Post Viewership from Post Date to 03-Apr-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1852 121 1973

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

रामपुर में औपनिवेशिक युग के औद्योगिक बढ़ई कौशल विकास से क्या सीख है कारीगर प्रशिक्षण व् रोज़गार हेतु?

रामपुर

 05-03-2022 09:16 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

बढ़ई, लोहार, सुनार, पीतल के सामान बनाने वाले और राजमिस्त्री, प्राचीन काल से भारत के कारीगर समूहों का केंद्रीय व्‍यवसाय बना हुआ है।पिछले 200 वर्षों में ब्रिटिश (British) औपनिवेशिक राज्य और भारत में औपनिवेशिक ढांचागत परियोजनाओं के मध्‍य समन्‍वय के परिणामस्वरूप बढ़ईगीरी का व्यापार महत्वपूर्ण रूप से बदला। प्रिंट संस्कृति, शैक्षिक संस्थानों और बढ़ईगीरी कौशल की व्यापक मांग ने इस व्यापार को ज्ञान और अभ्यास के रूप में बदल दिया। हथकरघा बुनाई उद्योग, जिसका 19वीं शताब्दी में कारखाने से उत्पादित कपड़ों और औपनिवेशिक आर्थिक नीतियों के कारण संकुचन और गिरावट हुआ, के विपरीत इस अवधि में बढ़ईगीरी के व्यापार में विस्तार देखा गया। 17 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध से बढ़ई की भारी मांग थी क्योंकि विभिन्न क्षेत्रीय राज्यों और ईस्ट इंडिया कंपनी (East India Company) ने मुगल साम्राज्य के विघटन के बाद राजनीतिक संघर्ष के दौरान किलों को सुरक्षित करने की मांग की थी।
औपनिवेशिक काल के दौरान कलकत्ता में बनी फोर्ट विलियम (Fort William) की इमारत एक विशाल ढांचागत परियोजना थी जिसके निर्माण में 10,000 से अधिक श्रमिकों और बड़ी संख्या में बढ़ई और अन्य कारीगरों की आवश्यकता थी। प्लासी की लड़ाई (1757) में बंगाल नवाब को हराने के बाद कंपनी ने अपनी नई अर्जित राजनीतिक शक्ति के माध्‍यम से कंपनी के बाहर काम करने वाले कारीगरों के रोजगार को अवैध और दंडनीय बना दिया। जबकि सेना की बैरकों, औपनिवेशिक भवनों, सड़कों, रेलवे, पुलों और नहरों के निर्माण के लिए श्रम को औपनिवेशिक अर्थव्यवस्था के अधीन किया गया, उस दौरान लकड़ी इंग्लैंड (England) के रॉयल मिलिट्री इंजीनियरों (Royal Military Engineers) के लिए वैज्ञानिक अध्ययन और प्रयोगों का विषय बन गई। अमेरिका (America) और कनाडा (Canada) से लेकर भारत और अफ्रीका (Africa) तक इंग्लैंड के विशाल उपनिवेशों ने विभिन्न प्रकार की लकड़ियों की पेशकश की, जिन पर औपनिवेशिक सिविल इंजीनियरों (civil engineers) ने उन्नीसवीं शताब्दी की शुरुआत से पत्र लिखे। औद्योगिक और तकनीकी स्कूलों में कारीगरों को न केवल लकड़ी की गुणवत्ता और उनके वैज्ञानिक गुणों के बारे में सिखाया जा रहा था, बल्कि लकड़ी काटने के लिए लकड़बग्घे और लकड़ी काटने की मशीनों के संचालन के लिए भी सिखाया जा रहा था।
1857 के बाद की अवधि में, बढ़ईगीरी भारतीय जेलों में सबसे प्रमुख औद्योगिक कौशल में से एक बन गई, क्योंकि ब्रिटिश भारतीय राज्य ने लकड़ी के उत्पादों की अपनी उच्च मांग को पूरा करने के लिए दोषियों के श्रम का उपयोग करने की मांग की। जेल की दीवारों के बाहर, उपमहाद्वीप के तेजी से बढ़ते रेलवे कार्यशालाओं, क्षेत्रीय लोक निर्माण विभागों और निजी उद्योग में कुशल बढ़ई की मांग थी। लखनऊ जैसे शहरी केंद्रों को रेलवे कार्यशालाओं के लिए काम करने वाले बढ़ई और बाजारों में काम करने वाले बढ़ई की आवश्यकता थी, जिससे कुशल श्रमिकों और उच्च मजदूरी के लिए एक तीव्र प्रतिस्पर्धा हुई। 1877 में रामपुर राज्य अनाथालय ने वहां रहने वाले लड़कों को बढ़ईगीरी में सिखाने के लिए अब्दुल रहमान (b.1852-d.1937) नामक एक 25 वर्षीय बढ़ई को काम पर रखा। अब्दुल रहमान अनाथालय द्वारा नियोजित कई कारीगरों में से एक थे, जो अनाथालय के लड़कों को वयस्‍क होने पर गरीबी से बचाने के लिए और व्यापार देने के उद्देश्य से औद्योगिक कौशल सिखाने के लिए कार्यरत थे। जबकि अब्दुल रहमान ने औद्योगिक प्रशिक्षण (अनाथालय-सह-औद्योगिक स्कूल) के एक तेजी से संस्थागत मॉडल के भीतर पढ़ाया। वास्तव में, उन्होंने अपने पिता, जो कि एक स्‍थानीय बढ़ई थे, से प्रशिक्षण प्राप्त किया, जिन्होंने अपनी कार्यशाला का नेतृत्व किया। अब्दुल रहमान का काम, प्रशिक्षण और औद्योगिक शिक्षा में शामिल होना कारीगर शिक्षा और उत्पादन के विभिन्न मॉडलों में प्रतिच्छेदन और ओवरलैप (overlap) को दर्शाता है। जबकि वह अपने जीवन के अधिकांश समय के लिए अनाथालय में एक बढ़ई के रूप में कार्यरत रहे, उन्हें शहर में उनके लाह और नक्काशी के कौशल के लिए भी जाना जाता था, और उन्होंने शहर के प्रमुख संगीतकारों के लिए सितार तराशकर बनाकर अतिरिक्त आय अर्जित की। 1905 में कानपुर से छपी पुस्तक “लकड़ी का काम सिखावाई किताब” बताती है की एक आदर्श बढ़ई वो है जो अपने काम में "हिंदुस्तानी" और "इंग्लिस्तानी" दोनों पद्धतियों को शामिल कर सके। इसने माना कि एक बढ़ई का अधिकांश ज्ञान, चाहे वह एक शिक्षुता या एक औद्योगिक स्कूल में पढ़ाया गया हो, मौखिक रूप से संप्रेषित किया गया था, और शारीरिक अभ्यास और मूर्त ज्ञान पर निर्भर था।
रामपुर शहर अपने वायलिन निर्माण के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध था, रामपुर शहर के अंतिम कुछ वायलिन निर्माताओं में से एक, गयासुद्दीन कहते हैं, "दुनिया में वायलिन एकमात्र ऐसा वाद्य यंत्र है जो प्रेम की भावना को पूरी तरह व्यक्त करता है।"रामपुर में बने वायलिन को कभी दुनिया का सर्वश्रेष्ठ माना जाता था।
अफसोस की बात है कि अब यह उद्योग अपनी आखिरी सांस ले रहा है।जिले के नानकार इलाके में अपनी छोटी सी कार्यशाला में बैठे गएसुद्दीन कहते हैं कि विश्व प्रसिद्ध चार तार वाला रामपुर वायलिन पहले रामपुर में ही बनता था, लेकिन पिछले दो तीन साल में चीनी वादकों ने वाद्य यंत्रों के बाजार पर कब्जा जमा लिया है।“रामपुर वायलिन इतने प्रसिद्ध थे कि बर्कले संगीत अकादमी (Berkley Music Academy) के संगीतकारों ने भी इन्हें बजाया। हमारे वायलिन का इस्तेमाल हिंदी फिल्म, मोहब्बतें, कई अन्य हिंदी फिल्मों में किया गया था, लेकिन अब चीन (China) और अन्य देशों से बाजार में सस्ते उत्पाद उपलब्ध होने के कारण हाथ से निर्मित इन वायलिनों के खरीदार घट रहे हैं।
गयासुद्दीन का कहना है कि वायलिन पूरी तरह से गणित का खेल है, क्योंकि इसे बनाने में माप बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।"हमारे वायलिन के प्रत्येक भाग को बहुत सावधानी से मापा जाता है। चार तार जो सुंदर ध्वनि उत्पन्न करते हैं, मेपल की लकड़ी का आधार जो ब्राजील (Brazil) से निर्यात किया जाता है, हिमाचल प्रदेश से स्प्रूस (spruce) की लकड़ी का उपयोग शीर्ष क्षेत्र के निर्माण के लिए किया जाता है, और आबनूस की लकड़ी का उपयोग अन्य भागों में किया जाता है, ”गयासुद्दीन कहते हैं, यहां तक ​​​​कि एक किसी भी चीज में एक सेंटीमीटर की छोटी सी गलती पूरे उत्‍पाद को बर्बाद कर सकती है। आगे वे कहते हैं कि कम-से-कम एक वायलिन की उत्पादन लागत 1,000-1,500 रुपये के बीच है, जबकि औसत लागत लगभग 2,500 रुपये है और सबसे अच्छी तैयार करने में 15,000 रुपये तक लग जाते हैं। “आयातित वस्तुओं की कम लागत के कारण अब सस्ते उत्पादों की अधिक मांग है। मुंबई, कोलकाता और अन्य जगहों पर हमारे खरीदार 1,200 रुपये में उन्हें कम लागत वालावायलिन देने की मांग कर रहे हैं और वे मेड इन रामपुर टैग दिखाकर इसे 3,000 रुपये से कम पर बेचते हैं, ”वे कहते हैं।रामपुर के वायलिन का इतिहास बताते हुए, गयासुद्दीन बताते हैं कि दो भाई थे, उनमें से एक बढ़ई था और छोटा वायलिन बजाता था जो उसने मुंबई से खरीदा था। यह लगभग 70 साल पहले की बात है। एक दिन बड़े भाई ने गलती से वायलिन गिरा दिया, जिसके बाद छोटा भाई डिप्रेशन में चला गया। बड़ा भाई उसकी हालत से इतना परेशान था कि उसने वायलिन बनाने का फैसला किया और यंत्र को ठीक से मापने का बहुत ध्यान रखा। उन्होंने जो वायलिन बनाया वह इतना परफेक्ट था कि कई लोग उसकी मांग करने लगे। किंतु आज यह व्‍यसाय अपने अस्तित्‍व के लिए संघर्ष कर रहा है।
औपनिवेशिक युग के बढ़ई के अनुभव ऐसे कई सवाल खड़े करते हैं जो समकालीन प्रतिध्वनित होते हैं। कारीगरों को प्रशिक्षण देने में राज्य की क्या भूमिका होनी चाहिए, विशेष रूप से बढ़ईगीरी जैसे क्षेत्रों में जो अक्सर राज्य परियोजनाओं और निजी उद्योग में मांग में होते हैं? वर्तमान भारत में किसी भी शारीरिक श्रम व्यवसाय को परिभाषित करने वाली मजदूरी की असमानता पर ध्यान केन्‍द्रीत करने की आवश्यकता है क्योंकि बढ़ई के रूप में प्रशिक्षित होने के लिए प्रशिक्षण और इच्छा दोनों आर्थिक कारकों और सामाजिक स्थिति पर निर्भर करते हैं। बढ़ई की सामूहिक कहानी न केवल आर्थिक विस्थापन की बल्कि सामाजिक विस्थापन की भी है। प्राचीन और मध्यकालीन भारत में, कुछ बढ़ई को शाही संरक्षण प्राप्त था। लेकिन औपनिवेशिक काल से, बढ़ईगीरी नए पदानुक्रमों के साथ एक विस्तारित व्यापार बन गया।

संदर्भ:
https://bit.ly/35bgwci
https://bit.ly/3srK4et
https://bit.ly/3MbRgmD

चित्र संदर्भ   
1. एक भारतीय गांव में बढ़ई को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. एक भारतीय बढ़ई और उपकरण पकड़े हुए उसकी पत्नी को दर्शाता चित्रण ( Look and Learn)
3.औपनिवेशिक भारत को दर्शाता चित्रण (wikimedia)
4. रामपुर के वायलिन कारीगरों को दर्शाता एक चित्रण (prarang)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM


  • प्राकृतिक इतिहास में विशाल स्क्विड की सबसे मायावी छवि मानी जाती है
    शारीरिक

     26-06-2022 10:01 AM


  • फसल को हाथियों से बचाने के लिए, कमाल के जुगाड़ और परियोजनाएं
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:46 AM


  • क्यों आवश्यक है खाद्य सामग्री में पोषण मूल्यों और खाद्य एलर्जी को सूचीबद्ध करना?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:47 AM


  • ओपेरा गायन, जो नाटक, शब्द, क्रिया व् संगीत के माध्यम से एक शानदार कहानी प्रस्तुत करती है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:28 AM


  • जीवन जीने के आदर्श सूत्र हैं , महर्षि पतंजलि के अष्टांग योगसूत्र
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:18 AM


  • कहीं आपके घर के बाहर ही तो नहीं है लाखों रुपयों के ये कीड़े
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:42 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id