इस्लाम में सब कुछ एकेश्वरवाद पर धारित है

रामपुर

 02-08-2021 09:40 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दुनिया भर में ऐसे अनेकों व्यंजन हैं, जो अपने बेहतरीन स्वाद से सभी को आश्चर्यचकित करते हैं। इन्हीं में से एक व्यंजन चिकन टिक्का मसाला भी है, जिसे चिकन और अन्य सामग्रियों से बनाया जाता है। चिकन टिक्का मसाला बनाने के लिए चिकन के हड्डी रहित टुकड़ों को पहले मसालों और दही के साथ मेरिनेट किया जाता है, तथा उसके बाद मिश्रण को ओवन में भुनकर क्रीमी करी सॉस के साथ परोसा जाता है। इस पकवान को ग्रेट ब्रिटेन (Britain) में रहने वाले दक्षिण एशिया (Asia) के रसोइयों द्वारा लोकप्रिय बनाया गया था। यह पकवान दुनिया भर के रेस्तरां में पेश किया जाता है और ब्रिटेन के पूर्व विदेश सचिव रॉबिन कुक (Robin Cook) द्वारा इसे एक ‘वास्तविक ब्रिटिश राष्ट्रीय व्यंजन’ के रूप में वर्णित किया गया था। यह व्यंजन एक बहुसांस्कृतिक उपकेंद्र के रूप में ब्रिटेन की स्थिति का एक महत्वपूर्ण साक्ष्य है। लेकिन क्या आप जानते हैं, कि ब्रिटेन के इस अनौपचारिक राष्ट्रीय व्यंजन की शुरूआत कहाँ से हुई?
कई महत्वपूर्ण चीजों की तरह यह विषय भी एक बहस का विषय बना हुआ है। इस संदर्भ में अनेकों मत हैं। कुछ लोग अस्पष्ट रूप से कहते हैं कि यह एक ब्रिटिश करी है, वहीं अनेकों लोगों का यह कहना है, कि इसकी जड़ें भारत में मजबूती से जमी हुई हैं।चिकन टिक्का मसाला की करी आमतौर पर मलाईदार और नारंगी रंग की होती है। इसके सॉस को आमतौर पर टमाटर (अक्सर प्यूरी के रूप में), क्रीम, नारियल क्रीम और विभिन्न मसालों के मिश्रण से बनाया जाता है। हल्दी, लाल शिमला मिर्च, टमाटर प्यूरी या फूड डाई जैसे खाद्य पदार्थों का उपयोग करके सॉस और चिकन के टुकड़ों को नारंगी रंग में रंगा जा सकता है।
यह पकवान बनाने और दिखने के तरीके में, बटर चिकन के साथ कुछ समानता साझा करता है, हालांकि इन दोनों के बीच मुख्य अंतर यह है कि चिकन टिक्का मसाला में नॉन ग्रेवी सॉस के बजाय टमाटर की ग्रेवी का उपयोग किया जाता है। चिकन टिक्का मसाला की उत्पत्ति के सम्बंध में यह भी माना जाता है, कि हो सकता है,यह व्यंजन बटर चिकन से व्युत्पन्न हुआ हो, जो उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में एक लोकप्रिय व्यंजन है। खाद्य, पोषण और आहारशास्त्र की बहुसांस्कृतिक पुस्तिका (Multicultural Handbook of Food, Nutrition and Dietetics) इस व्यंजन के निर्माण का श्रेय 1960 के दशक के बांग्लादेशी प्रवासी रसोइयों को देती है, जो उस समय के पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) से ब्रिटेन गये। उस समय, इन प्रवासी रसोइयों ने चिकन टिक्का मसाला सहित कई नए अप्रामाणिक "भारतीय" व्यंजन विकसित किए और परोसे।
संजातीय भोजन के इतिहासकार, पीटर (Peter) और कोलीन ग्रोव (Colleen Grove), चिकन टिक्का मसाला की उत्पत्ति के सम्बंध में कई मूल-दावों पर चर्चा करते हैं, तथा यह निष्कर्ष निकालते हैं, कि इस पकवान का आविष्कार निश्चित रूप से ब्रिटेन में किया गया था, शायद एक बांग्लादेशी शेफ द्वारा। कुछ लोगों का यह भी मानना है, कि इसकी उत्पत्ति स्कॉटलैंड (Scotland) के ग्लासगो (Glasgow) के एक रेस्तरां में हुई थी। यह संस्करण बताता है कि कैसे एक ब्रिटिश बांग्लादेशी शेफ, अली अहमद असलम, जो ग्लासगो में शीश महल रेस्तरां के मालिक थे, ने दही, क्रीम और मसालों से बनी चटनी में सुधार करके चिकन टिक्का मसाला का आविष्कार किया। ह्यूस्टन क्रॉनिकल (Houston Chronicle) में एक संवाददाता, शेफ अनीता जयसिंघानी ने लिखा है कि चिकन टिक्का मसाला की उत्पत्ति के सम्बंध में सबसे संभावित कहानी यह हो सकती है कि इसका आधुनिक संस्करण 1970 के दशक की शुरुआत में लंदन (London) के पास एक उद्यमी भारतीय शेफ द्वारा बनाया गया था, जिन्होंने कैंपबेल (Campbell's) के टमाटर सूप का इस्तेमाल किया था।‘द हिंदू’ (The Hindu) के लिए लिखने वाले एक खाद्य आलोचक राहुल वर्मा ने कहा कि उन्होंने पहली बार 1971 में पकवान का स्वाद चखा था और इसकी उत्पत्ति भारत के पंजाब क्षेत्र में हुई थी। उनके अनुसार यह मूल रूप से एक पंजाबी व्यंजन है,जो 40-50 साल से अधिक पुराना नहीं है। इसके अलावा उनका मानना है, कि इसका आविष्कार आकस्मिक तौर पर हुआ है,जिसमें समय के साथ-साथ सुधार होता चला गया।हालांकि यह कितना सत्य या सटीक है, इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है।
ऐसे अन्य स्रोत भी हैं, जो बताते हैं कि भले ही अपने नाम के कारण यह व्यंजन मुगल बादशाहों या ब्रिटिश राज द्वारा विकसित किया गया लगे, लेकिन यह मुगल बादशाहों या ब्रिटिश राज की रसोई से उत्पन्न नहीं हुआ था। 2012 में ब्रिटेन में 2,000 लोगों के एक सर्वेक्षण के अनुसार, चीनी स्टिर फ्राई (Chinese stir fry) के बाद, यह व्यंजन देश का दूसरा सबसे लोकप्रिय विदेशी व्यंजन था।वर्तमान समय में ब्रिटेन में उत्तर से लेकर दक्षिण तक हर जगह यह व्यंजन खाया जाता है, जो कि लंदन के करी घरों की एक प्रमुख विशेषताभी है,विशेष रूप से ब्रिक लेन (Brick Lane) में, जिसे करी माइल (Curry Mile) के नाम से भी जाना जाता है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2Wu5RVj
https://bit.ly/2Vj43h3
https://bit.ly/3yo1x8h

चित्र संदर्भ
1. प्लेट में सजे चिकन टिक्का मसाले का एक चित्रण (flickr)
2. भारतीय चिकन टिक्का मसाले का एक चित्रण (wikimedia)
3. ब्रिटिश राष्ट्रीय व्यंजन’ टिक्का मसाले का एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • मनोरंजन और कला के संयोजन से बना है प्राचीन ताश का खेल गंजीफा
    हथियार व खिलौने

     27-09-2021 12:04 PM


  • हर कल्पनीय समुद्री आवास के लिए खुद को अनुकूलित करने में सक्षम हैं, पॉलीचेट्स
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     26-09-2021 12:08 PM


  • टीकाकरण का डिजिटलीकरण जहां शहरों के लिए है सुविधा वहीं ग्रामीणों के लिए बना अजाब
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     25-09-2021 10:02 AM


  • जल्द ही मलेरिया भी बीते दिनों की बात होगी
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     24-09-2021 09:24 AM


  • भारत में कैंसर के बढ़ते रोगी भौगोलिक क्षेत्रों में कैंसर का स्वरूप भिन्न होता है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-09-2021 11:04 AM


  • समुद्री सुपरस्टार है तारामछली
    मछलियाँ व उभयचर

     22-09-2021 08:59 AM


  • बंगाल स्कूल ऑफ आर्ट के प्रसंग से समझिये आज़ादी में कला के योगदान को
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     21-09-2021 09:40 AM


  • धतूरे की उत्‍पत्ति व शिव पूजा में इसका महत्व
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-09-2021 09:24 AM


  • बुशफायर और ग्रासफायर के लिए उत्तरदायी हैं, मानव गतिविधियां और प्राकृतिक कारक
    जंगल

     19-09-2021 12:26 PM


  • कोसी नदी पर बने प्राचीन वियर व् बांधों से हुई रामपुर ज़िले की भूमि अति उपजाऊ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2021 10:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id