Post Viewership from Post Date to 17-Mar-2024 (31st Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2608 197 2805

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

धर्मयुद्ध के दौरान निर्मित किले और भारत का मेहरानगढ़ किला आज भी सुनाते हैं अपनी दास्तां

रामपुर

 15-02-2024 09:35 AM
मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

सुरक्षा और संरक्षण की जुस्तजू हमेशा से एक बुनियादी मानवीय आवश्यकता रही है। सुरक्षा के लिए मनुष्य प्रागैतिहासिक काल से ही प्रयत्नशील रहा है। साथी मनुष्यों या जंगली जानवरों द्वारा हमला किए जाने से बचने के लिए लौह युग के लोगों द्वारा भी ऐसे स्थान का चुनाव किया जाता था जहां से वे हमलावरों को आते देख सकें और सामने वाले पर हमला करके अपना बचाव कर सकें। इसके लिए प्रारंभिक मनुष्यों ने भी चारों ओर से पानी से घिरी हुई एक पहाड़ी की चोटी पर रहना प्रारंभ किया। इस तरह की विशेषता आज के पहाड़ी-किलों में देखी जा सकती है। लौह युग के 5,000 साल पुराने कैडबरी कैसल (Cadbury Castle) और ओल्ड सरुम (Old Sarum) सहित कई पहाड़ी किलों के अवशेष आज भी जीवित हैं। इसी तरह रोमनों (Romans) द्वारा सैनिक छावनी बनाने के उद्देश्य से किलों का निर्माण किया गया। रोमनों द्वारा लकड़ी या पत्थर के किले बनाए गए जो आकार में आयताकार होते थे। किले के बाहर अतिरिक्त सुरक्षा के लिए खाई भी बनाई जाती थी। पोर्टचेस्टर कैसल (Portchester Castle) रोमन शैली में बने किले का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। पोर्टचेस्टर का आकार आयताकार है और दीवारों में अर्धवृत्ताकार उभरी हुई दीवारें हैं जिन्हें बुर्ज कहा जाता है। मध्य युग के दौरान ईसाई साम्राज्यों और मध्य पूर्व के इस्लामी राष्ट्रों के बीच कई धर्मयुद्ध लड़े गए थे। 1096 ईसवी में शुरू हुए पहले धर्मयुद्ध के परिणामस्वरूप येरूशलेम (Jerusalem) पर ईसाई कब्जे के साथ कई धर्म राज्यों की स्थापना हुई। प्रथम धर्मयुद्ध के तुरंत बाद, संपूर्ण पवित्र भूमि में दर्जनों महल और किलों का निर्माण किया गया। इन धर्मयुद्ध महलों का उपयोग क्षेत्र की रक्षा के लिए और यरूशलेम की यात्रा के दौरान यूरोपीय तीर्थयात्रियों को सहायता प्रदान करने के लिए भी किया जाता था। धर्मयुद्ध के दौरान निर्मित कुछ महत्वपूर्ण किले एवं महल निम्नलिखित हैं: क्रैक डेस शेवेलियर्स - अल-हुस्न, सीरिया (Krak des Chevaliers – al-Husn, Syria): क्रैक डी शेवेलियर्स दुनिया के सबसे दुर्जेय महलों में से एक है। इसका निर्माण प्रथम धर्मयुद्ध के तुरंत बाद त्रिपोली काउंटी (County of Tripoli) में किया गया था। 1140 के दशक के दौरान इसे योद्धा हॉस्पिटलियर (Knights Hospitalier) के संरक्षण में दे दिया गया। क्रैक डी शेवेलियर्स पवित्र भूमि में धर्मयुद्ध के योद्धाओं के आखिरी गढ़ों में से एक था। यह किला वर्तमान में यूनेस्को (UNESCO) विश्व धरोहर स्थल के रूप में संरक्षित है, लेकिन सीरियाई गृहयुद्ध के कारण यह आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है। रोड्स महल - रोड्स, ग्रीस (Palace of the Grand Master of the Knights of Rhodes – Rhodes, Greece): रोड्स महल को मध्य युग के दौरान नाइट्स हॉस्पिटैलियर द्वारा बनाया गया था। 14वीं शताब्दी की शुरुआत में रोड्स पर कब्जे के बाद धर्मयुद्ध के योद्धाओं द्वारा द्वीप की किलेबंदी की गई। इस महल में कमरों की एक बड़ी श्रृंखला है जिसके कारण यह एक शानदार निवास और रक्षात्मक किले दोनों के रूप में कार्य करता है। यह गॉथिक वास्तुकला का भी एक बेहतरीन उदाहरण है। धर्मयुद्ध काल के दौरान इस किले की कई बार घेराबंदी की गई। 15वीं सदी के मध्य में मामलुकों ने इस पर हमला किया, लेकिन ईसाई योद्धाओं ने उन्हें हरा दिया। 1522 में, ओटोमन्स (Ottomans) ने रोड्स पर कब्ज़ा कर लिया, और उनका कब्ज़ा सदियों तक बना रहा। प्रथम विश्व युद्ध के बाद, रोड्स द्वीप इटली साम्राज्य के कब्जे में आ गया। केराक कैसल - अल-करक, जॉर्डन (Kerak Castle – Al-Karak, Jordan): केराक कैसल धर्मयुद्ध काल के सबसे बड़े महलों में से एक है। इसका निर्माण येरूशलेम के नव स्थापित साम्राज्य की रक्षा के लिए किया गया था। केराक कैसल येरूशलेम के दक्षिण-पूर्व में लगभग 161 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 1188 में यह किला कई महीनों तक घिरे रहने एवं संपर्क से कटे रहने के कारण अंततः अय्यूबिद सल्तनत की सेना के हाथों में आ गया। किरेनिया कैसल - किरेनिया, साइप्रस (Kyrenia Castle – Kyrenia, Cyprus): किरेनिया कैसल का निर्माण साइप्रस (Cyprus) द्वीप के उत्तरी तटों की रक्षा के लिए किया गया था। हालांकि इस किले का निर्माण कार्य प्राचीन यूनानियों के समय में ही शुरू हो गया था लेकिन इसका विस्तार बड़े पैमाने पर धर्मयुद्ध योद्धाओं द्वारा किया गया था जिन्होंने 12वीं-15वीं शताब्दी में साइप्रस पर कब्जा कर लिया था। सिलिफ़के कैसल - सिलिफ़के, तुर्की (Silifke Castle – Silifke, Turkey): पवित्र भूमि में अन्य धर्मयुद्ध राज्यों की तरह, सिलिसिया (Cilicia) के अर्मेनियाई साम्राज्य (Armenian Kingdom) ने अपनी सीमाओं की रक्षा में मदद करने के लिए सिलिफ़के का किला नाइट्स हॉस्पिटलियर को दान कर दिया था। हालाँकि विभिन्न संघर्षों में इस महल के कई हिस्से क्षतिग्रस्त हो गए थे, लेकिन आज भी सिलिफ़के का धर्मयुद्ध महल भूमध्य सागर में सबसे अच्छे संरक्षित धर्मयुद्ध किलों में से एक है। कोरीकस के खंडहर - किज़कलेसी, तुर्की (Ruins of Corycus – Kızkalesi, Turkey ): कोरीकस अर्मेनियाई साम्राज्य के सबसे महत्वपूर्ण गढ़ों में से एक था। इस किले में तट से दूर एक द्वीप पर स्थित एक समुद्री महल और एक पानी के किनारे पर स्थित एक भूमि महल था।अर्मेनियाई सिलिसिया साम्राज्य के पतन के बाद, कोरीकस के महल कई अलग-अलग देशों के हाथों में आ गए, और वे अंततः ओटोमन साम्राज्य के लिए एक महत्वपूर्ण चौकी बन गए। ओथेलो कैसल - फैमागुस्टा, साइप्रस (Othello Castle – Famagusta, Cyprus): ओथेलो कैसल फैमागुस्टा में स्थित है और यह धर्मयुद्ध काल के दौरान निर्मित सबसे बड़े किलों में से एक है। इस किले के बीचो बीच एक बड़ा खुला आंगन है जिसके चारों ओर मीनारें और दीवारें हैं। किले की इस संरचना को विशिष्ट रूप से दीवारों के भीतर सैनिकों के आराम करने के लिए बनाया गया था।
इसके अलावा, धर्मयुद्ध काल के कुछ अन्य महत्वपूर्ण किलों के नाम निम्नलिखित हैं
रेमंड डी सेंट-गिल्स का गढ़ - त्रिपोली, लेबनान (Citadel of Raymond de Saint-Gilles – Tripoli, Lebanon)
बोडरम कैसल - बोडरम, तुर्की (Bodrum Castle – Bodrum, Turkey)
मार्गट - बनियास, सीरिया Margat – (Baniyas, Syria)
सह्युन कैसल - अल-हफ़ा, सीरिया (Sahyun Castle – Al-Haffah, Syria)
सिडोन सी कैसल - सिडोन, लेबनान (Sidon Sea Castle – Sidon, Lebanon)
मॉन्ट्रियल कैसल - शूबक, जॉर्डन (Montreal Castle – Shoubak, Jordan)
बायब्लोस कैसल - बायब्लोस, लेबनान (Byblos Castle – Byblos, Lebanon)
कोलोसी कैसल - लिमासोल, साइप्रस (Kolossi Castle – Limassol, Cyprus)
हमारे देश भारत में भी अति प्राचीन काल से किलों एवं महलों का निर्माण किया गया है। भारत के सबसे बड़े किलों में से एक, मेहरानगढ़ किला दुर्गम थार रेगिस्तान से लगभग 122 मीटर ऊपर बलुआ पत्थर की पहाड़ियों की श्रृंखला पर बना हुआ है। इस किले का निर्माण राजपूत वंश की राठौड़ शाखा के सदस्य और मारवाड़ के 15वें राठौड़ शासक राव जोधा द्वारा लगभग 1459 में करवाया गया था। जब राव जोधा को यह स्पष्ट हो गया कि उन्हें अपनी राजधानी मंडोर से कहीं और स्थानांतरित करने की आवश्यकता है, तो वर्तमान जोधपुर शहर में किला बनाने का कार्य शुरू हो गया, जिसका नाम उनके नाम पर जोधपुर रखा गया। इस किले की भव्य दीवारें अधिकतम 120 फुट तक ऊंची और कुछ स्थानों पर 65 फुट तक चौड़ी हैं। यह किला 1,200 एकड़ भूमि क्षेत्रों में फैला है। इस किले में सात दरवाजे हैं, जिनमें से सबसे प्रसिद्ध जय पोल है, जिसे 1808 में युद्ध की जीत के उपलक्ष्य में बनाया गया था। इस विशाल किले में कई खूबसूरत महल हैं जो अपने जटिल नक्काशीदार पत्थर के काम, खूबसूरत फिलीग्री बलुआ पत्थर की खिड़कियों और विशाल परस्पर जुड़े हुए आंगनों के लिए प्रसिद्ध हैं। मोती महल और फूल महल में विशेष रूप से छत और दीवारों को उत्कृष्ट रूप से चित्रित किया गया है, जबकि शीश महल में, जैसा कि नाम से स्पष्ट है, शीशे का उत्कृष्ट जड़ाऊ काम किया गया है। किले के महलों में अब मुगल कलाकृतियों, लोक संगीत वाद्ययंत्रों, वस्त्रों, कवच, लघु चित्रों, फर्नीचर और वेशभूषा के संग्रह प्रदर्शित करने वाली कई दीर्घाएँ हैं। हमारे रामपुर शहर का किला भी एक समय में अत्यंत भव्य एवं हरा भरा था। इस किले के मच्छी भवन में नवाब रहते थे। इसी के बगल में रंग महल था जो गायकी और संगीत सम्बन्धी गतिविधियों के लिए बनाया गया था। हामिद मंजिल इस पूरे किले क्षेत्र का मध्य बिंदु था। किला-ए-मुअल्ला में नवाब के यहाँ काम करने वाले सभी लोगों के लिए रहने की व्यवस्था थी। रामपुर किला रामपुर शहर के मध्य बसा है। हालांकि वर्तमान में रामपुर किला जीर्ण स्थिति में है और इसे तुरंत ही पुनर्निर्माण की आवश्यकता है।

संदर्भ
https://shorturl.at/fHNQX
https://shorturl.at/izB24
https://shorturl.at/kPXY4
https://shorturl.at/jpMQX

चित्र संदर्भ
1. ऊपर से मेहरानगढ़ किले को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. पोर्टचेस्टर कैसल किले को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. क्रैक डेस शेवेलियर्स - अल-हुस्न, सीरिया को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. रोड्स महल - रोड्स, ग्रीस को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. केराक कैसल - अल-करक, जॉर्डन को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. किरेनिया कैसल - किरेनिया, साइप्रस को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
7. सिलिफ़के कैसल - सिलिफ़के, तुर्की को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
8. कोरीकस के खंडहर - किज़कलेसी, तुर्की को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
9. ओथेलो कैसल - फैमागुस्टा, साइप्रस को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
10. मेहरानगढ़ किले को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • आइए देखें दुनिया के अलग-अलग देशों में ‘विश्व पृथ्वी दिवस’ मनाने के विभिन्न रंग
    जलवायु व ऋतु

     22-04-2024 09:55 AM


  • ये हैं दुनिया के सबसे ख़तरनाक पक्षी, जंगल का राजा शेर भी खाता हैं इनसे ख़ौफ़
    व्यवहारिक

     21-04-2024 09:44 AM


  • भगवान महावीर और प्रभु श्री राम में, क्या अनोखी समानता है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-04-2024 09:59 AM


  • क्या प्राचीन भारतीय ब्राह्मी लिपि पर था, यूनानी या ग्रीक लेखन व वर्णमाला का प्रभाव?
    ध्वनि 2- भाषायें

     19-04-2024 09:35 AM


  • विश्व धरोहर दिवस पर जानें, भारत व विश्व के अनूठे धरोहर स्थलों के बारे में
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-04-2024 09:41 AM


  • राम नवमी विशेष: वैश्विक पटल पर प्रभु श्री राम की महिमा कैसे और किन कारणों से फैली?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-04-2024 09:31 AM


  • प्राचीन ग्रीस, बेबीलोन व अन्य सभ्यताओं में हमारे देश की पहचान बना था हमारा कपास
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     16-04-2024 09:27 AM


  • विश्व कला दिवस विशेष: कला की सुंदरता में कैसे चार चाँद लगा देती है, गणित
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-04-2024 09:31 AM


  • शेर या बाघ नहीं बल्कि ये है दुनिया के सबसे खूंखार जानवर, यहां देखें सभी को
    शारीरिक

     14-04-2024 09:13 AM


  • महिला, दलित व वंचितों के प्रति दमनकारी विचारों वाले ग्रंथों को आंबेडकर ने किया अस्वीकार
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-04-2024 08:52 AM






  • © - , graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id