भारत के समुद्री इतिहास का एक संक्ष्प्ति परिचय

रामपुर

 25-05-2021 10:05 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

भारत का एक अपना 5,000 साल पुराना समृद्ध समुद्री इतिहास रहा है, और इससे संबंधी बातों का उल्लेख सर्वप्रथम ऋग्वेद में मिलता है।भारतीय पुराणों में महासागर, समुद्र और नदियों से जुड़ी हुई ऐसी कई घटनाएँ मिलती हैं जिससे इस बात का पता चलता है कि मानव को समुद्र और महासागर से जलीय संपदा के रूप में काफ़ी आर्थिक सहायता प्राप्त हुई है। भारतीय साहित्यकला, मूर्तिकला, चित्रकला और पुरातत्व-विज्ञान से प्राप्त कई साक्ष्यों से भारत की समुद्री परंपराओं के अस्तित्व का ज्ञान प्राप्त होता है।हमारे देश के समुद्री इतिहास का अध्ययन करने से इस बात का पता चलता है कि प्राचीन काल से लेकर कई शताब्दियों तक हिंद महासागर पर भारतीय उप महाद्वीप का वर्चस्व कायम रहा था। इसके बाद व्यापार के लिए भारतीय समुद्री रास्तों का प्रयोग प्रारंभ हो गया थाI इस प्रकार 16 वीं शताब्दी तक का काल देशों के मध्य समुद्र के रास्ते होने वाले व्यापार, संस्कृति और परंपरागत लेन-देन का गवाह रहा है।
भारत का समुद्री इतिहास पश्चिमी सभ्यता के जन्म से पहले का है। माना जाता है कि दुनिया का पहला ज्वारीय बंदरगाह लोथल में हड़प्पा सभ्यता के दौरान 2300 ई. पू. के आसपास बनाया गया था, जो वर्तमान में गुजरात तट पर मंगरोल बंदरगाह के पास है। ऋग्वेद, जो 2000 ई. पू. के आसपास लिखा गया है, में जहाजों द्वारा इस्तेमाल किए गए सागर के मार्गों के ज्ञान का श्रेय वरुण देवता को जाता है। इसके इलावा ऋग्वेद में नौसेना के अभियानों का वर्णन है, जो अन्य राज्यों को नियंत्रण में करने के लिए सौ चप्पुनओं से चलने वाले जहाजों का इस्तेमाल करते थे।इसमें प्लेव (Plava) का एक संदर्भ है, जो तूफान की परिस्थितियों में एक पोत को स्थिरता देने वाले पंख हैं, शायद ये आधुनिक स्टेबलाइजर्स (Stabilisers) के अग्रदूत हो सकते हैं। इसी तरह, अथर्ववेद में उन नौकाओं का उल्लेख है जो विशाल, अच्छी तरह से निर्मित और आरामदायक थीं, जो इंगित करते हैं कि वैदिक काल के दौरान, समुद्र के माध्यम से व्यापार गतिविधियां बहुत आम हो सकती थीं।
खंभात की खाड़ी से भारतीयों ने 1200 ईसा पूर्व में यमन (Yemen) के साथ व्यापार संबंध स्थापित किए, मिस्र (Egypt) के फिरौन की कब्रों (Pharaohs' Tombs) में काली मिर्च की उपस्थिति इंगित करती है कि पश्चिमी एशिया और अफ्रीका के साथ सक्रिय भारतीय व्यापार था। भारतीयों ने दक्षिण पूर्व एशिया के साथ व्यापार गतिविधियों की शुरुआत 5-4 शताब्दी ईसा पूर्व में की। ‘मत्स्य यंत्र’ (Matsya Yantra) नामक एक कम्पास (Compass) या दिशा सूचक यंत्र का चौथी और पांचवीं ईस्वी में नौवहन (Navigation) के लिए इस्तेमाल में लाया जाता था। भारतीय साम्राज्यों पर समुद्र के प्रभाव समय बीतने के साथ निरंतर बढ़ते रहे। मौर्य काल में बड़े पैमाने पर समुद्री व्यापार गतिविधियाँ हुईं जिनसे अनेक राष्ट्र और भारत के बीच नज़दीकियाँ बढ़ीं। मौर्य साम्राज्य के दौरान, भारतीयों ने पहले ही दक्षिण पूर्व एशिया में थाईलैंड (Thailand) और मलेशिया प्रायद्वीप (Malaysia Peninsula) से कंबोडिया (Cambodia) और दक्षिणी वियतनाम (Southern Vietnam) तक व्यापारिक संबंध बना लिए थे। मौर्य वंश की समुद्री गतिविधियों के चलते भारत से इंडोनेशिया (Indonesia) और आस-पास के द्वीपों पर जाने का मार्ग प्रशस्त हुआ। इस काल में, भारत पर सिकंदर (Alexander) ने आक्रमण किया। उत्तर-पश्चिम भारत सिकंदर महान के प्रभाव के तहत आया, जिसने पाटला पर एक बंदरगाह का निर्माण किया, जहां अरब सागर में प्रवेश करने से पहले सिंधु नदी दो शाखाओं में बंट जाती है। इतिहास गवाह है कि भारतीय जहाजों ने जावा और सुमात्रा (Java and Sumatra) नामक दूर देशों में कारोबार किया और उपलब्ध साक्ष्य यह भी इंगित करते हैं कि वे भी प्रशांत और हिंद महासागर में अन्य देशों के साथ व्यापार कर रहे थे।शक्तिशाली नौसेनाओं में मौर्य, सातवाहन, चोल, विजयनगर, कलिंग, मराठा और मुगल साम्राज्य शामिल थे।चोलों ने विदेशी व्यापार और समुद्री गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, विदेशों में चीन और दक्षिण पूर्व एशिया में अपना प्रभाव बढ़ाया। गुप्त काल के दौरान अन्य देशों के साथ हमारा व्यापार बड़े पैमाने पर हो रहा था। इस काल के दौरान खगोल विज्ञान के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय प्रगति हुई।इतिहास में महान खगोलविद के रूप में प्रसिद्ध आर्यभट्ट और वराहमिहिर ने सही खगोलीय पिंडों की स्थिति चित्रित की, सितारों की स्थिति से एक जहाज की गणना की एक विधि विकसित की।
भारतीय समुद्री शक्ति का पतन तेरहवीं शताब्दी में शुरू हुआ और जब पुर्तगाली (Portuguese) भारत में आए तब भारतीय समुद्री शक्ति लगभग गायब हो गई थी। बाद में व्यापार के लिए लाइसेंस (License) की एक प्रणाली लगाई गई और सभी एशियाई जहाजों पर लागू किया गया। पूरे हिंद महासागर पर नियंत्रण रखने की रणनीति बनाने वाले पुर्तगाली व्यापारियों के आगमन से शांतिपूर्ण ढंग से हो रहे समुद्री व्यापार में बाधा उत्पन्न हुई। कोड़िकोड (Kozhikode, Kerala) के राजा मानविक्रमण (Manavikraman) ने 1503 में व्यापारिक विशेषाधिकारों को प्राप्त करने के लिये पुर्तगाली प्रयासों के जवाब में नौसैनिक निर्माण शुरू किया। उन्होंने मोहम्मद कुंजली (Mohammed Kunjali) को अपने बेड़े के एडमिरल (admiral) के रूप में नियुक्त किया। राजा ने पुर्तगालियों द्वारा विभिन्न प्रयासों को सफलतापूर्वक विफल कर दिया। 1509 में दीव (Diu) में द्वितीय नियुक्ति से भारतीय समुद्रों पर पुर्तगाली नियंत्रण की समाप्ति की गई और अगले 400 वर्षों के लिए भारतीय जल पर यूरोपीय नियंत्रण की नींव रखी। भारतीय समुद्री हितों में सत्रहवीं सदी के अंत में एक उल्लेखनीय पुनरुत्थान देखा गया, जब मुगल पश्चिम तट पर एक प्रमुख शक्ति बन गए। इसके बाद मराठा साम्राज्य की स्थापना छत्रपति शिवाजी महाराज ने 1674 में की थी। इसकी स्थापना से ही, मराठों ने जहाजों पर लगी तोपों के साथ एक नौसैनिक बल की स्थापना की। जिन्हें आगे चलकर सिधोजी गुजर और बाद में कान्होजी आंग्रे ने एडमिरल के रूप में नियंत्रित किया। 1729 में आंग्रे की मौत से खाड़ी में एक निर्वात आ गया और परिणामस्वरूप समुद्री शक्ति पर मराठा नेतृत्व में गिरावट आई।
औपनिवेशिक काल के दौरान इंग्लिश ईस्ट इंडिया कंपनी (English East India Company) की स्थापना 1600 में हुई थी। 1612 में, कैप्टन थॉमस बेस्ट (Thomas Best) ने स्वाली (Swally) की लड़ाई में पुर्तगालियों का सामना किया और उन्हें हराया। भारतीय नौसेना के इतिहास को भी 1612 के समय से जाना जाता है।इस मुठभेड़ के साथ-साथ अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी को एक बंदरगाह बनाने और वाणिज्य की रक्षा के लिए गुजरात के सूरत के पास एक गांव में एक छोटी नौसेना की स्थापना करने के लिए प्रेरित किया। कंपनी ने इस बल को ईस्ट इंडिया कंपनी के मरीन (Honourable East India Company's Marine) का नाम दिया गया। युद्धक जहाजों का पहला स्क्वाड्रन (Squadron) 5 सितम्बर 1612 को पहुंचा, जिसे तब ईस्ट इंडिया कंपनी की समुद्री सेना द्वारा बुलाया गया था। बॉम्बे (Bombay) 1662 में ब्रिटिश को सौंप दिया गया था। 1686 तक, ब्रिटिश वाणिज्य मुख्य रूप से बॉम्बे में स्थानांतरित होने के साथ, इस बल का नाम बॉम्बे मेरीन में बदल गया था। इस बल ने अद्वितीय सेवा प्रदान की और न केवल पुर्तगाली, डच और फ्रेंच के साथ भी संघर्ष किया, और विभिन्न देशों में घुसपैठ करने वाले समुद्री डाकुओं से युद्ध किया। इसके बाद बॉम्बे मेरीन हर मेजेस्टी इंडियन मेरीन (Her Majesty's Indian Marine) बन गया, इस समय, इस समुद्री सेना के दो विभाजन किए गए। विभिन्न अभियानों के दौरान प्रदान की गई सेवाओं को मान्यताn देते हुए इसका शीर्षक 1892 में रॉयल इंडियन मेरीन (Royal Indian Marine) में बदला गया था। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान रॉयल इंडियन मेरीन को समुद्री सर्वेक्षण, लाइट हाउसों के रख-रखाव और सैनिकों को लाने ले जाने जैसे कार्य सौंपे गए थेI कमीशन किए गए पहले भारतीय सूबेदार लेफ्टिनेंट डी. एन. मुखर्जी (Lieutenant D.N Mukherji) थे जो 1928 में एक इंजीनियर अधिकारी के रूप में रॉयल इंडियन मरीन में शामिल हुए थे।
1934 में, रॉयल इंडियन मरीन को रॉयल इंडियन नेवी (Royal Indian Navy) में फिर से संगठित किया गया था। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, रॉयल इंडियन नेवी में आठ युद्धपोत शामिल थे।युद्ध के अंत तक, इसकी ताकत 117 लड़ाकू जहाजों और 30,000 कर्मियों तक बढ़ गई थी। भारत द्वारा स्वतंत्रता प्राप्त करने पर रॉयल इंडियन नेवी में 11,000 अधिकारी और कार्मिकों के साथ तटीय गश्ती के लिए 32 उपयुक्त पुराने जहाज ही शामिल थे। 1947 में, ब्रिटिश भारत का विभाजन भी हुआ था जिस कारण रॉयल इंडियन नेवी को भारत और पाकिस्तान के बीच विभाजित किया गया था। वरिष्ठ ब्रिटिश अधिकारियों ने दोनों नौसेनाओं के साथ काम करना जारी रखा, और जहाजों को दोनों देशों के बीच विभाजित किया गया। 26 जनवरी 1950 को भारत के गणतंत्र बनने के बाद 'रॉयल इंडियन नेवी' से 'रॉयल' शब्द को हटा दिया गया और 'इंडियन नेवी' के रूप में इसका पुनः नामकरण किया गया, और जहाजों को भारतीय नौसेना के जहाजों (INS) के रूप में नया रूप दिया गया। भारतीय नौसेना भारतीय सशस्त्र बलों की जलीय शाखा है। भारत के राष्ट्रपति भारतीय नौसेना के सर्वोच्च कमांडर (Supreme Commander) हैं। नौसेना का प्राथमिक उद्देश्य देश की समुद्री सीमाओं की रक्षा करना, संघ के अन्य सशस्त्र बलों के साथ मिलकर युद्ध और शांति दोनों में लोगों या समुद्री हितों के खिलाफ किसी भी खतरे या आक्रमण को रोकने या हराने के लिए कार्य करना है। भारतीय नौसेना दुनिया की सबसे बड़ी नौसेनाओं में से एक है और मई 2021 तक इसके पास 1 विमान वाहक (Aircraft Carrier), 1 उभयचर परिवहन डॉक (Amphibious Transport Dock), 8 लैंडिंग शिप टैंक (Landing Ship Tanks), 10 विध्वंसक (Destroyers), 13 फ्रिगेट(Frigates) या युद्धपोत, 1 परमाणु चालित युद्ध पनडुब्बी (Nuclear-Powered Attack Submarine), 2 परमाणु शक्ति से चलने वाली बैलिस्टिक मिसाइल पनडुब्बी (Nuclear-Powered Ballistic Missile Submarine), 15 पारंपरिक रूप से संचालित युद्ध पनडुब्बियां (Conventionally Powered Attack Submarines), 23 वाहक (Corvettes), 7 लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी (Landing Craft Utility), 10 बड़े अपतटीय गश्ती जहाज (Large Offshore Patrol Vessels), 5 बेड़े के टैंकर (Fleet Tanker) तथा विभिन्न सहायक पोत तथा छोटी गश्ती नौकाएं हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3tZqLqo
https://bit.ly/2Rrt2gY
https://bit.ly/3f1y1hg
https://bit.ly/2QzXRiP
https://bit.ly/3bK79A6

चित्र संदर्भ
1. इंडिया कंपनी का फ्लैगशिप विजय के साथ घरेलू जल में लौट रहे जहाजों का एक चित्रण (wikimedia)
2. लोथल के लेआउट का एक चित्रण (wikimedia)
3. Deptford में ईस्ट इंडिया कंपनी के जहाज का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • धार्मिक प्रसंगों से शुरू होते हुए, असमिया साहित्य का अन्य विधाओं में विकास
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:01 AM


  • अय्यामे अजा माहे मोहर्रम की शुरूआत से शहर के इमामबाड़ों में मजलिसों, रौशनी, फातेहाख्वानी का सिलसिला
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:23 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: बुनकरों की मेहनत और लगन की झलक स्पष्ट दिखाई देती है हथकरघा वस्त्रों में
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 09:00 AM


  • सुंदर हरे नीले रंग के शैवाल की विशाल आबादी को देखने का एकमात्र तरीका है अंतरिक्ष से
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     07-08-2022 12:27 PM


  • जैन धर्म के गणितीय ग्रन्थ ने दिलायी धार्मिक अन्धविश्वाशो से मुक्ति
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:21 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस: आज भी रामपुर में हाथ से कंट्रोल होता है ट्रैफिक, नहीं है स्वचलित ट्रैफिक सिग्नल
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:19 AM


  • रामपुर के इतिहास से कुछ सुनहरी झलकियां, देखी है क्या आपने ईमारत रोसाविल कॉटेज
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:20 PM


  • पृथ्वी पर सबसे पुरानी भूवैज्ञानिक विशेषता है अरावली पर्वत श्रृंखला
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:01 PM


  • स्थानीय भाषा के तड़के के बिना फीका है, शिक्षा का स्वाद
    ध्वनि 2- भाषायें

     02-08-2022 08:59 AM


  • खनन को बढ़ावा देना मतलब पर्यावरण पर दुषप्रभाव
    खदान

     01-08-2022 12:07 PM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id