कीटों के अद्भुत रंगीन संसार को प्रदर्शित करती हैं, माइक्रोग्राफी

रामपुर

 05-05-2022 07:15 AM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

आसमान, धरती और सभी जलीय जीवों के लिए आंखें, संभवतः सबसे उत्कृष्ट वरदान (excellent gift) होती हैं! लेकिन शायद आपको यह जानकर हैरानी होगी की, कई जलीय जानवर, केवल कुछ सीमित रंगों को ही देख सकते हैं! वहीं दूसरी तरफ, अनेक जानवर ऐसे भी हैं, जो की हम इंसानों से अधिक रंगों को देख सकते हैं! किंतु हमारी इन कुदरती आंखों के अलावा भी हमारे पास एक तीसरी आँख, अर्थात माइक्रोस्कोप (microscope) मौजूद हैं। जिसकी सहायता से हम किसी भी वस्तु को न केवल बहुत बारीकी से देख सकते हैं, बल्कि कई अन्य जीव जंतुओं के नज़रिये से भी इस संसार को देख सकते हैं, और यह सब संभव हो पाया है, माइक्रोग्राफी की सहायता से।
सूक्ष्म जीवों तथा वस्तुओं के विवरण, अध्ययन, ड्राइंग या फोटोग्राफी हेतु, माइक्रोस्कोप का उपयोग करने की तकनीक को माइक्रोग्राफी कहा जाता है। एक पेशेवर माइक्रोस्कोपी या माइक्रोग्राफी (microscopy or micrography) बनने के लिए, मूलतः वैज्ञानिक होने की कोई आवश्यकता नहीं होती है! ज्यादातर लोगों के लिए, छोटे कीड़े एक झुंझलाहट और कभी-कभी एक भयावह प्राणी होते हैं। उनके लिए वे ऐसे प्राणी होते हैं, जिन्हें एक हाथ से काट दिया जाता है, एक पैर से कुचल दिया जाता है या कीटनाशकों से मिटा दिया जाता है। लेकिन लेवोन बिस्स (levon biss) नामक एक मैक्रोफोटोग्राफर (macrophotographer,) बहुत छोटे विषयों के अत्यधिक क्लोज-अप ( “extreme close-up” नज़दीक से) शूट करते है। लेवोन बिस्स एक पुरस्कार विजेता ब्रिटिश फोटोग्राफर हैं। उनका काम दुनिया भर में कई दीर्घाओं और संग्रहालयों में प्रदर्शित किया गया है।
जून 2022 में मिस्टर बिस्स के काम पर आधारित एक शो की शुरुआत में 40 कीड़ों को उजागर किया जायेगा, जिनमें से कुछ पहले से ही विलुप्त हैं, और अन्य को संकटग्रस्त माना जाता है। साथ ही कुछ ऐसे भी जीव इसमें शामिल हैं, जिन्हें प्रयोगशालाओं में पाला जा रहा है, ताकि उन्हें जंगल में वापस भेजा जा सके। इनमें मोनार्क तितली (monarch butterfly), नौ-धब्बेदार लेडीबग (nine-spotted ladybug), प्यूरिटन टाइगर बीटल (Puritan Tiger Beetle) और माउंट हर्मन जून बीटल (Mount Hermann June Beetle) शामिल हैं। श्री बिस्स की तस्वीरों के लिए अधिकांश मॉडल 20 मिलियन से अधिक नमूनों से चुने गए हैं, जो संग्रहालय के अभिलेखागार (Archives) का हिस्सा हैं। बिस्स का कैमरा इन छोटे-छोटे जीवों को पूरी तरह से नए तरीके से दिखाता है, जिसमें ऐसी तकनीक का प्रयोग किया गया है, जो उनकी सुंदरता के छोटे विवरणों को बड़े अनुपात में बढ़ा देती है। फ़िलहाल के लिए, प्रदर्शनी, 54 इंच गुणा 96 इंच (54 * 96) जितनी बड़ी तस्वीरों के साथ, संग्रहालय की एकेली गैलरी और निकटवर्ती पूर्वी गैलेरिया में रखी जाएगी।
मिस्टर बिस, सूक्ष्म मूर्तिकला: कीड़ों के चित्र" के लेखक भी हैं, जिन्होंने अपने काम को ह्यूस्टन, कोपेनहेगन (Houston, Copenhagen) और उससे आगे के संग्रहालयों की एक श्रृंखला में भी प्रदर्शित किया है। श्री बिस्स की तस्वीरें माइक्रोस्कोप लेंस (microscope lens) का उपयोग करके 10,000 व्यक्तिगत छवियों से बनाई गई हैं! बिस्स के अनुसार उन्होंने, मैक्रोफोटोग्राफी की शुरुआत 2012 में अपने बेटे सेबस्टियन (Sebastian) के साथ शुरू की, जिसने उनके घर के पिछवाड़े में एक कीट खोजा और फिर उन दोनों ने इसे एक माइक्रोस्कोप के नीचे देखा। इसके विवरण ने उन्हें चौंका दिया तथा इस क्षेत्र में उनकी रूचि को और भी अधिक बढ़ा दिया। माइक्रोस्कोपी को बढ़ावा देने के लिए, प्रतिवर्ष ओलंपस साइंटिफिक सॉल्यूशंस (Olympus Scientific Solutions) द्वारा ओलंपस इमेज ऑफ द ईयर अवार्ड (Olympus Image of the Year Award) प्रतियोगिता आयोजित की जाती है। इस दौरान प्रतिभागी प्रतियोगिता में अधिकतम तीन तस्वीरें अपलोड कर सकते हैं, किंतु उन्हें ओलिंप-ब्रांडेड माइक्रोस्कोप (Olympus-branded microscope) के साथ नहीं लेना चाहिए।
प्रकाश माइक्रोस्कोप (light microscope) का उपयोग करने वाले सभी प्रतिभागियों के लिए प्रतियोगिता खुली है। इसका मतलब है कि प्रतियोगिता में मैक्रो शॉट्स, इलेक्ट्रॉन (macro shots, electron) या किसी अन्य सूक्ष्मदर्शी (Microscopes) से ली गई तस्वीरों की अनुमति नहीं है। पिछले वर्ष, ओलंपस इमेज ऑफ द ईयर अवार्ड 2021 ने अपनी वार्षिक फोटोग्राफी प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा की है, जिसके अंतर्गत माइक्रोस्कोप से ली गई जीवन विज्ञान तस्वीरों में सर्वश्रेष्ठ विश्वव्यापी प्रतिभा की खोज की जाती है। इस प्रतियोगिता के बाद एक वैश्विक विजेता के साथ-साथ अमेरिका, यूरोप से मध्य पूर्व और अफ्रीका (EMEA), और एशिया-प्रशांत के साथ क्षेत्रीय विजेताओं की घोषणा की। विजेताओं का चुनाव करने वाली जूरी (Jury), जिसमें वैज्ञानिक विशेषज्ञ और शिक्षाविद शामिल हैं, ने कलात्मक और दृश्य पहलुओं, वैज्ञानिक प्रभाव और माइक्रोस्कोप पर प्रस्तुत तस्वीरों को जज (Judge) किया। इस प्रतियोगिता में समग्र विजेता तस्वीर चेक गणराज्य (Czech Republic) से जान मार्टिनेक (Jan Martinek) द्वारा ली गई थी। उनकी तस्वीर में एक अरबइडॉप्सिस थलियाना (Arabidopsis Thaliana) फूल दिखाया गया है, जिसमें पराग नलिकाएं स्त्रीकेसर (pistil) के माध्यम से बढ़ती हैं। इसके साथ ही संयुक्त राज्य अमेरिका के इवान रेडिन (Ivan Radin) को उनकी तस्वीर के लिए क्षेत्रीय विजेता के खिताब से सम्मानित किया गया था, जिन्होंने मॉस (Physcomitriumpatens protonema) कोशिकाओं के विघटित जेड-स्टैक (z-stack) का अधिकतम प्रक्षेपण दिखाता है। नीदरलैंड से, (Vasilis Kokkorisfrom from Netherlands) ने EMEA क्षेत्रीय पुरस्कार जीता। उनकी तस्वीर में एक मिट्टी के कवक के बहुकोशिकीय बीजाणुओं (multicellular spores) को दर्शाया गया है। इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के डेनियल हान (Daniel Han) ने बीजाणु फूटते हुए फ़र्न सोरी कैप्सूल (Fern Sori Capsule) की एक तस्वीर के साथ एशिया-प्रशांत क्षेत्रीय श्रेणी जीती।
इस फोटो के लिए उन्होंने Z-स्टैकिंग (Z-stacking) का इस्तेमाल किया जो माइक्रोस्कोपी के लिए फोकस-स्टैकिंग विधि (focus-stacking method) है। माइक्रोग्राफी छोटे-छोटे कीटों के अद्भुत संसार को देखने के लिए एक अहम् कड़ी के रूप में काम करती हैं, उसे देखते हुए इस बात में कोई संदेह नहीं है, की दुनियाभर में आयोजित की जाने वाली माइक्रोग्राफी प्रतियोगितायें (micrography competitions) कीटों की महत्ता को भी उजागर करती हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/37cMK7Q
https://nyti.ms/3w6Haw2
https://bit.ly/3w3exjv

चित्र संदर्भ
1  माइक्रोग्राफी (micrography) कीट को दर्शाता एक चित्रण (Picryl)
2. जैव रासायनिक प्रयोगशाला में सूक्ष्म परीक्षण को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. माइक्रोग्राफी (micrography) से देखने पर बैक्टरिया को दर्शाता एक चित्रण (Hippopx)
4. माइक्रोग्राफी (micrography) से देखने पर आटा बीटल (ट्राइबोलियम कैस्टेनम) को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5. कन्फोकल लेजर स्कैनिंग फ्लोरेसेंस माइक्रोग्राफ ऑफ़ थेल क्रेस एथर (पुंकेसर का हिस्सा) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. न्यूरॉन्स, कन्फोकल फ्लोरेसेंस माइक्रोस्कोपी को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • प्रकृति में सहजीवन की अनोखी कहानियां, आश्रय के लिए बबूल चींटियां बन जाती हैं बबूल के पेड़ की अंगरक्षक
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:42 PM


  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id