दो संस्कृत उत्कृष्ट वाल्मीकि रामायण और अध्यात्म रामायण के बीच अंतर

रामपुर

 13-10-2020 03:02 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भिन्न-भिन्न प्रकार से गिनने पर रामायण तीन सौ से लेकर एक हजार तक की संख्या में विविध रूपों में मिलती हैं। इनमें से संस्कृत में रचित वाल्मीकि रामायण (आर्ष रामायण) सबसे प्राचीन मानी जाती है। इस लेख में आज हम वाल्मीकि रामायण और अध्यात्म रामायण के मध्य कुछ अंतरों को समझेंगे। वाल्मीकि रामायण को वाल्मीकि महर्षि ने लिखा था और अध्यात्म रामायण को ऋषि वेद व्यास ने लिखा था। वाल्मीकि रामायण काफी पुरानी है, जबकि अध्यात्म रामायण ब्रह्माण्ड पुराण के 61वें अध्याय का हिस्सा है। वाल्मीकि और अध्यात्म रामायण दोनों अलग-अलग कोणों में भगवान राम की कहानी को दर्शा रहे हैं। वाल्मीकि रामायण भगवान राम को एक आदर्श व्यक्ति के रूप में चित्रित करती है, अध्यात्म रामायण में भगवान राम को परब्रह्मण के अवतार के रूप में चित्रित किया गया है, जो जानते थे कि वे कौन थे और रामायण के अन्य पत्र भी जानते थे कि भगवान राम कौन थे।
भगवान राम को मनुष्य के रूप में प्रस्तुत करने के लिए वाल्मीकि रामायण में भगवान राम के बारे में कई दिव्य तथ्यों को अलग रखा गया है। इन तथ्यों को स्पष्ट रूप से अध्यात्म रामायण में लाया गया है। वाल्मीकि रामायण और अध्यात्म रामायण के बीच के अंतर भगवान राम के अवतार के रहस्यों को सामने लाते हैं। इसे सीधे शब्दों में कहें तो, अध्यात्म रामायण में, श्रीराम "भगवान" थे और वाल्मीकि रामायण में, श्रीराम "मनुष्य" थे। एक अन्य विशेषता जो वाल्मीकि रामायण से अध्यात्म रामायण को अलग करती है, कथा में विभिन्न व्यक्तियों द्वारा गाए जाने वाले भजन और पाठ के विभिन्न भागों में फैले कई दार्शनिक प्रवचनों की एक बड़ी संख्या है। गहन भक्ति सिखाने के अलावा, ये हमें गैर-द्वैतवाद पर एक बहुत ही सरल लेकिन गहन अभिव्यक्ति देते हैं। वाल्मीकि रामायण में ऐसे कोई भजन और प्रवचन नहीं हैं।
अध्यात्म रामायण में पाई गई कहानी के तथ्य में प्रमुख संशोधन सीता के अपहरण की अवधि के दौरान "मिथ्या सीता" का परिचय दिया गया है। स्वर्ण मृग प्रकरण से ठीक पहले वास्तविक सीता अग्नि में विलीन हो जाती है। तुलसीदास इस संबंध में अध्यात्म रामायण का भी अनुसरण करते हैं। अध्यात्म रामायण में, युद्ध के अंत में सीता अग्नि से निकलती है, जब मिथ्या सीता उसमें प्रवेश करती है। (पूरे नाटक को श्री राम की बोली पर बनाया गया है और अधिनियमित किया गया है)। वाल्मीकि रामायण के अनुसार, रावण द्वारा सीता माता के बाल खींचकर हरण किया गया था, लेकिन अध्यात्म रामायण में, वह मिथ्या सीता को बिना छुए ले जाता है। वाल्मीकि रामायण में, जटायु सीता की जानकारी देता है और राम के हाथों में मृत्यु को प्राप्त हो जाता है, लेकिन अध्यात्म रामायण में, जटायु एक दिव्य रूप प्राप्त करता है और भगवान राम को एक भव्य उपदेश देते हैं। उन श्लोकों में भक्ति और वेदांत का सारांश पाया जाता है। अध्यात्म रामायण में, हनुमान जी, रावण से आमने-सामने मिलते हैं और ततत्व ज्ञान के बारे में विस्तार से बताते हैं और उन्हें धर्म के मार्ग पर चलने और भक्ति के साथ मुक्ति प्राप्त करने के लिए उपदेश देते हैं। हनुमान द्वारा ऐसा कोई भी उपदेश वाल्मीकि रामायण में नहीं मिलता है। अध्यात्म रामायण में, भगवान राम 100 बार रावण के 10 सिर काटते हैं लेकिन फिर भी वे फिर से प्रकट होते हैं। तब विभीषण ने रावण को समझाया कि रावण के नाभि क्षेत्र में अमृत है और उसे मारने के लिए उसे तोड़ना होगा। तब भगवान राम ने उसे नष्ट कर दिया और फिर रावण के हाथ और सिर काट दिए। तब उन्होंने रावण का ब्रम्हास्त्र से वध किया। वाल्मीकि रामायण में इनमें से किसी के बारे में कोई वर्णन नहीं किया गया है, लेकिन उसमें यह बताया गया है कि राम को अगस्त्य महर्षि द्वारा आदित्य हृदयाम का उपदेश दिया गया और राम मन्त्रोपासना करते हैं और अपनी शक्ति को बढ़ाते हैं और रावण का ब्रम्हास्त्र से वध करते हैं। ये दोनों रामायणों के बीच का अंतर है, दोनों कार्य महान और आनंदित हैं और वे खूबसूरती से अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ति करती है, वाल्मीकि रामायण समाज में मनुष्य की भौतिक और आध्यात्मिक उत्थान को दर्शाती है और अध्यात्म रामायण भगवान को पूर्ण और बिना शर्त समर्पण के माध्यम से मोक्ष की प्राप्ति को दर्शाती है। संपूर्ण अध्यात्म रामायण को हिंदी में आप इस लिंक (https://bit.ly/2GPNpyX) से डाउनलोड (Download) और पढ़ सकते हैं।

संदर्भ :-
https://www.facebook.com/notes/back-to-dharma/valmiki-ramayana-and-adhyatma-ramayana-the-differences/626758160732230/
https://www.quora.com/Who-wrote-the-Adhyatma-Ramayana-and-how-is-it-different-from-the-Valmiki-Ramayana
http://www.hindupedia.com/en/Adhyathma_Ramayanam
https://www.dwarkadheeshvastu.com/Epic-Adhyatma-Ramayan-Hindi.aspx
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में रामायण के एक दृश्य को चित्रित किया गया है। (Flickr)
दूसरे चित्र में अध्यात्म रामायण और वाल्मीकि रामायण के हिंदी संस्करणों के मुख पृष्ठों को दिखाया गया है, जो गीता प्रेस गोरखपुर द्वारा मुद्रित हैं। (Prarang)
अंतिम चित्र में राम राज्याभिषेक के चित्र को प्रदर्शित किया गया है। (Publicdomainpictures)


RECENT POST

  • नवपाषाण काल में पत्‍थरों के औजारों का उपयोग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 12:25 PM


  • विश्व के सभी खट्टे फलों का जन्मस्थल हिमालय है
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:14 AM


  • दृश्यों की संवेदनशील प्रकृति के कारण भिन्न हैं, मोचे संस्कृति द्वारा बनाए गये मिट्टी के बर्तन
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 06:58 PM


  • उत्तम प्रकृति चंदन को संरक्षण की दरकार
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:00 AM


  • आदिकाल से ही मानव कर रहा है, इत्र का उपयोग
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 12:18 PM


  • क्यों गुप्तकाल को भगवान विष्णु मूर्तिकला का उत्कृष्ट काल माना जाता है?
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 08:48 AM


  • अपनी कला के माध्यम से कर रहे हैं सड़क प्रदर्शनकर्ता लोगों को जागरूक
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:10 AM


  • इस्लामिक ग्रंथों में मिलता है दुनिया के अंत या क़यामत का वर्णन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 07:16 AM


  • रेडियो दूरबीनों के अंतर्राष्ट्रीय तंत्र की ऐतिहासिक उपलब्धि है, ईवेंट होरिजन टेलीस्कोप
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     22-11-2020 10:08 AM


  • इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic) कला के अद्वितीय नमूने रामपुर कोतवाली और नवाब प्रवेशमार्ग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:02 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id