Post Viewership from Post Date to 31-Dec-2023 (31st Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2498 213 2711

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

द ब्रोकन रोड: ब्रिटिश भारतीय सेना के नियम को बदला, मेसन द्वारा लिखित क्रांतिकारी उपन्यास ने

रामपुर

 30-11-2023 10:33 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

अल्फ्रेड एडवर्ड वुडली मेसन (Alfred Edward Woodley Mason) नामक एक ब्रिटिश लेखक ने, 1907 में "द ब्रोकन रोड (The Broken Road)" नामक एक पुस्तक लिखी थी। यह पुस्तक ब्रिटिश शासन के दौरान भारत की स्थिति पर आधारित थी। यह पुस्तक पहली बार “द कॉर्नहिल मैगज़ीन (The Cornhill Magazine)” में भागों में प्रकाशित हुई थी। इस पुस्तक की खासियतों को समझने से पहले हम इसके लेखक अल्फ्रेड एडवर्ड वुडली मेसन के बारे में जान लेते हैं, जो कि एक लोकप्रिय अंग्रेजी लेखक और राजनीतिज्ञ थे। मेसन का जन्म 7 मई, 1865 को कैंबरवेल (Camberwell) में हुआ था। वह डलिच कॉलेज (Dulwich College) में स्कूल गए और फिर 1888 में स्नातक होने तक ऑक्सफोर्ड (Oxford) के ट्रिनिटी कॉलेज (Trinity College) में अध्ययन किया। मेसन, एंथनी होप (Anthony Hope) के मित्र थे, जिन्होंने प्रसिद्ध साहसिक पुस्तक "द प्रिजनर ऑफ ज़ेंडा (The Prisoner Of Zenda)" लिखी थी। लेखक बनने से पहले, मेसन एक अभिनेता थे और उन्होंने 1894 में जॉर्ज बर्नार्ड शॉ के नाटक "आर्म्स एंड द मैन (Arms And The Man)" के पहले प्रदर्शन में मेजर प्लेखानोव (Major Plekhanov) की भूमिका निभाई थी। उन्हें क्रिकेट खेलना भी पसंद था! उन्हें मुख्य रूप से उनके उपन्यास "द फोर फेदर्स (The Four Feathers)" के लिए भी जाना जाता है। द फोर फेदर्स, मेसन द्वारा लिखित एक साहसिक उपन्यास है। इसमें हैरी फ़ेवरशैम (Harry Feversham) नाम के एक सैनिक की कहानी बताई गई है, जो सूडान में युद्ध में भेजे जाने से ठीक पहले अपने कमीशन से इस्तीफा दे देता है। इसके बाद महदीवादी युद्ध (Mahdist War) के दौरान उसके साथी उन्हें कायर करार दे देते हैं। लेकिन इसके बाद फ़ेवरशैम अपने सम्मान को पुनः प्राप्त करने और अपनी बहादुरी साबित करने के लिए सूडान की यात्रा पर निकलता है। वह गुप्त रूप से युद्ध में अपने दोस्तों की मदद करता है और अंततः उन्हें पकड़े जाने से बचाता भी है। बीच रास्ते में वह कई चुनौतियों और खतरों का सामना करता है, लेकिन अंततः खुद को बचा लेता है और अपने खोये हुए प्यार को फिर से जीत लेता है। हैरी की यह यात्रा एक साहसिक और मार्मिक कहानी है, जिसे कई बार फिल्म के रूप में भी रूपांतरित किया गया है। इसी उपन्यास की तर्ज पर साल 2002 में "द फोर फेदर्स" नामक एक फिल्म भी रिलीज की गई थी । इस रोमांचक और मार्मिक कहानी के अलावा भी मेसन ने कई लघु कहानियाँ और उपन्यास लिखे, और उनमें से कई पर उनके जीवनकाल के दौरान फ़िल्में भी बनीं। इनमें से कुछ फिल्में, जैसे "फायर ओवर इंग्लैंड (Fire Over England)" (1937) और "द फोर फेदर्स" (1939), अभी भी ब्रिटिश सिनेमा की क्लासिक हिट (Classic Hit) मानी जाती हैं। उन्हें अपने मनोरम उपन्यासों, विशेष रूप से प्रतिभाशाली फ्रांसीसी जासूस, इंस्पेक्टर हनौद (Inspector Hanaud) पर आधारित उपन्यासों के लिए भी जाना जाता है।
1865 में लंदन में जन्मे मेसन ने वास्तव में एक असाधारण जीवन जीया। उन्होंने ब्रिटिश सेना में एक प्रमुख के रूप में कार्य किया, हाउस ऑफ कॉमन्स में कोवेंट्री (Coventry In The House Of Commons) का प्रतिनिधित्व किया, और प्रथम विश्व युद्ध के दौरान पश्चिमी भूमध्य सागर में नौसेना खुफिया का नेतृत्व भी किया। इसके अलावा एक भावुक यात्री और पर्वतारोही होने के साथ-साथ, मेसन प्रतिष्ठित रॉयल यॉट स्क्वाड्रन (Royal Yacht Squadron) के भी सदस्य थे। मेसन की कहानी लिखने और कहने की शैली की व्यापक रूप से प्रशंसा की जाती है। जटिल कथानक बुनने, दिलचस्प चरित्र बनाने और रहस्य को अंत तक बनाए रखने की उनकी क्षमता ने उन्हें पाठकों के बीच पसंदीदा लेखक बना दिया। उनके कार्यों को अक्सर रोमांचकारी, मनोरम और बौद्धिक रूप से उत्तेजक माना जाता था।
उनके द्वारा लिखित “द ब्रोकन रोड”, पुस्तक की कहानी रोमांच और रोमांस (Romance) से भरी थी जिसे पाठकों ने खूब प्यार दिया, लेकिन इसका इतिहास पर भी गहरा प्रभाव पड़ा। यहां तक की इस पुस्तक ने ब्रिटिश सरकार को अपने ही एक नियम को बदलने पर मजबूर कर दिया जिसके तहत, ब्रिटिश भारतीय सेना के सैनिकों को विक्टोरिया क्रॉस (Victoria Cross) मनाही थी, फिर चाहे वे कितने भी बहादुर क्यों न हों। विक्टोरिया क्रॉस ब्रिटेन की सेना का सबसे प्रतिष्ठित सैनिक सम्मान है।
मेसन के द ब्रोकन रोड नामक इस उपन्यास ने इस मुद्दे पर प्रकाश डाला। हालांकि इस उपन्यास को पढ़ने के बाद ब्रिटिश प्रधानमंत्री ए जे बालफोर (AJ Balfour) ने यह माना कि उन्हें और ब्रिटैन के राजा को इस विनियमन के बारे में पता नहीं था। पुस्तक के प्रभाव के परिणामस्वरूप, विनियमन को समाप्त कर दिया गया, जिससे भारतीय सैनिकों को भी उनकी बहादुरी के कार्यों के लिए विक्टोरिया क्रॉस प्राप्त करने की अनुमति मिल गई। ए. ई. डब्ल्यू. मेसन ने अपनी पुस्तक "द ब्रोकन रोड" के माध्यम से भारतीय राजकुमारों को शिक्षा के लिए इंग्लैंड लाने और फिर उन्हें वापस भारत भेजने की प्रथा की भी आलोचना की, क्यों कि वहां पर ब्रिटिश सरकार द्वारा उनके साथ हीन व्यवहार किया जाता था। इसके अलावा मेसन ने "द ड्रम (The Drum)" नामक एक अन्य साहसिक उपन्यास लिखा, जिसे पाठकों ने खूब पसंद किया। इस उपन्यास की कहानी भी बेहद रोमांचक है, जिसके अनुसार:- अजीम नाम के एक युवा भारतीय राजकुमार को पता चलता है कि, उसका ही एक रिश्तेदार राजकुमार “गुहल” उसके महल में रहने वाले ब्रिटिश सैनिकों के खिलाफ गुप्त रूप से साजिश रच रहा है। इसके बाद ब्रिटिश सैनिकों को चेतावनी देने और नरसंहार को रोकने के लिए, बहादुर अजीम एक निश्चित लय में अपने ड्रम को बजाकर उन्हें एक कोडित संदेश भेजने की कोशिश करता है। बहादुरी, विश्वासघात और संगीत की शक्ति को दर्शाती यह रोमांचकारी कहानी इस उपन्यास के पाठकों को मंत्रमुग्ध कर देती है।

संदर्भ
https://tinyurl.com/yc3emkmx
https://tinyurl.com/r263572y
https://tinyurl.com/yt6yb7ey
https://tinyurl.com/bdzc8hy9
https://tinyurl.com/4rsu4bsc
https://tinyurl.com/4kxvw95c

चित्र संदर्भ
1. अल्फ्रेड एडवर्ड वुडली मेसन और उनकी पुस्तक द ब्रोकन रोड को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia, eBay)
2. अल्फ्रेड एडवर्ड वुडली मेसन को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
3. द फोर फेदर्स पुस्तक को दर्शाता एक चित्रण (amazon)
4. द ड्रम (The Drum)" नामक साहसिक उपन्यास को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • उष्णकटिबंधीय चक्रवात की तीव्रता व आवृत्ति भारत के लिए क्यों है चिंताजनक?
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2024 09:27 AM


  • उत्तर प्रदेश में बन रहा भारत का सबसे बड़ा मेडिकल डिवाइस पार्क जानें क्या होगी खासियत
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     20-02-2024 09:31 AM


  • रामपुर के निकट स्थित आगरा का किला शिवाजी महाराज के आगमन से कैसे हुआ था पवित्र?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     19-02-2024 10:20 AM


  • जमीन नहीं दीवारों पर खेती कर रहा ये देश, हो रही दिन-दूनी रात चौगुनी कमाई
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     18-02-2024 09:39 AM


  • शरीर को भीतर से समझने के लिए प्रदर्शनी का सहारा क्यों और कैसे लिया गया?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-02-2024 09:02 AM


  • भारत में जीवन बीमा के विस्तार से साथ ही तकनीकी जोखिम में भी हो रही वृद्धि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2024 09:22 AM


  • धर्मयुद्ध के दौरान निर्मित किले और भारत का मेहरानगढ़ किला आज भी सुनाते हैं अपनी दास्तां
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     15-02-2024 09:35 AM


  • कैसे ज्ञान व् कला की देवी सरस्वती का चित्रण, मस्तिष्क के समन्वय का आलंकारिक प्रतीक है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-02-2024 08:26 AM


  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता और इंटरनेट किस प्रकार मानवीय रिश्तों एवं प्रेम को प्रभावित कर रहे हैं
    संचार एवं संचार यन्त्र

     13-02-2024 09:19 AM


  • मानव सभ्यता के इतिहास में क्या रहा है, गुप्त समाजों का इतिहास एवं योगदान?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     12-02-2024 09:44 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id