एकता का प्रतीक है रामपुर में महाशिवरात्रि उत्सव

रामपुर

 21-02-2020 11:45 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

शिव सनातन परंपरा के आदि पुरुष के रूप में देखे जाते हैं तथा इन्हें सनातन धर्म में एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। आज महाशिवरात्रि का पर्व पूरे भारत में मनाया जा रहा है। यह पर्व शिव और पार्वती माता के विवाह से भी सम्बंधित है तथा इस पर्व के विषय में कई पुराणों में भी उल्लेख मिलता है। रामपुर में भी इस पर्व को बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है और यहाँ के भमरौवा मंदिर, पंजाबनगर शिव मंदिर तथा रठौंडा के शिव मंदिर आदि में भक्तों की एक लम्बी कतार हमें देखने को मिलती है। भमरौवा के पातालेश्वर शिव मंदिर में साम्प्रादायिक सौहार्द भी देखने को मिलता है और यह स्थान एकता की मिसाल के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर में हिन्दू ही नहीं बल्कि मुस्लिम भी दर्शन कर प्रसाद ग्रहण करते हैं। यह मंदिर घनी मुस्लिम आबादी में स्थित है तथा इस मंदिर का निर्माण करीब 200 वर्ष पूर्व यहाँ के उस समय के नवाब अहमद अली खान ने करवाया था। महाशिवरात्रि ही नहीं अपितु यहाँ पर सावन के माह में भी लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं और शिव का जलाभिषेक करते हैं। एक कथा के अनुसार यहाँ पर शिव लिंग का पता सन 1788 के करीब हुआ था और नवाब अहमद अली खान ने पंडितों आदि से राय लेकर यह मंदिर बनाने की योजना बनायी और 1822 में यह मंदिर बन कर तैयार हुआ।

शिव को आदि गुरु के रूप में भी जाना जाता है तथा उन्हें योग के प्रणेता के रूप में भी जाना जाता है। मूर्तिशास्त्र में शिव को विभिन्न रूपों में देखा जाता है जैसे कि शिव को तीन नेत्रों वाला दिखाया जाता है जिसका दूसरा नाम है ‘त्रयम्बकं’ जो कि एक अत्यंत ही प्रसिद्ध रूप है। शिव को कुछ अन्य रूपों में भी दिखाने की परंपरा है जैसे कि कैलाश पर्वत पर आसीन, नंदी के साथ, माथे पर चन्द्रमा और गंगा के अंकन के साथ। रावण अनुग्रह मुद्रा, नटराज मुद्रा, उमा महेश्वर, जटा जूट के साथ, गजान्तक, गजासुर वध आदि प्रकार से शिव को प्रस्तुत किया जाता है। लिंगम और योनी पीठं के रूप में भी शिव को प्रदर्शित किया जाता है। अर्धनारीश्वर के रूप में शिव और शक्ति का समागम हमें देखने को मिलता है। इन सभी मुद्राओं में शिव के योगी रूप के दर्शन हमें मिल जाते हैं। शिवरात्री की रात भगवान् शिव की पूजा अर्चना के लिए सबसे महत्वपूर्ण रात्री के रूप में देखी जाती है। शिव को योगियों में सबसे आगे रखकर देखा जाता है जैसे कि इस लेख में पहले ही बताया जा चुका है कि शिव को योग के प्रणेता के रूप में देखा जाता है। शास्त्रों की मानें तो भगवान् शिव ने सबसे पहले योग और ध्यान का ज्ञान अपनी अर्धांगिनी पार्वती को दिया। इसे ‘युज्यते अनेन इति योगः’ कहा गया है अर्थात ‘योग वह है जो जोड़ता है’। पार्वती को शिव ने 84 योग आसनों के बारे में बताया था, ये आसन योगिक आसन के रूप में जाने जाते हैं। इस प्रकार से उपरोक्त लिखित बिन्दुओं से यह सिद्ध होता है कि शिवरात्री की महिमा अत्यंत ही उत्तम और प्रकाशमान है।

ॐ नमः शिवाय

सन्दर्भ:
1.
https://bit.ly/2SOJWmh
2. https://bit.ly/2UXlhhT
3. https://bit.ly/2wB7lA7
4. https://bit.ly/2V0cHzc
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Shiva#Yoga
6. https://www.templepurohit.com/adiyogi-lord-shiva-first-teacher-science-yoga/



RECENT POST

  • आधुनिकीकरण के दौर में कला का क्षेत्र तकनीकी रूप से क्रंतिकारी बदलावों को देख रहा है
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-07-2022 09:29 AM


  • आज हमें खाद्य प्रणालियों की पुनर्कल्पना के लिये इसे जलवायु परिवर्तन अनुकूलन बनाना आवश्यक है
    जलवायु व ऋतु

     05-07-2022 10:06 AM


  • हमारे पहाड़ी राज्यों के मीठे-मीठे सेब उत्पादकों की बढ़ती दुर्दशा को समझना हैं ज़रूरी
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:09 AM


  • "दुनिया का पहला मंदिर" के रूप में प्रसिद्ध है गोबेकली टेप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:54 AM


  • हमारे अद्वैत दर्शन के समान ही थे 17वीं शताब्दी के क्रांतिकारी डच दार्शनिक स्पिनोज़ा के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 09:55 AM


  • रामपुर सहित भारत के बाहर भी मचती है, प्रसिद्ध रथ यात्रा की धूम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:19 AM


  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id