Post Viewership from Post Date to 08-Jan-2023 (31st Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1726 856 2582

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

क्यों है संतृप्ति डाइविंग एक जोखिम भरा परन्तु अति आवश्यक पेशा?

रामपुर

 08-12-2022 11:29 AM
समुद्री संसाधन

हमारे लिए पैराशूट (Parachute) लगाकर सैकड़ों फीट की ऊंचाई से कूदना, जितना मुश्किल कार्य है, समुद्र के भीतर पानी के लाखों टन दबाव को सहकर, गोता लगाना भी उतना ही या उससे भी अधिक मुश्किल कार्य है। लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि कई चुनौतियों और जोखिमों के बावजूद, संतृप्ति डाइविंग (Saturation Diving) को आज कई युवाओं ने आजीविका के रूप में अपना लिया है।
मानव इतिहास में, तेल और गैस उद्योग को ऐसे वाणिज्यिक गोताखोरों की आवश्यकता आन पड़ी, जो अपतटीय कुओं (Offshore Wells) तथा रिग्स (Rigs) का प्रबंधन करने, पाइपलाइनों को एक साथ बनाए रखने तथा नाजुक युद्धाभ्यास करने के लिए गहरे समुद्र के अंदर जा सकने में सक्षम हों। इसके समाधान के तौर पर 1930 के दशक में किए गए प्रयोगों से पता चला कि भारी दबाव में एक निश्चित समय के बाद, गोताखोरों के शरीर अक्रिय गैस (Inert Gas) से पूरी तरह से संतृप्त (Saturated) हो जाते हैं, जिसके बाद गोताखोर उस भारी दबाव में भी अनिश्चित काल तक रह सकते हैं, बशर्ते उन्हें अंत में एक लंबा अपघटन मिले। इसी प्रक्रिया को नाम दिया गया- “संतृप्ति डाइविंग” । संतृप्ति डाइविंग वाणिज्यिक डाइविंग के सबसे उन्नत रूपों में से एक है। संतृप्ति डाइविंग, पेशेवर गोताखोरों को एक ही समय में कई दिनों या हफ्तों के लिए 50-160 fsw से अधिक के जल दबाव में रहने और काम करने की अनुमति देती है। संतृप्ति गोताखोरी इस सिद्धांत पर आधारित है कि रक्त और ऊतकों में घुली हुई गैस का दबाव फेफड़ों में गैस के समान होता है। वास्तव में, एक गोताखोर समुद्र के अंदर 300 फीट तक की गहराई तक जाता है, और तब तक वहां रहता है जब तक कि ऊतकों में गैर-विषैले स्तर तक ऑक्सीजन को पतला करने के लिए श्वास मिश्रण में उपयोग की जाने वाली अक्रिय गैस घुल न जाए ।उनके ऊतक नाइट्रोजन से संतृप्त होते हैं। संतृप्ति डाइविंग गोताखोर सामान्य वायु दबाव में काम करने से पहले दिनों या हफ्तों के लिए एक ही दबाव में रहते हैं। इस समय सांस लेने वाली गैस की आपूर्ति सतह से एक नली के माध्यम से की जाती है।
गोताखोर अपने जागने के अधिकांश घंटे आमतौर पर समुद्र तल पर कई फीट पानी के नीचे ही बिताते हैं। एक संतृप्ति गोताखोर का कार्य तभी शुरू हो हो जाता है जब वह “समुद्र तट" (किसी भी ठोस जमीन) को छोड़ देता है, और एक गोता समर्थन पोत (Dive Support Vessel (DSV) के रूप में जाना जाने वाले जहाज पर कदम रखता है। गोताखोरों के काम और जीवन की रक्षा करने के लिए जहाज पर उपकरण और कई अन्य व्यक्ति भी उपस्थित होते हैं। 1960 के दशक से, संतृप्ति डाइविंग की खोज और अनुसंधान के बाद से और गैस मिश्रण में अनुसंधान के माध्यम से, इसी कार्य तकनीक को विकसित किया गया। 22 दिसंबर, 1938 को, ‘एडगर एंड’ और ‘मैक्सिमिलियन यूजीन नोहल’ (Edgar End and Maximilian Eugene Nohl) ने मिल्वौकी, विस्कॉन्सिन (Milwaukee, Wisconsin) में काउंटी आपातकालीन अस्पताल में, पुनर संपीड़न सुविधा में 27 घंटे के लिए 30.8 मीटर (101 फीट) के दबाव में सांस लेते हुए पहला नियोजित संतृप्ति गोता लगाया था। संतृप्ति गोताखोरी निश्चित रूप से अपतटीय गोताखोर कार्य विधियों में से एक है। हाल ही के वर्षों और दशकों में, इसमें कार्य पनडुब्बियों, रोबोट या ऑटोमेटन (Robot or Automaton (ROV) और बख़्तरबंद डाइविंग सूट का उपयोग भी जोड़ा गया है। इन सभी तरीकों को मिलाकर, गोताखोर के जोखिम, लागत तथा काम के दबाव को कम किया जा सकता है ।
हालांकि, ऐसे सभी प्रयासों के बावजूद, इस व्यवसाय में दुर्घटना दर उच्च है। कुछ लोग कठिनाई के कारण या लंबे सप्ताह घर से दूर रहने के कारण इस व्यवसाय को ही छोड़ देते हैं। साथ ही यह एक ऐसा काम भी है जिसमे जीवन का संकट है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन रिपोर्ट1998 (Centre for Disease Control and Prevention Report) का अनुमान है कि सभी व्यावसायिक गोताखोरों के लिए व्यावसायिक मृत्यु दर अन्य व्यवसायों की तुलना में राष्ट्रीय औसत का 40 गुना है। अपतटीय तेल और गैस उद्योगों के समर्थन में सैचुरेशन डाइविंग (Saturation Diving) का कार्य सामान्यतया अनुबंध आधारित होता है। भारत के तेल और गैस क्षेत्र के विकास में प्रमुख बाधाओं में से एक गोताखोरों की कमी भी है। वर्तमान में, देश में लगभग 1,500 वायु, मिश्रित गैस और संतृप्ति गोताखोर हैं जो ओएनसीजी (ONCG), केयर्न इंडिया (Cairn India), ऑयल इंडिया लिमिटेड (Oil India Limited) और एस्सार ऑयल (Essar Oil) जैसी प्रमुख कंपनियों में अपनी सेवा दे रहे हैं।
प्रशिक्षण सुविधाओं की कमी और कम वेतन इस कमी के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं। इसीलिए कई भारतीय गोताखोर विदेशों में भी प्रवास कर रहे हैं। “पिछले कुछ वर्षों से, लगभग 30% भारतीय गोताखोर इंडोनेशिया, मलेशिया, खाड़ी(Gulf) और थाईलैंड में कार्य करने जा रहे हैं। भारत में, एक एयर डाइवर (Air Diver) (एक नवागत जो पानी के नीचे 50 मीटर तक गोता लगाता है) को एक दिन में लगभग 2,500 रुपये मिलते हैं। एयर गोताखोर को मिश्रित गैस गोताखोर बनने के लिए तब स्नातक की उपाधि लेनी होती है जब उन्हें 70 मीटर तक गोता लगाना होता है । इसके बाद अगले चरण में वे संतृप्त गोताखोर बन जाते हैं जहां उन्हें 70 मीटर की गहराई से से अधिक गोता लगाने की आवश्यकता होती है और इस पद पर वह एक दिन में 4,000-6,000 रुपये के बीच कमाते हैं। विदेशों में "संतृप्ति डाइविंग में वे एक दिन में लगभग $375 कमाते हैं।
लेकिन भारत में मिश्रित और संतृप्त प्रशिक्षण सुविधाएं नहीं होने के कारण, हवाई गोताखोरों को आगे के प्रशिक्षण के लिए विदेश जाना पड़ता है। कोच्चि में देश का एकमात्र प्रशिक्षण संस्थान ‘नौसेना प्रशिक्षण संस्थान’ में एक समय में चौदह प्रशिक्षुओं को लिया जाता है और प्रशिक्षण लगभग 10 सप्ताह तक चलता है। तेल कंपनियों को डाइविंग सेवाएं प्रदान करने वाली एकमात्र संस्था डॉल्फिन ऑफशोर (Dolphin Offshore) के संयुक्त प्रबंध निदेशक, सतपाल सिंह के अनुसार “भारत को ड्रिलिंग (Drilling), पाइपलाइन,प्लेटफॉर्म बिछाने, निरीक्षण , रखरखाव और जैकेट की स्थापना, जैसे कार्य करने के लिए लगभग 1,500-2,000 गोताखोरों की कमी का सामना करना पड़ रहा है।
इस समस्या का समाधान निकालने के लिए, डॉल्फिन तमिलनाडु में अनुसंधान और (संतृप्ति) डाइविंग संचालन के लिए एक संस्थान स्थापित करने के लिए केंद्र के साथ बातचीत कर रही है। डॉल्फिन को अंडरवाटर रिसर्च करने के लिए नॉर्वे सरकार से भी समर्थन मिला है।

संदर्भ
https://bit.ly/3B7FG86
https://bit.ly/3XSpilL
https://bit.ly/2rCGcHH

चित्र संदर्भ
1. संतृप्ति डाइविंग को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. समुद्र के नीचे के केबल से समुद्री शैवाल जंग लगे जिंक एनोड को हटाते हुए गोताखोरों को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. गहरे समुद्र में गोताखोर को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
4. गोता समर्थन पोत को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. पानी के नीचे वेल्डिंग करते गोताखोर को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. गहरे समुद्र में नेवी के गोताखोर को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • उष्णकटिबंधीय चक्रवात की तीव्रता व आवृत्ति भारत के लिए क्यों है चिंताजनक?
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2024 09:27 AM


  • उत्तर प्रदेश में बन रहा भारत का सबसे बड़ा मेडिकल डिवाइस पार्क जानें क्या होगी खासियत
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     20-02-2024 09:31 AM


  • रामपुर के निकट स्थित आगरा का किला शिवाजी महाराज के आगमन से कैसे हुआ था पवित्र?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     19-02-2024 10:20 AM


  • जमीन नहीं दीवारों पर खेती कर रहा ये देश, हो रही दिन-दूनी रात चौगुनी कमाई
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     18-02-2024 09:39 AM


  • शरीर को भीतर से समझने के लिए प्रदर्शनी का सहारा क्यों और कैसे लिया गया?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-02-2024 09:02 AM


  • भारत में जीवन बीमा के विस्तार से साथ ही तकनीकी जोखिम में भी हो रही वृद्धि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2024 09:22 AM


  • धर्मयुद्ध के दौरान निर्मित किले और भारत का मेहरानगढ़ किला आज भी सुनाते हैं अपनी दास्तां
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     15-02-2024 09:35 AM


  • कैसे ज्ञान व् कला की देवी सरस्वती का चित्रण, मस्तिष्क के समन्वय का आलंकारिक प्रतीक है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-02-2024 08:26 AM


  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता और इंटरनेट किस प्रकार मानवीय रिश्तों एवं प्रेम को प्रभावित कर रहे हैं
    संचार एवं संचार यन्त्र

     13-02-2024 09:19 AM


  • मानव सभ्यता के इतिहास में क्या रहा है, गुप्त समाजों का इतिहास एवं योगदान?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     12-02-2024 09:44 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id