रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र के ऐतिहासिक स्थल में कला की अभिव्यक्ति व् प्रारंभिक शहरी विकास के प्रमाण

रामपुर

 24-11-2021 08:50 AM
छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र के ऐतिहासिक स्थल पर पाए गए मृण्मूर्ति और सिक्के/धातु में पाई जाने वाली अद्भुत कला को हम नई दिल्ली, इलाहाबाद, बरेली और रजा पुस्तकालय, रामपुर के संग्रहालयों के अंदर देख सकते हैं। ब्रिटिश राज युग में कनिंघम (Alexander Cunningham) द्वारा किए गए खुदाई और पिछले दो दशकों में भूवन विक्रम (पुरातत्वविद् अध्याय, भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण) द्वारा किए गए एक अध्ययन "इक्स्प्रेशन ऑफ आर्ट्स एट अहिच्छत्र (Expression of art at Ahichhatra)"उल्लेखनीय हैं।इन स्थलों में कला और वास्तुकला की विविधता के साथ प्रारंभिक शहर के विकास को देखा जा सकता है। यहां कला शैली में क्रमिक विकास और क्रमिक परिवर्तन को कृत्रिम कला में भी देखा जा सकता है।चित्रित भूरे बर्तनों की अवधि के दौरान मिट्टी के बर्तनों पर चित्रों के रूप में पहली कलात्मक अभिव्यक्तियां दिखाई देती हैं। चित्रित भूरे बर्तन पर असर काले रंग के वर्णक और प्रतिरूप में बड़े पैमाने पर विभिन्न 46 संयोजनों में पंक्तियों, डैश (Dash) या डॉट्स (Dots) के साथ बनाया जाता है।आंतरिक और बाहरी सतह दोनों में होने वाली बनावट काले रंग में या कभी-कभी गहरे भूरे रंग में होती है।
कई शताब्दियों में फैले हुए चित्रित भूरे बर्तन की अवधि भी क्रमिक विकास को दिखाती है, जिसे हम तीन चरणों (प्रारंभिक, मध्य और देर से) में विभाजित करके आसानी से समझ सकते हैं। शुरुआती चरण में अवधि केवल अस्तरप्रतिरूप दिखाती है मिट्टी के बर्तनों पर इन प्रतिरूप में वनस्पति या जीवों का कोई संकेत नहीं मिलता है।हालांकि, इसी अवधि के मध्य चरण में पक्षियों और जानवरों की मूर्तियों के कुछ नमूने भी पाए गए हैं लेकिन अब तक कोई भी मानव मूर्ति अहिच्छत्र से या किसी अन्य स्थल से नहीं पाई गई है।वहीं देर के चरण में जब उपनिवेशण में काफी वृद्धि हुई और एनबीपीडब्ल्यू (NBPW - Northern Black Polished Ware) का प्रवाह भी देखा गया, तब कला की अभिव्यक्ति में कुछ बदलाव भी देखे गए।इस अवधि से एक उल्लेखनीय खोज भूरे रंग में एक हाथी की एक मृण्मूर्ति है। यहां तक कि टेराकोटा में भी कुछ मृण्मूर्तियां हैं जो धार्मिक विषयों को प्रतिबिंबित करती हैं। बाईं ओर एक कठोर हाथ में प्याले को पकड़े हुए एक स्त्री की एक पात्र आधारित बैठी हुई छवि और दाईं ओर केला आकार की वस्तु काफी प्रभावी है।
अहिच्छत्र में अध्ययन अभी भी चल रहे हैं लेकिन अब तक किए गए नतीजे कला में धीरे-धीरे विकसित अभिव्यक्तियों में निरंतरता का संकेत देते हैं और राजवंश अवधि में शैली और शैली के अचानक परिवर्तन को परिभाषित करना मुश्किल हो जाता है और साथ ही यह एक उलझन का भी निर्माण करता है।अहिच्‍छत्र के रामगंगा और गंगा के बीच स्थित होने के बावजूद भी यहां पानी का कोई बारहमासी स्रोत नहीं था। यह भारत में सबसे बड़ा (क्षेत्रवार) और संभवत: सबसे लंबे समय (2000 ईसा पूर्व से 1100 ईस्वी) तक जीवित रहने वाला स्थल है। यहां की सबसे पहली ज्ञात संस्कृति गेरू रंग के बर्तनों की है। अहिच्छत्र में हालिया खुदाई से पता चलता है कि यहां पहली बार दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के मध्य में गेरू रंगीन मिट्टी के बर्तनों की संस्कृति के लोग बसे थे। लगभग 1000 ईसा पूर्व में यह कम से कम 40 हेक्टेयर क्षेत्र तक फैल गया, जिससे इसे सबसे बड़ी चित्रित भूरे रंग के बर्तनों की संस्कृति स्थलों में से एक बना दिया गया।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3xkaiAf
https://bit.ly/32idOQc
https://bit.ly/3HLTgjs
https://bit.ly/3FGOy4F

चित्र संदर्भ   
1. अहिच्छत्र के सबसे बड़े टीले में से एक को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. 5वीं-6वीं शताब्दी सीई, राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली, में स्थित मानवकृत गंगा का गुप्त टेराकोटा, को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. दो शाही योद्धाओं के साथ पट्टिका को दर्शाता एक चित्रण (puratattva)



RECENT POST

  • 1994 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं,ऐश्वर्या राय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:58 PM


  • भाग्य का अर्थ तथा भाग्य और तक़दीर में अंतर
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:12 AM


  • भारत में भी अनुभव कर सकते हैं आइस स्केटिंग का रोमांच
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:18 AM


  • प्राचीन भारतीय परिधान अथवा वस्त्र
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM


  • रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र के ऐतिहासिक स्थल में कला की अभिव्यक्ति व् प्रारंभिक शहरी विकास के प्रमाण
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:50 AM


  • ब्रीफ़केस का इतिहास तथा ब्रीफ़केस व अटैचकेस में अंतर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:04 AM


  • रामपुर की महिलाओं का ऐतिहासिक दर्पण है, पुस्तक द बेगम एंड द दास्तान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:37 AM


  • लास वेगास के सर्वश्रेष्ठ आकर्षणों में से एक है, बेलाजियो फाउंटेन शो
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:10 AM


  • वायु प्रदूषण से निपटने तथा अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति में पेड़ों का महत्वपूर्ण योगदान
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 10:48 AM


  • गुरुपर्ब पर बड़े जश्न के साथ मनाया जाता है नगर कीर्तन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:24 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id