Post Viewership from Post Date to 15-Apr-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1060 148 1208

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

हरा सोना, यानी बांस की खेती व उसके उपयोग

रामपुर

 11-04-2022 08:55 AM
शारीरिक

भारत में बांस की 22 प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से 19 प्रजातियाँ देशी हैं और 3 प्रजातियाँ विदेशी हैं। ये सभी प्रजातियां व्यवसायिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण हैं। बांस भारत की संस्कृति के साथ साथ पूरे दक्षिण पूर्व एशिया की संस्कृति का भी अहम हिस्सा है। बांस के विभिन्न उपयोगों की विस्तृत श्रृंखला को हमारे देश में ग्रामीण जीवन और भारतीय संस्कृति के मुख्य आधार से जुड़ी सबसे महत्वपूर्ण योग्यता माना जाता है। इसके विभिन्न उपयोगों की इस प्रतिभा के कारण इसे "बांस संस्कृति (Bamboo Culture)", "हरा सोना (Green Gold)", "गरीब आदमी की लकड़ी (Poor man's timber)", "लोगों का दोस्त (friend of the people)" और "ताबूत लकड़ी के लिए पालना (cradle to coffin timber)" जैसे कई महत्वपूर्ण शीर्षक नाम दिए गए हैं। वास्तव में, बांस को कई तरीकों से लकड़ी के विकल्प के रूप में उपयोग किया जा सकता है। )
भारत में मुख्य रूप से अरुंडिनरिया (Arundinaria), बम्बुसा (Bambusa), चिमोनोबाम्बुसा (Chimonobambusa), डेंड्रोकैलामस (Dendrocalamus), और थाम्नोकैलामस (Thamnocalamus) इत्यादि नामक प्रमुख बांस प्रजातियां होती हैं। बांस की बंबुसा बालकूआ (BAMBUSA BALCOOA) नामक प्रजाति को असम में भालुका (Bhaluka), पश्चिम बंगाल में बाल्कू बैन (Balku Ban) और मेघालय में वामनाह (Wamnah) के नाम से भी जाना जाता है। बम्बुसा बालकोआ 600 मीटर की ऊंचाई वाली जगह पर होता है। इसे पनपने के लिए ज्यादा मात्रा में उपजाऊ मिट्टी की आवश्यकता होती है। यह बांस अधिकतर पश्चिम बंगाल और भारत के उत्तर पूर्व क्षेत्र में पाया जा सकता है। इस बांस की ऊंचाई 30 मीटर होती है तथा इसका रंग गहरा हरा होता है। इस बांस को सामान्यतः घरों का निर्माण करने में उपयोग में लाया जाता है। बांस की बंबुसा नूतन (BAMBUSA NUTANS) नामक प्रजाति भारत में 500 से 1500 मीटर की ऊंचाई वाली जगह पर उगती है। इस बांस को मल्लो (Mallo), मल्ला (Malla), मुकिया (Mukia) और बड़िया बंसा (Badia bansa) के नाम से भी जाना जाता है। यह नम पहाड़ी ढलान वाले स्थानों में सबसे अच्छी तरह पनपता है। इसके विकास के लिए अच्छी जल निकासी वाली दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है।)
सामान्य तौर पर ये प्रजाति उत्तर पूर्वी क्षेत्रों, उड़ीसा और यहां तक कि बंगाल में भी पाया जा सकता है। इसी तरह बंबुसा पॉलीमॉर्फा (BAMBUSA POLYMORPHA), बंबुसा वल्गरिस (BAMBUSA VULGARIS), बंबुसा अरुंडिनसेआ (BAMBUSA ARUNDINACEA), बंबुसा मल्टीप्लेक्स (BAMBUSA MULTIPLEX), बंबुसा नाना (BAMBUSA NANA), बंबुसा टुल्डा (BAMBUSA TULDA), और मेलोकैना बम्बूसाइड्स (MELOCANNA BAMBUSOIDES) इत्यादि जैसी बांस की कई अन्य प्रजातियां भारत में पाई जाती हैं, जिनका उपयोग टोकरी बनाने के लिए, सब्जी के रूप में खाने के लिए, औषधि के लिए, हस्तशिल्प बनाने, घर बनाने और लुगदी बनाने इत्यादि महत्वपूर्ण कार्यों में भी किया जाता है। बांस भारत के लगभग सभी राज्यों में पाए जाते हैं। उष्णकटिबंधीय से समशीतोष्ण क्षेत्रों और जलोढ़ मैदानों से लेकर ऊंचे पहाड़ों तक, केवल कश्मीर ही ऐसा स्थान है जहां वे प्राकृतिक रूप से नहीं होते हैं। बाँस की अधिकतर प्रजातियाँ पूर्वी भारत जैसे अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में पाई जाती हैं। )
बांस का भौगोलिक वितरण काफी हद तक वर्षा, तापमान, ऊंचाई और मिट्टी की स्थितियों से नियंत्रित होता है। अधिकांश बांसों को अच्छी वृद्धि के लिए 8 डिग्री सेल्सियस से 36 डिग्री सेल्सियस तक तापमान, न्यूनतम वार्षिक वर्षा 1000 मिमी और उच्च वायुमंडलीय आर्द्रता की आवश्यकता होती है। सामान्यतः बांस की जेनेरा बंबुसा (Genera Bambusa) और डेंड्रोकलामस (Dendrocalamus) प्रजाति उष्णकटिबंधीय परिस्थितियों में पाए जाते हैं, जबकि अरुंडिनरिया (Arundinaria) और इसके सहयोगी बांस प्रजाति समशीतोष्ण क्षेत्र में पाए जाते हैं और यह पश्चिमी और पूर्वी हिमालय में उच्च ऊंचाई पर सबसे मुख्य रूप से पाए जाते हैं। डेंड्रोकैलामस स्ट्रिक्टस (Dendrocalamus Strictus) शुष्क पर्णपाती जंगलों में प्रमुख है, जबकि बंबुसा बम्बोस (Bambusa Bambos) नम पर्णपाती जंगलों में सबसे अच्छी तरह से पनपता है।)
लागत की तुलना में तथा मजबूती के मामले में बांस को सबसे कुशल प्राकृतिक संसाधन माना जाता है। बांस की मजबूती, बांस की प्रजातियों, जलवायु कारकों और इसकी नमी की मात्रा पर निर्भर करती है। बांस काफी ज्यादा मजबूत होता है, हालांकि साल (Sal) और सागौन (Teak) जैसी लकड़ी से ज्यादा मजबूत नहीं होता है। बाँस की मजबूती को बनाए रखने के लिए मिट्टी में उत्पादों और संरचनाओं की उपस्थिति का होना बहुत आवश्यक होता है इसीलिए मिट्टी की सीज़निंग (Seasoning) ठीक से और सावधानी से की जानी चाहिए। बांस को आरी या चाकू से आसानी से काटा और विभाजित किया जा सकता है। चाकू से किसी भी माप की पट्टियां बनाई जा सकती हैं। अधपके बांस नरम और लचीले होते हैं और इन्हें अपनी जरूरत के अनुसार किसी भी आकार में ढाला जा सकता है। बांस को अच्छी तरह से पॉलिश और पेंट किया जाता है। बांस के तने की ताकत, उनका सीधापन और हल्कापन, कठोरता, खोखलापन, लंबे रेशे और आसान काम करने वाले गुण, बांस को विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयुक्त बनाते हैं। बांस की बहुमुखी प्रतिभा पौराणिक है, इसे अचार और करी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, टूथ पिक (Tooth picks) और मीट बारबेक्यू (Meat Barbecues) के लिए इस्तेमाल होने वाले स्लिवर (Slivers), पंखे के लिए पसलियां या सन स्क्रीन के लिए स्लैट्स (Slats), या सूखे पुलिया को जोड़ने के लिए मजबूत लाठी के रूप में और बांस के घरों के निर्माण के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। इसी तरह बांस के कई उपयोगहजारों सालों से ज्ञात हैं, और उन्हें उपयोग में भी लाया जा रहा है।)
बांस भारत देश में व्यावसायिक रूप से उगाई जाने वाली महत्वपूर्ण फसलों में से एक है और इसे 'गरीब आदमी की लकड़ी' भी माना जाता है। दुनिया में बांस का सबसे बड़ा उत्पादक देश चीन है उसके पश्चात भारत दुनिया में बांस का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। देश में बांस का वार्षिक उत्पादन अनुमानतः लगभग 3.23 मिलियन टन होता है। आम तौर पर, बांस के नए पौधों को कल्म्स कटिंग (Culms cutting) और प्रकंद रोपण (Rhizome Planting) की प्रक्रिया द्वारा तथा उनके बीजों के माध्यम से भी उत्पन्न किया जाता है, लेकिन इसके बीज बहुत कम उपलब्ध होते हैं। बांस के पौधे मूल रूप से नर्सरी बेड पर उगाए जाते हैं और एक साल के लिए उन्हें पॉलिथीन के गमलों (Poly Pots) पर उगने दिया जाता है। बाद में इसके अंकुर को मुख्य खेत में स्थानांतरित कर दिया जाता है। प्रकंद रोपण विधि में थोड़ी देखभाल की आवश्यकता होती है। )
इसमें 1 वर्ष की कलियों को जड़ों सहित खोदकर 1 मीटर आकार में काटकर वर्षा ऋतु के दौरान लगाना चाहिए। बांस के बागान गर्म से गर्म समशीतोष्ण जलवायु परिस्थितियों में अच्छी तरह से पनपते हैं, लेकिन गर्मियों में बांस की फसल को 15 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान की आवश्यकता होती है। बांस की जड़ें पतली होने के साथ-साथ पर्याप्त वृद्धि भी करती हैं, इसलिए उन्हें तेज हवाओं से बचाने के लिए उचित व्यवस्था की आवश्यकता होती है। इसके विपरित, जिस क्षेत्र में ठंडी हवाएं आती हैं, वह बांस की खेती के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि हवाएं बांस के पत्तों के गुणों को नष्ट कर देती है। बांस के रोपण के लिए अच्छी जल निकासी वाली रेतीली मिट्टी से लेकर चिकनी मिट्टी की आवश्यकता होती है जिसकी पीएच रेंज 4.5 से 6.0 होनी चाहिए। बांस की फसल को चट्टानी मिट्टी के अलावा विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। भारत देश में बराक घाटी क्षेत्र सर्वोत्तम मिट्टी और उत्तम जलवायु परिस्थितियों के कारण बांस की खेती के लिए सबसे उपयुक्त है। इसकी फसल में उच्च गुणवत्ता और सर्वोत्तम उपज के लिए उर्वरकों का उपयोग भी किया जाता है। मुख्य खेत में पौध प्रतिरोपण करते समय खाद का उपयोग करना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि बांस के पौधों को पनपने के लिए अत्यधिक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। यदि मिट्टी में खाद या उर्वरक नहीं मिलाया जाए तो कुछ वर्षों के बाद सबसे अधिक गुणवत्ता वाली मिट्टी भी कम उपजाऊ हो जाती है, इसीलिए कटाई और पौधों की सिंचाई से पहले उर्वरक लगाने का सुझाव दिया जाता है। पोटेशियम (Potassium) और नाइट्रोजन (Nitrogen) उर्वरक के महत्वपूर्ण घटक हैं जिसके कारण बांस के पेड़ प्रतिक्रिया करते हैं और अच्छी तरह विकसित होते हैं। इसके साथ ही आपको प्राकृतिक उर्वरक जैसे हरी खाद, जैविक खाद, लकड़ी की राख और रासायनिक उर्वरक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। नर्सरी बेड पर बांस उगाने के समय नियमित रूप से सिंचाई करनी चाहिए। )
नर्सरी से मुख्य खेत में पौध रोपते समय इसके पौधों को नियमित पानी उपलब्ध कराना चाहिए। बांस के पेड़ जलभराव के प्रति संवेदनशील होते हैं इसलिए आपको विशेष रूप से भारी वर्षा या बाढ़ के समय मिट्टी को बाहर निकाल लेना चाहिए। पानी के बेहतर उपयोग के लिए आप ड्रिप सिंचाई प्रणाली का उपयोग भी कर सकते हैं। बांस की कटाई फसल के पांचवें वर्ष से शुरू की जा सकती है। वहीं व्यावसायिक खेती के मामले में छठवें वर्ष से कटाई अवश्य कर लेनी चाहिए। पांच साल की अवधि में एक एकड़ बांस के रोपण की इकाई लागत लगभग 9400 रुपये है। बांस के बागान से उपज और आय छठे वर्ष से शुरू होकर हर साल बढ़ जाती है। इसलिए हम कह सकते हैं कि बांस एक नकदी फसल है जिसमें फसल को पकने की अवधि कम होती है, इसका विकास तेजी से होता है और आर्थिक वृद्धि पीढ़ी दर पीढ़ी होती रहती है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3JnlrEP
https://bit.ly/37pZ1Wi
https://bit.ly/3LO5KYR.

चित्र संदर्भ
1. बांस के जंगल को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. बांस की बंबुसा बालकूआ (BAMBUSA BALCOOA) नामक प्रजाति को दर्शाता एक अन्य चित्रण (wikimedia)
3. बांस के विभिन्न उत्पादों को दर्शाता चित्रण (wikimedia)
4. बंबुसा बम्बोस (Bambusa Bambos) नम पर्णपाती जंगलों में सबसे अच्छी तरह से पनपता है। को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. बांस के प्लांट को दर्शाता एक अन्य चित्रण (Felix Wong)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • प्रकृति में सहजीवन की अनोखी कहानियां, आश्रय के लिए बबूल चींटियां बन जाती हैं बबूल के पेड़ की अंगरक्षक
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:42 PM


  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id