Post Viewership from Post Date to 26-Apr-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1091 186 1277

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

सफेद सोने अर्थात कपास का इतिहास

रामपुर

 28-03-2022 11:07 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

आज किसी भी शॉपिंग मॉल या सामान्य बाज़ार से, कपडे खरीदने वाला कोई भी आम उपभोगक्ता, आमतौर पर कपडा पसंद करने के तुरंत बाद सबसे पहले यह देखता है की, यह वस्त्र वास्तव में कितने प्रतिशत कॉटन अर्थात कपास से मिलकर बना है? आपमें से प्रारंग के कई पाठक भी ऐसा ही करते होंगे! यह जांच व्यावहारिक भी है, क्यों की कॉटन या कपास वास्तव में अपने आप में अद्वितीय वस्त्र है, जो आज से नहीं बल्कि प्राचीन काल से ही आम जनता में लोकप्रिय है। शायद आपको यह जानकर हैरानी होगी की, शानदार कपडे “कपास” का उल्लेख ऋग्वेद में भी मिलता है, जो ये दर्शाता है की भारतीयों का कपास से सूति वस्र बानाने का ज्ञान प्राचीन काल से ही प्रचुर रहा है।
कपास एक प्राकृतिक, मुलायम फाइबर होता है, जो कपास के पौधे के बीज के साथ बढ़ता है। (फाइबर बालों की तरह लंबा और पतला होता है।) बाजार में मांग और विशेषताओं के आधार पर कपास को सफ़ेद सोना भी कहा जाता है। इसके पौधे से कपास के रेशे को इकट्ठा करने के बाद, इसे सूती धागे में पिरोया जा सकता है। सूती धागे को फिर कपड़े में परिवर्तित किया जा सकता है। कपड़े का इस्तेमाल लोगों के परिधान और कई अन्य चीजों के लिए किया जा सकता है। आमतौर पर गर्मियों में लोग अक्सर सूती कपड़े पहनना पसंद करते हैं। कपास के लिए अंग्रेजी में "कॉटन" शब्द अरबी मूल का है, जो अरबी शब्द ن ( कुटन या कुतुन ) से लिया गया है। मध्यकालीन अरबी में कपास के लिए यह सामान्य शब्द था। कपास के पौधे विभिन्न प्रकार के होते हैं। दुनिया के कुछ उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में कपास के पौधे जंगली होते हैं। कपड़ा बनाने के लिए एकत्रित अधिकांश कपास, कपास के बागानों में उगाई जाने वाली फसलों से आता है। कपास की खेती भारत, अफ्रीका, एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में की जाती है। यह अपने स्वयं के वजन का 24-27 तक पानी (बहुत शोषक) में सोख लेती है। कपास मैलो परिवार से संबंधित है, जिसमें नाजुक, प्यारे फूल पैदा होते है।
प्रारंभिक मनुष्यों ने महसूस किया कि नरम रेशों से युक्त कपड़े, उपयोग के लिए उपयुक्त हो सकते हैं। इसलिए उन्होंने पौधे का प्रजनन करना शुरू कर दिया। कपास का उत्पादन अनिवार्य रूप से इसके रेशे के लिए किया जाता है। विश्व अर्थव्यवस्था में कपास एक महत्वपूर्ण वस्तु है। यह 100 से अधिक देशों में उगाया जाता है, कपास एक भारी मुनाफे वाली कृषि वस्तु है, जहाँ 150 से अधिक देश कपास के निर्यात या आयात में शामिल हैं। 1980/81 से 2004/05 तक विश्व उत्पादन में कपास का व्यापार लगभग 30% था, लेकिन 2005/06 में यह हिस्सा बढ़कर लगभग 40% हो गया।
दुनिया भर में कपास के निर्यात में लगभग 500 फर्में शामिल हैं। 1926/27 में विश्व कपास निर्यात 3.6 मिलियन टन तक पहुंच गया, और 2005/06 में निर्यात बढ़कर 9.8 मिलियन टन हो गया। विश्व व्यापार और कई विकासशील देशों की अर्थव्यवस्थाओं में इसके महत्व के कारण कपास एक बहुत ही राजनीतिक फसल भी है। कई देशों में, कपास का निर्यात न केवल विदेशी मुद्रा आय में एक महत्वपूर्ण योगदान देता है, बल्कि सकल घरेलू उत्पाद और कर आय का एक महत्वपूर्ण अनुपात भी मुहैया कराता है। कपास निर्यात बाजार अपेक्षाकृत केंद्रित है। 2005 में 0.386 के सूचकांक मूल्य के साथ, अंकटाड द्वारा गणना की गई, जहाँ एकाग्रता सूचकांक (concentration index) के अनुसार कपास को सभी वस्तुओं में इक्कीसवां स्थान दिया गया है (एक सूचकांक मूल्य जो 1 के करीब है, एक बहुत ही केंद्रित बाजार को इंगित करता है। कपास को पालतू बनाने का इतिहास बहुत जटिल है और इसका ठीक-ठीक पता नहीं लगाया जा सकता है। पुरानी और नई दुनिया, दोनों में कई अलग-अलग सभ्यताओं ने स्वतंत्र रूप से कपास को पालतू बनाया और इसे कपड़े में परिवर्तित किया। सबसे पुराने सूती वस्त्र प्राचीन सभ्यताओं की कब्रों और शहर के खंडहरों में पाए गए थे, जहाँ कपड़े पूरी तरह से सड़ते नहीं थे। सबसे पुराना सूती कपड़ा पेरू में हुआका प्रीता (Huaca Prieta in Peru) में पाया गया है , जो लगभग 6000 ईसा पूर्व का माना जाता है। कुछ सबसे पुराने कपास के बीजक मेक्सिको के तेहुआकान घाटी (Mexico's Tehuacan Valley) की एक गुफा में खोजे गए थे और लगभग 5500 ईसा पूर्व के थे, लेकिन इन अनुमानों पर कुछ संदेह किया गया है। कपास ( गॉसिपियम हर्बेसियम लिनिअस “Gossypium Herbaceum Linnaeus” ) को मध्य नील बेसिन क्षेत्र के पास पूर्वी सूडान में लगभग 5000 ईसा पूर्व में पालतू बनाया गया था, जहाँ सूती कपड़े का उत्पादन किया जा रहा था।
कपास का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है जो ये दर्शाता है की भारतीयों का कपास से सूति वस्र बानाने का ज्ञान प्राचीन काल से ही है। आज भारत की लगभग 9.4 मिलियन हेक्टेयर की भूमि पर कपास की खेती की जाती हैं। इसके प्रत्येक हेक्टेयर क्षेत्र में 2 मिलियन टन कपास के डंठल अपशिष्ट के रूप में विद्यमान रहते हैं। मेहरगढ़ में नवीनतम पुरातात्विक खोज ने कपास की शुरुआती खेती और कपास के उपयोग को 5000 ईसा पूर्व के समय में रखा है। सिंधु घाटी सभ्यता में 3000 ईसा पूर्व तक कपास की खेती शुरू कर दी थी। 1500 ईसा पूर्व में हिंदू भजनों में कपास का उल्लेख मिलता है।
कपास की फसल ने भारत, ब्रिटिश साम्राज्य और संयुक्त राज्य अमेरिका के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और गुजरते समय के साथ आज भी एक महत्वपूर्ण फसल और वस्तु बनी हुई है। भारत प्राचीन काल से ही अन्य देशों को उत्तम सूती वस्त्रों का एक प्रमुख निर्यातक रहा है। 13वीं शताब्दी में भारत की यात्रा करने वाले मार्को पोलो (Marco Polo), पहले बौद्ध तीर्थस्थलों की यात्रा करने वाले चीनी यात्रियों, 1498 में कालीकट में प्रवेश करने वाले वास्को डी गामा और 17वीं शताब्दी में भारत आए टैवर्नियर (Tavernier) जैसे सूत्रों एवं दार्शनिकों ने भी भारतीय कपड़े की श्रेष्ठता की प्रशंसा की है। प्रारंभिक आधुनिक काल के दौरान, भारत एक महत्वपूर्ण निर्यातक के रूप में सूती वस्त्रों का विश्व का प्रमुख उत्पादक देश था। सत्रहवीं शताब्दी से भारतीय वस्त्रों का बड़े पैमाने पर ब्रिटेन को निर्यात किया जाता था। हालांकि, उन्नीसवीं सदी की शुरुआत तक, ब्रिटेन भारत को पछाड़ दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण सूती कपड़ा उत्पादक बन गया था, जो विश्व निर्यात बाजारों पर हावी था, और यहां तक ​​कि भारत को भी निर्यात कर रहा था। औद्योगिक क्रांति के दौरान अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धात्मक लाभ में यह नाटकीय परिवर्तन निश्चित रूप से यूरोप और एशिया के बीच जीवन स्तर के महान विचलन में प्रमुख प्रकरणों में से एक था। सत्रहवीं शताब्दी से ईस्ट इंडिया कंपनी के माध्यम से ब्रिटेन में सूती वस्त्र आयात की वृद्धि ने आयात प्रतिस्थापन और पुन: निर्यात प्रतिस्थापन की रणनीति के माध्यम से ब्रिटिश निर्माताओं के लिए नए अवसर खोले। 1600 की शुरुआत में भारत में एक अकुशल मजदूर अंग्रेजी अकुशल मजदूरी का 20 प्रतिशत से थोड़ा अधिक कमाता था। कम भारतीय मजदूरी ने ब्रिटिश सूती कपड़ा उद्योग में तकनीकी प्रगति के लिए एक प्रेरणा के रूप में काम किया।
परिवहन लागत के कारण भारतीय बाजार में प्रतिस्पर्धात्मकता में बदलाव और विलंबित हुआ, जिसने भारतीय उत्पादकों को 1860 के दशक तक अपने घरेलू बाजार में लाभ देना जारी रखा। लेकिन ब्रिटिश उपनिवेशवाद ने बड़े भारतीय बाजार को ब्रिटिश सामानों के लिए खोलने के लिए मजबूर किया, जिसे भारत में स्थानीय भारतीय उत्पादकों की तुलना में बिना शुल्क या शुल्क के बेचा जा सकता था, जबकि कच्चे कपास को भारत से बिना शुल्क के ब्रिटिश कारखानों में आयात किया जाता था। भारतीय कपड़ा कार्यशालाओं के खिलाफ उच्च शुल्क, ईस्ट इंडिया कंपनी के माध्यम से भारत में ब्रिटिश शक्ति, और भारतीय कपास आयात पर ब्रिटिश प्रतिबंध ने भारत को वस्त्रों के स्रोत से कच्चे कपास के स्रोत में बदल दिया।
आखिरकार भारत के बड़े बाजार और कपास के संसाधनों पर ब्रिटेन का एकाधिकार स्थापित हो गया था। भारत ने ब्रिटिश निर्माताओं को कच्चे माल का एक महत्वपूर्ण आपूर्तिकर्ता और ब्रिटिश निर्मित माल के लिए एक बड़े कैप्टिव बाजार (captive market) के रूप में कार्य किया। 19वीं शताब्दी में ब्रिटेन ने अंततः भारत को दुनिया के अग्रणी सूती वस्त्र निर्माता के रूप में पीछे छोड़ दिया। ब्रिटिश कपास उत्पाद यूरोपीय बाजारों में सफल रहे, 1784-1786 में निर्यात का 40.5% हिस्सा था। भारतीय उपमहाद्वीप को कच्चे कपास के संभावित स्रोत के रूप में देखा जाता था, लेकिन अंतर- साम्राज्यीय संघर्षों और आर्थिक प्रतिद्वंद्विता ने इस क्षेत्र को आवश्यक आपूर्ति का उत्पादन करने से रोक दिया।

संदर्भ
https://bit.ly/36wRg0H
https://bit.ly/3Dca8Og
https://en.wikipedia.org/wiki/Cotton
https://en.wikipedia.org/wiki/History_of_cotton

चित्र संदर्भ
1. भारत में कपास को लदान के बंदरगाहों (ports of shipment) तक पहुंचाने के तरीके को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. कपास के पोंधे को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. कपास इकट्ठा करती महिलाओं को दर्शाता एक चित्रण (Rawpixel)
4.औद्योगिक क्रांति के दौरान एक सूती मिल में इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुओं के एक ब्रिटिश कपास निर्माता के प्रदर्शन को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. कपड़ा बुनाई खादी भारत गराग सूत बनाने को दर्शाता एक चित्रण (MaxPixel)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • आधुनिकीकरण के दौर में कला का क्षेत्र तकनीकी रूप से क्रंतिकारी बदलावों को देख रहा है
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-07-2022 09:29 AM


  • आज हमें खाद्य प्रणालियों की पुनर्कल्पना के लिये इसे जलवायु परिवर्तन अनुकूलन बनाना आवश्यक है
    जलवायु व ऋतु

     05-07-2022 10:06 AM


  • हमारे पहाड़ी राज्यों के मीठे-मीठे सेब उत्पादकों की बढ़ती दुर्दशा को समझना हैं ज़रूरी
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:09 AM


  • "दुनिया का पहला मंदिर" के रूप में प्रसिद्ध है गोबेकली टेप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:54 AM


  • हमारे अद्वैत दर्शन के समान ही थे 17वीं शताब्दी के क्रांतिकारी डच दार्शनिक स्पिनोज़ा के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 09:55 AM


  • रामपुर सहित भारत के बाहर भी मचती है, प्रसिद्ध रथ यात्रा की धूम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:19 AM


  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id