इंडो-ग्रीक इतिहास का एक महत्वपूर्ण बिंदु है उनके द्वारा बनाए गये सिक्के

रामपुर

 03-06-2020 05:30 PM
धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

सिकंदर के अफगानिस्तान और पाकिस्तान में प्रवेश करने से पहले ही यूनान (ग्रीस- Greece) और भारत में बहुत अधिक आदान-प्रदान हुआ करता था। जबकि पौराणिक कथाएं, आदान-प्रदान और भाषाई ऋण-शब्दों के साथ फैली हुई है, और यहां तक कि अभी तक व्याकरण समानताएं अत्यधिक हैं (4 वीं ईसा पूर्व के संस्कृत व्याकरण पर पाणिनि की पुस्तक अर्थात पूर्व (Pre-Alexander), यूनानी भाषा को संदर्भित करता है), लेकिन इस तरह के आदान-प्रदान के पुरातत्व प्रमाणों को खोजना मुश्किल है। यहां तक कि न्यासा नामक एक शहर-राज्य का संदर्भ भी है, जिसकी खोज पर सिकंदर को आश्चर्य हुआ, जहां यूनानी भाषी समुदाय, शराब पीने वाले और डायोनिसियस (Dionysius) के अनुयायी रहते थे। यह सिकंदर के बाद का इतिहास है, जहां भारत और यूनान की परस्पर सम्बंधता ने भारत में विशाल पदचिन्ह छोडे – जैसे शहरी नियोजन, सिक्का डिजाइन (Designs), कपड़ा और आभूषण डिजाइन और अन्य कला, विशेष रूप से गांधार (कंधार, कई यूनानी शहरों में से एक है, जिसका नाम सिकंदर के नाम पर रखा गया) और तक्षशिला से मूर्तिकला। 323 ईसा पूर्व में अलेक्जेंडर की मृत्यु के तुरंत बाद, उसके सेनाप्रमुख सेल्यूकस निकेटर (Seleucus Nicator) और उनकी फारसी रानी को उसका साम्राज्य विरासत में मिला।

मौर्य साम्राज्य, जिसे सैंड्राकोटस (Sandracotus)/चंद्रगुप्त मौर्य (सेल्यूकस निकेटर की बेटी से विवाहित) द्वारा स्थापित किया गया था, ने अपनी पहचान बनाने के लिए फारसी और यूनानी डिजाइन और शिल्प-कौशल का एक संयोजन बनाया लेकिन उसका साम्राज्य 322 ईसा पूर्व से 185 ईसा पूर्व तक चला। इस मौर्य चरण के दौरान ही यूनान और भारत के बीच कूटनीति का एक नया रूप शुरू हुआ और दोनों देशों के राजदूत संबंधित अदालतों में मौजूद रहने लगे। प्रसिद्ध रूप से, मेगस्थनीज-सेल्यूकस निकेटर (सीरिया और अफगानिस्तान) के लिए, डिमाकस (Deimachus) - एंटिओकस (Antiochus) प्रथम (मैसेडोनिया-Macedonia, ग्रीस और थ्रेसिया-Thracia) के लिए, और डायोनिसियस (Dionysius) - टॉलेमी फिलाडेल्फ़ियस (Ptolemy Philadelphius-मिस्र) के लिए, सभी चंद्रगुप्त मौर्य के दरबार में रहते थे और काम करते थे। विदेश मिशन में राजनायिकों/ राजदूतों के आधार का ऐसा रूप आज भले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक आदर्श बन गया है लेकिन वास्तव में इसकी शुरूआत सिकंदर के बाद यूनान और भारत के साथ शुरू हुई। 185 ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य को पाकिस्तान/उत्तरी-भारत क्षेत्र में एक इंडो-ग्रीक (भारतीय-यूनानी) साम्राज्य द्वारा प्रतिस्थापित किए जाने के बाद भी, इस प्रोटोकॉल (Protocol) को जारी रखा गया जोकि मौर्य साम्राज्य के विभाजित होने से उभरे जनपदों या राज्यों में फैल गया। इंडो-ग्रीक राज्यों (बैक्ट्रिया - Bactria / अफगानिस्तान के डेमेट्रियस- Demetrius द्वारा शुरू किया गया) ने सियालकोट (पंजाब, पाकिस्तान) में अपनी राजधानी स्थापित की जोकि 185 ईसा पूर्व से लगभग 10 ईस्वीं तक रही। इंडो-ग्रीक राजाओं में सबसे प्रसिद्ध, मेनाण्डर (Menander), बौद्ध बन गए। यह भारतीय इतिहास का एक आकर्षक और महत्वपूर्ण हिस्सा है।

इंडो-ग्रीक साम्राज्य में अंततः विदेशियों का एक नया समूह - मध्य एशियाई जनजाति (स्कीथियन-Scythians/शक) विकसित हुआ। इंडो-सीथियन राजाओं ने अपना आधार सिंध, पाकिस्तान में स्थापित किया तथा उसके बाद इंडो-यूनानियों से तक्षशिला के उत्तरी क्षेत्रों पर कब्जा करने से पूर्व कच्छ, सौराष्ट्र/गुजरात और उसके बाद फिर उज्जैन/ मध्य प्रदेश, हासिल करने के लिए दक्षिण-पूर्व में आगे बढ़े। हालांकि चौथी ईसा पूर्व तक इंडो- सीथियन राज्य किसी न किसी रूप में विभाजित हुआ या उसने अन्य राज्यों की सदस्यता ली, लेकिन उसका सबसे बड़ा विस्तार राजा मौस (20 ईसा पूर्व से 22 ईसा पूर्व) और उनके उत्तराधिकारी राजा अज़स प्रथम के अधीन हुआ। इन इंडो-ग्रीक और इंडो-सीथियन राजाओं के सिक्कों की एक अद्भुत सरणी आज पूरे भारत में बिखरी हुई है। इनमें एक तरफ यूनानी भगवान और दूसरी तरफ भारतीय भगवान की आकृति देखने को मिलती है। ऐसे सिक्के भारतीय त्रिदेवों (ब्रह्मा, विष्णु और शिव) की सभी प्रतिमाओं के साथ हैं तथा कई भाषाओं (मुख्य रूप से दो भाषाएं) में अंकित किए गए हैं। इंडो-सीथियन और पार्थियन (Parthian) मूल शासन के बाद, विदेशी शासकों का एक और समूह – ‘कुषाण’ उभरा। मूल रूप से युझी (Yuezhi) या चीन के घास के मैदानों से, कुषाणों (विमा कडफिसे-Kadphise, कनिष्क आदि) ने 30 ईसा पूर्व से 350 ईसा पूर्व तक शासन किया और मथुरा, उत्तर प्रदेश में एक नया आधार बनाया। विदेशी आक्रमणकारियों का अगला समूह जो भारत में आया और बसा वह आंतरिक एशिया/पूर्वी यूरोप से श्वेत हूण (White Huns) या हेप्थेलाईट (Hepthalite) का था। तोरमाणा और मिहिरकुला, बहुत आशंकित श्वेत हूण थे जिन्होंने कश्मीर से ग्वालियर तक 502 ईसा पूर्व से 530 ईसा पूर्व के बीच शासन किया।

तो चलिए आज उत्तर भारत के कई स्थानों, रामपुर और मथुरा के पास प्राचीन स्थलों से लेकर पाकिस्तान और अफगानिस्तान के सभी स्थानों में पाये जाने वाले राजा मनेंदर प्रथम के अद्भुत सिक्कों पर नज़र डालते हैं, जो 2100 साल से भी पूर्व के भारत और यूनान के प्राचीन संबंधों की याद दिलाते हैं। यह सिक्के इंडो-ग्रीक या हिंद-यूनान साम्राज्य के हैं। इंडो-ग्रीक साम्राज्य शब्द की अभिव्यक्ति पारंपरिक रूप से तक्षशिला, आधुनिक पंजाब (पाकिस्तान), पुष्कलवती और सगला जैसी कई क्षेत्रीय राजधानियों के साथ जुड़े कई राजवंशों का वर्णन करती है। इंडो-ग्रीक या ग्रेको-इंडियन (Graeco-Indian) साम्राज्य को ऐतिहासिक रूप से यवनराज्य (यवनों के राज्य) के रूप में जाना जाता है। यह आधुनिक युग का अफगानिस्तान था, जो पिछले दो साल ईसा पूर्व के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप (उत्तरी पाकिस्तान और उत्तर-पश्चिमी भारत) के पंजाब के पुराने क्षेत्रों में फैला था तथा 30 से भी अधिक राजाओं द्वारा शासित किया गया था जो अधिकतर एक दूसरे से युद्ध करते थे। इस राज्य की स्थापना तब की गई थी, जब ग्रेको-बैक्ट्रियन (Graeco-Bactrian) राजा डेमेट्रियस (Demetrius) ने दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में उपमहाद्वीप पर आक्रमण किया। भारतीय उपमहाद्वीप में यूनानियों को अंततः बेक्ट्रिया (अब अफगानिस्तान और उज्बेकिस्तान के बीच सीमा) में केंद्रित ग्रेको-बैक्ट्रियन और वर्तमान-पश्चिमी भारतीय उपमहाद्वीप में इंडो-यूनानियों से विभाजित किया गया। सबसे प्रसिद्ध इंडो-ग्रीक शासक मेनाण्डर (मिलिंद) था तथा उनकी राजधानी पंजाब के सकाला (वर्तमान सियालकोट) में थी। उनके शासन की दो शताब्दियों के दौरान, इंडो-ग्रीक राजाओं ने यूनानी और भारतीय भाषाओं और प्रतीकों को संयोजित किया। इस संयोजन को उनके सिक्कों पर देखा गया है। जैसा कि पुरातात्विक अवशेषों में पाया गया है इसमें ग्रीक और भारतीय विचारों को भी मिश्रित किया गया है। इंडो-ग्रीक साम्राज्य के शासकों में एंटिओकस द्वितीय, बैक्ट्रिया का डेमेट्रियस प्रथम, एपोलोडोटस (Apollodotus) प्रथम, एपोलोडोटस द्वितीय, मेनाण्डर प्रथम, मेनाण्डर द्वितीय आदि शामिल थे।

पॉलीबियस (Polybius) के अनुसार यूथेडेमस (Euthydemus) प्रथम एक मैग्नेशियन (Magnesian) यूनानी था। उनके बेटे, डेमेट्रियस प्रथम, जो इंडो-ग्रीक साम्राज्य के संस्थापक थे ग्रीक जातीयता के थे। राजा मेनाण्डर को मुख्य रूप से बौद्ध धर्म का संरक्षक बनने के लिए जाना जाता है। वह शुरू में बैक्ट्रिया का राजा था किंतु पंजाब को जीतने के बाद उसने काबुल नदी घाटी से पूर्व में रावी नदी तक, और उत्तर में स्वात नदी घाटी से अरचोसिया (हेलमंद प्रांत) तक फैले भारतीय उपमहाद्वीप में एक साम्राज्य स्थापित किया। प्राचीन भारतीय लेखकों के अनुसार उसने राजस्थान में दक्षिण की ओर और गंगा नदी घाटी के पूर्व में पाटलिपुत्र (पटना) तक अपना अभियान चलाया। माना जाता है कि उसने सिकंदर की तुलना में अधिक जनजातियों पर विजय प्राप्त की थी। बौद्ध ऋषि नागसेना के साथ उनकी बातचीत महत्वपूर्ण बौद्ध कार्य मिलिंडा पन्हा (Milinda Panha) में मिलती है। 130 ईसा पूर्व में उनकी मृत्यु के बाद, उनकी पत्नी अगाथोक्लेया को उत्तराधिकारी बना दिया।

मेनाण्डर की मृत्यु के बाद , उसका अधिकांश साम्राज्य छिन्न-भिन्न हो गया और इंडो-ग्रीक प्रभाव काफी कम हो गया। रावी नदी के पूर्व में कई नए राज्यों और गणराज्यों ने सैन्य जीत को दर्शाते हुए नए सिक्के बनाने शुरू किए। ये सिक्के बताते हैं कि इंडो-ग्रीक ने सिक्कों के लिए गोल और वर्गाकार आकृति को मानक बनाया तथा इनमें द्विभाषा का उपयोग किया। इस बात से यह पता चलता है कि, उस समय समाज के सभी हिस्सों में मौद्रिक प्रसार बढ़ा। इंडो-ग्रीक सिक्कों का उपयोग सीमा पार से व्यापार में बड़े पैमाने पर किया गया था। यह भी प्रतीत होता है कि इंडो-ग्रीक राजाओं द्वारा विशेष रूप से कुछ सिक्कों का इस्तेमाल हिंदू-कुश के उत्तर में यूझी जनजातियों को श्रद्धांजलि देने के लिए किया गया हो सकता है। इसके अलावा यह सिक्के उनकी वर्दी और हथियारों पर समृद्ध सुराग भी प्रदान करते हैं। सिक्के, इंडो-ग्रीक इतिहास का एक महत्वपूर्ण बिंदु है और वास्तव में सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि इनमें से अधिकांश इंडो-ग्रीक राजा केवल अपने सिक्कों से जाने जाते हैं, और उनका कालक्रम मुख्य रूप से सिक्के के प्रकारों के विकास से स्थापित होता है। मेनाण्डर के सिक्कों की बड़ी संख्या का पता लगाया गया है, जोकि फलते-फूलते वाणिज्य और उसके दायरे की अवधि की पुष्टि करती है। एक सिक्के में राजा मेनाण्डर की छवि है जिसके बांयी ओर यूनानी भाषा में तथा दांयी ओर खरोष्ठी या गांधारी लिपि का प्रयोग किया गया है। एक अन्य सिक्के में मेनाण्डर निश्चित रूप से बौद्ध शैली में खुद को प्रस्तुत करता है। मेनाण्डर का एक सिक्का, एक तरफ हाथी का सिर दिखाई देता है, और दूसरी तरफ हेराक्लेस (Herakles) के क्लब के साथ खरोष्ठी लिपि दिखायी देती है।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र के पार्श्व में किंग मेनाण्डर सवाल पूछते हुए चित्रित हैं जबकि अग्र में इंडो-ग्रीक राजा मेनाण्डर का एक सिक्का (160-130 ईसा पूर्व)है, जिस पर ग्रीक (बाएं) और स्थानीय खरोष्ठी (जिसे गांधारी भी कहा जाता है) के बीच द्विभाषी मुद्रण है।(Prarang)
2. मेनाण्डर का यह सिक्का अग्र में बैक्ट्रिया के राजा मेनाण्डर जबकि पार्श्व एथेना के द्वारा बिजली की गड़गड़ाहट, और खरोष्ठी लिपि को छेड़ता है। (Wikipedia)
3. मेनाण्डर का एक और सिक्का, बहुत स्पष्ट डिजाइन का उदाहरण। (vcoins)
4. यहां मेनाण्डर एक निश्चित रूप से गैर-बौद्ध शैली में खुद को प्रस्तुत करता है। (flickr)
5. मेनंदर का एक सिक्का जो एक तरफ एक हाथी का सिर दिखाता है, और दूसरे पर हेरोल्स के क्लब के साथ खरोष्ठी लिपि को जोड़ती है। (wikipedia)
6. क्या यह एक इंडिक या फ़ारसी बैल है। - या दोनों का संकरण। (vcoins)
संदर्भ:
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Indo-Greek_Kingdom
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Menander_I



RECENT POST

  • काली मिट्टी और क्रिकेट पिच का अनोखा कनेक्शन
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:32 PM


  • आज का पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण
    जलवायु व ऋतु

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारतीय उपमहाद्वीप के लुभावने सदाबहार वन
    जंगल

     03-07-2020 03:10 PM


  • विशालता और बुद्धिमत्ता का प्रतीक भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 01:53 AM


  • मुरादाबाद के पीतल की शिल्प का भविष्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     02-07-2020 11:48 AM


  • रामपुर में इत्र की महक
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:13 PM


  • पृथ्वी के सबसे बड़े खतरों में से एक है 'क्षुद्रग्रह' का पृथ्वी से टकराना
    खनिज

     30-06-2020 06:30 PM


  • क्या है, भारतीय इतिहास में मुद्रा शास्त्र की भूमिका
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 12:30 PM


  • हिंदी फिल्म अकेले हम और हॉलीवुड की फिल्म द गॉडफ़ादर के मध्य का सम्बन्ध
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:30 PM


  • रामपुर का लजीज यखनी पुलाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 10:10 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.