काम्पिल्य महाभारत सम्बंधित स्थल

रामपुर

 04-09-2020 10:15 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

भारतीय इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथों की बात की जाए तो उसमे रामायण और महाभारत शीर्ष पर काबिज होते हैं। रामायण और महाभारत की ऐतिहासिकता सिद्ध करने के लिए कई अन्वेषण, शोध उत्खनन आदि हुए हैं, जिससे काफी हद तक यह साफ़ हो जाता है कि उत्तरी कृष्ण लेपित मृद्भांड परंपरा रामायण से और चित्रित धूसर मृद्भांड परंपरा का सम्बन्ध महाभारत से है। इसी तर्ज पर अनेकों शोध हुए हैं और उन्ही शोधों की श्रंखला के विषय में बात करें तो हमारे रामपुर के समीप ही कई ऐसे पुरास्थल हैं, जो महाभारत में वर्णित हैं। इन पुरास्थालों में से प्रमुख हैं अहिछत्र और काम्पिल्य। ये दोनों स्थल महाभारत में एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण स्थान पर काबिज हैं। ये दोनों स्थल उत्तर पांचाल और दक्षिण पांचाल की राजधानियों के रूप में कार्य करती थी।

प्रमुख बिंदु के विषय में बात करें तो यह ऐसा है कि जबतक किसी भी पुरास्थल से चित्रित धूसर मृद्भांड, जिसे पीजीडब्लू (PGW) के नाम से भी जानते हैं की प्राप्ति नहीं हो जाती, तबतक उस स्थल को पूर्ण रूप से या वृहत स्तर पर महाभारतकालीन नहीं माना जाता। काम्पिल्य और अहिछत्र से बड़ी मात्रा में प्राप्त इस मृद्भांड ने महाभारत में वर्णित इन स्थलों की ऐतिहासिकता पर मुहर लगाने का कार्य किया है। अगर हम पुरातात्विक दृष्टिकोण से देखें तो अहिछत्र को भारतीय पुरातत्व के शुरूआती समय से ही एक महत्वपूर्ण स्थल के रूप में देखा जाता जा रहा था और यही कारण है कि यहाँ पर बड़े पैमाने पर उत्खनन आदि कार्य किये गए। आज अहिछत्र के विषय में सम्बंधित अनेकों पुस्तकें आदि उपलब्ध हैं परन्तु यदि वहीँ हम काम्पिल्य की बात करें तो वह काफी हद तक नजरअंदाज किया गया है या यूँ कहें की वहां पर बड़े पैमाने पर अभी तक किसी प्रकार का पुरातात्विक कार्य नहीं किया गया है। जैसा कि हमें पता है कि पांडवों का जो शहर था उसे हम इन्द्रप्रस्थ के नाम से जानते हैं और यहीं से करीब 300 किलोमीटर की दूरी पर वह स्थल स्थित है, जहाँ पर द्रोपदी का जन्म यज्ञ से हुआ था। द्रोपदी का जन्म काम्पिल्य में ही स्थित यज्ञ कुंड से हुआ था और आज भी काम्पिल्य में वह द्रोपदी कुंड स्थित है।

काम्पिल्य का पुरास्थल गंगा के किनारे बसा हुआ है। ऐसा माना जाता है कि द्रोपदी के पिता राजा द्रुपद की राजधानी वर्तमान फरुखाबाद जिले में थी। वर्तमान काल में काम्पिल्य अपने स्थिति पर आंसू बहा रहा है, आज भी इस क्षेत्र में अनेकों कुषाण कालीन प्रतिमाएं बिखरी पड़ी हुई हैं। वर्तमान समय में स्थिति के खराब होने के बाद भी यहाँ पर लाखों की संख्या में लोग घूमने आते हैं। आज द्रोपदी कुंड गंदे पानी के तालाब के रूप में उपस्थित है, जो एक बड़े चिंता का विषय है। ऐतिहासिक रूप से यदि देखा जाए तो इस स्थल का पहला सर्वेक्षण 1878 में अलेक्ज़ैंडर कन्निघम (Alexander Cunningham) के दौर में किया गया था। इस पुरास्थल की सर्वप्रथम खुदाई 1975-76 में हुई थी और इस खुदाई में चित्रित धूसर मृद्भांड परंपरा के अवशेष सामने आये थे। काम्पिल्य में अनेकों संस्थाओं ने उत्खनन आदि का कार्य कराया है, जिसमे बीबी लाल, वी. एन. मिश्र आदि के दिशा निर्देश में कार्य किया गया था। यह स्थल अपने संरक्षण के लिए आज भी राह देख रहा है।

सन्दर्भ :
http://www.draupaditrust.org/Excavations.html
https://en.wikipedia.org/wiki/Kampilya
https://en.wikipedia.org/wiki/Panchala_Kingdom_(Mahabharata)



RECENT POST

  • आज आपके सोलर ऊर्जा के उत्पादन से जुड़े सभी संदेह दूर हो जाएंगे
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-11-2022 10:58 AM


  • भारतीय और अफ्रीकी पशुपालक एक दूसरे से क्या सीख सकते हैं
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     25-11-2022 10:52 AM


  • अपने बचपन के सपनों को हासिल करने के लिए क्या आवश्यक है, पढ़ें इस पुस्तक में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2022 11:11 AM


  • परफ्यूम और डिओडोरेंट में अंतर के साथ समझिये इनकी विशेषताएं तथा दुष्परिणाम
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     23-11-2022 10:52 AM


  • प्राकृतिक सशस्त्र बल हैं भारत के मैंग्रोव
    जंगल

     22-11-2022 10:50 AM


  • शिक्षा व् सामुदायिक विकास की पहल से, अब मनोरंजन का विस्फोट लिए, कैसे बसा टीवी घर-घर मे परिवार के सदस्य के जैसे
    संचार एवं संचार यन्त्र

     21-11-2022 10:39 AM


  • अंतरिक्ष में कपड़े धोना भी अपने आप में एक मजेदार काम है
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     20-11-2022 12:59 PM


  • दस साल में एक बार खिलने वाला विश्‍व का सबसे बड़ा फूल
    शारीरिक

     19-11-2022 11:12 AM


  • राष्ट्रवाद बनाम वैश्विकवाद
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     18-11-2022 11:04 AM


  • मरुस्थलीकरण क्यों डरा रहा है?
    मरुस्थल

     17-11-2022 11:51 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id