क्या सौन्दर्य का राज़ है स्वर्णिम अनुपात?

रामपुर

 25-01-2020 10:00 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

गणित एक ऐसा विषय है जो कि मानव के कई कार्यों को सुगम और सरल बनाने का कार्य करता है। गणित के ज़रिये ही विभिन्न ग्रहों-उपग्रहों आदि की दूरी और वहां तक आना-जाना संभव हो पाया। लेकिन अगर हम कहें कि मनुष्यों के चहरे और इमारतों तथा विभिन्न धर्मों के वास्तु में भी गणित का एक अहम् योगदान है तो शायद ही कुछ लोग इस बात पर भरोसा कर पायेंगे। गणित में एक गोल्डन रेशियो (Golden Ratio) अर्थात स्वर्णिम अनुपात होता है। दो राशियाँ सुनहरे या स्वर्णिम अनुपात में तब होती हैं जब ‘उन दोनों का अनुपात’ तथा ‘उनके योग का उनमें से बड़ी संख्या के साथ अनुपात’ बराबर हो। इसे एक चिह्न ‘फाई’ (Phi - φ) से चिह्नित किया जा सकता है तथा इसका मान लगभग 1.618033988749894848 के बराबर होता है। निम्नलिखित सूत्रों आदि के सहारे इस स्वर्णिम अनुपात को समझा जा सकता है-

उपरोक्त प्रस्तुत सूत्र ज्यामितीय संबंधों को दर्शाता है जो कि स्वर्णिम अनुपात का पूरक है। इस स्वर्णिम अनुपात को स्वर्णिम खंड, दिव्य खंड, स्वर्णिम कट (Cut), स्वर्ण संख्या आदि भी कहा जाता है। यूक्लिड (Euclid) के समय से गणितज्ञों ने सुनहरे अनुपात के गुणों का अध्ययन किया है। स्वर्णिम अनुपात का प्रयोग वित्तीय बाज़ार, पत्तियों पौधों आदि के आकार प्रकार के अध्ययन में किया जाता है। कई 20वीं शताब्दी के कलाकारों और वास्तुकारों ने स्वर्णिम अनुपात को मानकर अपने कार्यों में इसका प्रयोग बड़े पैमाने पर किया था जिनमें ले कोर्बुज़ियर (Le Corbusier) और सल्वाडोर डाली (Salvador Dali) आदि आते हैं। 2004 की ग्रेट मस्जिद ऑफ़ केरुआं (Great Mosque of Kairouan) में किये गए पहले शोध में यह पता चलता है कि इसका ज्यामितीय विश्लेषण स्वर्णिम अनुपात को लेकर चलता है। इस मस्जिद की मीनारों, गुम्बद आदि के मध्य में स्वर्णिम अनुपात का पाया जाना एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण खोज थी।

ज्यामिति आकृति, आकार, रेखाओं आदि को जोड़ने वाला विज्ञान है। यह एक ऐसा विज्ञान है जो कि तमाम वस्तुओं में एक आकार का परस्पर सम्बन्ध बनाता है। ब्रह्माण्ड में उपस्थित तमाम वस्तुएं स्वर्णिम अनुपात के अनुसार ही सुचारू रूप से चालित हैं। उदाहरण के लिए देखा जा सकता है कि जिस समय काल में पृथ्वी पर डाइनासोर (Dinosaur) का आगमन हुआ था उस काल में पृथ्वी पर पेड़ पौधों का भी अनुपात उसी अनुसार से था।

इस्लामी वास्तुकला में इस बिंदु को आसानी से देखा जा सकता है जहाँ गुम्बद का आकार प्रकार और उसमें बने पवित्र स्थल केंद्र तथा मीनारों आदि के मध्य में स्वर्णिम ज्यामितीय अनुपात का प्रयोग देखा जाता है। विभिन्न मनुष्यों के चेहरे में भी स्वर्णिम अनुपात का प्रयोग किया जा सकता है तथा सौंदर्य को इससे इंगित किया जा सकता है।

संदर्भ:
1.
https://mail.google.com/mail/u/1/#inbox/FMfcgxwGCtJwNWxzrVNsHKtgWKmVzgjz
2. https://aboutislam.net/muslim-issues/science-muslim-issues/sacred-geometry-islamic-architecture/
3. https://mjaf.journals.ekb.eg/article_25810_a1a7e4f624212f48dcb266180b78cb3e.pdf
4. https://www.goldennumber.net/beauty/



RECENT POST

  • काली मिट्टी और क्रिकेट पिच का अनोखा कनेक्शन
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:32 PM


  • आज का पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण
    जलवायु व ऋतु

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारतीय उपमहाद्वीप के लुभावने सदाबहार वन
    जंगल

     03-07-2020 03:10 PM


  • विशालता और बुद्धिमत्ता का प्रतीक भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 01:53 AM


  • मुरादाबाद के पीतल की शिल्प का भविष्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     02-07-2020 11:48 AM


  • रामपुर में इत्र की महक
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:13 PM


  • पृथ्वी के सबसे बड़े खतरों में से एक है 'क्षुद्रग्रह' का पृथ्वी से टकराना
    खनिज

     30-06-2020 06:30 PM


  • क्या है, भारतीय इतिहास में मुद्रा शास्त्र की भूमिका
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 12:30 PM


  • हिंदी फिल्म अकेले हम और हॉलीवुड की फिल्म द गॉडफ़ादर के मध्य का सम्बन्ध
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:30 PM


  • रामपुर का लजीज यखनी पुलाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 10:10 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.