इस्‍लामी जगत में आलम का महत्‍व

रामपुर

 19-08-2021 11:02 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मुस्लिम शोक अनुष्ठानों में उपयोग की जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण और प्रतीकात्मक वस्तुओं में से एक आलम है। यह कर्बला की लड़ाई में हुसैन इब्न अली का पताका था, जो सच्चाई और बहादुरी का प्रतीक है। कर्बला की लड़ाई के दौरान, हुसैन इब्न अली के कफला (कारवां) के मूल मानक-वाहक अब्बास, हुसैन के भाई थे। अब्बास ने युद्ध में अपनी जान गंवा दी, जब वह कारवां के छोटे बच्चों, जो तीन दिनों से प्यासे थे, के लिए फरात नदी से पानी निकालने गए थे। बताया जाता है कि जब वह पानी लेकर वापस कैंप की ओर जाने लगा तो उस पर हैरतअंगेज हमला हुआ। युद्ध के समय छावनी के बच्चे आलम को दूर से ही डूबते हुए देख रहे थे। अब्बास ने युद्ध में अपनी दोनों बाहें खो दीं, फिर भी वह पानी के पात्र (मुश्क) को अपने दांतों से कसता रहा, वह बच्चों के लिए पानी लाने के लिए दृढ़ संकल्पित था। विपक्ष के नेता ने जब अब्बास को जमीन पर आते हुए देखा तो उसने सेना के लोगों को उस पर हमला करने का आदेश देते हुए कहा, यदि वह पानी लेकर अपने डेरे में आ गया तो उन्‍हें कोई नहीं रोक सकता है। फिर तीरंदाजों ने अब्बास पर तीरों से हमला करना शुरू कर दिया। आलम, अब्बास की शहादत की याद दिलाते हैं, और कर्बला में अपनी जान गंवाने वाले हुसैन इब्न अली के अनुयायियों के प्रति स्नेह और अभिवादन के प्रतीक के रूप में कार्य करते हैं।
मुस्लिम जगत के कई हिस्सों में शिया समुदाय द्वारा पैगंबर मुहम्मद के पोते इमाम हुसैन की शहादत को चिह्नित करने वाले जुलूसों में मानकों का उपयोग करते हैं। इस मानक के केंद्र में छपा हुआ शिलालेख एक विशेष प्रतीक है और मुख्‍य शिलालेख के चारों ओर गोल चक्र में "अल्लाह, मुहम्मद, 'अली," और के नामों को उकेरा गया है। इसके केंद्र के दोनों ओर दो सर्प लिपटे हुए हैं तथा नीचे से इनकी पूंछ आपस में जुड़ी हुयी है। उनके शरीर में छेद किए गए हैं, और उनकी पीठ पर गोल शल्क हैं, जिनमें नुकीले पैर हैं।
उत्‍तर प्रदेश के अमरोहा में एक अज़खाना स्थित है, अज़खाने में मजलिस-ए-आज़ा का बहुत अच्छा प्रदर्शन किया करता है। वर्तमान मुतवल्ली सैयद हादी रजा तकवी द्वारा सभी गतिविधियों का ध्यान रखा जाता है। इस अज़खाने की मरम्मत भी वर्तमान मुतवल्ली ने की है। इस अज़खाने के दोनों मुख्य द्वारों का निर्माण वर्तमान मुतवल्लियों द्वारा किया गया है। अब इस अज़खाने में एक बहुत ही खूबसूरत इमारत है।मुसम्मत वज़ीरन ने अपनी बेटी की याद में इस अज़खाने की स्थापना की थी। इससे सिद्ध होता है कि यह अज़खाना 1226 हिजरी (1802) से पहले स्थापित किया गया था। इसी अज़खाने से एक मस्जिद भी बनवाई गयी थी। इनके पास अपार संपत्ति थी, चूंकि उनके कोई बेटा या बेटी नहीं थी, इसलिए इस अज़खाना और मस्जिद के लिए उनकी संपत्ति वक्फ भी थी।हाजी सैयद नूर-उल-हसन की मृत्यु के बाद, उसके भाई (सैयद मोहम्मद अस्करी) के पोते सैयद मेहदी रज़ा तकवी (पुत्र सैयद मुसी रज़ा तकवी) ने इस अज़खाने के लिए मुतवल्ली को नियुक्त किया था। उन्होंने पूरी इमारत का पुनर्निर्माण किया था। यह इमारत बहुत ही खूबसूरत है। जब इस भवन का निर्माण कार्य पूरा होने वाला था, उसी मोहल्ले के किसी व्यक्ति ने अपने मुतवल्ली-जहाज को बंद करने के लिए न्यायालय में मुकदमा दायर कर दिया था। अज़खाने के निर्माण के लिए जो पैसा आरक्षित किया गया था, वह मुकदमा चलाने में खर्च हो गया था। यह मामला लंबे समय तक चला और इस अज़खाने का निर्माण पूरा नहीं हुआ। सैयद मेहदी रज़ा की मृत्यु के बाद, उनके भतीजे सैयद हुसैन रज़ा तकवी (पुत्र सैयद इमाम रज़ा तकवी) ने मुतवाली के रूप में नियुक्त हुआ। चूंकि वह उम्र में बहुत छोटा था, उसके पिता सैयद इमाम रज़ा तकवी ने सभी रखरखाव गतिविधियों का ध्यान रखा। सैयद मेहदी रज़ा तकवी की मृत्यु के बाद भी यह मामला चला और इस अज़खाने में आज़ादी पर कम ध्यान दिया गया। आज यहां पर मजलिस-ए-आज़ाका बहुत ही खूबसूरत आयोजन होता है। इस्‍लामी जगत में कैलेंडर की शुरुआत 1440 साल पहले, दूसरे खलीफा उमर इब्न खत्ताब ने की थी। इससे पहले अपने-अपने प्रांतों में मुसलमान, उस समय की अरब परंपरा का पालन करते हुए, दिनों और महीनों की गणना करते थे जो कि अमावस्या को देखने और उसके बाद के दिनों की गिनती किसी विशेष कैलेंडर या दिनांक प्रणाली का पालन किए बिना होती थी।इस्लामिक प्रांत के अरब भूमि से बाहर नए क्षेत्रों में फैलने के बाद, इस प्रणाली के दोष सामने आने लगे और एक बेहतर और सटीक कैलेंडर की आवश्यकता महसूस हुई। इस्लामिक प्रांत के सर्वोच्च प्रमुख खलीफा मदीना के विभिन्न इस्लामिक प्रांतों के राज्यपालों को सभी दिशानिर्देश और घोषणाएं जारी करते थे। चीजें वास्तव में सही चल रही थीं।लेकिन भ्रम तब पैदा हुआ जब एक ही समय में दूर-दराज के प्रांतों में विरोधाभासी आदेश पहुंचने लगे। चूंकि इन आदेशों में कोई तारीख नहीं होती थी, इसलिए राज्यपालों के लिए यह पता लगाना बहुत मुश्किल हो गया कि कौन सा आदेश नवीनतम था और जिसका पालन किया जाना चाहिए था।भ्रम को दूर करने के लिए, खलीफा उमर ने आखिरकार इस्लामिक कैलेंडर पेश करने का फैसला किया और लोगों से इस मामले पर उनकी राय और सुझाव मांगे।
नतीजतन, लोगों द्वारा विभिन्न ऐतिहासिक घटनाएं, जिसमें पैगंबर मुहम्मद का जन्म हुआ था, पैगंबर का वर्ष, प्रवास का समय और वह समय जब पैगंबर की मृत्यु हुई थी, प्रस्तावित किया गया था।हालांकि उस वर्ष के लिए सर्वसम्मति सामने आई जो इस्लामिक कैलेंडर के प्रारंभ वर्ष के रूप में मक्का से पैगंबर के प्रवास के साथ मेल खाती थी। क्योंकि, यह मक्का से पैगंबर मोहम्मद का प्रवास था। मदीना से इस्लाम को नई ऊंचाइयों पर ले जाया गया और पूरे अरब भूमि और आसपास के राज्यों फैलाया गया था।
मोहर्रम अल-हरम कई ऐतिहासिक घटनाओं से भी जुड़ा था और इस महीने को सदियों से चार सबसे सम्मानित और पवित्र महीनों में से एक माना जाता है। इन विशेषताओं ने मोहर्रम अल के चयन में एक ताकत जोड़ी है।हराम इस्लामी कैलेंडर के पहले महीने के रूप में जाना गया।
यौम ए अहसूरा मुहर्रम की दसवीं तारीख के साथ मेल खाता है। यह वह दिन है जब पैगंबर मूसा को फिरौन से मुक्त किया गया था। यह दिन हज़रत हुसैन की सहदाह (पैगंबर मुहम्मद के पोते) के लिए भी याद किया जाता है।इस प्रकार लगभग 1440 साल पहले इस्लामिक कैलेंडर पेश किया गया और अपनाया गया, जो जल्द ही लोकप्रिय हो गया।

संदर्भ:
https://bit.ly/37MRQ7w
https://bit.ly/3AIJOcc
https://bit.ly/3jVLZT7
https://bit.ly/3iS3BzG

चित्र संदर्भ
1. कराबला, इराक में आशूरा शोक का एक चित्रण (wikimedia)
2. उत्‍तर प्रदेश के अमरोहा में एक अज़खाने का एक चित्रण (facebook)
3. स्टोन टाउन, ज़ांज़ीबार में इस्लामी कैलेंडर का एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • धार्मिक प्रसंगों से शुरू होते हुए, असमिया साहित्य का अन्य विधाओं में विकास
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:01 AM


  • अय्यामे अजा माहे मोहर्रम की शुरूआत से शहर के इमामबाड़ों में मजलिसों, रौशनी, फातेहाख्वानी का सिलसिला
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:23 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: बुनकरों की मेहनत और लगन की झलक स्पष्ट दिखाई देती है हथकरघा वस्त्रों में
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 09:00 AM


  • सुंदर हरे नीले रंग के शैवाल की विशाल आबादी को देखने का एकमात्र तरीका है अंतरिक्ष से
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     07-08-2022 12:27 PM


  • जैन धर्म के गणितीय ग्रन्थ ने दिलायी धार्मिक अन्धविश्वाशो से मुक्ति
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:21 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस: आज भी रामपुर में हाथ से कंट्रोल होता है ट्रैफिक, नहीं है स्वचलित ट्रैफिक सिग्नल
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:19 AM


  • रामपुर के इतिहास से कुछ सुनहरी झलकियां, देखी है क्या आपने ईमारत रोसाविल कॉटेज
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:20 PM


  • पृथ्वी पर सबसे पुरानी भूवैज्ञानिक विशेषता है अरावली पर्वत श्रृंखला
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:01 PM


  • स्थानीय भाषा के तड़के के बिना फीका है, शिक्षा का स्वाद
    ध्वनि 2- भाषायें

     02-08-2022 08:59 AM


  • खनन को बढ़ावा देना मतलब पर्यावरण पर दुषप्रभाव
    खदान

     01-08-2022 12:07 PM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id