बुद्धिमान तोते का हिंदू धर्म से संबंध

रामपुर

 03-11-2021 07:54 AM
पंछीयाँ

यदि आपसे पूछा जाए की, विश्व में सबसे बुद्धिमान पक्षी कौन हैं?, तो अधिकांश लोगों का उत्तर सबका चहेता तोता ही होगा, जो की सत्य भी हैं। बुद्धिमानी और मनुष्यों का अनुसरण करने के संदर्भ में तोता न केवल सभी समकक्ष पक्षियों बल्कि कई जानवरों को भी पीछे छोड़ देता है। भारत में मुख्य रूप से गुलाबी चोंच वाला तोता (Psittacula krameri), जिसे अंगूठी-गर्दन वाले तोते के रूप में भी जाना जाता है, और मध्यम आकार के यह तोता बेहद लोकप्रिय है। जिसे हमारे देश में आमतौर पर पाला जाता है। हालांकि तोतों की यह प्रजाति मूल रूप से जंगलों में रहना पसंद करती हैं, लेकिन शहरीकरण और वनों की कटाई के कारण यह अशांत आवासों में रहने के लिए भी सफलतापूर्वक अनुकूलित हो गई है। एक लोकप्रिय पालतू प्रजाति के रूप में, इन सुन्दर पक्षियों ने उत्तरी और पश्चिमी यूरोप सहित दुनिया भर के कई शहरों में अपना उपनिवेश बना लिया है। हालांकि भारत में तोतों की कई प्रजातियां पाली जाती हैं, किंतु कई बार यह प्रश्न उठता है की क्या भारत में तोते पालना कानूनी रूप से सही है? इसका उत्तर है, नहीं!
दरअसल भारत में कोई भी देशी तोता पालना वैध नहीं हैं। हालांकि किसी अन्य देश की कोई विदेशी प्रजाति को पाला जा सकता है। यदि कोई भी तोता जो वास्तव में देश का है तो उसके लिए जानवर के रूप में पिंजरा बनाना और रखना अवैध माना गया है। यह कानून 2003 के बाद से लागू किया गया जब भारत ने देश में जानवरों के शोषण को रोकने के लिए 1972 के वन्यजीव संरक्षण अधिनियम को अधिनियमित किया था। हालाँकि, यह लोगों को तोते के मालिक होने से नहीं रोकता है। कानून मुख्य रूप से लुप्तप्राय पक्षियों और ऐसे जानवरों पर केंद्रित है, जो शिकारियों की भेंट चढ़ जाते हैं। हालाँकि, बहुत से लोग देश में अपने स्वयं के तोते को अपनाने में रुचि रखते हैं, इसलिए विदेशी या विदेशी तोते को गोद लेना पूरी तरह से कानूनी है। नतीजतन, कई लोगों ने विदेशी तोतों को प्रजनन के लिए लाया गया है, और भारतीय बाजार से रूबरू कराया है।
भारत में तोता आज से ही नहीं वरन सहस्राब्दियों से, भारतीय तोता ग्रंथों, मिथकों, किंवदंतियों और कला में पूजनीय रहा है। वेदों और पुराणों से लेकर लोकप्रिय महाकाव्यों और साहित्यिक क्लासिक्स तक, तोतों को संदेशवाहक, कहानीकार और शिक्षक के रूप में माना जाता रहा है। तोते (दुनिया में) का पहला लिखित संदर्भ ऋग्वेद में मिलता है, जो कि चार वेदों में सबसे पुराना है, जो अनुमानों के अनुसार 1500-1200 ईसा पूर्व का माना गया है। इसके अध्याय 1 के स्तोत्र 12 में, पक्षी को संस्कृत में तिथि कहा गया है, जहां तोते को एक ऋषि के पीलेपन को दूर करने का श्रेय दिया जाता है। तीसरे वेद, यजुर्वेद (1200-900) में तोतों के 'मानव भाषण बोलने' का भी उल्लेख है। पश्चिम में तोते का सबसे पुराना संदर्भ 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास फारस के राजा अर्तक्षत्र द्वितीय के दरबार में एक यूनानी चिकित्सक सीटीसियास (Ctesias) द्वारा लिखी गई पुस्तक 'इंडिका' में मिलता है। इस पुस्तक में, उन्होंने सिंध में विदेशी पक्षियों का वर्णन किया है जो 'भारतीय भाषा' बोलते थे। तोते का उल्लेख प्रसिद्ध यूनानी दार्शनिक अरस्तू के कार्यों में भी मिलता है, जो सिकंदर के शिक्षक थे और अपने काम में इन पक्षियों का वैज्ञानिक रूप से वर्णन करने वाले पहले व्यक्ति थे। भारत में तोते को हमेशा से ही पवित्र माना गया है। इसका एक प्रमुख कारण यह भी है की तोते के अंदर मानव भाषण की नकल करने की इसकी क्षमता है। कथासरितसागर जैसी अनेक संस्कृत काल्पनिक कृतियों में वेदों का पाठ करने वाले तोतों का बार-बार उल्लेख मिलता है। विष्णु पुराण के अनुसार ऋषियों में सबसे अधिक पूजनीय ऋषि कश्यप की पत्नी तोतों की माता थीं। पद्म पुराण में कुंजल नाम के तोते को परोपकार और ध्यान जैसे गुणों के प्रबुद्ध उपदेशक के रूप में प्रस्तुत किया गया है। हिन्दू धर्म ग्रंथों में तोते का सबसे प्रसिद्ध चित्रण कामदेव के वाहन (माउंट), इच्छा के देवता और उनकी साथी रति के रूप में मिलता है। दिलचस्प बात यह है कि छठी शताब्दी सीई में वात्स्यायन द्वारा रचित काम सूत्र में कहा गया है कि एक आदमी की 64 आवश्यकताओं में से एक तोते को बात करने के लिए प्रशिक्षित करना भी शामिल था।
इतना ही नहीं नटखट तोता हिंदू देवी-देवताओं जैसे मदुरै की मीनाक्षी और कांचीपुरम की कामाक्षी के साथ-साथ दस महाविद्याओं में से एक मातंगी जैसी तांत्रिक देवियों से भी जुड़ा था। मान्यता है कि तोते देवी-देवताओं को 'बह्यकला', गायन, पेंटिंग, तीरंदाजी और खाना पकाने जैसे कौशल सिखाते थे। यह भी माना जाता था कि तोते में रहस्यमय या आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि होती है, और इसलिए भविष्य की भविष्यवाणी करने की क्षमता होती है। जिसे आज भी माना और अनुसरित किया जाता है। विश्व प्रसिद्ध मदुरै मीनाक्षी मंदिर में देवी मीनाक्षी (पार्वती) को अपने दाहिने हाथ में एक तोता पकड़े हुए दिखाया जाता है। पक्षी देवी अंडाल, तमिल कवि और संत, और श्री रंगनाथ (विष्णु) के सबसे प्रमुख भक्त के साथ भी जुड़ा हुआ है। कामदेव को तोते की सवारी करते हुए दिखाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह उनके तीर मनुष्य में यौन इच्छा को भड़काते हैं। उदाहरण के लिए, उत्तर प्रदेश के कोल और अन्य समुदायों के बीच, वेदी (विवाह मंडप) की सजावट में कपास या मिट्टी से बने तोतों के चित्र लटकाए जाते हैं। शानदार पक्षी तोता समय के साथ हिंदू समारोहों और अनुष्ठानों के लिए एक विवाह कुलदेवता भी बन गया । उदाहरण के तौर पर, उत्तर बिहार की मैथिल संस्कृति में, तोते भी उर्वरता का प्रतीक हैं। बिहार और उत्तर प्रदेश जैसी जगहों पर, नवविवाहित महिलाओं को बच्चे पैदा करने का आशीर्वाद देने के लिए चांदी से बने तोते उपहार में दिए जाते हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3CDN1eF
https://bit.ly/2ZUL13j
https://bit.ly/3k1yCBs
https://en.wikipedia.org/wiki/Rose-ringed_parakeet

चित्र संदर्भ
1. अमरुद के फल पर बैठे गुलाबी चोंच वाला तोता (Psittacula krameri), का एक चित्रण (flickr)
2. भारतीय गुलाबी चोंच वाले तोते को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. जुरोंग बर्ड पार्क में तोता (आरा अररौना) (Ara arrauna) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. तोते पर सवार कामदेव को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. ज्योतिष के निकट कार्ड का चुनाव करते तोते को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • 1994 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं,ऐश्वर्या राय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:58 PM


  • भाग्य का अर्थ तथा भाग्य और तक़दीर में अंतर
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:12 AM


  • भारत में भी अनुभव कर सकते हैं आइस स्केटिंग का रोमांच
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:18 AM


  • प्राचीन भारतीय परिधान अथवा वस्त्र
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM


  • रामपुर के निकट स्थित अहिच्छत्र के ऐतिहासिक स्थल में कला की अभिव्यक्ति व् प्रारंभिक शहरी विकास के प्रमाण
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:50 AM


  • ब्रीफ़केस का इतिहास तथा ब्रीफ़केस व अटैचकेस में अंतर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:04 AM


  • रामपुर की महिलाओं का ऐतिहासिक दर्पण है, पुस्तक द बेगम एंड द दास्तान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:37 AM


  • लास वेगास के सर्वश्रेष्ठ आकर्षणों में से एक है, बेलाजियो फाउंटेन शो
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:10 AM


  • वायु प्रदूषण से निपटने तथा अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति में पेड़ों का महत्वपूर्ण योगदान
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 10:48 AM


  • गुरुपर्ब पर बड़े जश्न के साथ मनाया जाता है नगर कीर्तन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:24 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id