विश्व सहित भारत में टेलीविजन का सफ़र

लखनऊ

 10-11-2021 07:15 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

पूरे परिवार के साथ बैठकर टेलीविजन पर महाभारत, रामायण और क्रिकेट देखना 80 और 90 के दशक में जन्में सभी लोगों की सबसे सुनहरी यादों में से एक रहा है। तब से लेकर आज तक टीवी हमारे घरों में एक परिवार के सदस्य की भांति रह रहा है। अपने काम से घर लौटे सदस्य टीवी के सामने बैठकर ही अपनी थकान मिटाते हैं। हालांकि आज मनोरंजन के कई अन्य माध्यम भी प्रचलित हो चुकें हैं, लेकिन टीवी में अभी भी परिवार को एक साथं बिठा देने की क्षमता है। टेलीविजन या टीवी एक स्क्रीन वाली मशीन होती है। यह सेटेलाइट के माध्यम से प्रसारण संकेत प्राप्त करते हैं और उन्हें चित्रों और ध्वनि में बदल देते हैं। टेलीविजन" शब्द टेली (दूर) और दृष्टि (Vision) शब्दों से आया है। पुराने टीवी में लकड़ी के बड़े फ्रेम में एक बड़ा कैथोड रे ट्यूब होता था और यह फ़र्नीचर की तरह फ़र्श पर बैठ जाता था। नए टीवी बहुत हल्के और बेहद पतले होते है। टेलीविजन का आविष्कार 1920 के दशक में हुआ था, उस दौर में हालांकि इसके उपकरण महंगे थे और तस्वीरें खराब थीं। लेकिन 1950 के दशक तक, इन समस्याओं को ठीक कर दिया गया था और टीवी व्यापक रूप से फैलने लगे थे। शुरुआत में सभी टीवी में एक एंटीना का उपयोग किया जाता था। यह प्रसारण कई मील या किलोमीटर दूर टीवी स्टेशनों से टेलीविजन कार्यक्रमों को प्राप्त करके उन्हें टीवी पर प्रसारित करता था। टीवी, वीसीडी और डीवीडी प्लेयर या वीसीआर से फिल्में भी दिखा सकते हैं। आज केबल टीवी प्रचलित हो चुके हैं, जो सैटेलाइट टेलीविजन प्रसारण की तुलना में एक बार में अधिक कार्यक्रम प्रदान कर सकते हैं।
आज वीडियो गेम कंसोल (video game console) अधिकांश आधुनिक टीवी से जुड़ सकते हैं। कुछ कंप्यूटर टीवी का उपयोग कंप्यूटर मॉनीटर के रूप में भी कर सकते हैं। 1950 के दशक से पहले ये आमतौर पर "ब्लैक एंड व्हाइट" होते थे, जिससे सब कुछ ग्रे दिखता था, लेकिन सभी आधुनिक टीवी रंग दिखाते हैं। आज फ्लैट पैनल डिस्प्ले (flat panel displays) वाले टीवी आ चुके हैं। आज लगभग सभी भारतीय परिवारों में से आधे से अधिक के पास टेलीविजन है। 2016 तक, देश में 857 चैनल थे, जिनमें से 184 पे (Pay) चैनल थे। हिंदी, तेलुगु और तमिल भाषा के टेलीविजन उद्योग भारत में अब तक के सबसे बड़े टेलीविजन उद्योग हैं। भारत का पहला टीवी ट्रांसमीटर 24 अक्टूबर, 1951 को सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज, जबलपुर के इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार इंजीनियरिंग विभाग में स्थापित किया गया था। कलकत्ता (अब कोलकाता) में टेलीविजन का प्रयोग सबसे पहली बार व्यक्तिगत रूप से हुआ, जो भारत में औद्योगीकरण के लिए एक बहुत बड़ा मील का पत्थर साबित हुआ। भारत में टेरेस्ट्रियल टेलीविज़न (Terrestrial television) की शुरुआत 15 सितंबर 1959 को दिल्ली में एक अस्थायी स्टूडियो द्वारा एक प्रायोगिक प्रसारण के साथ हुई।1965 में ऑल इंडिया रेडियो (AIR) के दैनिक प्रसारण के रूप में शुरू हुआ। टेलीविजन सेवा को बाद में 1972 में बॉम्बे (अब मुंबई) और अमृतसर तक बढ़ा दिया गया था। 1975 तक, सात भारतीय शहरों में टेलीविजन सेवाएं शुरू हो गई थीं। सैटेलाइट इंस्ट्रक्शनल टेलीविज़न एक्सपेरिमेंट (Satellite Instructional Television Experiment) भारत द्वारा विकास के लिए टेलीविज़न का उपयोग करने के लिए उठाया गया सबसे महत्वपूर्ण कदम माना गया। टेलीविजन कार्यक्रम मुख्य रूप से दूरदर्शन (डीडी) द्वारा निर्मित किए गए थे, जो उस समय आकाशवाणी का ही एक हिस्सा था। कार्यक्रमों का प्रसारण दिन में दो बार सुबह और शाम होता था, जिनमें कृषि, स्वास्थ्य और परिवार नियोजन से संबंधित जानकारी के अलावा अन्य महत्वपूर्ण विषय शामिल किये थे। 1976 में टेलीविजन सेवाओं को रेडियो से अलग कर दिया गया , और 1982 में राष्ट्रीय प्रसारण शुरू किया गया था। उसी वर्ष, भारतीय बाजार में रंगीन टेलीविजन ने भी पहली बार दस्तक दी। 1980 के दशक की शुरुआत के दौरान, भारत में सरकारी स्वामित्व वाला दूरदर्शन ही केवल एक राष्ट्रीय चैनल था। भारतीय महाकाव्यों पर आधारित, रामायण और महाभारत, पहली प्रमुख टेलीविजन श्रृंखला के रूप में उभरी। उस समय में भी इन कार्यक्रमों ने दर्शकों की संख्या में विश्व रिकॉर्ड बनाया। 1997 में, एक वैधानिक स्वायत्त निकाय प्रसार भारती,की स्थापना की गई। दूरदर्शन को AIR के साथ-साथ देश के सार्वजनिक सेवा प्रसारक प्रसार भारती के तहत सरकारी निगमों में बदल दिया गया। यह दूरदर्शन और आकाशवाणी के लिए अधिक स्वायत्तता की दिशा में एक कदम था। अमेरिकी उपग्रहों PAS 1 और PAS-4 के ट्रांसपोंडर (transponder) ने DD के प्रसारण और प्रसारण में मदद की।डीडी इंटरनेशनल (DD International) नामक एक अंतरराष्ट्रीय चैनल 1995 में शुरू किया गया था और यह पीएएस -4 के माध्यम से यूरोप, एशिया और अफ्रीका और पीएएस -1 के माध्यम से उत्तरी अमेरिका के लिए विदेशों में प्रतिदिन 19 घंटे कार्यक्रमों का प्रसारण करने लगा। रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक धारावाहिकों के अलावा हिंदी फिल्म गीत आधारित कार्यक्रम जैसे चित्रहार, रंगोली, सुपरहिट मुकाबला और अपराध थ्रिलर जैसे करमचंद, ब्योमकेश बख्शी और बच्चों पर लक्षित शो में दिव्यांशु की कहानियां, विक्रम बेताल, मालगुडी डेज़, तेनाली राम शामिल थे जो खूब पसंद किये गए। बंगाली फिल्म निर्माता प्रबीर रॉय को फरवरी-मार्च 1982 में नेहरू कप के दौरान भारत में रंगीन टेलीविजन कवरेज शुरू करने का गौरव प्राप्त हुआ। मनोरंजन के साथ ही टेलीविजन कई लोगों के लिए आय का भी प्रमुख जरिया साबित हुआ। खासतौर पर भारत में केबल कनेक्शन से सुविधा प्रदान करके आय अर्जित करना हमेशा से लोकप्रिय रहा है। 1990 के दशक के दौरान, बाज़ार में केबल बेहद शक्तिशाली हो रही थी। जैसे-जैसे विनियमन ने केबल के लिए बाज़ार खोला, केबल दरों में तेजी से वृद्धि हुई जब केबल बढ़ने लगी, तो चैनलों पर विज्ञापन भी आने लगे। विज्ञापन केबल टेलीविजन के प्रमुख परिणामों में से एक था। 2005 में लगभग एक चौथाई विज्ञापन, व्यावसायिक थे। आज सामान्य बच्चा प्रति वर्ष लगभग 40,000 विज्ञापनों को देखता है, जो बीस साल पहले की तुलना में लगभग 20,000 अधिक है। स्थानीय समाचार पत्र में एक पृष्ठ का विज्ञापन खरीदने वाले विज्ञापनदाताओं की तुलना में 30 सेकंड के विज्ञापन का उपयोग करना अधिक प्रभावी है। विज्ञापनदाता आम तौर पर विज्ञापन स्लॉट (Ad Slots) तब खरीदते हैं, जब दर्शकों की संख्या पर्याप्त होती है, ताकि उत्पाद खरीदने के लिए अधिक लोगों को प्रभावित किया जा सके।अत्यधिक तकनीकी प्रगति के साथ, टेलीविजन मानकों को मानक एनालॉग से डिजिटल टेलीविजन (analog to digital) में बदल दिया गया है, इससे अधिक चैनलों को हवा की तरंगों पर प्रसारित करने की अनुमति मिलती है। एनालॉग से डिजिटल में संक्रमण को डिजिटल टेलीविजन संक्रमण (डिजिटल टेलीविजन, एन.डी.) कहा जाता था। आज स्मार्ट (एलईडी), प्रकाश उत्सर्जक डायोड, टेलीविजन, प्लाज्मा टेलीविजन की जगह ले रहे हैं। स्मार्ट टेलीविज़न (smart television) अधिक ऊर्जा कुशल हैं, इनमे अधिक स्पष्ट चित्र दिखते हैं, कस्टम एप्लिकेशन (custom applications) इंस्टॉल कर सकते हैं , और यहां तक ​​​​कि वीडियो कॉल भी कर सकते हैं। यहां तक की आज के टीवी आपकी आवाज पहचान सकते हैं, साथ ही आपके हाव् भाव पढ़कर प्रतिक्रिया भी कर सकते हैं। अब यह देखने योग्य होगा की टीवी के विकास में अगला कदम क्या होगा?

संदर्भ
https://bit.ly/3oitquB
https://bit.ly/3mZMY7p
https://bit.ly/3Hb8tdI
https://en.wikipedia.org/wiki/Television
https://en.wikipedia.org/wiki/Television_in_India

चित्र संदर्भ

1. पुराने और आधुनिक टीवी को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2  पुराने टीवी में लकड़ी के बड़े फ्रेम में एक बड़ा कैथोड रे ट्यूब (cathode ray tube) होता था, जिसको दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. सेटेलाइट से सिग्नल प्राप्त करने वाली डिश एंटीना को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
4. हाथों के इशारे समझने वाली आधुनिक स्मार्ट टीवी को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id