रामपुर का राजचिन्ह

रामपुर

 20-08-2020 10:40 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

किसी भी देश या राज्य की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता होती है, उसकी अपनी क्षमता और स्थिति। हमारा रामपुर हमेशा से ही एक अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान रहा है, यहाँ पर शिक्षा, स्वतंत्रता, राजनीति आदि की संभावनाएं विकसित हुई और आगे बढ़ी। रामपुर का रज़ा पुस्तकालय पूरे विश्व में एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण पुस्तकालय के रूप में जाना जाता है। रामपुर के राजचिन्ह, कोट ऑफ़ आर्म्स (Coat of Arms) को हम सभी ने देखा है यह रज़ा पुस्तकालय से लेकर कोठी ख़ास बाग़ आदि स्थानों पर देखने को मिल जाता है। इसे हम यहाँ के रामलीला मैदान में भी देख सकते हैं। अब यह प्रश्न उठता है कि आखिर यह है क्या और इसपर लिखा क्या गया है? तथा यह चिन्ह इतना महत्वपूर्ण क्यूँ है? रामपुर, भारत का एक अत्यंत महत्वपूर्ण रियासत था, और यही कारण है कि इस राज्य को ब्रिटिश (British) शासन से 15 तोपों की सलामी का अधिकार प्राप्त था। यह रियासत 7 अक्टूबर 1774 को अवध राज्य के साथ की गयी एक संधि के परिणामस्वरूप ही अस्तित्व में आयी।

रामपुर रियासत की राजधानी वर्तमान समय का रामपुर शहर ही था। यह रियासत कुल 945 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई थी, जिससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह अत्यंत महत्वपूर्ण और वृहत रियासत थी। मुग़ल सम्राट मोहम्मद शाह के द्वारा 1737 में रामपुर के अली मोहम्मद खान को नवाब की उपाधि से सम्मानित किया गया था और यहीं से जितने भी नए शासक आये उनको नवाब की उपाधि मिलती गयी। 1857 की क्रान्ति के बाद रामपुर रियासत संयुक्त प्रांत ( United Province) के अप्रत्यक्ष शासन में आ गया। 1936 के दौर में यह राज्य ग्वालियर रेजीडेंसी (Gwalior Residency) में शामिल हुआ तथा यह भारत की आजादी के बाद उत्तर प्रदेश राज्य का हिस्सा बना।

जैसा की पहले ही बताया जा चुका है कि इस राज्य को 15 तोपों की सलामी से नवाजा गया था। रामपुर के झंडे के ऊपर एक हाथ का दृश्य है, जिसमें एक तीर दर्शाया गया है, तीर के मुख भाग के नीचे एक कपड़ा भी प्रदर्शित किया गया है। इसके नीचे एक हेलमेट (Helmet) पहने हुए धड़ का चिर्त्रण है, इसमें दोनों ओर 12 सींगों का अंकन किया गया है तथा मध्य में दो तलवारों को दर्शाया गया है। इसी के साथ इसपर अल्लाह मुहम्मद का आदर्श वाक्य भी लिखा गया है। कालांतर में इस झंडे या प्रतीक चिन्ह को बदल कर एक अन्य प्रतीक चिन्ह बनाया गया, जो कि पुराने प्रतीक चिन्हों से बिलकुल अलग था। इस पर शील्ड (Shield) के स्थान पर मछली का अंकन किया गया, (मछलियों का अंकन हम अवध के राजचिन्ह में भी देखते हैं)। यह शील्ड दो शेरो द्वारा सुरक्षित दर्शाया गया है। इस प्रकार यह ब्रिटिश शासन से प्रभावित प्रतीत होता है। इसके ऊपरी भाग पर हेलमेट के साथ एक छतरी का अंकन भी किया गया है। जिस पर उर्दू में आदर्श वाक्य 'अल हुकुम लीला वल मुल्क लीला' लिखा हुआ है, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है, "अल्लाह के साथ शासन का संचालन।" इसी के साथ एक और वाक्य भी लिखा है 'ला फता इला अली ला सयफ इला दू ऐ फिगर' जिसका शाब्दिक अर्थ है कि 'दुनिया में कोई अली सा वीर नहीं और कोई भी तलवार जुल्फिकार से मजबूत नहीं।'

सन्दर्भ
https://en.wikipedia.org/wiki/Rampur_State
https://www.hubert-herald.nl/BhaUttarPradesh.htm
https://www.royalark.net/India/rampur.htm

चित्र सन्दर्भ :
मुख्य चित्र में रामपुर का कोट ऑफ़ आर्म्स (Coat of Arms) दिखाया गया है। (Wikipedia)
दूसरे चित्र में रामपुर का शासकीय राजचिन्ह दिखाया गया है। (Flickr)



RECENT POST

  • रक्षाबंधन त्यौहार के आध्यात्मिक और सामजिक पहलू, तथा विभिन्‍न भारतीय परम्पराएं
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2022 10:13 AM


  • धार्मिक प्रसंगों से शुरू होते हुए, असमिया साहित्य का अन्य विधाओं में विकास
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:01 AM


  • अय्यामे अजा माहे मोहर्रम की शुरूआत से शहर के इमामबाड़ों में मजलिसों, रौशनी, फातेहाख्वानी का सिलसिला
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:23 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: बुनकरों की मेहनत और लगन की झलक स्पष्ट दिखाई देती है हथकरघा वस्त्रों में
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 09:00 AM


  • सुंदर हरे नीले रंग के शैवाल की विशाल आबादी को देखने का एकमात्र तरीका है अंतरिक्ष से
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     07-08-2022 12:27 PM


  • जैन धर्म के गणितीय ग्रन्थ ने दिलायी धार्मिक अन्धविश्वाशो से मुक्ति
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:21 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस: आज भी रामपुर में हाथ से कंट्रोल होता है ट्रैफिक, नहीं है स्वचलित ट्रैफिक सिग्नल
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:19 AM


  • रामपुर के इतिहास से कुछ सुनहरी झलकियां, देखी है क्या आपने ईमारत रोसाविल कॉटेज
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:20 PM


  • पृथ्वी पर सबसे पुरानी भूवैज्ञानिक विशेषता है अरावली पर्वत श्रृंखला
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:01 PM


  • स्थानीय भाषा के तड़के के बिना फीका है, शिक्षा का स्वाद
    ध्वनि 2- भाषायें

     02-08-2022 08:59 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id