Machine Translation

Base Language
ENTER PRARANG CITY PORTAL
Click to Load more

रुडयार्ड किपलिंग की कविता में रोहिल्ला युद्ध का वर्णन

The description of the Rohilla war in Rudyard Kiplings poem

Rampur
20-06-2019 11:36 AM

अंग्रेज़ी साहित्‍य के महान कवि और लेखक रडयार्ड किपलिंग ने अपने जीवन का एक पड़ाव भारत में गुज़ारा। इस दौरान उन्‍होंने भारत से संबंधित अनेक विषयों पर अपनी लेखनी चलाई। इनकी एक कविता में इन्‍होंने भारतीय इतिहास के सबसे भयावह युद्धों में से एक पानीपत के तृतीय युद्ध का वर्णन किया है। पानीपत के युद्ध का भारतीय इतिहास में विशेष स्‍थान है। पहले पानीपत के युद्ध (1526) में बाबर ने भारत में मुगल साम्राज्‍य की नींव रखी, द्वितीय युद्ध (1756) में मुगल सम्राट अकबर ने हिन्‍दुओं पर विजय प्राप्‍त की और तृतीय युद्ध (1761) मराठों और अफगानों के बीच लड़ा गया था, जिसमें 80,000 मराठा योद्धा मारे गए या गुलाम बनाए गए। रडयार्ड किपलिंग ने अपनी कविता ‘विद सिंधिया टू डेल्ही’ (With Scindia to Delhi) को इसी तीसरे युद्ध का आधार बनाया।

हिन्‍दूओं में केसरिया रंग को बलिदान का प्रतीक माना जाता है। केसरिया रंग के वस्त्र पारंपरिक रूप से राजपूत और मराठा योद्धाओं द्वारा दान किए जाते थे, जब वे बराबरी के शत्रु के विरूद्ध लड़ाई में जाते थे। अफगान के विरूद्ध भी कुछ ऐसा ही युद्ध था जिसमें मराठों और मुगलों के श्रेष्‍ठ नायकों ने भाग लिया, जिसमें सदाशिव राव भाऊ ने प्रमुख की भूमिका निभाई। अफगान की ओर से अहमद शाह दुर्रानी के नेतृत्‍व में युद्ध की अगुवाई की गयी। यह मुख्‍यतः भारतीय सीमा के निकट पठानों द्वारा बसाए गए खोस्‍त (अफगानिस्तान का एक कस्बा) से आए थे। इस युद्ध के दौरान सदाशिवराव भाऊ (मराठा सेना के सेनापति) ने मल्हार राव होलकर (अनुभवी सेनापति) की सलाह को नज़रअंदाज करते हुए बड़ी वीरता से युद्ध लड़ा किंतु हार गए।

किपलिंग ने अपनी कविता में युद्ध में रोहिल्‍ला सेना का भी वर्णन किया, जो मुख्‍यतः अफगानिस्‍तान की एक आदिवासी जनजाति थी तथा उत्‍तरी भारत में आक्रमण कर रोहिलखण्‍ड में आकर बस गए थे। किपलिंग की कविता की कुछ पंक्तियां इस प्रकार हैं:
The children of the hills of Khost before our lances ran,
We drove the black Rohillas back as cattle to the pen;
Twas then we needed Mulhar Rao to end what we began,
A thousand men had saved the charge; he fled the field with ten!
हमारे प्रहार से पूर्व खोस्त की पहाड़ियों के बच्चे (अफगानी) भाग गए,
हमने काले रोहिल्‍लों को भी मवेशियों के समान यहां से लौटा दिया,
इस अभियान को अब अंत करने हेतु हमें मल्‍हार राव की आवश्‍यकता थी,
एक हज़ार लोगों ने इस अभियान में प्रभार संभाला और वह दस के साथ मैदान छोड़ कर भाग गया।

League after league the formless scrub took shape and glided by
League after league the white road swirled behind the white mare's feet
League after league, when leagues were done, we heard the Populzai,
Where sure as Time and swift as Death the tireless footfall beat.

बटालियन की बटालियन निराकार वनों को पार करते हुए आगे की ओर बढ़ रही थी
मील दर मील सेना के घोड़ों के पैरों तले सफेद सड़क पीछे की और घूम रही थी
कई सैन्‍य दल जब एकत्रित हुए, तो उन्‍हें अफगानों की आवाज सुनाई दी
जहां निश्चित रूप से समय और मृत्‍यु बिना थके तीव्रता से आगे बढ़ रहे थे

किपलिंग की पूर्ण कविता इस प्रकार है:

The wreath of banquet overnight lay withered on the neck,
Our hands and scarfs were saffron-dyed for signal of despair,
When we went forth to Paniput to battle with the Mlech,
Ere we came back from Paniput and left a kingdom there.

Thrice thirty thousand men were we to force the Jumna fords
The hawk-winged horse of Damajee, mailed squadrons of the Bhao,
Stark levies of the southern hills, the Deccan's sharpest swords,
And he the harlot's traitor son the goatherd Mulhar Rao!

Thrice thirty thousand men were we before the mists had cleared,
The low white mists of morning heard the war-conch scream and bray;
We called upon Bhowani and we gripped them by the beard,
We rolled upon them like a flood and washed their ranks away.

The children of the hills of Khost before our lances ran,
We drove the black Rohillas back as cattle to the pen;
'Twas then we needed Mulhar Rao to end what we began,
A thousand men had saved the charge; he fled the field with ten!

There was no room to clear a sword -- no power to strike a blow,
For foot to foot, ay, breast to breast, the battle held us fast
Save where the naked hill-men ran, and stabbing from below
Brought down the horse and rider and we trampled them and passed.

To left the roar of musketry rang like a falling flood
To right the sunshine rippled red from redder lance and blade
Above the dark Upsaras* flew, beneath us plashed the blood,
And, bellying black against the dust, the Bhagwa Jhanda swayed.

* The Choosers of the Slain.

I saw it fall in smoke and fire, the banner of the Bhao;
I heard a voice across the press of one who called in vain:
"Ho! Anand Rao Nimbalkhur, ride! Get aid of Mulhar Rao!
Go shame his squadrons into fight -- the Bhao -- the Bhao is slain!"

Thereat, as when a sand-bar breaks in clotted spume and spray
When rain of later autumn sweeps the Jumna water-head,
Before their charge from flank to flank our riven ranks gave way;
But of the waters of that flood the Jumna fords ran red.

I held by Scindia, my lord, as close as man might hold;
A Soobah of the Deccan asks no aid to guard his life;
But Holkar's Horse were flying, and our chiefest chiefs were cold,
And like a flame among us leapt the long lean Northern knife.

I held by Scindia -- my lance from butt to tuft was dyed,
The froth of battle bossed the shield and roped the bridle-chain
What time beneath our horses' feet a maiden rose and cried,
And clung to Scindia, and I turned a sword-cut from the twain.

(He set a spell upon the maid in woodlands long ago,
A hunter by the Tapti banks she gave him water there:
He turned her heart to water, and she followed to her woe.
What need had he of Lalun who had twenty maids as fair?)

Now in that hour strength left my lord; he wrenched his mare aside;
He bound the girl behind him and we slashed and struggled free.
Across the reeling wreck of strife we rode as shadows ride
From Paniput to Delhi town, but not alone were we.

'Twas Lutuf-Ullah Populzai laid horse upon our track,
A swine-fed reiver of the North that lusted for the maid;
I might have barred his path awhile, but Scindia called me back,
And I -- O woe for Scindia! -- I listened and obeyed.

League after league the formless scrub took shape and glided by
League after league the white road swirled behind the white mare's feet
League after league, when leagues were done, we heard the Populzai,
Where sure as Time and swift as Death the tireless footfall beat.

Noon's eye beheld that shame of flight, the shadows fell, we fled
Where steadfast as the wheeling kite he followed in our train;
The black wolf warred where we had warred, the jackal mocked our dead,
And terror born of twilight-tide made mad the labouring brain.

I gasped: -- "A kingdom waits my lord; her love is but her own.
A day shall mar, a day shall cure for her, but what for thee?
Cut loose the girl: he follows fast. Cut loose and ride alone!"
Then Scindia 'twixt his blistered lips: -- "My Queens' Queen shall she be!

"Of all who ate my bread last night 'twas she alone that came
To seek her love between the spears and find her crown therein!
One shame is mine to-day, what need the weight of double shame?
If once we reach the Delhi gate, though all be lost, I win!"

We rode -- the white mare failed -- her trot a staggering stumble grew,
The cooking-smoke of even rose and weltered and hung low;
And still we heard the Populzai and still we strained anew,
And Delhi town was very near, but nearer was the foe.

Yea, Delhi town was very near when Lalun whispered: -- "Slay!
Lord of my life, the mare sinks fast -- stab deep and let me die!"
But Scindia would not, and the maid tore free and flung away,
And turning as she fell we heard the clattering Populzai.

Then Scindia checked the gasping mare that rocked and groaned for breath,
And wheeled to charge and plunged the knife a hand's-breadth in her side
The hunter and the hunted know how that last pause is death
The blood had chilled about her heart, she reared and fell and died.

Our Gods were kind. Before he heard the maiden's piteous scream
A log upon the Delhi road, beneath the mare he lay
Lost mistress and lost battle passed before him like a dream;
The darkness closed about his eyes -- I bore my King away.

संदर्भ:
1.https://www.poetryloverspage.com/poets/kipling/with_scindia.html
2.http://www.kiplingsociety.co.uk/rg_scindia1.htm

Rampur/1906203005





जौनपुर के पुल पर आधारित किपलिंग की कविता ‘अकबर का पुल’

poem of rudyard kipling based on the bridge of jaunpur

Jaunpur District
20-06-2019 11:15 AM

रडयार्ड किपलिंग (Rudyard Kipling) ब्रिटिश भारत के प्रसिद्ध लेखकों और कवियों में से एक हैं। ब्रिटिश काल में उन्होनें जंगल बुक (Jungle Book) और अन्य भारतीय कथाओं या उपन्यासों को लिखा। उनके द्वारा लिखी गयी कविताओं में अकबर का पुल (Akbar's Bridge) भी शामिल है। आपके लिये यह जानना रोमांचकारी होगा कि यह कविता वास्तव में जौनपुर के एक पुल पर आधारित है। लगभग 20 साल पहले एक भोपाली फिल्म निर्देशक की लघु फिल्म में भी इस कविता को संदर्भित किया गया था। जौनपुर में गोमती नदी पर बना यह पुल मुगल साम्राज्य की एक महत्वपूर्ण संरचना है। किपलिंग ने जब अकबर के इस पुल को देखा तो इस पुल के निर्माण की रोचक कहानी को जानने के लिये वे बहुत उत्साहित हुए और अंततः इस पुल का इतिहास जानने के बाद उन्होनें इस पुल के निर्माण पर एक कविता लिखी।

इस पुल का निर्माण मुनीम खान (सूबेदार) ने अकबर के आदेशानुसार किया था। कहा जाता है कि अकबर की कोई संतान न होने के कारण उसने पुत्र प्राप्ति के लिये एक मस्जिद बनाने का निर्णय किया ताकि इस भेंट से अल्लाह उस पर खुश हों और उसे उसकी महारानी जोधा बाई द्वारा एक पुत्र की प्राप्ति हो। लेकिन तभी उसे एक विधवा द्वारा यह बात पता चली कि उसके अधिकारी मस्जिद के निर्माण के लिये गरीब कारीगरों और श्रमिकों से जबरन पैसे वसूल रहे हैं। उसने अकबर को कहा कि यदि मस्जिद की जगह लोगों के लिये एक पुल का निर्माण किया जाये तो इससे अल्लाह वास्तव में खुश होगा और इस प्रकार पुल का निर्माण कार्य शुरू किया गया।

इस कविता का अभी तक कोई हिंदी अनुवाद उपलब्ध नहीं है किंतु इसका पहला हिंदी अनुवाद इस लेख में दिया जा रहा है, जो निम्नलिखित है:

JELALUDIN MUHAMMED AKBAR, Guardian of Mankind,
Moved his standards out of Delhi to Jaunpore of lower Hind,
Where a mosque was to be builded, and a lovelier ne’er was planned;
And Munim Khan, his Viceroy, slid the drawings 'neath his hand.

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत के संरक्षक,
अपने मोर्चे को दिल्ली से हटाकर निचले हिंद में जौनपुर की ओर ले गये,
जहाँ एक मस्जिद का निर्माण किया जाना था, इस प्रकार की खूबसूरत योजना पहले नहीं बनाई गई थी;
उनके सूबेदार मुनीम खान ने इस मस्जिद का चित्र स्वयं अपने हाथों से बनाया।

(High as Hope upsheered her out-works to the promised Heavens above.
Deep as Faith and dark as Judgment her unplumbed foundations dove.
Wide as Mercy, white as moonlight, stretched her forecourts to the dawn;
And Akbar gave commandment, "Let it rise as it is drawn")

उनका यह कार्य जन्नत से भी श्रेष्ठ और खुबसूरत था।
इसकी विशाल नींव उनके अटूट विश्‍वास और गूढ़ न्‍याय के समान मज़बूत थी।
दया के रूप में विस्तृत, चांदनी के समान उज्ज्वल, सुबह तक अपनी चांदनी को अग्र प्रांगण में फैलाती थी;
और अकबर ने आज्ञा दी, "जैसा यह चित्रित है वैसा ही इसे बनाया जाए।"

Then he wearied-the mood moving-of the men and things he ruled,
And he walked beside the Goomti while the flaming sunset cooled,
Simply, without mark or ensign-singly, without guard and guide,
Till he heard an angry woman screeching by the river-side.

उसने अपनी प्रजा और उन चीजों जिन पर उसका नियंत्रण था, को स्थानांतरित करने हेतु सोचा,
और वह सूर्यास्त होने पर गोमती नदी के किनारे चल पड़ा,
सरलता से बिना किसी पताका, संरक्षक या मार्गदर्शक के,
तभी उन्होंने नदी के किनारे एक महिला को गुस्से में चिल्लाते हुए सुना।

'Twas the Widow of the Potter, a virago feared and known,
In haste to cross the ferry, but the ferry-man had gone.
So she cursed him and his office, and hearing Akbar's tread,
(She was very old and darkling) turned her wrath upon his head.

वह एक कुम्हार की विधवा थी, जिसकी कर्कश आवाज डरावनी और जानी पहचानी थी
वह नदी पार करने के लिये शीघ्रता से नाव की ओर बढ़ी, किंतु तब तक वह नाविक जा चुका था।
इसलिए वह उस नाविक और उसके कार्य को कोसने लगी और तभी उसने अकबर के कदमों की आवाज को सुना,
(वह बहुत बूढ़ी थी) और उसने अपना क्रोध अकबर पर उतार दिया।

But he answered-being Akbar-"Suffer me to scull you o'er."
Called her "Mother," stowed her bundles, worked the clumsy scow from shore,
Till they grounded on a sand-bank, and the Widow loosed her mind;
And the stars stole out and chuckled at the Guardian of Mankind

लेकिन अकबर ने उसे जवाब दिया कि- "तुम अपने क्रोध को मुझ पर उतार सकती हो।"
अकबर ने उसे माँ बुलाया, उसकी गठरी को बटोरा, एक बेडौल नाव लेकर उसे नदी पार करवायी,
जब तक वे दूसरे तट पर नहीं उतरे, तब तक विधवा अपने होश गंवा चुकी थी;
और अब तक आकाश में तारे आ चुके थे जो इंसानियत के इस संरक्षक पर हँसते प्रतीत हो रहे थे

"Oh, most impotent of bunglers! Oh, my daughter's daughter's brood
Waiting hungry on the threshold; for I cannot bring their food,
Till a fool has learned his business at their virtuous grandma’s cost,
And a greater fool, our Viceroy, trifles while her name is lost!

"ओह, घपलेबाजों के सबसे शक्तिहीन व्यक्ति! ओह, मेरी बेटी की बेटी के बच्चे
दहलीज़ पर भूखे इंतज़ार कर रहे हैं, जिनके लिये मैं उनका भोजन नहीं ले जा सकती
जब तक एक मूर्ख इस बुढ़िया द्वारा अपना काम ठीक से करना ना सीख ले
और एक बड़ा मूर्ख, हमारा सूबेदार, निरर्थक समय बरबाद करता है जब तक कि उसका (महिला) नाम कहीं खो ना जाये!

"Munim Khan, that Sire of Asses, sees me daily come and go
As it suits a drunken boatman, or this ox who cannot row.
Munim Khan, the Owl's Own Uncle-Munim Khan, the Capon's seed,
Must build a mosque to Allah when a bridge is all we need!

“मुनीम खान, जो कि मूर्खों का राजा है, मुझे रोज़ाना यहां आते-जाते देखता है
यह जगह एक शराबी नाविक के तो हित में है, और इस बैल के भी, जो नाव नहीं चला सकता।
मुनीम खान, उल्लू का चाचा-मुनीम खान, वह कायर पुरूष
अल्लाह के लिये एक मस्जिद का निर्माण करना चाहता है जब कि सबको एक पुल की आवश्यकता है!

"Eighty years I eat oppression and extortion and delays-
Snake and crocodile and fever, flood and drouth, beset my ways.
But Munim Khan must tax us for his mosque whate'er befall;
Allah knowing (May He hear me!) that a bridge would save us all!

"अस्सी साल मैं जुल्म और जबरन वसूली सहन कर रही हूं
सांप और मगरमच्छ और बुखार, बाढ़ और सूखा मेरे जीवन का हिस्सा बन गये हैं।
लेकिन मुनीम खान अपनी मस्जिद के लिए हम पर कर लगा रहा है;
अल्लाह जानता है (काश वह मुझे सुन सके) कि पुल का निर्माण हम सभी को मुश्किलों से बचाएगा।"

While she stormed that other laboured and, when they touched the shore,
Laughing brought her on his shoulder to her hovel's very door.
But his mirth renewed her anger, for she thought he mocked the weak;
So she scored him with her talons, drawing blood on either cheek.

जब उसने अधिक क्रोध किया और जब वे किनारे पर पहुंचे,
तो अकबर हंसते हुए उसे अपने कंधे पर उठाकर उसकी झोंपड़ी के दरवाजे पर ले गये।
लेकिन अकबर की खुशी ने उसके गुस्से को और अधिक बढ़ा दिया, क्योंकि उसे लगा कि वह एक निर्बल का मज़ाक उड़ा रहे हैं।
इसलिए उसने अकबर के गाल पर अपने नाखून से खून निकाल दिया।

Jelaludin Muhammed Akbar, Guardian of Mankind,
Spoke with Munim Khan his Viceroy, ere the midnight stars declined-
Girt and sworded, robed and jewelled, but on either cheek appeared
Four shameless scratches running from the turban to the beard.

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत का संरक्षक
अपने सूबेदार मुनीम खान से आधी रात के सितारे ढलने पर बोले
घावों और आभूषणों से लदे थे अकबर, लेकिन दोनों गालों पर
पगड़ी से दाढ़ी तक चार शर्मसार कर देने वाली खरोंचे दिखायी दे रही थीं।

"Allah burn all Potters' Widows! Yet, since this same night was young,
One has shown me by sure token, there was wisdom on her tongue.
Yes, I ferried her for hire. “Yes," he pointed, "I was paid."
And he told the tale rehearsing all the Widow did and said.

“अल्लाह ने सभी कुम्हारों की विधवाओं को क्रोधित किया! मगर इस ही रात में,
एक निश्चित निशानी के द्वारा मुझे एक ऐसी विधवा ने दिखाया गया है, कि उसकी ज़ुबान पर सत्य था।
हां, मैंने किराये पर उसे पार लगाया। "हाँ," उन्होंने कहा, "मुझे भुगतान किया गया।"
और उन्होंने फिर से वही दोहराया जो उस विधवा ने किया और कहा।

And he ended, "Sire of Asses-Capon-Owl's Own Uncle-know
I-most impotent of bunglers-I-this ox who cannot row-
I-Jelaludin Muhammed Akbar, Guardian of Mankind-
Bid thee build the hag her bridge and put our mosque from out
thy mind."

और वह यह कहते हुए चुप हुए कि मूर्खों के महाराज, उल्लू के चाचा, जानो
मैं-घपले बाजों का सबसे शक्तिहीन व्यक्ति हूं, मैं यह बैल हूं जो किसी को पार नहीं लगा सकता।
मैं, जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर, इंसानियत का संरक्षक
तुम्हें आदेश देता हूं कि उस औरत के पुल का निर्माण करो।
और हमारी मस्जिद को अपने दिमाग से निकाल दो।"

So 'twas built, and Allah blessed it; and, through earthquake, flood, and sword,
Still the bridge his Viceroy builded throws her arch o'er Akbar's Ford!

इस प्रकार इसका निर्माण हुआ और अल्लाह ने इसे आशीर्वाद दिया और भूकंप, बाढ़ और युद्ध से ग्रसित होने के बाद भी उनके सूबेदार ने इस पुल का निर्माण किया जिस पर अकबर के किले के समान मेहराब बनाये गये हैं!

संदर्भ:

1. https://bit.ly/2WPEsHH
2. https://ww w.poetryloverspage.com/poets/kipling/akbars_bridge.html

Jaunpur_District/1906203004





मेरठ की लड़की के बारे में किपलिंग की कविता

Kiplings poem about Meeruts girl

Meerut
20-06-2019 11:30 AM

रूडयार्ड किपलिंग (Rudyard Kipling) 19वीं और 20वीं शताब्दी की शुरुआत के ब्रिटिश लेखक और कवि थे। उन्होनें अपने जीवन का अधिकांश भाग भारत में ही बिताया इस दौरान उन्होनें कई लघु कथाएं और कविताएं लिखी जो आज भी लोगों में काफी लोकप्रिय हैं रुडयार्ड किपलिंग की एक मजेदार और लोकप्रिय अंग्रेजी कविता सोल्जर लव लाइफ (द लेडीज) (Soldier Love Life (The Ladies)) भी इन्हीं कविताओं में से एक है यह कविता विशेष रूप से मेरठ से जुड़ी हुई है क्योंकि यह कविता मेरठ के कॉन्वेंट (Convent) की एक शिक्षित लड़की को संदर्भित करती है। किपलिंग ने इस संदर्भ का जिक्र अपनी आत्मकथा में भी किया। एक और कविता जो कि मेरठ से सम्बंधित है, का जिक्र भी उन्होनें अपनी आत्मकथा में किया लेकिन अब यह कविता कहीं खो सी गयी है।

इस कविता में वे विशेष रूप से उन चार महिलाओं का स्मरण करते हैं जिनका साथ पाकर एक सिपाही कई वर्षों तक खुश रहा। "लव ऑफ 'वीमेन"- "Love of Women" (Many Inventions) में लैरी टाइघे (Larry Tighe) के विपरीत, वह इन सम्बंधों से किसी भी तरह के बुरे प्रभाव का सामना करते हुए नहीं दिखाई दिए। थोड़ा स्मरण करने के बाद वे इस निष्कर्ष पर आये कि वे महिलाएं चाहे उनका सामाजिक वर्ग जो भी हो, एक दूसरे से बहुत समानताएं रखती थी। कोलोनेल (Colonel's) की महिला और जूडी ओ'ग्राडी (Judy O'Grady) दोनों भी इसी प्रकार की ही महिलाएं हैं।

रूडयार्ड किपलिंग की इस कविता की कुछ पंक्तियां निम्नलिखित हैं:

मैं फिर घुड़सवारी करते हुए घर आया
16 वर्ष की आयु में मैंने मेरठ के कॉन्वेंट की एक लड़की को देखा
मैंने पहली बार इतनी ईमानदार लड़की को देखा था
उस लड़की से एकतरफा पसंद मेरी समस्या बन गया
वह इस बारे में नहीं जानती थी कि यह क्या है,
और न ही मैं उसे यह बताना चाहता था,
क्योंकि मैं उसे बहुत पसंद करने लगा था
लेकिन मैंने औरतों के बारे में उसी से बहुत कुछ सीखा

Then I come 'ome in a trooper,
'Long of a kid o' sixteen
'Girl from a convent at Meerut,
The straightest I ever 'ave seen.
Love at first sight was 'er trouble,
She didn't know what it were;
An' I wouldn't do such, 'cause I liked 'er too much,
But -- I learned about women from 'er!

रुडयार्ड किपलिंग ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि उनकी सबसे दिलचस्प कविताओं में से एक मेरठ में लिखी गई थी, जिसे 1947 के विद्रोह से 3 या 4 दिन पहले ही लिखा गया था। किपलिंग ने इस क‍विता को मजाकिया पाया क्योंकि इस कविता में लेखक ने कपड़ों की सफाई की गुणवत्ता से नाखुश होने के बारे में लिखा, जिन्हें उन्होंने धोने के लिए भेजा था।

26 सितंबर, 1889 को जन्मे फ्रैंक क्रुमिट (Frank Crumit) एक अमेरिकी गायक, संगीतकार, रेडियो मनोरंजक और कामिक नाटक अभिनेता थे। उन्होंने अपनी पत्नी जूलिया सैंडरसन (Julia Sanderson) के साथ भी अपने रेडियो कार्यक्रम साझा किए। किपलिंग की इस कविता को 1926 में अमेरिकी गायक फ्रेन्क क्रुमिट ने गाया जिसका शीर्षक “आइ लर्न्ड अबाऊट वोमेन फ्रॉम हर (I learned about Women from her)” था इसे आप निम्न लिंक पर जाकर सुन सकते हैं:


द स्पैर्टन फ्रिंज ओपन माइक (the Spratton Fringe open mic) फरवरी 2010 में रे बेक (Ray Beck) ने अपने मैंडोलिन (Mandolin) पर एक संगीत बजाया जो रुडयार्ड किपलिंग की कविता द लेडीज़ (The Ladies) पर ही आधारित था। इस संगीत को आप निम्नलिखित लिंक पर जाकर सुन सकते हैं:


संदर्भ:
1. https://www.poetryloverspage.com/poets/kipling/ladies.html
2. https://bit.ly/31EYIzm
3. http://www.kiplingsociety.co.uk/rg_ladies1.html
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Frank_Crumit

Meerut/1906203003





रामपुर और लखनऊ को संदर्भित करता रडयार्ड किपलिंग का प्रसिद्ध उपन्यास ‘किम’

Rudyard Kiplings famous novel Kim refers to Rampur and Lucknow

Lucknow
20-06-2019 11:26 AM

रडयार्ड किपलिंग 19वीं और 20वीं शताब्दी की शुरुआत के ब्रिटिश लेखक और कवि थे। उन्होनें अपने जीवन का अधिकांश भाग भारत में ही बिताया। इस दौरान उन्होनें भारत आधारित कई लघु कथाएं और कविताएं लिखीं जो आज भी लोगों में काफी लोकप्रिय हैं। उनके सबसे ज़्यादा पसंद किये जाने वाले उपन्यासों में ‘किम’ भी एक है। यह उपन्यास एक तेरह वर्षीय बालक किम पर आधारित है जो लाहौर में रहता था तथा जिसका अपहरण एक अफीम मांद के रक्षक द्वारा किया गया था।

किम आयरिश मूल का था तथा उसमें विभिन्न संस्कृतियों में घुल मिल जाने की क्षमता थी। भाषा के लिए उसकी आत्मीयता के कारण उसे ‘फ्रेंड ऑफ ऑल द वर्ल्ड’ (Friend of All the World) के रूप में जाना जाता था। उसकी मुलाकात तिब्बत से आये एक बौद्ध लामा से हुई। बौद्ध लामा ज्ञानोदय हेतु एक पवित्र नदी की तलाश में आए थे। किम ने फैसला किया कि वह भी उस नदी को खोजने में बौद्ध लामा की मदद करेगा। इस नदी का स्थान सभी के लिए एक रहस्य था। किम ने इसकी सूचना अपने दोस्त महबूब अली जो कि ब्रिटिश जासूस था, को दी। इस पर अली ने अम्बाला में एक अंग्रेज को देने के लिए कुछ कागज़ात किम को दिये। जिस दिन वे अपनी यात्रा के लिये निकले, उस रात किम ने दो अजनबियों को अली की चीज़ों को कुरेदते हुए देखा और तब उसे खतरे का आभास हुआ। ट्रेन पर सवार किम और लामा अम्बाला जाते हुए सभी क्षेत्रों के लोगों से मिले जिनके रीति-रिवाज़ और भाषाएं भिन्न-भिन्न थी। अम्बाला पहुंचने पर किम ने उस अंग्रेज़ को खोज लिया जिसके लिये अली ने वे कागज़ात भिजवाये थे। इस दौरान किम को यह आभास हुआ कि वहां कोई युद्ध चल रहा है और उन कागज़ातों का सम्बंध उस युद्ध से ही है।

अम्बाला के निकट एक इलाके में किम और लामा की मुलाकात एक पुराने भारतीय सैनिक से होती है जिसने कई सालों पहले अंग्रेजों के लिये लड़ाई लड़ी थी। वह सैनिक भी किम और लामा की इस यात्रा में शामिल हो जाता है और तीनों ग्रैंड ट्रंक रोड (Grand Trunk Road) की ओर निकल पड़ते हैं। इस दौरान किम को एक अंग्रेजी रेजिमेंट (Regiment) द्वारा बंदी बना लिया जाता है। यह पता चलने पर कि यह लड़का वही आयरिश है जिसके पिता किम्बल ओ'हारा (Kimball O’Hara) ने उनके साथ लड़ाई लड़ी थी, तो रेजिमेंट ने उसे लामा के साथ यात्रा करने से मना कर दिया जिस कारण लामा ने अपनी पवित्र नदी की खोज को अधूरा ही छोड़ दिया।

रेजिमेंट के साथ यात्रा करने वाले फादर विक्टर (Victor) एक पत्र को दर्शाते हैं जिसमें लिखा था कि लामा सेंट ज़ेवियर्स (St. Xavier) जो कि श्वेत लोगों के लिए एक कैथोलिक स्कूल (Catholic School) है, में किम की शिक्षा के लिए भुगतान करेंगे। किम को यह मंज़ूर नहीं था किंतु अली ने किम को समझाया कि सेंट ज़ेवियर्स में शिक्षा ग्रहण करना उसके लिये सबसे अच्छा विकल्प है। रेजीमेंट के कर्नल क्रेयटन किम को एक जासूस के रूप में नियुक्त करना चाहते थे। सेंट ज़ेवियर्स में किम लगभग एक साल व्यतीत करता है और गर्मियों में अली के साथ कार्य करने के लिए खुद को एक हिंदू भिखारी के रूप में प्रदर्शित करता है। किम जानता था कि अली ब्रिटिश सेना का एक जासूस है और वह उसे भी इसी चीज़ के लिये प्रशिक्षित करेगा। किम उन दो अजनबियों के बारे में अली को चेतावनी देता है और उसकी जान बचाता है। इसके बाद क्रेयटन, किम को एक अन्य जासूस लुर्गन साहिब के पास भेजता है ताकि किम के वापस सेंट ज़ेवियर्स जाने से पहले लुर्गन साहिब और चंदरमुखर्जी दोनों किम के जासूसी प्रशिक्षण की देखरेख कर सकें।

सोलह वर्ष का होने पर किम को स्कूल से छुट्टी दे दी गयी और उसे एक बौद्ध पुजारी का भेष दिया गया ताकि वह एक जासूस के रूप में काम करना शुरू कर सके। उसकी मुलाकात पुनः लामा से होती है। किम द्वारा जासूसी नेटवर्क (Network) में किसी शख्स की मदद करने पर लामा को लगता है कि उसके पास कोई जादुई शक्ति है तथा उसे अपने कार्य के लिये ऐसी शक्तियों का इस्तेमाल न करने की चेतावनी देते हैं।

इस उपन्यास में रामपुर का ज़िक्र भी आया है। जब मुखर्जी किम से मिलता है और उसे बताता है कि उत्तरी सीमा से परे स्वतंत्र क्षेत्रों पर शासन करने वाले पांच राजा रूसियों के साथ गठबंधन कर रहे हैं। मुखर्जी ने किम से मदद करने के लिए कहा और इसलिए किम ने लामा को उत्तर की यात्रा करने हेतु आश्वस्त किया। जब मुखर्जी को जासूसों के साथ पकड़ लिया गया, तो उसे पता चला कि वास्तव में उनमें से एक फ्रांसीसी है और उसने यह विश्वास दिलाया कि वे दूत हैं जिन्हें रामपुर के राजा द्वारा उनका स्वागत करने के लिए भेजा गया है। इसी बीच लामा बीमार पड़ जाता है और निर्णय लेता है कि उसे दक्षिण वापस लौटना चाहिए।

किपलिंग ने उपन्यास में लखनऊ के ला मार्टिनियर स्कूल (La Martiniere School) का उल्लेख किया था परन्तु इसका नाम सेंट ज़ेवियर्स दिया गया। निम्न अवतरण से इस बात की पुष्टि की जा सकती है।

व्यापारी ने महबूब से कहा कि, “मैं आप से फिर मिलूंगा यदि आप के पास इस प्रकार का कुछ और बेचने के लिये होगा”। वह किम से कहता है कि, “तुम्हारी किस्मत बन गयी है। कुछ समय में तुम लखनऊ के लिए निकलोगे। मई तुमसे फिर मिलूँगा, शायद एक से ज़्यादा बार”। कर्नल किम को समझाते हैं कि, “तीन दिन में तुम मेरे साथ लखनऊ चलोगे तथा रास्ते में हर समय कई नई चीजें देखने और सुनने मिलेंगी। इसलिए तीन दिन तक तुम्हें तसल्ली से बैठे रहना चाहिए। तुम लखनऊ के स्कूल में जाओगे”। इस पर किम प्रश्न पूछता है कि, “क्या मैं लखनऊ में उस पवित्र व्‍यक्ति (लामा) से मिलूंगा?”
कर्नल किम को समझाता है कि, “अम्बाला की अपेक्षा लखनऊ बनारस से ज़्यादा निकट है और यह बात अच्छी है”।

किम में लखनऊ का वर्णन कुछ इस प्रकार दिया गया है:
When they came to the crowded Lucknow station there was no sign of the lama. Kim swallowed his disappointment, while the Colonel bundled him into a ticca-gharri with his small belongings and despatched him alone to St. Xavier's. 'I do not say farewell, because we shall meet again,' he cried. 'Again, and many times, if thou art one of good spirit. But thou art not yet tried.' 'Not when I brought thee'—Kim actually dared to use the tum of equals—'the white stallion's pedigree that night?' 'Much is gained by forgetting, little brother,' said the Colonel, with a look that pierced through Kim's shoulder-blades as he scuttled into the carriage. It took him nearly five minutes to recover. Then he sniffed the new air appreciatively. 'A rich city,' he said. 'Richer than Lahore. How good the bazars must be. Coachman, drive me a little through the bazars here.' 'My order is to take thee to the school.' The driver used the 'thou,' which is rudeness when applied to a white man. In the clearest and most fluent vernacular Kim pointed out his error, climbed on to the box-seat, and, a perfect understanding being established, drove for a couple of hours up and down, estimating, comparing, and enjoying. There is no city—except Bombay, the queen of all—more beautiful in her garish style than Lucknow, whether you see her from the bridge over the river, or the top of the Imambara looking down on the gilt umbrellas of the Chutter Munzil, and the trees in which the town is bedded. Kings have adorned her with fantastic buildings, endowed her with charities, crammed her with pensioners, and drenched her with blood. She is the centre of all idleness, intrigue, and luxury, and shares with Delhi the claim to talk the only pure Urdu.

उपरोक्त पंक्तियों का हिंदी अर्थ निम्नांकित है:-

जब वे दोनों भीड़-भाड़ वाले लखनऊ स्टेशन पर आए तो किम को लामा का कोई पता नहीं था। किम ने अपनी इस निराशा को निगल लिया और कर्नल ने उसे सेंट ज़ेवियर्स में अकेला छोड़ दिया। किम के अनुसार लखनऊ लाहौर से भी ज्यादा अमीर शहर है। कोई भी शहर (बॉम्बे को छोड़कर) ऐसा नहीं है जो लखनऊ की तुलना में अपनी भव्य शैली में अधिक सुंदर हो, चाहे उसे किसी भी रूप में देखा जाये। राजाओं ने इस शहर को शानदार इमारतों से सजाया है, दान से संपन्न किया है, और खून से सराबोर किया है। यह आलस्य, रोचकता और विलासिता का केंद्र भी है जो दिल्ली के साथ एकमात्र शुद्ध उर्दू पर बात करने का दावा करता है।

संदर्भ:
1. http://www.supersummary.com/kim/summary/
2. https://en.wikisource.org/wiki/Page:Kim_-_Rudyard_Kipling_(1912).djvu/166
3. https://en.wikisource.org/wiki/Page:Kim_-_Rudyard_Kipling_(1912).djvu/173

Lucknow/1906203002





टी-शर्ट का इतिहास

T shirt history

Rampur
19-06-2019 11:15 AM

आपकी वेशभूषा आपके सामाजिक स्‍तर को दर्शाती है, किंतु कुछ वस्‍त्र ऐसे होते हैं जो समाज के हर वर्ग के लिए समान महत्‍व रखते हैं। टी-शर्ट (T-Shirt) उनमें से एक है, यह अपने रंग, रूप और आकृति के कारण विश्‍व के अधिकांश हिस्‍सों में लोकप्रिय है। शरीर और आस्तीन के टी आकार के कारण इसका नाम टी-शर्ट पड़ा, जो सामान्‍यतः छोटी आस्तीन और गोल गले की होती है। यह आरामदायक होने के साथ-साथ बहुद्देश्‍यों की पूर्ति करती है अर्थात आप मौसम के अनुरूप इसका उपयोग कर सकते हैं। हालांकि अपने उद्भव के कुछ वर्ष बाद तक इसे एक अंतर्वस्त्र (अंडरवियर-Underwear) के रूप में उपयोग किया जाता था तथा लोग बिना शर्ट के इसे पहनने में लज्‍जा का अनुभव करते थे। किंतु पिछले एक शतक में इसमें कई उल्‍लेखनीय परिवर्तन किए गए, जिससे यह एक अंतर्वस्त्र से हटकर प्रचलित फैशन के अनुरूप बाह्य रूप से पहना जाने वाला परिधान बन गयी।

19वीं शताब्दी में टी-शर्ट को एक अंतर्वस्त्र के रूप में तैयार किया गया। सर्वप्रथम एक संयुक्‍त अंतर्वस्त्र को दो भागों में अर्थात शरीर के ऊपरी और नीचले भाग के लिए अलग-अलग बांट दिया गया, जो सर्दियों के मौसम में शरीर को गर्म रखने में सहायक थे। जबकि आस्तीन और बटन रहित टी-शर्ट को गर्म मौसम के लिए तैयार किया गया था, 19 वीं शताब्दी के अंत तक खनिक और जहाज के श्रमिकों द्वारा इन अंतर्वस्त्रों का व्‍यापक रूप से प्रयोग किया गया। 1898 (स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध के) से 1913 के बीच अमेरिकी नौसेना ने वर्दी के अंदर अंतर्वस्त्र के रूप में टी-शर्ट का उपयोग किया, जिसे अक्‍सर कार्य करने के दौरान वे बिना वर्दी के ही पहनते थे। वातानुकूलित होने के कारण देखते ही देखते यह अन्‍य श्रमिक वर्गों (कृषि सहित विभिन्न उद्योगों में कार्यरत) के मध्‍य भी काफी लोकप्रिय हो गयी।

1904 में, कूपर अंडरवीयर कंपनी (Cooper Underwear Company) ने नौजवानों के लिए टी-शर्ट नामक नए उत्‍पाद को लेकर एक विज्ञापन छापा। जिसका स्‍लोगन "नो सेफ्टी पिन - नो बटन - नो निडल - नो थ्रेड" था, जो व्‍यापक रूप से प्रसारित हुआ। और देखते ही देखते कपास से बनी गोल गले की टी-शर्ट अपने लाभों के कारण लोगों के मध्‍य काफी प्रसिद्ध हो गयी। कूपर कंपनी ने टी-शर्ट को प्रसिद्ध तो कर दिया किंतु इसके स्‍वरूप में कोई विशेष परिवर्तन नहीं किए। ट्रोपिक्स टोग्स (Tropix Togs) टी-शर्ट पर डिजाइन बनाने वली पहली कंपनियों में से एक थी।

1950 में मार्लोन ब्रैंडो (Marlon Brando) ने अपनी फिल्‍म अ स्ट्रीटकार नेम्‍ड डिजायर (A Streetcar Named Desire) में टी-शर्ट पहनी, जिसने टी-शर्ट की लोकप्रियता को तीव्रता से बढ़ाया। और टी-शर्ट अंतर्वस्त्र के स्‍थान पर बाह्य रूप से पहने जाने वाले वस्‍त्र के रूप में प्रचलित होने लगी। अब लोग अपने दैनिक जीवन की गतिविधियों में एक बाह्य वस्‍त्र के रूप में इसका प्रयोग करने लग गए थे।

वर्तमान समय में टी-शर्ट के अनगिनत संस्‍करण बाजार में उपलब्ध हैं, जो कपड़ा, रंग, रूप, डिजाइन आकार के अनुरूप भिन्‍न-भिन्‍न गुणवत्‍ता के आधार पर न्‍यूनतम से अधिकतम मूल्‍यों में उपलब्‍ध हैं। इनमें प्रचलित फैशन के अनुरूप परिवर्तन किया जाता है।

संदर्भ:-
1. https://www.nytimes.com/2013/09/22/magazine/who-made-that-t-shirt.html
2. https://www.bewakoof.com/blog/history-of-t-shirts-why-and-how-they-were-made
3. https://gizmodo.com/how-the-t-shirt-was-invented-1646047645
4. https://en.wikipedia.org/wiki/T-shirt

Rampur/1906193001





फ्रॉक और मैक्सी पोशाक का इतिहास

History of frock and maxi dress

Meerut
19-06-2019 11:12 AM

मानव मौसम, सौन्‍दर्य, स्वास्थ्य एवं उपयोगिता के अनुसार भिन्‍न-भिन्‍न वस्‍त्रों का निर्माण करता आ रहा है। इसी कारण भारत में भी विभिन्न परंपरागत पोशाक तो हैं हीं, लेकिन इसके साथ ही ब्रिटिश भारत के समय भारतियों द्वारा कई ब्रिटिश पोशाकों का अनुसरण भी किया गया था। जिनमें से एक है महिलाओं की फ्रॉक (Frock) और मैक्सी (Maxi) पोशाक, जिसे भारत में ब्रिटिशों द्वारा लाया गया था। तो आइए जानते हैं फ्रॉक और मैक्सी पोशाक के इतिहास के बारे में।

मूल रूप से, एक फ्रॉक एक ढीली, लंबी और चौड़ी आस्तीन वाली लंबी पोशाक हुआ करती थी, जैसे एक साधु या पुजारी को कई बार पहने हुए देखा जाता है। फ्रॉक में समय के साथ-साथ कई परिवर्तन किए गए। 16 वीं शताब्दी से 20 वीं शताब्दी के शुरुआती दिनों में, फ्रॉक को एक महिला की पोशाक या गाउन (Gown) के रूप में प्रयोग में लाया गया। 16 वीं शताब्दी में महिलाओं द्वारा कसी हुई लंबी और चौड़ी फ्रॉक पहनी जाती थी और बाद में 17वीं शताब्दी तक महिलाओं द्वारा अंदर से तीन वस्‍त्रों की परत वाली लंबी फ्रॉक पहनना आरंभ किया गया।

1960 के दशक के फैशन डिज़ाइनर (Fashion Designer), ऑस्कर डे ला रेंटा द्वारा पूरे विश्व के फैशन परस्त लोगों के लिए एक आरामदायक वस्त्र को डिज़ाइन किया गया था, जिसे मैक्सी के नाम से जाना गया। उन्होंने महिलाओं के लिए आरामदायक मैक्सी को डिज़ाइन किया और 1968 के न्यूयॉर्क टाइम्स (New York Times) में उनके डिज़ाइन को और लाखों लोगों द्वारा इसे पहने जाने पर इसकी प्रशंसा की गयी। 20वीं शताब्दी में पॉल पौयरेट द्वारा हॉबल स्कर्ट (Hobble skirt) को पेश किया गया। यह स्कर्ट लंबी और सुसज्जित थी और इसे पहनने वाला केवल छोटे कदम ही उठा कर चल सकता था। 20वीं शताब्दी तक स्कर्ट की लंबाई आरामदायक बनाने के लिए थोड़ी छोटी कर दी गई।

वैसे क्या आप जानते हैं कि फ्रॉक को पहले महिलाओं से ज़्यादा पुरूषों द्वारा पहना जाता था। 17वीं शताब्दी तक फ्रॉक को ग्रेट ब्रिटेन में चरवाहा, कामगार और खेत मजदूरों द्वारा पहना जाता था। वहीं 18वीं शताब्दी तक इसमें एक नया संस्करण सामने आया, जिसमें कुछ विशेष परिवर्तन किए गए थे, जिसे फ्रॉक कोट (Frock Coat) के नाम से जाना गया। फ्रॉक कोट नेपोलियन युद्धों के दौरान उभरा था, जिसमें उन्हें ऑस्ट्रियाई और विभिन्न जर्मन सेनाओं के अधिकारियों ने अभियान के दौरान पहना था। यह फ्रॉक कोट उन्हें पर्याप्त गर्मी प्रदान करता था।
1880 के आसपास और एडवर्डियन युग में फ्रॉक कोट की मांग घटने लगी और न्यूमार्केट कोट (Newmarket Coat) नामक राइडिंग कोट (Riding Coat) को लोगों द्वारा अपना लिया गया और इसके बाद फ्रॉक कोट अंततः केवल अदालत और राजनयिक पोशाक के रूप में पहनी जाने लगी।

संदर्भ :-
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Frock
2.https://www.psfrocks.com.au/blog/the-history-of-the-maxi-dress/
3.https://en.wikipedia.org/wiki/Frock_coat
4.https://www.independent.co.uk/life-style/the-history-of-the-maxi-skirt-down-to-the-ground-1179023.html

Meerut/1906193000





City Map

Back