धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन

लखनऊ

 24-11-2021 08:59 AM
छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

भारत की भूमि आज से हजारों वर्ष पूर्व भी विकसित सभ्यता के अस्तित्व का प्रमाण रही है। यहां पर सिंधु घाटी सभ्यता जैसी अत्यधिक विकसित मानव सभ्यताओं के प्रमाण मिले हैं। जिनके रहन-सहन एवं सांस्कृतिक तौर-तरीकों की विकास ने पुरातत्वविदों को भी हैरान कर दिया। आधुनिक समय में पूरे देशभर में कुछ चुनिंदा जगहें ऐसी भी हैं. जहां हजारों वर्ष पूर्व विकसित सभ्यता के प्रमाण पुराणों एवं प्राचीन हिन्दू ग्रंथों में भी मिले हैं। हमारे शहर लखनऊ के निकट सीतापुर जिले में नैमिषारण्य (Naimiṣāraṇya) वन भी सनातन ग्रंथों में वर्णित सबसे प्राचीन स्थलों में से एक है।
नैमिषारण्य जिसे “नैमिषा” भी कहा जाता है, एक पवित्र वन है। जिसका वर्णन पुराणों के साथ-साथ हिन्दू धार्मिक ग्रंथों रामायण और महाभारत में भी देखने को मिलता है। इस स्थल को पुराणों में ऋषि-मुनियों के सभा स्थल के रूप में वर्णित किया गया है। नैमिषारण्य शब्द 'निमिषा', "रौशनी अथवा चमक" से निकला है। अतः नैमिषारण्य का शाब्दिक अर्थ “पलकें झपकते ही” होता है। माना जाता है की यह एक ऐसा जंगल था जहां पलकें झपकते ही ऋषि गौरमुखा ने असुरों की एक सेना को नष्ट कर दिया। ब्राह्मणों और उपनिषद साहित्य में पहली बार नैमिष्य का उल्लेख मिलता है। ये शब्द नैमिष वन के निवासियों को संदर्भित करता है। वराह पुराण के अनुसार यह जंगल उस क्षेत्र के रूप में वर्णित किया गया है, जहां एक निमिष (समय की सबसे छोटी इकाई) के भीतर दैत्य (राक्षस) मारे गए थे और उस स्थान को शांति का निवास बनाया गया था। रामायण के अनुसार, नैमिष गोमती नदी के किनारे स्थित था। यह स्थान इतना पवित्र माना गया था की प्रभु श्री राम ने इस जंगल में अश्वमेध यज्ञ का आयोजन भी किया। महाभारत के आदि पर्व में, इस जंगल का उल्लेख हिमावत के पर्वतीय क्षेत्रों के पूर्व की ओर स्थित (प्रासम दीम) के रूप में किया गया है, जिसमें कई पवित्र स्थान थे। महाकाव्य में, नैमिषारण्य में रहने वाले और वर्षों से यज्ञ करने वाले ऋषियों का बार-बार उल्लेख मिलता है। देवी पुराण में नौ पवित्र वनों का उल्लेख मिलता है, जिनमें शैंधव, दंडकारण्य, नैमिष, कुरुजंगल, उत्पलरण्य, जंबूमर्ग, पुष्कर और हिमालय शामिल हैं। नैमिसारन्या इस क्षेत्र के सबसे बड़े जंगलों में से एक था। महाभारत, रामायण और पुराणों में उल्लेख है कि, पांडव यहां आए, गोमती नदी में स्नान किया और धन और गायों का दान भी किया। वामन पुराण (57/2) के अनुसार इस क्षेत्र में कई तीर्थ थे और यह जंगल 84 कोस (126 किमी) के क्षेत्र में फैला हुआ था। आज भी यह एक परिक्रमा पथ के तौर पर चिह्नित है, और फाल्गुन मास के प्रत्येक शुक्ल पक्ष में हिंदू श्रद्धालु इसकी परिक्रमा करते हैं। यह वन साधु-संतों का आश्रय स्थल था। ऋषि शौनक, महर्षि दधीचि और महान सूत उग्रश्रवास व्यास के एक शिष्य यहाँ रहते थे। लाह ने उल्लेख किया है कि इसमें 60,000 ऋषि निवास करते थे और कई पुराणों की रचना यहीं हुई थी। इस क्षेत्र के निवासी नैमिश के नाम से भी जाने जाते थे। महाभारत में उल्लेख है कि लोमहर्षण के पुत्र उग्रश्रव ने नईम में ऋषि सौनक के 12 साल के सत्र में यहां एकत्रित संतों के एक बड़े समूह को महाभारत की कहानी सुनाई थी। मान्यता है कि यह जंगल संतों, विभिन्न प्रकार के फूलों और पेड़ों से भरा हुआ था। यहाँ चारों वर्णों के आश्रम विद्यमान थे। यहां की भूमि भी उपजाऊ थी और गेहूँ, जौ, चना, मूंग, उड़द, मसूर, गन्ने की खेती की जाती थी। बाद में यह एक शहर के केंद्र के रूप में विकसित हुआ, जिसे अब नैमिष या नैमिषारण्य के नाम से जाना जाता है। यह उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले की मिश्रिख तहसील में गोमती नदी के बाएं किनारे पर अक्षांश 270 21' 55' उत्तर और देशांतर 800 29' 15' पूर्व में सीतापुर से 32 किमी दक्षिण पश्चिम और 42 किमी दक्षिण पश्चिम में स्थित है। वर्तमान में जिला सीतापुर को छह तहसीलों में विभाजित किया गया है। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की कुल जनसंख्या 4474446 आंकी गई है, जो कुल 5743 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैली हुई है। विभिन्न धार्मिक कथाओं के आधार पर, इस जंगल की पुरातनता इस स्थान को कम से कम 1000 (12 ईसा पूर्व) तक प्राचीन माना जा सकता है, क्योंकि ब्राह्मणों के लेखन को आम तौर पर 1000- 800 ईसा पूर्व के समय के बीच स्वीकार किया जाता है। इन जंगलों में आज भी कई प्राचीन मंदिर एवं धार्मिक स्थल मौजूद हैं अथवा पुरातत्व विभाग द्वारा कई खोजे भी जा रहे हैं। नैमिषारण्य में उत्खनन के बाद दीवार पर गणेश मंदिर की एक पुराना द्वारसाखा, सरस्वती देवी एवं ज्ञानपीठ मंदिर के पीछे पुरानी पत्थर की मूर्तियां प्राप्त हुई हैं। पुरातत्व विभाग द्वारा इस क्षेत्र में वर्षों से खुदाई की जा रही है। उत्खनन के लिए चुने गए स्थान में सतह पर बिखरे लाल बर्तन और ईंट-चमगादड़ के छोटे और आकारहीन टुकड़े प्राप्त हुए हैं। यहाँ से कटोरे, बेसिन, फूलदान, हांडी, लघु कटोरे और टोंटीदार जहाजों के जमा टुकड़े (लाल बर्तन) भी पाए गए। लाल बर्तनों की उल्लेखनीय आकृतियों में कटोरे, फूलदान, जार, हांडी और भंडारण जार शामिल थे। निस्संदेह नैमिषारण्य का स्थान सुदूर अतीत में घने जंगल से आच्छादित था। इस जंगल में मानवगढ़ी मंदिर के नाम से प्रसिद्ध एक स्थान है। इसके प्रवेश द्वार पर अभी भी मध्ययुगीन काल का एक कुआँ है, इसके निचले स्तर पर कुषाण काल का सांस्कृतिक भंडार भी मिला था। इस जगह पर पाए गए, वानस्पतिक अवशेषों से स्पष्ट है कि, स्थल पर कई नीम के पेड़ थे इसलिए इसका नाम नीमसर पड़ा। साइट से बरामद की गई प्राचीन वस्तुएं मात्रा में कम और गुणवत्ता में खराब हैं जो इंगित करती हैं कि आम जनता या शाही परिवार की कोई बड़ी आबादी नहीं थी।

संदर्भ
https://bit.ly/3FJ1V47
https://bit.ly/3xg5ImB
https://bit.ly/3r3uky4
https://bit.ly/3cBwJaK

चित्र संदर्भ   
1. नैमिषारण्य वन में स्थित घाट मंदिर को दर्शाता एक चित्रण (ijarch.org)
2. नैमिषारायण में महाभारत का वर्णन करती सौती को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. सरस्वती देवी, ज्ञानपीठ मंदिर के पीछे पुरानी पत्थर की मूर्तियो को दर्शाता एक चित्रण (ijarch.org)
4. हनुमानगढ़ी मंदिर मेंस्थित कुएं को दर्शाता एक चित्रण (ijarch.org)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id