Post Viewership from Post Date to 24-Dec-2022 (31st Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1327 1327

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

पहनावे और सुगंध का संयोजन, आपको भीड़ में भी सबसे अलग पहचान दिलाएगा

मेरठ

 23-11-2022 10:50 AM
गंध- ख़ुशबू व इत्र

आजकल बाजार में ऐसे उत्पादों की भरमार हो गई है, जिनमें उनके प्रयोग करने के फायदे तो बड़े-बड़े अक्षरों में लिखे जाते है, लेकिन उन्हें प्रयोग में लेने से पूर्व बरतने वाली सावधानियां कहीं भी नज़र नहीं आती हैं। उदाहरण के तौर पर परफ्यूम (Perfume) की पैकेजिंग में यह वर्णित नहीं होता की, इन्हें किस अवसर, मौसम या किस प्रकार के कपड़ों के साथ प्रयोग करना है।
सुहानी सुगंध के तौर पर, वास्तव में अपने पहनावे से मिलती जुलती परफ्यूम या इत्र चुनना एक मुश्किल काम है। अक्सर महिलाएं, किशोर या किशोरियाँ भी सही परफ्यूम चुनने में कंफ्यूज (भ्रमित) हो जाती हैं। लेकिन नीचे उन तरीकों को सूचीबद्ध किया है, जिससे आप अपनी स्थिति के अनुसार सही परफ्यूम का चुनाव कर सकते हैं: अपने परफ्यूम को पहनावे के साथ मेल कराने का सबसे उचित तरीका, उसकी खुशबू के बेस नोट्स (Base Notes) की जांच करना है। इसके लिए किसी भी फ्रेगरेंस आउटलेट (Fragrance outlet) पर जाकर वहां सूचीबद्ध मानदंडों की जांच कर सकते हैं। अलग-अलग पहनावे के साथ अलग-अलग परफ्यूम लगाते समय अपनी एक्सेसरीज (Accessories) जैसे ज़ेवर, हैंड बैग, जूते, बेल्ट वगैरा पर भी अवश्य ध्यान दें। परफ्यूम इस्तेमाल करने के फायदे: 1. खुशबू: परफ्यूम को पारंपरिक रूप से सुगंध के लिए बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। यह शरीर की अप्रिय गंध को दूर रखने में मदद करता है और आपको पूरे दिन ताज़ी महक प्रदान करता है। 2. आत्मविश्वास बढ़ाता है: अच्छी पोशाक की तरह, एक बढ़िया परफ्यूम भी आपके आत्मविश्वास को बढ़ा सकता है। थोड़ी सी खुशबू आपके व्यक्तित्व के लिए चमत्कार कर सकती है। ऐसा परफ्यूम चुनें जो आपके व्यक्तित्व को निखारे और कठिनाइयों से लड़ने के लिए आपकी प्रेरणा को बढ़ाए। 3. मनोदशा में सुधार करता है: परफ्यूम का उपयोग करने के प्राथमिक लाभों में से एक यह है कि, यह किसी की भी मनोदशा को बेहतर बना सकता है। परफ्यूम आपको बेहतर महसूस कराने में मदद कर सकता है। परफ्यूम में आपकी मनोदशा के अनुरूप सुगंधों की एक विस्तृत श्रृंखला होती है। 4. सिर दर्द ठीक कर सकता है: परफ्यूम का इस्तेमाल करने से आपको लंबे समय तक रहने वाले सिरदर्द से भी छुटकारा मिल सकता है। इसलिए अगली बार जब भी आप परफ्यूम लगाएं, तो अवश्य ध्यान दें कि यह न केवल आपको अच्छी महक देता है, बल्कि आपको अच्छा महसूस भी कराता है। सही सुगंध आपके दैनिक जीवन में बड़ा अंतर ला सकती है। भीड़ में अपनी पहचान अलग करने के लिए जरूरी है की परफ्यूम की अच्छी सुगंध के साथ-साथ, हम अपने कपड़ों के अनुरूप ही खुश्बू का चुनाव करें, जैसे:
१. सुरुचिपूर्ण शैली के लिए परफ्यूम: एक सुरुचिपूर्ण कपड़ों की शैली परिष्कृत और स्त्रैण (Sophisticated and Feminine) होती है। इस श्रेणी में आने वाले परफ्यूम में Bvlgari द्वारा Omnia Crystalline EDT तथा Versace द्वारा Versense और David Yurman द्वारा Delicate Essence जैसे परफ्यूम शामिल हैं।
२. खेल-कूद शैली के लिए परफ्यूम: स्पोर्टी कपड़ों (Sporty Clothing) की शैली वाला हर व्यक्ति ऐसे कपड़े पहनता है, जो अधिक आरामदायक और तटस्थ होते हैं। इस श्रेणी में आने के लिए आपको, धावक होने की ज़रूरत नहीं है। यदि आपकी शैली स्पोर्टी है, तो आपको ऐसी सुगंधों का चयन करना चाहिए, जिनमें खट्टे, हरे और फलयुक्त तत्व हों। इस श्रेणी में Clinique द्वारा Happy , Moschino और Peace द्वारा Cheap तथा Chic Hippie Fizz और अंत में Moschino द्वारा Love and Juicy Couture जैसे कुछ परफ्यूम आते हैं।
. विदेशी (Exotic) शैली के लिए परफ्यूम: यदि आपके कपड़े चटकीले, असामान्य और रंगीन हैं, तो आप शायद विदेशी प्रकार में आ जाएंगे। आपकी शैली आपके आस-पास के लोगों का ध्यान आपको ओर खींचती है। इसलिए आपकी सिग्नेचर खुशबू (Signature Fragrance) भी आपके लुक की तरह ही आकर्षक होनी चाहिए। आपके द्वारा चुने गए परफ्यूम में मीठे मसालों के तत्व और ओरिएंटल फ्लोरल नोट्स (Oriental Floral Notes) होने चाहिए। इस श्रेणी में जो परफ्यूम सबसे उपयुक्त हैं, उनमें Night by Judith Leiber, Bright Crystal Absolu by Versace और Amor Amor in a Flash by Cacharel) शामिल हैं।
४. क्लासिक शैली (Classic Style) के लिए परफ्यूम: कपड़ों की एक क्लासिक शैली में ऐसे वस्त्र शामिल होते हैं, जो परंपरागत होते हैं और आमतौर पर नवीनतम रुझानों के साथ भी बदलते नहीं हैं। वे देखने में सहज और सरल होते हैं। यदि आपकी शैली इस श्रेणी में आती है, तो आपको ऐसी सुगंधों की तलाश करनी चाहिए जो पुष्प तत्वों के साथ अधिक पारंपरिक हों। इस श्रेणी में जो परफ्यूम सबसे उपयुक्त हैं, उनमें (Granada by Oscar de la Renta, F for Fascinating by Salvatore Ferragamo or Vert Reseda by Odin) शामिल हैं।
विशेषज्ञों द्वारा यह सलाह विशेषतौर पर दी जाती है की, महिलाओं को अपनी महँगी साड़ियों पर सीधे परफ्यूम नहीं लगाना चाहिए। साथ ही साड़ी खरीदने और उनके रखरखाव के संदर्भ में इसके अलावा भी कुछ उपयुक्त हिदायदें विशेषज्ञों के द्वारा दी जाती हैं, जैसे:
१. टिश्यू साड़ियों (Tissue Saree) के लिए: अपनी महंगी टिश्यू साड़ियों को हमेशा बनारसी कारीगरों से धुलवाने की सलाह दी जाती है। एक सामान्य ड्राई क्लीनिंग (Dry Cleaning) आपके टिश्यू में झुर्रियां डाल सकती है।
२. शिफॉन साड़ियां (Chiffon Sarees): दूसरी साड़ियों के मुकाबले इन्हें ज्यादा देखभाल की जरूरत होती है। एक कठोर रोलर इस्त्री (Roller Ironing) शिफॉन की प्राकृतिक झुर्रियों को हटा देती है। यह सलाह हमेशा दी जाती है कि अपनी साड़ियों के साथ साड़ी पिन न लगाएं, खासकर शिफॉन के साथ ऐसा बिल्कुल भी न करें। उन्हें कसकर नहीं पहनना चाहिए क्योंकि यह कपड़ा बहुत नाजुक होता है।
३. सूती साड़ी: इस किस्म को घर पर या ड्राई क्लीनिंग में धोया जा सकता है। घर पर धोने पर विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है।
. किसी भी साड़ी को सावधानी से मलमल के कपड़े में लपेटें क्योंकि यह साड़ी को दुर्गंध और अवांछित धूल से बचाता है।
५. मेटल हैंगर (Metal Hanger) का इस्तेमाल करने से बचें ताकि साड़ियों पर धब्बे न लगे। यदि आप हैंगर का उपयोग नहीं कर रहे हैं, तो इसे केवल एक फोल्ड (Fold) के साथ ही एक के ऊपर एक रखें। बहुत अधिक मोड़ने से बुनाई या कपड़ा चिपक सकता है, जिसके परिणामस्वरूप साड़ी ख़राब हो सकती है।
६. साड़ी को कभी भी सीधे धूप में न सुखाएं ।
७. अगर आप अपनी जटिल कारीगरी वाली साड़ियों को सुरक्षित रखना चाहती हैं, तो उन्हें हमेशा अंदर से बाहर की ओर मोड़ें।
८. साड़ी पर सीधे परफ्यूम, डिओडोरेंट (Perfume, Deodorant) या किसी भी प्रकार की सुगंध का उपयोग करने से एक जिद्दी दाग लग सकता है। इसलिए, सुगंध को केवल अपनी कलाई पर ही थोड़ा सा छिड़कने करने की सलाह दी जाती है।
९. पतंगों (Moths) से बचने के लिए इसके चारों ओर नेप्थलीन (Naphthalene) की गोलियां न रखें। इसके बजाय मलमल के कपड़े पर नीम की पत्तियों का प्रयोग करें ताकि वह ताजा और गंध मुक्त रहे।

संदर्भ
https://bit.ly/3ENmFKM
https://bit.ly/3gkRNrw
https://bit.ly/3glagEk

चित्र संदर्भ
1. परफ्यूम के छिड़काव को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. कलाई पर परफ्यूम के छिड़काव को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. हाथ में इत्र की बोतल को दर्शाता एक चित्रण ( Pexels)
4. प्रसन्न महिला को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5. दो महिलाओं को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. सिरदर्द को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
7. साडी में महिला को दर्शाता एक चित्रण (flickr)

***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • स्वामी दयानंद सरस्वती के विचारों पर आधारित डीएवी का इतिहास एवं समाज निर्माण में इसकी भूमिका
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-01-2023 10:34 AM


  • शिक्षा में स्थानीय भाषाओं का महत्व एवं भारत में इसकी आवश्यकता
    ध्वनि 2- भाषायें

     27-01-2023 12:19 PM


  • गणतंत्र अर्थात रिपब्लिक (Republic) शब्द की उत्पत्ति कब और किन हालातों में हुई थी?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-01-2023 12:43 PM


  • केसर के इतिहास, मूल्य तथा भारत में इसकी खेती की संभावनाओं के बारे में जानिए प्रस्तुत लेख में
    बागवानी के पौधे (बागान)

     25-01-2023 11:16 AM


  • छद्म-वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति होने के बावजूद लोकप्रिय हो रही है, होम्योपैथी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-01-2023 11:24 AM


  • भारत में मेलों की परंपरा: देश के सबसे भव्य और लोकप्रिय मेलों में से एक है मेरठ का नौचंदी मेला
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     23-01-2023 03:05 PM


  • टेलीप्रेजेंस का एक रूप है, रिमोट सर्जरी
    संचार एवं संचार यन्त्र

     22-01-2023 03:01 PM


  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स के कारण अर्थव्यवस्था भी है अलग राह पर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     21-01-2023 12:38 PM


  • पशुओं के चारे की समस्या को सुलझाने में कीट किस प्रकार हो सकते हैं सहायक
    तितलियाँ व कीड़े

     20-01-2023 11:37 AM


  • मेरठ में निर्मित भारतीय सेना व शादियों में उपयोग होने वाले बैंड के सुखदायक संगीतमय धुनों का सफर
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     19-01-2023 11:29 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id