शुभ मंगल दायक शिवयजुर्मन्त्र का हिंदी अर्थ

रामपुर

 29-07-2019 11:41 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

हिन्दू धर्म के हिंदी पञ्चांग अनुसार यह श्रावण मास है। इस मास में भगवान शिव को पूजा जाता है। इस मास की भगवान शिव के भक्तों के लिए एक अनन्य श्रद्धा है। भगवान शिव मूर्ति रूप, अनंत रूप और निराकार सभी रूपों में पूजे जाते हैं। भगवान शिव का शिवयजुर्मन्त्र का विशेष महत्व है। चाहे कोई भी पूजा, अभिषेक, या जागरण हो। यह चाहे घर में हो या मंदिर में हो। किसी भी देवी देवता का हो परन्तु एक मंत्र के बिना आरती पूर्ण नहीं मानी जाती है, वह है कर्पूरगौरं करुणावतारम् (शिवयजुर्मंत्र)। यह मंत्र आम तौर पर प्रत्येक मंदिर में और प्रत्येक पूजा में सुनने को मिल जाता है।

महादेव का यह स्तोत्र शिव पार्वती के विवाह के अवसर पर स्वयं भगवान विष्णु द्वारा गाया गया था। भगवन महादेव श्मशान वासी के रूप में जाने जाते हैं। उनका स्वरुप भयानक माना गया है।

परन्तु इस स्तोत्र में भगवान शिव का दिव्य स्वरुप बताया गया है। उन्हें दया का प्रतिमूर्ति बताया गया है। उनमें पूरी सृष्टि समाहित है। उनका हृदय कमल के समान कोमल कहा गया है।

इस स्तोत्र के माध्यम से कहा जाता है की, जो इस संसार के स्वामी हैं वो हमारे ह्रदय में वास करें। शिव मृत्यु को दूर करते हैं। हमारे मन में ऐसे देवता निवास करें और मृत्यु का भय दूर हो।

कर्पूरगौरं करुणावतारम् – शिवयजुर्मन्त्र

कर्पूरगौरं करुणावतारम्
संसारसारं भुजगेन्द्रहारम् |
सदा वसन्तं हृदयारविन्दे
भवं भवानीसहितं नमामि ||
मंदारमाला कुलितालकायै कपालमालांकृत शेखराय।
दिव्याम्बरायै च दिगम्बराय, नमः शिवायै च नमः शिवाय। ||

शिवयजुर्मन्त्र (कर्पूरगौरं करुणावतारम्) का हिंदी में अर्थ
कर्पूरगौरं :- वह जो कपूर के समान शुद्ध हैं ।
करुणावतारम् :- करुणा (दया ) के अवतार हैं अर्थात जो बड़े ही दयालु हैं ।
संसारसारं :- वह जो संसार का सार है अर्थात जिनमें पूरा ब्रह्माण्ड समाहित है।
भुजगेन्द्रहारम् :- वह जो नाग राजा को अपने गले में हार के तरह धारण किये हुए हैं।
सदा वसन्तं हृदयारविन्दे :- सदैव कमल के समान हृदय में निवास करने वाला
(स्पष्टीकरण: ह्रदय अरविंद का अर्थ है ‘हृदय में (जो शुद्ध है) कमल के समान है। कमल, यद्यपि मैले पानी में पैदा होता है, लेकिन यह चारों ओर कीचड़ से अछूता रहता है। इसी तरह भगवान शिव सदैव प्राणियों के दिल में निवास करते हैं जो सांसारिक मामलों से प्रभावित नहीं हैं।)
भवं भवानी सहितं नमामि :- ऐसे प्रभु को माता पार्वती सहित प्रणाम करता हूँ।

चित्र सन्दर्भ:-
1. https://www.pexels.com/photo/god-lord-shiva-1295398/



RECENT POST

  • आध्यात्मिक अनुभवों का लिखित प्रमाण है ओमार खय्याम की रुबैयत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-07-2021 10:24 AM


  • भारतीय गिरगिट के जीवन पर एक संक्षिप्‍त नजर
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:02 AM


  • क्या घोंसला बनाने का कौशल पक्षियों में जन्मजात पाया जाता है या अनुभव से?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:30 AM


  • यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों में नामित है, गीज़ा के पिरामिड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:10 PM


  • क्या हमारे रामपुर के पार्कोर खिलाडी अगले ओलिंपिक में भाग लेंगे ?
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-07-2021 11:14 AM


  • भारत में लोक रंगमचों का रोमांचक इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:14 AM


  • ईसाई मठवाद को हिंदू संन्यास परंपरा के साथ जोड़ने का काम करते हैं ईसाई आश्रम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:42 AM


  • हिंदू धर्म और अहंवाद में अद्वैत और वेदांत के बीच संभावित संबंध
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:54 AM


  • भक्ति, दया और समानता का स्पष्ट संदेश देती है बकरीद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-07-2021 10:15 AM


  • भारत में क्यों उपनगरीकरण तेजी से हो रहा है ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 06:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id