प्राचीन भारतीय परिधान अथवा वस्त्र

रामपुर

 25-11-2021 09:42 AM
ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

संभवतः "सादा जीवन उच्च विचार" की कहावत भारत के प्राचीन इतिहास को ध्यान में रखकर ही गढ़ी गई हो क्यों की यदि हम भारत के प्राचीन इतिहास पर एक नज़र डालें तो पाएंगे की, आज जहां आधुनिक मानव, स्वयं को सुन्दर एवं आकर्षक दिखाने की और अधिक ध्यान देता है। वहीं प्राचीन भारत में अधिकाशं विद्वान अथवा आम नागरिक भी स्वयं के मन एवं आत्मा को तृप्त रखने का प्रयास करते थे। जिसका प्रमाण हमें प्राचीन काल में भारत के परिधानों (कपडे अथवा पोशाक) को देखकर मिलता है।
प्राचीन भारत में लोग आमतौर पर सूती कपड़े पहनते थे। पाषाण युग में (यहाँ तक कि 5000 ईसा पूर्व में) भी भारत विश्व में एकमात्र ऐसा स्थान था, जहाँ लोग कपास उगाते थे। प्राचीन भारतीय पुरुष आमतौर पर धोती पहनते थे। (यह एक प्रकार का कपड़ा होता था जो उनकी कमर में लपेटा जाता था और पीछे की तरफ बंधा होता था। कुछ पुरूष भी सिर पर पगड़ी बांधते थे। पुरुष हजारों वर्षों तक इस तरह के कपड़े पहनते रहे। महिलायें आमतौर पर कमर से घुटनों तक वस्त्र पहनती थी, और संभवतः धूप से बचने के लिए सिर पर एक कपड़ा लपेटती थी। श्रंगार के तौर पर महिलाओं ने हार और कंगन भी पहने, जो शुरआत में पत्थर और खोल के मोतियों से बने होते थे, और बाद में कांस्य और चांदी और सोने के बनने लगे। वैदिक काल तक, भारतीय महिलाएं ईरानी महिलाओं या ग्रीक महिलाओं की भांति लपेटे हुए और अपने चारों ओर पिन किए हुए कपड़े पहनती थीं। कुछ महिलाओं ने अपनी कमर के चारों ओर लपेटी हुई और प्लीटेड स्कर्ट (pleated skirt) पहनी और सामने की ओर एक शॉल या घूंघट के लिए कपड़े का एक अलग टुकड़ा पहना। गुप्त काल के उत्तरार्ध में, लगभग 500 ईस्वी में, कई महिलाओं ने एक बहुत लंबे कपड़े को साड़ी के रूप में पहनना शुरू किया। साड़ी शब्द संस्कृत के एक शब्द से आया है, जिसका अर्थ होता है कपड़ा। वेदों में लिखित कहानियाँ हैं, जिनमें लगभग 600 ईसा पूर्व साड़ियों का उल्लेख है। अमीर महिलाएं चीन की रेशम की साड़ी पहनती थीं, लेकिन ज्यादातर महिलाएं सूती साड़ी पहनती थीं। साड़ियों को लपेटने के कई अलग- अलग तरीके थे। यह इस आधार पर निर्भर करता था की, आप कितने अमीर थे, और आप भारत में कहाँ रहते थे।
प्राचीन समय में सेना के साथ लड़ रही महिलाओं ने साड़ी के शीर्ष भाग को पीछे की ओर बांध दिया, ताकि लड़ने के लिए अपनी बाहों को मुक्त किया जा सके। अधिकांश साड़ियाँ पाँच या छह गज लंबी थीं, हालाँकि कुछ साड़ियाँ नौ गज की भी थीं। महिलाएं आम तौर पर चमकीले रंग की साड़ियाँ पहनती थीं, लेकिन विधवा महिलायें शोक में केवल सफेद साड़ी ही पहनती थी। भारत में वस्त्रों की कहानी दुनिया में सबसे पुरानी और प्रागैतिहासिक काल की है। कुछ गुफा चित्रों में मेसोलिथिक (Mesolithic) युग के कमर के वस्त्रों का चित्रण करने वाले उदाहरण पाए गए हैं। हालंकि कपड़ा उत्पादन और उपयोग के ठोस सबूत प्रोटो-ऐतिहासिक काल यानी तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व से दिखाई देने लगते हैं। हड़प्पा और चन्हुदड़ो से जंगली स्वदेशी रेशम कीट प्रजातियों के प्रमाण तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के मध्य में रेशम के उपयोग का अनुमान देते हैं।
दुर्भाग्य से आज प्राचीन भारतीय कपड़ा निर्माण से संबंधित कोई भी संपत्ति नहीं बची है, लेकिन मूर्त साक्ष्य की कमी को पुरातात्विक खोजों और साहित्यिक संदर्भों से पूरा किया जा सकता है। मोहनजो-दारो (सी.2500 से 1500 ईसा पूर्व) की साइट पर खुदाई से चांदी के बर्तन के चारों ओर लपेटे हुए और मैडर-डाइड (एक जड़ी बूटी डाई) कपास के टुकड़ों के साथ डाई वत्स की उपस्थिति का पता चला है। यह प्राचीन समय में एक मॉर्डेंट, एक कार्बनिक ऑक्साइड (mordant, an organic oxide) के उपयोग से कपड़े पर रंग फिक्सिंग की प्रक्रिया की उन्नत समझ को दर्शाता है । इसके अलावा, उत्खनन से प्राप्त एक पत्थर की मूर्ति में चारों ओर लिपटा हुआ एक पैटर्न वाला कपड़ा स्पष्ट रूप से दर्शाया गया है। साक्ष्य के ये दो टुकड़े प्राचीन भारतीय सभ्यता में मौजूद एक परिपक्व कपड़ा शिल्प कौशल के स्पष्ट प्रमाण हैं।
सिंधु घाटी के घरों में स्पिंडल और स्पिंडल व्होरल (spindle whorl) की खोज से यह स्पष्ट होता है की, तत्कालीन समय में कपास और ऊन की कताई बहुत आम थी। हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, चन्हुदड़ो, लोथल, उरकाटोडा और कालीबंगन में सिंधु स्थलों से पत्थर, मिट्टी, धातु, टेराकोटा या लकड़ी के धुरी के शुरुआती नमूने पाए गए हैं। माना जाता है कि हड़प्पावासियों की व्यावसायिक फसलों में कपास का प्रमुख स्थान था। पुरातात्विक साक्ष्यों से हमें हड़प्पा सभ्यता के दौरान पहने जाने वाले परिधानों की एक झलक मिलती है। देवी माँ की मूर्तियाँ जो कमर तक नग्न हैं,इससे ज्ञात होता है कि, महिलाएं घुटने तक पहुँचने वाला एक बहुत ही छोटा निचला वस्त्र पहनती थी। मोहनजो-दारो में पुजारी राजा की मूर्ति से, प्रतीत होता है कि वस्त्र, कढ़ाई के साथ या बिना, बाएं कंधे पर और दाहिने हाथ के नीचे पहना जाता था। सिलाई की कला प्राचीन भारत में भी प्रचलित थी।
वैदिक काल (1500-800 ईसा पूर्व) से हमें उन सामग्रियों और पहनावे के तौर-तरीकों के संदर्भ मिलते हैं, जो प्राचीन भारत के कपड़ा इतिहास के विकास की ओर इशारा करते हैं। ऋग्वेद में एक बुनकर को वासोवय कहा गया है। नर बुनकर को वाया कहा जाता था जबकि मादा बुनकर को वायत्री कहा जाता था। ऋग्वेद मुख्य रूप से दो वस्त्रों, वासा या निचले वस्त्र और अधिवास या ऊपरी वस्त्र को संदर्भित करता है। कढ़ाई के सन्दर्भ वैदिक ग्रंथों में पेसा या कशीदाकारी परिधान के रूप में भी सामने आते हैं, जिन्हे देखकर प्रतीत होता है की इन्हे महिला नर्तकियों द्वारा इस्तेमाल किया गया। ऋग्वेद में कपड़ों के रूपकों का उपयोग बहुत बार होता है। इंद्र को समर्पित एक भजन में, उनकी स्तुति, भजनों की तुलना में सुरुचिपूर्ण ढंग से बनाए गए वस्त्रों या विशालेवभद्र सुकृता से की जाती है।
उरना सूत्र (ऊनी धागे) का उल्लेख बाद की संहिताओं में लगातार मिलता है। मुद्रित कपड़े का सबसे पहला संदर्भ वैदिक युग से आपस्तंब श्रौत सूत्र में 'चित्रंत' शब्द में मिलता है। यज्ञोपवीत, ब्राह्मणों द्वारा पहना जाने वाला पवित्र धागा, सूती धागे से बनाया गया था। संस्कृत महाकाव्य महाभारत (सी। 400 ईसा पूर्व-सी। 400 सीई) में हिमालयी क्षेत्रों के सामंती राजकुमारों द्वारा युधिष्ठिर को दिए गए उपहारों में रेशमी कपड़ों का उल्लेख है। बुनाई के संदर्भ ऋग्वेद से बहुत आम हैं। महाभारत में मुद्रित कपड़े का भी उल्लेख है। मुद्रित कपड़ों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सामान्य शब्द चित्रा वस्त्र है। इससे स्पष्ट होता है कि प्राचीन भारत में भी वस्त्रों की छपाई होती थी। महाभारत में, 'मणि चिरा' का उल्लेख है, जो संभवत: एक दक्षिण भारतीय कपड़ा है जिसमें मोतियों को फ्रिंज में बुना जाता है। वाल्मीकि की रामायण (5वीं/6वीं – 3वीं शताब्दी सीई) के अनुसार, सीता की पोशाक में ऊनी कपड़े, फर, कीमती पत्थर, विविध रंगों के महीन रेशमी वस्त्र, विभिन्न प्रकार की शाही सजावटी और भव्य गाड़ी शामिल थी। रामायण और महाभारत महाकाव्यों में घूंघट, चोली और शरीर के कपड़ों का बार-बार उल्लेख किया गया है।

संदर्भ
https://indianculture.gov.in/node/2730142
http://arthistorysummerize.info/textiles-india-ancient-times/ https://quatr.us/india/people- wear-ancient-india.htm

चित्र संदर्भ   
1. प्राचीन भारतीय स्त्री पुरुष की वेश भूषा को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. धोती पहने मगध राजा उदयिन की मूर्ति को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. महिला के वस्त्र (वेस्ट्री) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia) 4. साडी पहनने के विभिन्न तौर तरीकों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 1994 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं,ऐश्वर्या राय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:58 PM


  • भाग्य का अर्थ तथा भाग्य और तक़दीर में अंतर
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:12 AM


  • भारत में भी अनुभव कर सकते हैं आइस स्केटिंग का रोमांच
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:18 AM


  • प्राचीन भारतीय परिधान अथवा वस्त्र
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM


  • रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र के ऐतिहासिक स्थल में कला की अभिव्यक्ति व् प्रारंभिक शहरी विकास के प्रमाण
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:50 AM


  • ब्रीफ़केस का इतिहास तथा ब्रीफ़केस व अटैचकेस में अंतर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:04 AM


  • रामपुर की महिलाओं का ऐतिहासिक दर्पण है, पुस्तक द बेगम एंड द दास्तान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:37 AM


  • लास वेगास के सर्वश्रेष्ठ आकर्षणों में से एक है, बेलाजियो फाउंटेन शो
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:10 AM


  • वायु प्रदूषण से निपटने तथा अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति में पेड़ों का महत्वपूर्ण योगदान
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 10:48 AM


  • गुरुपर्ब पर बड़े जश्न के साथ मनाया जाता है नगर कीर्तन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:24 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id