ओलावृष्टि के कारण होने वाला जान माल का नुकसान

रामपुर

 26-02-2020 12:50 PM
जलवायु व ऋतु

प्रकृति को अत्यंत ही खूबसूरती के रूप में जाना जाता है। यह पूरी पृथ्वी पर कई ऐसे बदलावों को दिखाती है जो कि मनुष्य से लेकर जीव-जंतु, पेड़-पौधों आदि को एक ऐसा माहौल देती है जिसमें वे बढ़ सकें। प्रकृति के विषय में कितने ही लेखकों ने अपनी कलमें घिसी हैं जिसके बारे में हम अक्सर पढ़ते हैं। परन्तु प्रकृति हमेशा खूबसूरत नहीं होती, कभी-कभी यह अत्यंत ही खतरनाक रूप ले लेती है जैसे कि सुनामी, भूकंप, ओलावृष्टि, बाढ़, सूखा आदि। प्रकृति का यह रूप इतना खतरनाक होता है कि यह बड़े पैमाने पर लोगों को, जीवों को प्रभावित करता है। हाल ही में हमने उड़ीसा का हाल देखा जहाँ एक प्राकृतिक आपदा ने कैसे लाखों लोगों के जीवन को प्रभावित किया। इस लेख में हम जानेंगे ओलावृष्टि के बारे में और मोरादाबाद की ऐतिहासिक ओलावृष्टि के बारे में भी विस्तार से पढेंगे।

ओलावृष्टि में गिरने वाले ओले अत्यंत ही खतरनाक भी हो सकते हैं, कारण कि ये छोटे से लेकर एक किलो तक के वज़न के हो सकते हैं। वज़न के अनुपात में ज्यादा होने के कारण गुरुत्वाकर्षण के नियम से ये ओले अत्यंत तीव्र गति से पृथ्वी पर गिरते हैं जिससे ये जानलेवा भी हो जाते हैं। दुनिया भर में ओलावृष्टि से मौत की कई खबरे हैं जो कि अत्यंत ही गंभीर हैं। भारत के मोरादाबाद शहर की एक घटना ऐसी भी है जिसने पूरे के पूरे विश्व को आश्चर्य में डाल दिया था। सन 1888 में आई इस ओलावृष्टि ने करीब 246 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। यह दुनिया की अब तक की सबसे खतरनाक ओलावृष्टि में से एक जानी जाती है। इस ओलावृष्टि ने मनुष्यों ही नहीं बल्कि भारी संख्या में जानवरों और फसलों को भी क्षति पहुंचाई थी। यह इसलिए हुआ क्यूंकि मौसम अपनी चरम सीमा पर पहुँच गया था जिसके कारण भारी मात्रा में ओलावृष्टि हुयी थी।

इस प्रकार की घटनाओं को त्रासदी के रूप में देखा जाता है और इसी लिए दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने ऐसी घटनाओं के पूर्वानुमान पर कार्य करना शुरू किया था। अभी हाल ही की घटना की मानें तो कुछ महीने पहले कुरुक्षेत्र के लाडवा ब्लाक में कुल 2,534 एकड़ की फसल ओलावृष्टि के कारण खराब हो गयी। इस प्रकार से हम यदि ध्यान दें तो भारत में प्रत्येक वर्ष कहीं न कहीं पर ओलावृष्टि ज़रूर होती है जिससे एक बड़े पैमाने पर फसल और जानमाल का नुकसान होता है। यह सब मौसम में हुए परिवर्तनों के कारण होता है तथा इसे ठीक करना भी हम मनुष्यों का ही कर्तव्य है।

सन्दर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/1888_Moradabad_hailstorm
2. https://bit.ly/2SJshO9
3. https://bit.ly/32a9izm
4. https://bit.ly/394jPOU
5. https://bit.ly/2VmPt6k
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://bit.ly/2VpJzBs
2. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Hailstorm_in_Lahore.jpg
3. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Hail_Storm.jpg



RECENT POST

  • विश्व प्रसिद्ध शराब के निर्माता कोरोना काल में कर रहे हैं हैंड सैनिटाइजर का उत्‍पादन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 08:35 AM


  • 7 देवी मां, मां शक्ति और समर देव
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 08:54 AM


  • एकतरफा आश्चर्य उत्पन्न करता है, लॉस डेल रियो का गीत ‘माकारीना’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 09:49 AM


  • कुछ प्रभावी उपायों के माध्यम से कम किया जा सकता है मृदा प्रदूषण
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 11:28 PM


  • आहार का भविष्य : कीटाहार
    रेंगने वाले जीव

     16-10-2020 06:16 AM


  • मानव संस्कृतियों के भीतर एक विशेष भूमिका निभाता है घोडा
    स्तनधारी

     14-10-2020 04:19 PM


  • दो संस्कृत उत्कृष्ट वाल्मीकि रामायण और अध्यात्म रामायण के बीच अंतर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2020 03:02 PM


  • सुविधाजनक जीवन निर्वाह सूचकांक-जीवन निर्वाह के लिए सबसे अधिक और सबसे कम पसंदीदा शहर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     12-10-2020 03:50 PM


  • कोविड-19 का भदोही के कालीन उद्योग में गहरा प्रभाव
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     12-10-2020 01:56 AM


  • आकाश गंगा का अनुभव कराते हैं, क्वींसलैंड के राष्ट्रीय उद्यानों की गुफाओं में मौजूद हजारों ग्लोवॉर्म
    खदान

     11-10-2020 03:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id