पर्यावरण पर्यटन दुर्लभ इगुआना को लगा रहा है मीठे फलों की बुरी आदत, क्या है उनके स्वास्थ्य पर प्रभाव?

मेरठ

 28-04-2022 08:53 AM
रेंगने वाले जीव

शोधकर्ताओं ने असुरक्षित सरीसृपों के स्वास्थ्य पर अज्ञात प्रभावों की चेतावनी देते हुए कहा कि बहामास (Bahamas) में दूरदराज के द्वीपों पर रॉक इगुआना (Rock iguana) को अंगूर खिलाने वाले इको पर्यटक द्वारा उनके मीठे का स्वाद और रक्त शर्करा में वृद्धि कर रहे हैं। एक्सुमा द्वीप पर रहने वाले उत्तरी बहामियन रॉक इगुआना पर्यटकों के इस व्यवहारों पर इतने आकर्षित हो रखें हैं कि जब भी द्वीप में कोई भी नाव की आवाज सुनते ही वे समुद्र तटों की ओर भागते हैं।साथ ही यह एक यात्रा संचालक के लिए यह सुनिश्चित करने का एक शानदार तरीका था कि यात्री इन जानवरों को आसानी से देख पाएं और लोगों के बीच ये करीबी और व्यक्तिगत परस्पर क्रिया होगी।
लेकिन संरक्षण वादियों ने पहले से ही चिंतित होना शुरू कर दिया था कि गैर-देशी फल, इन बड़ी छिपकलियों को मनुष्यों से कम सावधान कर रहा है और बड़ रहे इनके पालतू जानवर के व्यापार के लिए तस्करों के लिए संभावित रूप से इन्हें पकड़ने के लिए आसान बना रहा है। पालतू जानवर के रूप में सबसे आम रखे जाने वाला इगुआना, हरा इगुआना है, इसे अमेरिकी इगुआना के रूप में भी जाना जाता है, ये एक बड़ी, वृक्षीय, ज्यादातर शाकाहारी प्रजाति है।आमतौर पर अपने शांत स्वभाव और चमकीले रंगों के कारण एक पालतू जानवर के रूप में घरों में पाया जाता है, हालांकि इसकी ठीक से देखभाल करना काफी समय लगाने वाला हो सकता है।हरा इगुआना एक बड़े भौगोलिक क्षेत्र में पाए जा सकते हैं, ये दक्षिणी ब्राजील (Brazil) और पैराग्वे (Paraguay) से उत्तर में मैक्सिको (Mexico) और कैरेबियाई (Caribbean) द्वीपों के रूप में मूल रूप से देखे जा सकते हैं।यह सिर से पूंछ तक लंबाई में 1.5 मीटर (4.9 फीट) तक बढ़ते हैं, और शरीर का वजन 20 पाउंड (9.1 किलोग्राम) से अधिक होता है। इनको पालने वालों के लिए इनके स्थान की आवश्यकताएं और विशेष प्रकाश व्यवस्था और गर्मी की आवश्यकता काफी चुनौतीपूर्ण साबित हो सकती है।
साथ ही इन जीवों के साथ निकटता से जुड़े लोगों को यह संदेह भी होने लगा है कि इनका आहार और भी अधिक परेशानी को विकसित कर रहा है। जिसमें इनका मल शामिल है।एक उत्तरी बहामियन रॉक इगुआना जो प्राकृतिक रूप से पत्तियों और फलने वाले पौधों का उपभोग करते हैं,का मल क्यूबन सिगार –लुढ़के हुए पत्तियों के एक गुच्छे की भांति होता है। वहीं पर्यटकों द्वारा दिए गए अंगूर का सेवन करने वाले इगुआना का मल अधिक पानी वाला होता है।इसने शोधकर्ताओं को इगुआना के शरीर पर इन चीनी-आधारित आहारों के प्रभावों को देखने के लिए प्रेरित किया।अगले शोधकर्ताओं ने बहामास की यात्रा की और चार द्वीपों पर कुल 48 इगुआनाओं को पकड़ा, जिनमें से आधे पर्यटकों द्वारा बार-बार आने वाली आबादी से और दूसरे आधे अधिक आश्रय और दूरस्थ बहिर्वाह से थे।प्रत्येक इगुआना को एक ग्लूकोज पेय पिलाया गया और शोधकर्ताओं ने लगभग एक दिन तक उनके रक्त शर्करा की निगरानी की।उन्होंने पाया कि जो द्वीपों पर पर्यटकों द्वारा दिए गए अंगूरों का सेवन कर रहे थे, उनमें शर्करा की अधिक वृद्धि हुई जो कुछ घंटों तक उच्च थीं, जबकि जिन इगुआनाओं ने मनुष्यों को कभी नहीं देखा, उनमें शर्करा का स्तर धीमी दर से बढ़ा और जल्द ही सामान्य हो गया।जबकि शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि शर्करा युक्त आहार इगुआना को शारीरिक रूप से प्रभावित करता है, वे अभी तक यह नहीं जान सके कि यह उनके स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित कर सकता है।शोधकर्ता यह भी देख रहे हैं कि स्थानीय पौधों की सामान्य चराई के लिए उनकी भूख को खोने से द्वीपों पर व्यापक पर्यावरण कैसे प्रभावित हो सकता है।
हालांकि पारिस्थितिक पर्यटन के विश्व स्तर पर उभरते उद्योग के प्रवर्तकों का दावा है कि अब पर्यटन से पर्यावरण को खतरा नहीं होता है। उनका तर्क है कि सामाजिक रूप से जिम्मेदार औरपारिस्थितिक रूप से टिकाऊ पर्यटन, एक ही समय में समुदाय के लिए लाभदायक हो सकता है।पर्यटन दुनिया के 170 देशों में से 125 देशों की अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। कई देशों के लिए यह उनकी सबसे बड़ी आर्थिक गतिविधि है। उदाहरण के लिए, मालदीव (Maldives) की विदेशी मुद्रा आय का 70 प्रतिशत से अधिक पर्यटन से आता है।विश्व पर्यटन संगठन का अनुमान है कि 2001 में 693 मिलियन से अधिक अंतर्राष्ट्रीय यात्री थे।पर्यटन दुनिया का सबसे बड़ा नियोक्ता है, प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगभग 200 मिलियन नौकरियां या वैश्विक स्तर पर लगभग 10 प्रतिशत नौकरियां उत्पन्न करता है। पर्यटन में सबसे तेजी से बढ़ने वाला भाग प्रकृति पर्यटन है। विश्व पर्यटन संगठन का अनुमान है कि प्रकृति पर्यटन ने सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रा व्यय का 7 प्रतिशत और सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रा का 20 प्रतिशत उत्पन्न किया। आज, प्रकृति पर्यटन दक्षिण अफ्रीका (Africa), केन्या (Kenya), इक्वाडोर (Ecuador) और कोस्टा रिका (Costa Rica) के लिए सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा अर्जक है।इसके अलावा, जबकि पर्यटन उद्योग की अनुमानित वार्षिक वृद्धि दर 4 प्रतिशत है, प्रकृति पर्यटन 10 प्रतिशत से 30 प्रतिशत के बीच की वृद्धि दर का दावा करती है।
तर्क यह है कि इन राजस्व का एक अंश भी, यदि सही दिशा में लगाया जाता है, तो स्थानीय अर्थव्यवस्था और पारिस्थितिकी की मदद करने के लिए यह काफी अधिक योगदान दे सकता है। पारिस्थितिक पर्यटन प्रकृति पर्यटन क्षेत्र का एक छोटा खंड है। यह प्रकृति आरक्षित की यात्रा का भुगतान करने से अधिक की मांग करता है। यह "जिम्मेदार" यात्रा की मांग करता है ताकि पारिस्थितिक पदचिह्न का प्रभाव कम से कम हो और यात्रा व्यापार के लाभों को न केवल यात्रा संचालक के साथ, बल्कि स्थानीय समुदायों के साथ साझा किया जाए। हालांकि यह आसान नहीं है, लेकिन अगर ऐसा किया जाता है, तो कई लोग मानते हैं कि यह दुनिया के कई खूबसूरत लेकिन निराश्रित क्षेत्रों के लिए पर्यावरण के अनुकूल, धुआं रहित उद्योग बनाने में मदद कर सकता है। 1990 के दशक के मध्य में एक सर्वेक्षण में पाया गया कि पर्यटन ने समुद्र तट के कटाव से लेकर ठोस अपशिष्ट निपटान और प्रवाल भित्तियों के विनाश तक कई समस्याओं को उत्पन्न किया है।
लेकिन चूंकि अर्थव्यवस्था और पर्यावरण एक दूसरे से जुड़े हुए हैं, इसलिए सरकार ने स्थायी पर्यटन के लिए नीतियों को लागू करने के लिए कदम उठाए हैं।उन्होंने प्रत्येक द्वीप के लिए क्षमता मानकों को स्थापित किया है, उदाहरण के लिए निर्दिष्ट करते हुए, कि यहाँ इमारतों को विकसित किया जा सकने वाला अधिकतम क्षेत्र द्वीप के क्षेत्र का 20 प्रतिशत है।निर्माण कार्य को लेकर सख्त निर्देश दिए गए हैं। सतत ऊर्जा उत्पादन और अपशिष्ट निपटान द्वीप में मौजूद रिसॉर्ट (Resort) की जिम्मेदारी है। चूंकि पर्यटक अर्थव्यवस्थाओं से सबसे अधिक हानी पर्यावरण को कचरे से होती है, तो इसके लिए कुछ एयरलाइनों (Airlines) ने कदम उठाए हैं,वे इन एयरलाइनों में मालदीव जाने वाले पर्यटकों को एक बैग देते और उन्हें यात्रा के दौरान उनके द्वारा उत्पादित सभी कचरे को हवाई अड्डे पर उस बैग में डालकर वापस लाने का अनुरोध करते हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3KlcRan
https://bit.ly/3LmjD0K
https://bit.ly/3khUXKN

चित्र संदर्भ
1  भोजन करते दुर्लभ इगुआना को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. पालतू इगुआना को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
3. हरा इगुआना को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. इगुआना का वितरण मानचित्र को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. पर्यटन से प्रदूषित सड़क को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM


  • योग शरीर को लचीला ही नहीं बल्कि ताकतवर भी बनाता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:23 AM


  • प्रोटीन और पैसों से भरा है कीड़े खाने और खिलाने का व्यवसाय
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:54 AM


  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता गलत सूचना उत्पन्न करने और साइबरसुरक्षा विशेषज्ञों के साथ छल करने में है सक्षम
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:51 AM


  • विस्मयकारी है दो जंगली भेड़ों के बीच का हिंसक संघर्ष
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:13 PM


  • कैसे, मौत से भी लड़ने का साहस दे रही है, मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:08 AM


  • उष्णकटिबंधीय पक्षी अधिक रंगीन क्यों होते हैं? मनुष्य भी कर रहे हैं प्रजातियों के दृश्य वातावरण को प्रभावित
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:10 AM


  • भारत के सात पवित्र तीर्थस्थल, दिव्य सप्तपुरियों का दर्शन, सर्वाधिक पूजनीय शहर है, वाराणसी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     16-06-2022 08:47 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id