बरेच जनजाति और रोहिल्ला कनेक्शन

रामपुर

 24-09-2020 04:00 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

बरेच जनजाति के साथ रोहिल्ला का संबंध जगजाहिर है, भारत पाकिस्तान और अफगानिस्तान के ज्यादातर लोग यह भूल चुके हैं कि बरेच कौन थे? 1822 की एक दिलचस्प पुरानी तस्वीर (जब कैमरा इज़ाद नहीं हुआ था) कोपनहेगन, डेनमार्क (Copenhagen, Denmark) में कला के प्रसिद्ध डेविड संग्रह म्यूजियम (David Collection Museum) में शामिल है, जिस पर साफ संकेत हैं- ’बरेच परिवार के रोहिल्ला अफगान’। हम उस व्यक्ति का नाम तो नहीं जानते लेकिन उसके कपड़ों और रूप रंग से बरेच-रोहिल्ला संबंध की झलक जरूर मिलती है। फोटो के पीछे एक चिन्ह खुदा है, जो बताता है कि यह बरेच परिवार के सदस्य का चित्र है। इसी तरह की एक दूसरी पेंटिंग भी है, जो 1830 के रोहिल्ला सिपाहियों की है। यह पेंटिंग अब ब्रिटिश लाइब्रेरी लंदन (British Library London) में है।


डेविड संग्रह म्यूजियम (David Collection Museum)

सीएल डेविड (CL David) के व्यक्तिगत संग्रह पर आधारित कोपनहेगन, डेनमार्क का यह संग्रहालय अधिकांश तौर पर एक व्यवसाई और कलात्मक वस्तुओं का संग्रह करता है। इसकी सबसे बड़ी खूबी 8वीं से 19वीं शताब्दी तक की इस्लामी कला का संग्रह है। इसमें 18वीं सदी के ललित कला, अप्लाइड आर्ट( यूरोप) (Applied Art (Europe)) और दानिश स्वर्ण युग (Danish Golden Age) का भी थोड़ा संग्रह है।

रोहिल्ला वंश

रोहिल्ला वंश अरब मूल का एक भारतीय वंश है, जिसने रोहिलखंड पर शासन किया और बाद में रामपुर रियासत पर। भारतीय शासकों पर रोहिल्ला वंश का बड़ा दबदबा था। अली मोहम्मद खान को बचपन में बरेच जनजाति के मुखिया, सरदार दाऊद खान रोहिल्ला ने गोद लिया था। रोहिल्ला से मतलब है, वो पश्तून जो भारत आकर बस गए।

बरेच वंश
यह एक पश्तून जनजाती है, जो अफगानिस्तान के दक्षिणी कंधार राज्य और पाकिस्तान के क्वेटा में पाई जाती है। इसके बारे में थोड़ा बहुत ब्रिटिश शहरी और सेना से संबंध पदाधिकारियों ने 19वीं और 20वीं शताब्दी की शुरुआत में लिखा है। बरेच ने सबसे बड़ा जनजाति समूह उत्तर भारत के रोहिल्ला के आस-पास स्थापित किया। बरेच वंश में सबसे ज्यादा शोहरत, खान फतेह खान बरेच को मिली, जो असलम खान के बेटे थे, वे बरेच जनजाति के सबसे बड़े नायक और गौरव के प्रतीक थे। उनकी भारत और पाकिस्तान में दिलेर जीत उल्लेखनीय और पठानों के लिए गर्व की बात है। बरेच की जनजाति भारत पाकिस्तान में एक समान रूप से मिलती है। यह सब महान फतेह खान बरेच और उनकी 60 कंपनियों के कारण संभव हुआ। यह वह समय था जब महान अकबर की मौत हो चुकी थी और जहांगीर मुगल शासन के नए बादशाह बने।

सन्दर्भ:
The David collection ( https://en.wikipedia.org/wiki/The_David_Collection )
https://en.wikipedia.org/wiki/Barech
https://www.facebook.com/1451001525212190/posts/barech-also-baraich-bareach-barreach-is-a-pashtun-tribeindigenous-to-southern-ka/1939651623013842/
https://en.wikipedia.org/wiki/Rohilla_dynasty

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र सन 1821-1822 के मध्य एक रोहिल्ला अफगान का व्यक्ति चित्र है। चित्र के पार्श्व में लिखी गयी पहचान पंक्ति चित्रित व्यक्ति को बरेच समूह का सदस्य बताती है। यह चित्र वास्तविक चित्र का कलात्मक प्रस्तुतिकरण है। (Prarang)
दूसरा चित्र दो रोहिल्ला सिपाहियों को प्रदर्शित करता है। यह चित्र सन 1830 में बनाया गया है और वर्तमान में ब्रिटिश पुस्तकालय, लंदन (British Library, London) का हिस्सा है।
अंतिम चित्र मुख्य चित्र का वास्तविक वर्णन है। यह चित्र डेविड संग्रह का हिस्सा है। (David Collection)


RECENT POST

  • दृश्यों की संवेदनशील प्रकृति के कारण भिन्न हैं, मोचे संस्कृति द्वारा बनाए गये मिट्टी के पात्र
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 06:58 PM


  • उत्तम प्रकृति चंदन को संरक्षण की दरकार
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:00 AM


  • आदिकाल से ही मानव कर रहा है, इत्र का उपयोग
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 12:18 PM


  • क्यों गुप्तकाल को भगवान विष्णु मूर्तिकला का उत्कृष्ट काल माना जाता है?
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 08:48 AM


  • अपनी कला के माध्यम से कर रहे हैं सड़क प्रदर्शनकर्ता लोगों को जागरूक
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:10 AM


  • इस्लामिक ग्रंथों में मिलता है दुनिया के अंत या क़यामत का वर्णन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 07:16 AM


  • रेडियो दूरबीनों के अंतर्राष्ट्रीय तंत्र की ऐतिहासिक उपलब्धि है, ईवेंट होरिजन टेलीस्कोप
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     22-11-2020 10:08 AM


  • इंडो-सरसेनिक (Indo-Saracenic) कला के अद्वितीय नमूने रामपुर कोतवाली और नवाब प्रवेशमार्ग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:02 PM


  • बिथौरा कलां (Bithaura Kalan) की लड़ाई बनी दूसरे रोहिल्ला युद्ध की निर्णायक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-11-2020 05:26 AM


  • भारत भर में अंतर्राज्यीय प्रवासियों की संख्या
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     20-11-2020 09:36 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id