चीनी यात्री झुआन ज़ांग के अभिलेख में मिलता है अहिच्छत्र का वर्णन

रामपुर

 21-07-2020 03:27 PM
ध्वनि 2- भाषायें

राजा हर्षवर्धन के समय में एक चीनी यात्री (ह्वेन त्सांग या ज़ांग) रामपुर – बरेली के क्षेत्र में आए थे। उनकी यात्रा के अभिलेख चीन में संरक्षित हैं और वे 7 वीं शताब्दी में क्षेत्र के सबसे बड़े शहर अहिच्छत्र (अब, आंवला के पास एक गांव) के जीवन का वर्णन करते हैं। झुआन ज़ांग एक चीनी बौद्ध भिक्षु, विद्वान, यात्री और अनुवादक थे जिन्होंने सातवीं शताब्दी में भारत की यात्रा की और प्रारंभिक तांग राजवंश के दौरान चीनी बौद्ध धर्म और भारतीय बौद्ध धर्म के बीच की परस्पर क्रिया का वर्णन किया। यात्रा के दौरान उन्होंने कई पवित्र बौद्ध स्थलों का दौरा किया, जो अब पाकिस्तान, भारत, नेपाल और बांग्लादेश हैं। झुआन ज़ांग के यात्रा अभिलेख में भी अहिच्छत्र का उल्लेख मिलता है। उन्होंने बताया कि “अहिच्छत्र प्राकृतिक रूप से मजबूत है, जो पहाड़ की खुरों से घिरा हुआ है। यह गेहूं का उत्पादन करता है, और यहाँ कई लकड़ी और फव्वारे भी हैं। जलवायु नरम और अनुकूलित है, और लोग ईमानदार और सच्चे हैं। वे धर्म से प्यार करते हैं और उन्होंने सीखने पर ध्यान केंद्रित किया हुआ है। वे चतुर और अच्छी तरह से शिक्षित हैं। साथ ही यहाँ लगभग दस संस्कारम हैं, और कुछ 1000 पुजारी हैं जो चिंग-लिआंग विद्यालय के लिटिल व्हीकल का अध्ययन करते हैं। 300 मंत्रिणी के साथ लगभग नौ देवी मंदिर हैं। वे ईश्वर के लिए बलिदान करते हैं, और "राख-छिड़काव" की टोली से संबंधित हैं। मुख्य शहर के बाहर एक नागा ताल है, जिसके किनारे पर अशोक-राजा द्वारा निर्मित एक स्तूप है। अहिच्छत्र उत्तरी पांचाल की राजधानी थी और एक उत्तरी भारतीय राज्य भी था जिसका उल्लेख महाभारत में भी किया गया है। अहिच्छत्र के पांचाल जनपद का का इतिहास छठी शताब्दी ई.पू. से मिलता है। वहीं ऐसा माना जाता है कि वैदिक काल के दौरान पांचाल ने वास्तव में काफी महत्व प्राप्त कर लिया, यह बाद के वैदिक सभ्यता का आव्यूह बन गया था। शतपथ ब्राह्मण के अनुसार जो ब्राह्मण पांचाल के अलग-अलग हिस्सों में बस गए थे और जिन्हें वहाँ के राजाओं द्वारा संरक्षण दिया जा रहा था, उनकी गिनती सैकड़ों नहीं, बल्कि कई हजारों लोगों में जानी जाती थी। साथ ही पांचाल के विद्वान पूरे भारत में प्रसिद्ध थे। यह पांचाल क्षेत्र से था कि ऋषि याज्ञवल्क्य को मिथिला के राज्य में राजा जनक को विभिन्न दार्शनिक समस्याओं के बारे में प्रबुद्ध करने के लिए आमंत्रित किया गया था। वहीं पुरातत्व की दृष्टि से बरेली जिला बहुत समृद्ध है। जिले में आंवला तहसील के रामनगर गांव के पास उत्तरी पांचाल की राजधानी अहिच्छत्र के विस्तृत अवशेषों की खोज की गई है। यह अहिच्छत्र (1940-44) में हुई पहली खुदाई के दौरान गंगा यमुना घाटी में आर्यों के आगमन से जुड़े चित्रित धूसर बर्तन को पहली बार स्थल के रूप में पहचाना गया था। गुप्तकाल से पहले के काल के लगभग पाँच हज़ार सिक्के अहिच्छत्र से प्राप्त हुए हैं। यह मृण्मूर्ति की कुल उपज के दृष्टिकोण से भारत के सबसे धनी स्थलों में से एक है। भारतीय मृण्मूर्ति कला की कुछ उत्कृष्ट कृतियाँ अहिच्छत्र से हैं। मौजूदा सामग्री के आधार पर, क्षेत्र की पुरातत्व हमें दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व की शुरुआत से 11 वीं शताब्दी तक सांस्कृतिक अनुक्रम की अवधारणा प्राप्त करने में मदद करती है। छठी शताब्दी ईसा पूर्व में, पंचला भारत के सोलह महाजनपदों में से एक था। यह शहर बुद्ध और उनके अनुयायियों से भी प्रभावित था। अहिच्छत्र में बौद्ध मठों के अवशेष काफी व्यापक हैं। लोककथाओं का कहना है कि गौतम बुद्ध ने एक बार बरेली के प्राचीन किले अहिच्छत्र नगर का दौरा किया था। ऐसा कहा जाता है कि जैन तीर्थंकर पार्श्व ने अहिछत्र में कैवल्य प्राप्त किया था। अहिच्छत्र में भागवतों और शिवों की गूँज आज भी एक विशाल मंदिरों के विशाल स्मारकों में देखी जा सकती है, जो स्थल की सबसे विशाल संरचना है। वहीं वर्तमान समय में मौजूद बरेली शहर की नींव सोलहवीं शताब्दी के पूर्वार्ध में रखी गई थी। ऐसा कहा जाता है कि एक जगत सिंह कटेहरिया ने वर्ष 1500 में जगतपुर नामक एक गांव की स्थापना की थी। 1537 में उनके दो बेटे बास देव और बरेल देव द्वारा बरेली की स्थापना की गई थी। दोनों भाइयों के नाम पर इस स्थान का नाम बंस बरेली पड़ा था।

संदर्भ :-
https://web.archive.org/web/20100826065926/http://bareilly.nic.in/hist.htm
https://en.wikipedia.org/wiki/History_of_Bareilly
https://en.wikipedia.org/wiki/Xuanzang
https://www.wisdomlib.org/south-asia/book/buddhist-records-of-the-western-world-xuanzang/d/doc220224.html
https://www.jatland.com/home/Ahichchhatra


चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र चीनी यात्री सुअन ज़ांग और अहिच्छत्र को दिखाया गया है। (Prarang)
दूसरे चित्र में पावन भूमि अहिच्छत्र के पवित्र टीले (पुरावशेष) को दिखाया गया है। (Youtube)
तीसरे चित्र में सुअन ज़ांग की प्रतिमा को दिखाया गया है। (Flickr)
अंतिम चित्र अहिच्छत्र तीर्थ की पुनर्स्थापना के मौके पर जारी किये गए विशेष आवरण के चित्र को संदर्भित किया गया है। (Indianpostaldepartment)



RECENT POST

  • भारतीय स्थापत्य में इंडो-सारासेनिक शैली का योगदान
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:07 PM


  • विश्व युद्धों और उसके राजनीतिक दबावों का आर्थिक प्रभाव
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:32 PM


  • सूअर पालन भी बन सकता है लाखों का व्यवसाय
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:28 AM


  • बिटुमेन और सही रखरखाव करने से रखा जा सकता है सड़कों को गड्ढों से मुक्त
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 11:29 AM


  • भारत में मौजूद हैं, विभिन्न प्रकार की वीजा सुविधाएं
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:19 PM


  • प्राचीन भारत के प्रशासन, भूगोल और धार्मिक इतिहास की जानकारी प्रदान करने में सहायक है, मुद्राशास्त्र
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:40 PM


  • अक्षमताओं को बनाएं, अपनी क्षमताओं का हिस्सा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 12:00 PM


  • विश्व भर में ‘रामपुर कार्पेट’ नामक विशेष श्रेणी में बिकते हैं रामपुर के हस्तनिर्मित कालीन
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:23 PM


  • आम जनता को खगोलीय घटनाओं से रूबरू कराती रामपुर की नक्षत्रशाला
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:52 AM


  • विश्‍व भर फसलों की पैदावार को समर्पित कुछ प्रमुख त्‍योहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2021 12:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id