कहाँ से आई भारत में लीची?

रामपुर

 29-04-2020 07:25 AM
साग-सब्जियाँ

अधिकांश लोग गर्मियों के आने का बेसब्री से इंतेजार अपने पसंदीदा, रसीले और स्वादिष्ट फलों को खाने के लिए ही करते हैं। इन्हीं फलों में से एक है गर्मियों का एक स्वादिष्ट रसदार फल लीची। गर्मियों में मुख्य रूप से उत्पादित लीची उपभोक्ताओं द्वारा बहुत पसंद की जाती है। लीची का पारभासी, सुगंधित खाद्य गूदा भारत में एक ताजे फल के रूप में लोकप्रिय है, जबकि चीन और जापान जैसे देशों में इसे सूखे या डिब्बाबंद स्थिति में पसंद किया जाता है। लीची की उत्पत्ति दक्षिणी चीन, विशेष रूप से क्वांगतुंग और फुकियन के प्रांतों से हुई थी। चीन से लीची 17 वीं सदी के अंत तक बर्मा से होते हुए पूर्वी भारत में पहुंची और उसके बाद 18 वीं शताब्दी के अंत तक इसे बंगाल में पेश किया गया, जहाँ से इसने बाद में रामपुर सहित भारत के बड़े हिस्सों में प्रवेश किया था। जिसके बाद भारत अब विश्व में लीची का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।

भारत में, लीची बहुत लोकप्रिय है और अप्रैल से जून के दौरान लगभग 60 से 80 दिनों तक बाजार में मौजूद रहने वाली इस लीची की लोगों में काफी मांग रहती है। भारत में लीची 5.75 लाख मीट्रिक टन के उत्पादन के साथ लगभग 83 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में उगाई जाती है। बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, झारखंड, उत्तराखंड भारत के प्रमुख लीची उत्पादक राज्य हैं। वहीं भारत बेहतर लीची की किस्में पैदा करता है जिनमें गुठली के मुकाबले गूदे की मात्रा अधिक होती है और उच्च पैदावार देती है। भारत में लीची की कम से कम 12 महत्वपूर्ण किस्में उगती हैं, जिनमें से ज्यादातर उत्तर पूर्व में हैं। लीची की विभिन्न किस्मों का उत्पादन जम्मू और कश्मीर के उत्तर में और मणिपुर के पूर्व में फैलता है। भारत में लीची का 75 प्रतिशत उत्पादन बिहार के शहर मुजफ्फरपुर में होता है। यहा लीची उगाने के लिए सबसे उपयुक्त क्षेत्र है, क्योंकि आमतौर पर ठंढ से मुक्त यह नमी के प्रति संवेदनशील भी है और गर्म हवाएं आसानी से इनके फल को नुकसान पहुंचाती हैं। लीची का पेड़ सुंदर, घना, गोल-शीर्ष और सदाबहार पत्तियों के साथ धीमी गति से बढ़ता है जिसमें 6-9 अण्डाकार आयातकार और भालाकार नुकीली पत्तियां होती हैं। पत्तियों का रंग हल्के हरे रंग से गहरे हरे रंग में भिन्न होता है। हरे सफेद या पीले रंग के फूल गुच्छों में उत्पादित होते हैं। फल गोल या दिल के आकार के पतले, कठोर त्वचा वाले होते हैं। फलों का रंग कृषिजोपजाति के साथ भिन्न होता है और लाल या गुलाब या गुलाबी रंग का होता है।

वहीं जहां राष्ट्रीय स्तर पर केला और आम सबसे महत्वपूर्ण फल हैं। बिहार राज्य में, लीची को सबसे महत्वपूर्ण फल माना जाता है क्योंकि यह इसके कुल फल उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान देता है। क्षेत्र में इस फल की फसल के महत्व को ध्यान में रखते हुए, अनुसंधान कार्यक्रमों के माध्यम से तकनीकी सहायता प्रदान करने और विकास कार्यक्रमों के माध्यम से निर्यात सहित फसल के बाद के प्रबंधन और विपणन को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाते हैं। साथ ही लीची को निर्यात के लिए एक महत्वपूर्ण फसल के रूप में भी निर्धारित किया गया है। वर्तमान में, विस्तारित घरेलू बाजार के कारण लीची का भारतीय निर्यात काफी कम है। निर्यात और दूर के घरेलू बाजारों के लिए उत्पाद को आमतौर पर पूर्व ठंडा और सल्फरन के बाद 2 किलोग्राम डिब्बों में पैक किया जाता है। लीची की विभिन्न विशेषताएं जो इसे गर्मियों के फल के रूप में बहुत लोकप्रिय बनाती है। लीची में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है, जो एक दैनिक अनुशंसित मूल्य का 119% प्रदान करती है। यह सर्दी और अन्य संक्रमणों से बचाती है और साथ ही शरीर को प्रतिरोध विकसित करने और सूजन से लड़ने में मदद करती है। लीची में अन्य पोषक तत्वों में उच्च स्तर के विटामिन बी शामिल हैं, जैसे विटामिन बी 6, साथ ही पोटेशियम (जो हृदय गति और रक्तचाप को नियंत्रित करने और हृदय रोग को रोकने में मदद करता है), थियामिन, नियासिन, फोलेट और तांबा (जो लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करता है, स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखता है, थायराइड की समस्याओं और एनीमिया को रोकता है)।

वहीं लीची को चीज के साथ भर कर सलाद के रूप में व्रणोपचार और पेकान के साथ परोसा जाता है। कटी हुई लीची को व्हीप्ड क्रीम या मेयोनेज़ के साथ सलाद पर परोसा जाता है। लीची से बीज को निकालकर उसका रस निकाला जाता है और फिर इसे सादे जिलेटिन, गर्म दूध, हल्का क्रीम, चीनी और थोड़े नींबू के रस के साथ मिलाकर शर्बत बनाया जाता है। इस प्रकार लीची जहां खाने में तो स्वादिष्ट है ही वहीं इसके चमत्कारी गुण आपके स्वास्थ्य के लिये भी बहुत लाभदायक हैं।

चित्र(सन्दर्भ):
1.
मुख्य चित्र में पेड़ पर लगी हुई लीची दिखाई दे रही हैं।, Peakpx
2. दूसरे चित्र में लीची का एक समूह दिखाई दे रहा है।, Pexels
3. तीसरे चित्र में लीची का संयोजन छवि दिखाई दे रही है।, Pikseql
4. अंतिम चित्र में बिक्री के लिए तैयार लीची दिखाई दे रही है।, Pexels
संदर्भ :-
1.
http://www.iosrjournals.org/iosr-jhss/papers/Vol.%2022%20Issue8/Version-9/D2208092125.pdf
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Lychee
3. https://www.speakingtree.in/blog/origin-is-foreign-but-very-much-indian---lychee



RECENT POST

  • वस्त्र उद्योग का कायाकल्प करने, सरकार की उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन और टेक्सटाइल पार्क योजनाएं
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:12 AM


  • भारत में क्यों बढ़ रही है वैकल्पिक ईंधन समर्थित वाहनों की मांग?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:21 AM


  • फ़ूड ट्रक देते हैं बड़े प्रतिष्ठानों की उच्च कीमतों की बजाय कम कीमत में उच्‍च गुणवत्‍ता का भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:24 AM


  • रामपुर से प्रेरित होकर देशभर में जल संरक्षण हेतु निर्मित किये जायेगे हजारों अमृत सरोवर
    नदियाँ

     25-05-2022 08:08 AM


  • 102 मिलियन वर्ष प्राचीन, अफ्रीकी डिप्टरोकार्प्स वृक्ष की भारत से दक्षिण पूर्व एशिया यात्रा, चुनौतियां, संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:33 AM


  • भारत में कोयले की कमी और यह भारत में विभिन्न उद्योगों को कैसे प्रभावित कर रहा है?
    खनिज

     23-05-2022 08:42 AM


  • प्रति घंटे 72 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं, भूरे खरगोश
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:30 PM


  • अध्यात्म और गणित एक ही सिक्के के दो पहलू हैं
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:15 AM


  • भारत में प्रचिलित ऐतिहासिक व् स्वदेशी जैविक खेती प्रणालियों के प्रकार
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 09:59 AM


  • भारत के कई राज्यों में बस अब रह गई ऊर्जा की मामूली कमी, अक्षय ऊर्जा की बढ़ती उपलब्धता से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id