क्या है, समुद्री ज्वार के पीछे का कारण ?

रामपुर

 05-02-2020 02:00 PM
समुद्र

समुद्र में कई सारी गतिविधियाँ होती रहती हैं जिसमें कई बाते निहित हैं जैसे की ज्वार, भाटा आदि। इस लेख के माध्यम से हम समुद्र में होने वाले ज्वार के बारे जानने की कोशिश करेंगे। प्राचीन काल में ज्वार से किस प्रकार से मछली आदि पकड़ने में मददगार साबित होती थी। ज्वार दुनिया की ऐसी घटना है जो की प्रत्येक समय पर सामयिकी अनुसार आती रहती है। यह तब होता है जब रात में तारे उगते है और तारों और चाँद के उगने के साथ ही साथ समुद्र का पानी भी ऊंचा उठता है। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि चन्द्रमा की गुरुत्वीय बल समुद्र के जल को अपनी ओर आकर्षित करता है और इसी कारण समुद्र में जल स्तर बढ़ता हुआ दिखाई देता है। जब समुद्र की लहरें एक उच्चतम शिखा पर पहुच जाती हैं तो उन्हें उच्च ज्वार की संज्ञान दि जाती है और जब यह निम्न स्तर पर पहुचता है तो इन्हें निम्नज्वार के नाम से जाना जाता है। उच्च ज्वार और भाटा के मध्य होने वाली अंतर को ज्वारीय श्रेणी के रूप में गिना जाता है। ज्वार चन्द्रमा और सूर्य तथा पृथ्वी के घूमने के कारण होने वाले गुरुत्वाकर्षण बल के संयुक्त प्रभावों के कारण होता है। ज्वार के माप में टाइडल टेबल का भी जिक्र किया जाता है। यह वह धारणा है जिसके आधार पर ज्वार की अनुमानित समय और उसके आयाम को सही स्थान पर दिया जाता है। ज्वार में परिवर्तन चन्द्रमा के आकार और प्रकार के ऊपर भी निर्धारित होता है।

प्राचीन काल में सिन्धु सभ्यता में यहाँ के लोगों ने ज्वार का एक बड़े पैमाने पर प्रयोग किया था जिसका प्रमाण हमें लोथल नामक पुरास्थल से होता है। लोथल को दुनिया के प्राचीनतम बंदरगाह के रूप में देखा जाता है और यह बंदरगाह ज्वार पर इस लिए निर्धारित था क्यूंकि यहाँ पर आने के लिए समुद्र के पास से नहरों का निर्माण किया गया था और इन नहरों में ज्वार के समय में ही पानी आता था। कई प्राचीन सभ्यताओं में मछली पकड़ने के लिए भी ज्वार का प्रयोग किया जाता था। ऐसे में समुद्रों के किनारे गड्ढों का निर्माण कर दिया जाता था और ज्वार के साथ मछलियाँ भी उस गड्ढे तक आ जाती थी तथा जब ज्वार की क्षमता ख़त्म होती है तब लोग गड्ढों में फंसी मछलियों को पकड़ लिया करते थे। ज्वार के बारे में सबसे पहले सेल्यूकस ने लगभग 150 इसा पूर्व में सिद्ध किया था की इसका कारण चन्द्रमा है। टॉलमी के भी लेखों में ज्वार के बारे में दिखाई देता है।

बी के डी तेम्पोरम राशन ने ज्वार के स्थिति को चन्द्रमा के घटने बढ़ने के स्तर पर जोड़ने घटाने का कार्य किया था। ज्वार के बारे में मध्यकालीन मुस्लिम खगोलविदों ने बड़े पैमाने पर आधारित की थी जो की 12 वीं शताब्दी से शुरू हुयी थी। अबू माहर का नाम इन खगोलविदों में पहले स्थान पर आता है जिन्होंने चन्द्रमा और सूर्य के स्थिति और ज्वार की स्थिति को बताये थें। अल- बिदृजी ने भी खगोल विज्ञान में ज्वार के विषय में जानकारी प्रस्तुत की।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Tide
2. https://oceanservice.noaa.gov/facts/tides.html
3. https://sciencing.com/do-ocean-tides-affect-humans-5535690.html
4. https://www.homeruncharters.com/how-do-tides-affect-fishing/



RECENT POST

  • कंटेनरों द्वारा निर्यात किया जाता है रामपुर व् मुरादाबाद के जरदोजी कारीगर द्वारा निर्मित क्रिसमस सजावट का सामान
    समुद्र

     03-12-2021 07:36 PM


  • कैसे भारत में फारस और अरब से लाए गए कुछ शब्दों का अर्थ बदल गया
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 11:00 AM


  • विदेश में ग्रेहाउंड रेसिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, रामपुर हाउंड
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • पाकिस्तान के चुनावी गणित को तुलनात्मक रूप से समझें
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 09:00 AM


  • अंग्रेजी शब्द कोष में cot आया है हिंदी के खाट या चारपाई और फ़ारसी चिहारपई से
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:29 AM


  • दिल्ली के सराई रोहिल्ला रेलवे स्टेशन का इतिहास
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:55 AM


  • 1994 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं,ऐश्वर्या राय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:58 PM


  • भाग्य का अर्थ तथा भाग्य और तक़दीर में अंतर
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:12 AM


  • भारत में भी अनुभव कर सकते हैं आइस स्केटिंग का रोमांच
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:18 AM


  • प्राचीन भारतीय परिधान अथवा वस्त्र
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id