गर्मियों में रामपुर की कोसी नदी में तैरने से पूर्व बरती जानी चाहिए, सावधानियां

रामपुर

 13-05-2022 09:35 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

गर्मियां शुरू होते ही, रामपुर के निकट बहने वाली स्थानीय नदियां, रामपुर निवासियों के लिए कुदरती स्विमिंग पूल (natural swimming pools) बन जाती है, जहां गर्मी से बचने और तैराकी सीखने के लिए सैकड़ों लोग नदी के ठन्डे पानी में हाथ आजमाइश करने लगते हैं! हालांकि पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों पर नज़र डालें तो रामपुर की कोसी नदी ने कई नौसिखिया और यहां तक की अनुभवी तैराकों को भी अपनी चपेट में लिया है। जिस कारण यहाँ तैरने से पूर्व कुछ सावधानियां बरतना बेहद जरूरी हो जाता है। रामपुर में कोसी नदी रामगंगा नदी की एक सहायक नदी है, जिसका उद्गम कुमाऊं पहाड़ियों के निचले हिमालय में हुआ था। अल्मोड़ा से लगभग सौ किलोमीटर की यात्रा करते हुए, यह नदी रामपुर को पार करती थी। इस जीवनदायिनी नदी के कारण रामनगर से रामपुर तक की पूरी पट्टी, सदियों से चावल के उत्पादन के लिए सबसे उपजाऊ क्षेत्रों में से एक के रूप में समृद्ध हुई। सिंचाई के उद्देश्य से पानी के प्रवाह को मोड़ने के लिए इस बिंदु पर कोसी में एक बांध बनाया गया था। सदियों से इस जिले की भूमि को सींचने वाली नदी के पानी को पकड़े हुए कोसी नदी पर एक सौ बीस साल से अधिक पुराने बांध अभी भी ऊंचे खड़े हैं। कोसी नदी 720 किमी (450 मील) लंबी है और तिब्बत, नेपाल और बिहार में लगभग 74,500 किमी 2 (28,800 वर्ग मील) के क्षेत्र में बहती है। अतीत में, कई लेखकों ने प्रस्तावित किया था कि पिछले 200 वर्षों के दौरान नदी ने अपना मार्ग पूर्व से पश्चिम की ओर 133 किमी (83 मील) से अधिक स्थानांतरित कर दिया है। नदी बेसिन लकीरों से घिरी हुई है जो इसे उत्तर में यारलुंग त्सांगपो नदी (Yarlung Tsangpo River), पश्चिम में गंडकी और पूर्व में महानंदा से अलग करती है।
कोसी नदी को "बिहार का शोक" के रूप में जाना जाता है, क्योंकि इसमें आने वाली वार्षिक बाढ़ से लगभग 21,000 किमी2 (8,100 वर्ग मील) उपजाऊ कृषि भूमि प्रभावित होती है, जिससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था भी प्रभावित होती है। 18 अगस्त 2008 को, नेपाल के कुसाहा में नदी के तटबंध के टूटने से लगभग 2.7 मिलियन लोग प्रभावित हुए, जिससे नेपाल और भारत के कई जिले जलमग्न हो गए। सबसे बुरी तरह प्रभावित जिलों में सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, खगड़िया के कुछ हिस्से और भागलपुर के उत्तरी हिस्से के साथ-साथ नेपाल के आसपास के क्षेत्र शामिल थे। इसका औसत जल प्रवाह (निर्वहन) 2,166 घन मीटर प्रति सेकंड (76,500 घन फीट/सेकंड) है। यही कारण है की तैराकी के संदर्भ में कोसी नदी बेहद संवेदनशील मानी जाती है!
रामपुर में दो या तीन दिन की भारी बारिश के बाद ही उफनती नदियां कहर ढाने लगती हैं। परिणामस्वरूप पिछले वर्ष अक्टूबर में रामपुर में उफनाई कोसी नदी पर लालपुर में बना अस्थायी पुल बह गया। वहीं, दढ़ियाल में छह लोग कोसी नदी के पानी में बह गए। यदि ऊपर से पहाड़ पर हुई बारिश का पानी, रामनगर बैराज से पास किया जाता है, तो नदियां उफनाने लगती और आसपास के ग्रामीण इलाकों में तबाही मचाना शुरू कर देती है। कोसी नदी के खतरों को चेताती एक और दुर्घटना तब सामने आई जब रामपुर के पटवाई थाना क्षेत्र में मवेशी चराने गया ग्रामीण कोसी नदी में डूब गया। आनन-फानन गांव के युवक उसे बचाने नदी में कूद पड़े। लेकिन करीब घंटेभर मशक्कत के बाद वृद्ध का शव बरामद हुआ। मानसून के दौरान कोसी नदी में तैराकों की संख्या भी बढ़ जाती है, और इसी के साथ ही दुर्घटनाओं के मामले भी बढ़ जाते हैं। हालांकि ऊपर पहाड़ों में अल्मोड़ा की ओर कोसी नदी में कुछ ऐसे स्थान भी हैं, जो तैराकी के लिए सुरक्षित क्षेत्र हैं। संवेदनशील नदियों में तैराकी करने से पूर्व कुछ ऐसे उपाय होते हैं, जिन्हे अपनाकर कोई भी व्यक्ति आपात स्थिति में सुरक्षित रह सकता है। गर्मियों में पानी में तैरने, कूदने और खेलने के लिए बाँध बहुत लोकप्रिय स्थान होते हैं। लेकिन वे तैराकों को परेशानी में डाल सकते हैं। बहुत से लोग कुछ प्रसिद्ध सार्वजनिक तैराकी स्थानों के साथ वियर से ऊपर की ओर पूल में तैरते हैं, यह एक मेड़ का शीर्ष होता है, जो आमतौर पर कम प्रवाह में पर्याप्त सुरक्षित होता है, बस सावधान रहें कि आप फिसले नहीं और नीचे नहीं गिरे। कुछ प्रकार के वियर, जैसे यू आकार और बॉक्स वियर, अनुभवी तैराकों के लिए भी घातक होते हैं। मेड़ के तल पर पुनरावर्तित पानी नाव को पलट सकता है या तैराक को नीचे खींच सकता है। वियर भले ही ज्यादा ऊंचे न हों, फिर भी बहुत खतरनाक होते हैं। कभी भी किसी मेड़ के पास न जाएं। सभी चेतावनी संकेतों का पालन करें और कभी भी बूम क्रॉस (boom cross) न करें। एक मेड़ के तल पर मछली पकड़ने न जाएं, और हमेशा चेतावनी के संकेतों का पालन करें।

संदर्भ
https://bit.ly/3M9txTX
https://bit.ly/3yFliL8
https://bit.ly/3PgeGsy
https://bit.ly/3yysCrW
https://bit.ly/3NbHHUs
https://bit.ly/3Pld0hM
https://bit.ly/3l814Sx

चित्र संदर्भ
1. नदी में नहाते बच्चों को दर्शाता एक चित्रण (pxhere)
2. कोसी नदी को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. बिहार की बाढ़ को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. पानी में डूबते युवक को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. घाट पर गए पर्यटकों को दर्शाता एक चित्रण (Hippopx)



RECENT POST

  • प्रकृति में सहजीवन की अनोखी कहानियां, आश्रय के लिए बबूल चींटियां बन जाती हैं बबूल के पेड़ की अंगरक्षक
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:42 PM


  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id