहे हैं। वे अगले साल एक अशांत आवास पसंद नहीं करेंगे।
पर्यटन बढ़ने से जुगनू का संभोग प्रभावित होता है। हमें जुगनू त्योहारों की संख्या कम करने की आवश्यकता है, क्योंकि उन्हें समाप्त करना संभव नहीं है। कुछ संगठन ऐसे हैं जिन्होंने वर्ष 2020 अपने त्योहारों को रद्द कर दिया था।वहीं हाल के वर्षों में, मेक्सिको (Mexico), भारत, ताइवान (Taiwan), मलेशिया (Malaysia), थाईलैंड (Thailand) और संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) के कई स्थलों पर पर्यटकों की संख्या में वृद्धि हुई है। मेक्सिको में, पिछले एक दशक में जुगनू पर्यटन का तेजी से विकास रोमांचकारी है, लेकिन चिंताजनक भी है।हालांकि कोविड महामारी ने उन्हें एक क्षणिक राहत दी, लेकिन उन्होंने अधिक पर्यटन के नुकसान को देखा है।कुछ स्थलों पर, अनजाने में मादा जुगनू को रौंदने वाले पर्यटकों द्वारा जुगनू आबादी के प्रजनन चक्र को खतरा है और कीटडिंभ के आवासों को खराब कर रहे हैं। कई प्रजातियों में मादाएं उड़ नहीं सकती हैं, और इसलिए विशेष रूप से पर्यटकों के पैर के नीचे आ जाने के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं। ये कीड़े खाद्य श्रृंखला की रीढ़ हैं। अपने विभिन्न जीवन-चरणों के दौरान, जुगनू शिकारी होने के साथ-साथ शिकार भी होते हैं। उनकी गिरावट का पारिस्थितिकी तंत्र पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है। जबकि व्यापक निगरानी अध्ययन जनसंख्या के रुझान को प्रकट कर सकते हैं, जो लगभग सभी जुगनू प्रजातियों के लिए गायब हैं, क्षेत्रीय सर्वेक्षण, उपाख्यानात्मक विवरण स्पष्ट रूप से हाल के दशकों में कई प्रजातियों की आबादी और बहुतायत में गिरावट का सुझाव देते हैं। जुगनू पृथ्वी में लगभग 100 मिलियन से अधिक वर्षों से हैं। डायनासोर के बाद से, वे चमकने की अपनी भाषा में सुधार कर रहे हैं। लेकिन वे मानव द्वारा किए जा रहे उनके आवास में हस्तक्षेप को सहन करने में सक्षम नहीं हैं और शायद आने वाले समय में विलुप्त हो जाएं, क्योंकि अभी भी कई शहरों में व्यापक रूप से कृत्रिम रोशनी को लगाया जा रहा है और इसे कम करने का कोई भी उपाए नहीं सोचा गया है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3Pjwiny
https://bit.ly/3MePXD4
https://bit.ly/3McxBCV
https://bit.ly/3Lj4Y5O

चित्र संदर्भ

1. जुगनू को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
2. लैम्पाइरिस नोक्टिलुका प्रजाति की एक पंखहीन जुगनू मादा और नर को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
3. मादा जुगनू को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
4. जर्मनी के नूर्नबर्ग के पास जंगल में जुगनू, 30 सेकंड के एक्सपोजर को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
5. घर के बाहर जुगनुओं को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)



RECENT POST

  • प्रकृति में सहजीवन की अनोखी कहानियां, आश्रय के लिए बबूल चींटियां बन जाती हैं बबूल के पेड़ की अंगरक्षक
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:42 PM


  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id