रामपुर के निकट कासगंज से जुड़ा द सेकेंड लांसर्स रेजिमेंट के गठनकर्ता विलियम गार्डन का इतिहास

रामपुर

 11-05-2022 12:08 PM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

आपको शायद यह जानकर आश्चर्य होगा कि, भारत की सेना का इतिहास स्वयं भारत के इतिहास से भी पुराना है! ऐसा इसलिए हैं, क्यों की भारतीय सेना की कुछ रेजीमेंटों का निर्माण या खोज, औपनिवेशिक भारत के दौरान ही हो चुकी थी! चूंकि समय के साथ इनका काम शानदार और योगदान अतुलनीय रहा, इसलिए कुछ रेजिमेंट, आज भी भारतीय सेना में अपनी सेवा दे रही हैं, और इसका अभिन्न हिस्सा हैं। रेजिमेंट की इस सूची में “द सेकेंड लांसर्स (गार्डनर हॉर्स)” (The Second Lancers (Gardner's Horse), भारतीय सेना की सबसे पुरानी बख्तरबंद रेजिमेंट में से एक है, जिसका इतिहास हमारे रामपुर शहर से भी निकटता से जुड़ा है!
भारतीय सेना की सबसे पुरानी रेजिमेंट में से एक, द सेकेंड लांसर्स (गार्डनर हॉर्स) रेजिमेंट का गठन बंगाल सेना की दो सबसे पुरानी रेजीमेंटों - द्वितीय रॉयल लांसर्स (गार्डनर हॉर्स) (2nd Royal Lancers (Gardner Horse) और चौथी कैवलरी (4th Cavalry) के एकीकरण द्वारा किया गया था। इस रेजिमेंट की स्थापना 1809 में फरुखाबाद और मैनपुरी में विलियम लिन्नस गार्डनर (William Linnas Gardner) द्वारा की गई थी, जिन्होंने पहले 74 वें हाइलैंडर्स (74th Highlanders) और बाद में इंदौर के मराठा शासक के साथ भी काम किया था। फिर वह लॉर्ड लेक (Lord Lake) के तहत कंपनी की सेना में शामिल हो गए और इस रेजिमेंट को खड़ा किया। विलियम लिननस गार्डनर (1770-1835), भारतीय सेना में एक अधिकारी थे, जिन्हें 1809 में द सेकेंड लांसर्स (गार्डनर हॉर्स) रेजिमेंट का गठन करने और एक भारतीय मुस्लिम राजकुमारी से उनकी शादी के लिए जाना जाता है।
विलियम लिनिअस गार्डनर का जन्म 1770 में न्यूयॉर्क की हडसन वैली (New York's Hudson Valley) में एक प्रमुख अमेरिकी परिवार में हुआ था। उन्हें 6 मार्च 1789 को भारत में, 52वें फ़ुट में लेफ्टिनेंट के रूप में पदोन्नत किया गया। एक स्थानीय लेफ्टिनेंट-कर्नल के रूप में, विलियम लिन्नस गार्डनर का नाम पहली बार, अनियमित घुड़सवार सेना के एक कोर के कमांडिंग तौर पर, जनवरी 1819 में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना की सूची में दिखाई देता है।
गार्डनर, 1819 में कासगंज में, 1821 में सागर में, 1821-23 में बरेली में, 1825 में अराकान में और 1826-27 से फिर से कासगंज में तैनात थे। गार्डनर, कासगंज, उत्तर पश्चिम प्रांत (आधुनिक उत्तर प्रदेश, भारत) में रहते थे, जो उनकी निजी संपत्ति थी। कासगंज हमारे रामपुर से ज्यादा दूर नहीं है! कर्नल गार्डनर सच्चे, साहसी, आज्ञाकारी और वफादार सैनिक थे, लेकिन अन्य सैन्य साहसी लोगों के विपरीत, उनके पास एक और जन्मजात गुण था, जिसके बारे में उनके स्वामी, यशवंत राव होल्कर और ब्रिटिश दोनों जानते थे। वह गुण था की वे एक बहुत ही कुशल वार्ताकार थे। अपने शांतिवादी अवतार में, कर्नल गार्डनर का दृढ़ विश्वास था कि अधिकांश सैन्य संघर्षों को बिना जान गंवाए हल किया जा सकता है। इसी विश्वास के आधार पर उन्हें, राजस्थान में कोमलमेर, बुंदेलखंड में रामपुरा और वर्तमान उत्तराखंड में अल्मोड़ा जैसे अभेद्य किलों को बिना खून बहाए आत्मसमर्पण कराने में सफलता मिली। उन्होंने एक भारतीय राजकुमारी से शादी की और "खसगुनजे (Khasgunje)" नामक एक कबीले के पूर्वज बन गए। गार्डनर का 65 वर्ष की आयु में 29 जुलाई 1835 को कासगंज में निधन हो गया। उनके द्वारा गठित द सेकेंड लांसर्स (गार्डनर हॉर्स) रेजिमेंट को, शुरू में आगरा के आसपास के नए कब्जे वाले क्षेत्रों में पुलिस कर्तव्यों के लिए तैनात किया गया था। बाद में इसने पहली बार 1815 के नेपाल युद्ध में सेवा प्रदान की। इस रेजिमेंट ने 1817-19 के बीच पिंडारियों के खिलाफ सराहनीय सेवा प्रदान की। यह 'अर्राकन' सम्मान ('Arrakan' honor) जीतने वाली एकमात्र रेजिमेंट थीं। द्वितीय लांसर्स को प्रथम विश्व युद्ध में 5वें (महू) कैवलरी ब्रिगेड (5th (Mhow) Cavalry Brigade), द्वितीय भारतीय कैवेलरी डिवीजन (2nd Indian Cavalry Division) के हिस्से के रूप में फ्रांस भेजा गया था। इस रेजिमेंट ने तीसरे भारतीय मोटर ब्रिगेड (3rd Indian Motor Brigade) तथा 7वें बख़्तरबंद डिवीजन के हिस्से के रूप में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भी पश्चिमी रेगिस्तान अभियान में सेवा प्रदान की।
अगस्त 1947 में, यह रेजिमेंट कम्युनिस्ट छापामारों (communist guerrillas)के खिलाफ लड़ी थी। भारतीय विभाजन के हिस्से के रूप में , रेजिमेंट भी विभाजित हो गई। विभाजन के बाद 'ए' स्क्वाड्रन ('A' Squadron) के कई सैनिकों , जो मुस्लिम थे, ने पाकिस्तानी सेना में शामिल होने का विकल्प चुना। वे नवंबर 1947 के दौरान कराची के लिए रवाना हुए। 1948 में, शेष मुस्लिम सैनिकों को 18वें किंग एडवर्ड्स ओन कैवेलरी (18th King Edward's Own Cavalry) में तैनात किया गया था, और बदले में 2nd Lancers को एक राजपूत स्क्वाड्रन प्राप्त हुआ। रेजिमेंट का गठन तब दो राजपूत और एक जाट स्क्वाड्रन से किया गया था। जनवरी 1953 में, जनरल महाराज राजेंद्र शिनजी ने भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष की नियुक्ति ग्रहण की । वह सेना प्रमुख बनने वाले 2nd Lancers के साथ-साथ आर्मर्ड कॉर्प्स (armored corps) के पहले अधिकारी थे। नवंबर 1961 में, रेजिमेंट (साथ ही सिंधी हॉर्स ) को राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद द्वारा शांतिकाल और युद्धकाल के दौरान अपने विशिष्ट रिकॉर्ड के लिए एक गाइडन से सम्मानित किया गया था, जिसके बाद यह इस तरह का पुरस्कार पाने वाली बख्तरबंद कोर में पहली रेजिमेंट बनी। सितंबर 1965 में, द्वितीय लांसर्स ने 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में प्रथम बख्तरबंद डिवीजन के 43 लॉरीड ब्रिगेड (43 Laurid Brigade) समूह के हिस्से के रूप में भाग लिया । रेजिमेंट एम 4 शेरमेन टैंक ( एमके वी और VI वेरिएंट ) (Regiment M4 Sherman Tank (Mk V and VI Variants)) से लैस थी, और फिलोरा की लड़ाई तथा चाविंडा की लड़ाई में लड़ी थी। इन लड़ाइयों में उनके प्रदर्शन के लिए रेजिमेंट को "पंजाब" के सम्मान से नवाजा गया। 10 अगस्त 1966 को, युद्ध के बाद, यह रेजिमेंट विजयंत मुख्ययुद्धक टैंक प्राप्त करने वाली सेना में पहली रेजिमेंट बनी। आज यह रेजिमेंट सोवियत युग के टी-72 टैंकों से लैस है।

संदर्भ
https://bit.ly/3KVLNPe
https://bit.ly/3LYgyEx
https://bit.ly/37s5n7Q
https://bit.ly/3ynhDBA
https://bit.ly/3N4RDPN

चित्र संदर्भ
1  द सेकेंड लांसर्स रेजिमेंट के गठनकर्ता विलियम लिनिअस गार्डन को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. द सेकेंड लांसर्स अपना 212वां स्थापना दिवस, 12 मई 2021 मना रहा है। रेजिमेंटल को आदर्श वाक्य और प्रतीक चिन्ह देखा जा सकता है। को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. विलियम लिन्नस गार्डनर को दर्शाता एक चित्रण (facebook)
4. घुड़ सवारों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. फ्रांसीसी गांव एस्ट्री ब्लैंच में भारतीय घुड़सवार सेना को दर्शाता एक चित्रण ( Picryl)
6. रेजिमेंट एम 4 शेरमेन टैंक को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • प्रकृति में सहजीवन की अनोखी कहानियां, आश्रय के लिए बबूल चींटियां बन जाती हैं बबूल के पेड़ की अंगरक्षक
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:42 PM


  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id