क्यों है यह किताब इतनी विश्वप्रसिद्ध और कौन थे इसके लेखक?

रामपुर

 15-06-2018 12:35 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

ईद उल फितर का त्यौहार एक ऐसा त्योहार है जिसे पूरे विश्व में मुस्लिमों द्वारा मनाया जाता है। ईद रमज़ान के महीने के खत्म होने के बाद आता है, जैसा कि पूरे विश्व भर में मुस्लिम संप्रदाय के लोग पूरे एक महीना रोज़ा रखते हैं तथा उसके बाद ईद आती है जिससे ईद की महत्ता और भी बढ़ जाती है। ईद प्रोफेट मुहम्मद से जुड़ा हुआ है। तो आइए आज बात करते हैं एक 1923 की छपी किताब की जिसने पूरे विश्व भर में तहलका मचा दिया था। यह किताब मुस्लिमों ही नहीं बल्कि पूरे विश्व भर में लोगों द्वारा पढ़ी व स्वीकारी गयी।

इस पुस्तक का शीर्षक है ‘द प्रोफेट’। यह पुस्तक खलील जिब्रान द्वारा लिखी गयी थी। इस पुस्तक में जीवन से संबंधित 26 कथन और कविताएँ हैं जो कि जीवन के विभिन्न स्तरों को दर्शाती हैं। खलील जिब्रान विश्वक भर के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले लेखकों में से एक हैं। इनकी कविताएँ मनुष्य को जीवन का पाठ पढ़ाने में सक्षम हैं। द प्रोफेट पुस्तक विश्वभर में करीब 50 से ज्यादा भाषाओं में अनुवादित की गयी है। यह पुस्तक कई लाख की संख्या में लोगों द्वारा खरीदी गयी है जो कि इस किताब को दुनिया में सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबों की श्रेणी में खड़ा कर देता है।

विश्वद का मशहूर बैंड बीटल्स, कैनेडी और इंदिरा गांधी इस किताब से प्रभावित थे। यह किताब ऐसी प्रतीत होती है जैसे कि यह लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करती हो। जिसका प्रमुख कारण है इसको लिखने का तरीका और शब्दों का उपयुक्त चयन। इस पुस्तक को विभिन्न कार्यों में भी प्रयोग किया जाता है जैसे विवाह, दफनाने के दौरान, राजनैतिक गतिविधियां आदि में। यह किताब 1930 के दशक में पूरी दुनिया के प्रसिद्धि प्राप्त करती है तथा 1960 के पुनः यह किताब अति लोकप्रिय हो जाती है। खलील जिब्रान ने यह दर्शाया है कि एक विद्वान जिसका नाम अल-मुस्तफा है वह जीवन के विभिन्न पड़ावों के विषय में लोगों को प्रवचन देते हैं। यहाँ तक कि जिब्रान ने एक बार अपने सपने में अल मुस्तफा को देखा भी था और उसके बाद उन्होंने उनका चित्र बनाया जो ऊपर दिए गए चित्र में बाईं ओर दर्शाया गया है। भारत भर के विभिन्न पुस्तकालयों में इस पुस्तक की हिन्दी और अन्य प्रतियां उपलब्ध हैं।

1.https://www.bbc.com/news/magazine-17997163
2.https://www.achhikhabar.com/2012/10/15/khalil-gibran-quotes-in-hindi/
3.http://www.booksforyou.co.in/Books/Jeevan-Sandesh-(Hindi-Translation-of-The-Prophet)
4.https://www.scribd.com/doc/51138104/%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B5%E0%A4%A6%E0%A5%82%E0%A4%A4-The-Prophet-Hind



RECENT POST

  • आधुनिकीकरण के दौर में कला का क्षेत्र तकनीकी रूप से क्रंतिकारी बदलावों को देख रहा है
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-07-2022 09:29 AM


  • आज हमें खाद्य प्रणालियों की पुनर्कल्पना के लिये इसे जलवायु परिवर्तन अनुकूलन बनाना आवश्यक है
    जलवायु व ऋतु

     05-07-2022 10:06 AM


  • हमारे पहाड़ी राज्यों के मीठे-मीठे सेब उत्पादकों की बढ़ती दुर्दशा को समझना हैं ज़रूरी
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:09 AM


  • "दुनिया का पहला मंदिर" के रूप में प्रसिद्ध है गोबेकली टेप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:54 AM


  • हमारे अद्वैत दर्शन के समान ही थे 17वीं शताब्दी के क्रांतिकारी डच दार्शनिक स्पिनोज़ा के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 09:55 AM


  • रामपुर सहित भारत के बाहर भी मचती है, प्रसिद्ध रथ यात्रा की धूम
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:19 AM


  • एकांत जीवन निर्वाह करना पसंद करती मध्य भारत की रहस्यमय बैगा जनजाति का एक परिचय
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:33 AM


  • कोविड-19 के नए वेरिएंट, क्यों और कहां से आ रहे हैं?
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:16 AM


  • पश्चिमी पूर्वी वास्तुकला शैलियों का मिश्रण, अब्दुस समद खान द्वारा निर्मित रामपुर की दो मंजिला हवेली
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:12 AM


  • क्या क्वाड रोक पायेगा हिन्द प्रशांत महासागर से चीन की अवैध फिशिंग?
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:23 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id