जीवन में ठहराव कदापि नहीं आता है विश्व के सबसे अधिक वर्षा वाले क्षेत्र मौसिनराम में

रामपुर

 22-10-2021 03:47 PM
जलवायु व ऋतु

मौसिनराम के शांत, निष्क्रिय, फिर भी मंत्रमुग्ध कर देने वाले गांव ने चेरापूंजी को पछाड़कर विश्व में सर्वाधिक वर्षा वाला क्षेत्र बन गया है। मौसिनराम में एक साल में 10,000 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश होती है। पूर्वोत्तर भारत में भौगोलिक वर्षा की सबसे प्रसिद्ध विशेषता चेरापूंजी में अत्यधिक मात्रा में वर्षा है। चेरापूंजी25º 15′N, 91º 44′E और मौसिनराम25º 18′N, 91º 35′Eपर स्थित है। वहीं पहले चेरापूंजी में होने वाली बारिश को दुनिया में अब तक की सबसे अधिक वर्षा के रूप में दर्ज किया गया था, हालांकि बाद में इसे गांव मौसिनराम को दे दिया गया।हालांकि मौसिनराम के अभिलेख चेरापूंजी की तरह विश्वसनीय नहीं हैं। मौसिनराम के आंकड़े अभी भी विवादित हैं।चेरापूंजी और मौसिनराम दोनों खासी पहाड़ियों के दक्षिणी ढलान पर स्थित हैं, जिनकी औसत ऊंचाई 1.5 किमी है।इसमें कोई संदेह नहीं है कि इन दो स्थानों पर दर्ज की गई वर्षा का बड़ा हिस्सा भौगोलिक विशेषताओं के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।जबकि चेरापूंजी दक्षिण से उत्तर की ओर चलने वाली एक गहरी घाटी के उत्तरी छोर पर स्थित है, वहीं मौसिनराम घाटी के बीच में पहाड़ी की चोटी पर है।चेरापूंजी और मौसिनराम की भौगोलिक विशेषताओं के बीच एक उल्लेखनीय अंतर यह है कि चेरापूंजी कई घाटियों के संगम पर स्थित है, जबकि मौसिनराम में ऐसी कोई विशेषता नहीं है।मौसिनराम चेरापूंजी के समानांतर एक श्रेणी के शीर्ष मध्य में स्थित है। इसके दक्षिण में बांग्लादेश के मैदानों और घाटी के बीच लैटकिनसेव (Laitkynsew)पहाड़ है।यह घाटी पूर्व से पश्चिम की ओर चलती है। इस घाटी का दक्षिणी द्वार सीधे मौसिनराम की ओर है। जब मानसूनी हवाएँ दक्षिण से चलती हैं, तो वे लैटकिनसेव पहाड़ी से टकराती हैं, जिसकी ऊँचाई 3000 से 3700 फीट है और फिर यह मौसिनराम में आती हैं।बादल भी घाटी से होकर गुजरते हैं और मौसिनराम की ढलानों को ऊपर की ओर धकेलते हैं। वहीं मौसिनराम में भारी वर्षा गर्मियों के मौसम में बांग्लादेश के वाष्पशील बाढ़ के मैदानों में बहने वाले वायु प्रवाह के कारण होती है, जो उत्तर की ओर बढ़ने पर नमी एकत्रित कर लेती है।इसके परिणामस्वरूप बने बादल जब मेघालय की खड़ी पहाड़ियों से टकराते हैं, तो उन पर दबाव बढ़ने लगता है। जब दबाव बहुत अधिक बढ़ जाता है, तो बादल नमी धारण कर पाने में असमर्थ हो जाते हैं, तथा बारिश होने लगती है। इससे पूरे गांव में लगभग लगातार बारिश होती है।मेघालय के ऊपर हवाएं दक्षिण से आती हैं। इन दो पवन प्रणालियों का संगम आमतौर पर खासी पहाड़ियों के आसपास स्थित होता है, लेकिन इस विशेष विशेषता के परिणामस्वरूप सुबह के समय अधिक बारिश क्यों होती है, यह अच्छी तरह से समझ पाना मुश्किल है। हालांकि ऐसा पाया गया कि रात में घाटी में फंसी हवाएँ दिन में गर्म होने के बाद ही ऊपर की ओर बढ़ना शुरू करती हैं। यह आंशिक रूप से सुबह की वर्षा के लिए देखी गई वरीयता की व्याख्या करता है।भौगोलिक विशेषताओं के अलावा, वायुमंडलीय संवहन मानसून और उससे ठीक पहले की अवधि के दौरान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।उदाहरण के लिए, अप्रैल और मई (मानसूनसे पूर्व के महीनों में) में, पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों, विशेष रूप से मेघालय, असम, पश्चिम बंगाल और बिहार में मानसूनसे पूर्वगरज के साथ तेज बारिश होती है।वहीं मौसिनराम के लोगों का कहना है कि वहां कई बार ऐसा समय भी आया है कि बरसात के मौसम के दौरान वहां के लोगों द्वारा लगातार "12 दिन और 12 रात" तक बारिश होते हुए देखी है।वहाँ के लोगों के लिए पूरे एक महीने तक सूरज का न दिखना काफी आम बात है। साथ ही सूरज यदि बरसात के मौसम में दिखाई देता भी है तो वह बहुत थोड़ी देर के लिए ही होता है।बरसात का मौसम जो मई में शुरू होता है और अक्टूबर तक चलता है, इस बात से चिह्नित होता है कि बारिश कितनी तेज होगी।इस समय स्कूलों को भी बंद कर दिया जाता है। भले ही लोग बरसात के दौरान घर के अंदर ही अधिक समय बिताते हों, लेकिन जीवन में ठहराव नहीं आता है। लोग बरसात में भी काम पर जाते हैं। करीब चार हजार की आबादी वाले इस गांव में बरसात के समय भी दुकानें खुली रहती हैं।हालांकि बरसात के समय सूरज नहीं दिखाई देता है, इसलिए वहाँ के लोगों को अपने कपड़े इलेक्ट्रिक हीटर का उपयोग करके सुखाने पड़ते हैं। वहीं जनसंख्या वृद्धि और कृषि जैसी मानवीय गतिविधियों ने पूर्वोत्तर भारत में वनों की कटाई और बर्फ में कमी का कारण बन गई है। इसने 2001 और 2018 के बीच जल निकायों, और शहरी और निर्मित भूमि में वृद्धि की है।भूमि-उपयोग के स्वरूप में इस तरह के बदलाव, हिंद महासागर और अरब सागर में तापमान में बदलाव के साथ, वर्षा में घटती प्रवृत्ति में उल्लेखनीय योगदान दिया है, जो मानव गतिविधियों और जलवायु परिवर्तन के बीच एक कड़ी का सुझाव देता है।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3E1tYuY
https://bit.ly/3b1xrNK
https://bit.ly/2ZaZIiD
https://bit.ly/3G6RJnn

चित्र संदर्भ

1. सबसे अधिक वर्षा वाले क्षेत्र मौसिनराम को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
2. मौसिनराम के समीप की मौजिमबुइन गुफा में शताब्दियों तक गुफा की छत से टपकते जल में घुले हुए खनिजों के जमने से बना प्राकृतिक स्टैलैगमाइट को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. बारिश से बचने के लिए प्रयोग किये जाने वाली विशेष प्रकार की छतरी को दर्शाता एक चित्रण (youtube)



RECENT POST

  • "दुनिया का पहला मंदिर" के रूप में प्रसिद्ध है गोबेकली टेप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:54 AM


  • हमारे अद्वैत दर्शन के समान ही थे 17वीं शताब्दी के क्रांतिकारी डच दार्शनिक स्पिनोज़ा के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 09:55 AM


  • रामपुर सहित भारत के बाहर भी मचती है, प्रसिद्ध रथ यात्रा की धूम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:19 AM


  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM


  • प्राकृतिक इतिहास में विशाल स्क्विड की सबसे मायावी छवि मानी जाती है
    शारीरिक

     26-06-2022 10:01 AM


  • फसल को हाथियों से बचाने के लिए, कमाल के जुगाड़ और परियोजनाएं
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:46 AM


  • क्यों आवश्यक है खाद्य सामग्री में पोषण मूल्यों और खाद्य एलर्जी को सूचीबद्ध करना?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:47 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id