ईद अल फितर और ईद अल अधा की नमाज के लिए आरक्षित होते हैं ईदगाह

रामपुर

 14-05-2021 09:51 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)


ईद की प्रार्थना को मैदानों, सामुदायिक केंद्रों या मस्जिदों जैसे खुले क्षेत्रों में समूह में किए जाने की परंपरा है। हालांकि इस ईद की नमाज़ के लिए नमाज़ अदा करने का कोई आह्वान नहीं किया गया है, और इसमें इस्लाम की शाखा के आधार पर तकरीबन दो तक्बीरों (Takbirs) और अन्य प्रार्थना तत्वों के साथ नमाज़ की दो इकाइयाँ शामिल हैं। इस्लामी पंचांग के नौवें महीने रमजान के दौरान एक महीने के उपवास के बाद, ईद-उल-फितर वह दिन है जो शव्वाल महीने के 1 दिन के उपवास के अंत का प्रतीक है।ईद-अल-फितर में एक विशेष सलात (इस्लामी प्रार्थना) होती है जिसमें दो रकात (इकाइयां) होती हैं जो आमतौर पर एक खुले मैदान या बड़े आँगन(मुसल्ला या ईदगाह) में की जाती हैं।ऐसे ही रामपुर और मुरादाबाद में कई प्रसिद्ध ईदगाह हैं, जहां लोग ईद की नमाज़ अदा करने के लिए एकत्रित होते हैं।ईदगाह, इस्लामिक संस्कृति में इस्तेमाल किया जाने वाला एक शब्द है जिसका इस्तेमाल आम तौर पर शहर के बाहर (या बाहरी इलाके में) खुले मैदानों के लिए किया जाता है जो कि शहर के बाहर ईद अल-फितर और ईद अल-अधा की नमाज के लिए आरक्षित होता है, इसका उपयोग वर्ष के अन्य समय में प्रार्थना के लिए नहीं किया जाता है।वहीं ईदगाह का उल्लेख काजी नजरूल इस्लाम की प्रसिद्ध बंगाली कविता ओ मोन रोमजानर ओई रोजार शेष (O Mon Romzaner Oi Rozar Sheshe) में मिलता है।
वहीं विभिन्न विद्वानों द्वारा इस सलात (प्रार्थना) के महत्व की अलग-अलग व्याख्या करते हैं। ‘सलात’,अल-ईद, हनफ़ी विद्वानों के अनुसार वजीब (आवश्यक / अनिवार्य) है;मलिकी और शफी न्यायशास्त्र के अनुसार सुन्नत अल-मुक्कदह है; और हनबल विद्वानों के अनुसार फर्द है। कुछ विद्वानों का कहना है कि यह फ़रदअल-ऐन है और कुछ कहते हैं कि यह फ़र्दअल-किफ़ाया है।इस्लाम में, भगवान के साथ संवाद बेहद महत्वपूर्ण है। यह माना जाता है कि अगर अल्लाह अपने भक्त की प्रार्थना को स्वीकार करता है तो वह उसके अन्य सभी अच्छे कामों जैसे उपवास, दान आदि को भी स्वीकार कर लेता है। इसलिए ईद में ईद की नमाज़ का विशेष महत्व है।वहीं इस महत्वपूर्ण दिन में मुसलमानों को चावल, जौ और खजूर को आमतौर पर भोजन के रूप में दान या सदाकत-उल-फित्र करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। यह एक ऐसा दायित्व है जो यह सुनिश्चित करता है कि सभी मुसलमान ईद-उल-फितर और ईद-उल-अधा मनाने में सक्षम हैं।
ईद की नमाज़ के बाद खुतबाह(धर्मोपदेश) दिया जाता है और फिर दुनिया भर में सभी जीवित प्राणियों के लिए अल्लाह से क्षमा, दया, शांति और आशीर्वाद के लिए प्रार्थना की जाती है।यह खुतबाह मुसलमानों को ईद की रस्म, जैसे कि ज़कात के प्रदर्शन के लिए निर्देश देता है। हालांकि कुछ इमामों का मानना है कि ईद पर खुतबाह सुनना वैकल्पिक है।नमाज़ के बाद मुसलमान अपने रिश्तेदारों, दोस्तों, और परिचितों से मिलने जाते हैं या घरों या सामुदायिक केंद्रों में बड़े सांप्रदायिक उत्सव मनाते हैं।हालांकि भारत में बढ़ते कोरोनावायरस के मामलों को देखते हुए लोगों को अपने घरों से ईद नमाज़ की पेशकश करने का फैसला किया गया है और सभी को सुरक्षित रूप से ईद बनाने की सलाह दी गई है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/2LA7loj
https://en.wikipedia.org/wiki/Eidgah
https://en.wikipedia.org/wiki/Eid_prayers
https://bit.ly/2Rjj0OB
चित्र संदर्भ:-
1. नमाज़ अदा करने का एक चित्रण (Flickr)
2. ईदगाह का एक चित्रण (Wikimedia)
3. खुतबाह (धर्मोपदेश) देने का एक चित्रण (Youtube)


RECENT POST

  • अपने लाभदायक गुणों के लिए अत्यधिक प्रसिद्ध है लाल केला
    साग-सब्जियाँ

     22-06-2021 08:11 AM


  • गुणवत्ता युक्त अंजीर की खेती से सुधार सकते हैं किसान अपनी आर्थिक स्थिति
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें साग-सब्जियाँ

     21-06-2021 07:31 AM


  • कार्टून जगत में हंगेरियन रैप्सोडी (Hungarian Rhapsodies) का महत्‍व
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-06-2021 12:21 PM


  • कोविड -19 और अन्य बीमारी के उपचार और टीके में पशु अनुसंधान की भूमिका
    स्तनधारी

     19-06-2021 01:31 PM


  • विश्व तथा भारत में कपास मिल का इतिहास
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     18-06-2021 09:19 AM


  • रामपुर शहर की शान है इंडो सारसेनिक वास्तुकला से निर्मित रंगमहल
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-06-2021 09:50 AM


  • क्रिकेट का इतिहास और कैसे समय के साथ हुए इसमें कई परिवर्तन
    हथियार व खिलौनेय़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     15-06-2021 08:52 PM


  • भारत में भाषा तथा लिपि का विकास
    ध्वनि 2- भाषायें

     15-06-2021 11:43 AM


  • कोरोना के कारण भारत में बढ़ सकती है जनसंख्‍या विस्‍फोट की समस्‍या
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     14-06-2021 09:15 AM


  • पेड़ों पर चढ़ने के लिए चारों पैरों का उपयोग करते हैं, काले भालू
    व्यवहारिक

     13-06-2021 11:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id