Post Viewership from Post Date to 21-Dec-2022 (31st Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
906 222 1128

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

भारतीय बाजार में टेलीविजन की बढ़ती मांग को पूरा करेंगे, भारतीय टेलीविज़न निर्माता

मेरठ

 21-11-2022 10:37 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

भारत में टेलीविजन का एक विशाल दर्शक समूह है, जिसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है की भारत में वर्तमान में टीवी या टेलीविजन की कुल उत्पादन क्षमता लगभग 12 मिलियन यूनिट प्रति वर्ष है। हालांकि आज भारतीय बाजारों में चीनी और कोरियाई टेलीविजन उत्पादकों का दबदबा है, लेकिन भारत सरकार द्वारा 2020 में स्मार्ट टीवी (smart TV) के आयात पर अंकुश लगाने के बाद, भारत के घरेलू टीवी उत्पादकों की सेल यानी बिक्री में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।
स्मार्ट टीवी बाजार ने विशेष रूप से महामारी के दौरान एक मजबूत और स्थिर वृद्धि देखी है। भारत दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला ओटीटी बाजार (OTT Market) है और इस सेगमेंट (Segment) में साल दर साल 30% की वृद्धि देखी जा रही है, जिसने अप्रत्यक्ष रूप से टीवी उद्योग को भी बढ़ावा दिया है। वास्तव में, पिछले साल लॉकडाउन (lockdown) के बाद स्मार्ट टीवी बाजार में भारी उछाल देखा गया, क्योंकि यह घर पर उपभोक्ताओं के लिए मनोरंजन का एकमात्र स्रोत था, तथा ओटीटी प्लेटफार्मों (OTT Platforms) और सिनेमाघरों पर सभी नवीनतम रिलीज (Release) भी बंद हो रहे थे। स्मार्ट टीवी बाजार में पहले बड़े पैमाने पर 32 इंच स्क्रीन टीवी का दबदबा था, और अब यह बड़ी स्क्रीन के रूप में विकसित हो गया है। टीवी के मूल्य अनुकूलन के बावजूद, निर्माताओं ने भी मध्य से लेकर उच्च मूल्य सीमा तक कई संभावनाओं की पेशकश की है, जिससे स्मार्ट टीवी सभी के लिए एक किफायती वास्तविकता बन गया है। हालांकि भारत में टीवी निर्माताओं के सामने कई प्रमुख चुनौतियां भी हैं।
सबसे प्रमुख चिंता टीवी की कीमतों में बढ़ोतरी और ओपन सेल (Open Cells) जैसे कच्चे माल की कमी है, जो कुल टीवी लागत का 70% योगदान देता है। ओपन-सेल एक महत्वपूर्ण घटक है जिसका उपयोग टेलीविजन सेटों के निर्माण में किया जाता है। भारत में एलईडी टीवी (LED TV) खरीदारों के लिए 364 सक्रिय ओपन सेल हैं। एलईडी टीवी खरीदारों के लिए शीर्ष 3 ओपन सेल कंपनियां - डिक्सन टेक्नोलॉजीज इंडिया लिमिटेड (Dixon Technologies India Limited), रेडियंट एप्लायंसेज एंड इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड (Radiant Appliances And Electronics Private Limited) और भगवती प्रोडक्ट्स लिमिटेड (Bhagwati Products Limited) हैं।
डिक्सन टेक्नालजीज़ इंडिया लिमिटेड, एलईडी टीवी के लिए ओपन सेल का सबसे बड़ा आयातक है और 2,342 शिपमेंट के लिए जिम्मेदार है। समय के साथ, जून 2020 की तुलना में ओपन सेल की लागत में 400% की वृद्धि हुई है। साथ ही, एक और चुनौती यह भी है कि उद्योग में प्रमुख स्मार्ट टीवी ब्रांड, मार्जिन (Margin) अर्थात कमाई में बचत की कमी का भी सामना कर रहे हैं और कीमतों में वृद्धि नहीं कर पा रहे हैं। साथ ही सेमीकंडक्टर उद्योग (Semiconductor Industry) में भी भारी कमी दर्ज की गई है, जिसके बदले में आईसी चिपसेट (IC chipset) की भी कमी हो गई है जो टीवी निर्माण के लिए आवश्यक हैं। कच्चे माल की कमी ने पूरे इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग को प्रभावित किया है जिससे समग्र मूल्य वृद्धि हुई है।
सरकार ने अभी मेक इन इंडिया (Make in India) उत्पादन पर जोर देना शुरू किया है, हालांकि अभी भी बहुत सारा कच्चा माल दूसरे देशों से आयात किया जाता है। लेकिन यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम इन कंपनियों को भारत में लाएं और एक घटक निर्माण उद्योग स्थापित करें। बाहरी कंपनियों को भारत में असेंबली प्लांट (Assembly Plant) लगाने की अनुमति देने के बजाय, यहीं पर पुर्जे बनाना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे भारत को मैन्युफैक्चरिंग हब (Manufacturing Hub) बनने में मदद नहीं मिल रही है, वहीँ इसके बदले में घरेलू मैन्युफैक्चरर्स के लिए मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं। भारत में टेलीविजन निर्माता वैश्विक बाजार में प्रभुत्व रखने वाली चीनी कंपनियों को टक्कर देने के लिए टीवी के घरेलू विनिर्माण में मूल्यवर्धन के लिए प्रमुख सॉफ्टवेयर लाइसेंस (Software License) प्राप्त कर रहे हैं। इस तरह के लाइसेंस देश में अनुबंध निर्माताओं के लिए मूल उपकरण निर्माताओं (Original Equipment Manufacturers (OEM) से मूल डिजाइन निर्माताओं (Original Design Manufacturers (ODM) में उन्नति करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
भारत के सबसे बड़े अनुबंध निर्माताओं में से एक, डिक्सन टेक्नोलॉजीज (Dixon Technologies) ने एंड्रॉइड और गूगल टीवी प्लेटफॉर्म (Android and Google TV Platforms) के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के लिए गूगल के साथ एक समझौते की घोषणा की। हालांकि डिक्सन ऐसा करने वाला पहला निर्माता नहीं है, इससे पहले जुलाई 2021 में, नोएडा स्थित वीडियोटेक्स इंटरनेशनल प्रा लिमिटेड (Videotex International Pvt Ltd) भारत में टीवी के लिए एलजी के वेबओएस प्लेटफॉर्म (webOS platform) के लिए लाइसेंस प्राप्त करने वाला पहला निर्माता बन गया, जबकि सुपर प्लास्ट्रोनिक्स Super Plastronics Pvt, Ltd (SPPL), जो नोएडा में भी स्थित है, ने 2020 में ही Google TV के लिए लाइसेंस प्राप्त कर लिया था। डिक्सन ने एक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा कि वह एक साल में छह मिलियन टीवी तक का उत्पादन कर सकता है। अब तक, टीवी ब्रांडों को चीन के मूल डिजाइन निर्माताओं (Original Design Manufacturers (ODM) से निपटना पड़ता था, जिनके पास एंड्रॉइड जैसे प्लेटफॉर्म के लिए विशेष लाइसेंस थे। इसका मतलब यह है कि भारतीय ओईएम को ओपन-सेल डिस्प्ले, एलईडी लाइट और कैबिनेट (Open-cell display, LED light and cabinet) जैसे सभी प्रमुख घटकों के लिए चीनी ODM को भुगतान करना पड़ता था। टीसीएल, स्काईवर्थ और बीओई टेक्नोलॉजी ग्रुप (TCL, Skyworth and BOE Technology Group) जैसी कंपनियां कुछ प्रमुख चीनी ओडीएम हैं। ओडीएम में सक्षम होकर, भारतीय कंपनियां अनिवार्य रूप से निर्माण प्रक्रिया के एक बड़े हिस्से को संभालना चाहती हैं।
वीडियोटेक्स के निदेशक अर्जुन बजाज के अनुसार “जब आपके पास लाइसेंस होता है, तो आप अपनी खुद की सामग्री आदि का उपयोग करके सब कुछ खुद ही सोर्स कर सकते हैं। अन्यथा, आपको उनसे (चीनी ओडीएम) से ही सब कुछ खरीदना पड़ता है। देश में अभी भी लगभग 200 मिलियन कैथोड-रे ट्यूब (Cathode-Ray Tube (CRT) टीवी उपयोग में हैं, जिन्हें अभी लाइट एमिटिंग डायोड (Light Emitting Diode (LED) और स्मार्ट टीवी में अपग्रेड (उन्नत) किया जाना बाकी है। चीन के पास भारत की टीवी निर्माण क्षमता का लगभग तीन गुना है। हालाँकि, भू-राजनीतिक तनाव और कोविड-संबंधी लॉकडाउन ने चीन की क्षमता को प्रभावित किया है। 2021 में चीन की क्षमता 40 मिलियन स्मार्ट टीवी होने का अनुमान लगा, जो इस साल 32 मिलियन तक गिरने की उम्मीद है, और दिसंबर के अंत तक 28 मिलियन तक गिर सकता है।
आइए कुछ दिलचस्प और कुछ पुराने भारतीय टेलीविजन ब्रांडों पर एक नज़र डालते हैं, जो गुणवत्ता में भी अच्छे हैं और आज तक हमें स्मार्ट टीवी की सेवा देने के लिए प्रयासरत हैं:
१-ओनीडा (Onida:) संस्थापक-जीएल मीरचंदानी
1981 में दो लोगों ने मिलकर इस इंडियन टीवी कंपनी की शुरुआत की। उन्होंने शुरू में मुंबई में अपने कारखाने में अपने टीवी सेट को असेंबल करना शुरू किया। हालाँकि इसे शुरू में MIRC Electronics कहा जाता था, लेकिन बाद में ओनिडा, भारत में एक घरेलू नाम बन गया। २-वीडियोकॉन (Videocon): संस्थापक- वेणुगोपाल दूत
यह भारत की सबसे विविध भारतीय टीवी कंपनी है जिसका मुख्यालय मुंबई में है, और इसकी 17 विनिर्माण इकाइयाँ हैं। चार दशक पहले 1979 में शुरू हुआ, यह भारत में बना टीवी ब्रांड है और दुनिया भर में उत्पादों की सेवा प्रदान करता है। वीडियोकॉन उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स और घरेलू उपकरणों के क्षेत्रों में भी है। ओनिडा की तरह ही वीडियोकॉन भी अपनी स्थापना के शुरुआती दिनों से ही टेलीविजन सेटों को असेंबल करने में अग्रणी रहा है, और यह ब्लैक एंड व्हाइट (Black and White) से लेकर स्मार्ट टीवी तक टीवी के विकास में भी शामिल रहा है।
३- टी-सीरीज़ (T-Series): संस्थापक- गुलशन कुमार
दरियागंज के एक प्रसिद्ध फलों के जूस विक्रेता गुलशन कुमार जी ने 1983 में एक कैसेट की दुकान शुरू की और उसके बाद से संगीत क्षेत्र में क्रांति ला दी। जिसने आगे चलकर टी-सीरीज़ का निर्माण किया। और एक के बाद एक गाना जारी करके एक प्रमुख संगीत लेबल बन गया। कुछ वर्षों में, उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स बाजार में प्रवेश किया और स्मार्ट टीवी का निर्माण भी शुरू कर दिया। ४- माइक्रोमैक्स (Micromax): संस्थापक- राहुल शर्मा, विकार जैन, सुमीत अरोड़ा, राजेश अग्रवाल
माइक्रोमैक्स काफी समय से बाजार में है, हालांकि निश्चित रूप से यह अन्य भारतीय टीवी ब्रांडों जितना पुराना नहीं। उन्होंने 2000 में फोन का निर्माण करके बाजार में प्रवेश किया, और भारतीयों को उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला में मदद करने के लिए अपने दायरे को अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों तक फैलाया।
५- रिडेएक्स (Ridaex): संस्थापक- नवीन श्रीनिवास
रिडेएक्स - भारत, भारत में सबसे उन्नत टेलीविजन निर्माण कंपनियों में से एक है। इसे 2018 में नवीन श्रीनिवास द्वारा अधिग्रहित और बूटस्ट्रैप (Bootstrap) किया गया, लेकिन मुख्य रूप से 2016 में स्थापित किया गया। रिडेक्स का उद्देश्य फ्यूचरिस्टिक्स स्मार्ट टीवी (futuristic smart tv) का निर्माण करना है।
६-इंटेक्स (Intex): संस्थापक: नरेंद्र बंसल
इंटेक्स 1996 से बाजार में है, जो 24 साल पुरानी कंपनी है। वे पूरे भारत में मोबाइल के लिए बेहद लोकप्रिय हैं, और धीरे-धीरे एक प्रमुख भारतीय टीवी कंपनी भी बन गए।
इन सभी के अलावा भी भारत में क्लाउड वॉकर, वेस्टन और एडसन (Claude Walker, Weston and Edson) जैसी कई भारतीय टेलिविज़न निर्माता कम्पनियाँ भारतीय बाज़ार में काफ़ी अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3TSgo4p
https://bit.ly/3GmfhqO
https://bit.ly/3UFI3XH
https://bit.ly/3UPbaI2
https://bit.ly/3tJ3zit

चित्र संदर्भ
1. टेलीविज़न निर्माताओ को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. सैमसंग के टीवी निर्माण को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. ओपन सेल (Open Cells) को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
4. टीवी असेंबली प्लांट को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
5. एंड्राइड टीवी को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. वीडियोकॉन (Videocon) टीवी को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
7. माइक्रोमैक्स टीवी को दर्शाता एक चित्रण (flipkart)

***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • स्वामी दयानंद सरस्वती के विचारों पर आधारित डीएवी का इतिहास एवं समाज निर्माण में इसकी भूमिका
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-01-2023 10:34 AM


  • शिक्षा में स्थानीय भाषाओं का महत्व एवं भारत में इसकी आवश्यकता
    ध्वनि 2- भाषायें

     27-01-2023 12:19 PM


  • गणतंत्र अर्थात रिपब्लिक (Republic) शब्द की उत्पत्ति कब और किन हालातों में हुई थी?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-01-2023 12:43 PM


  • केसर के इतिहास, मूल्य तथा भारत में इसकी खेती की संभावनाओं के बारे में जानिए प्रस्तुत लेख में
    बागवानी के पौधे (बागान)

     25-01-2023 11:16 AM


  • छद्म-वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति होने के बावजूद लोकप्रिय हो रही है, होम्योपैथी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-01-2023 11:24 AM


  • भारत में मेलों की परंपरा: देश के सबसे भव्य और लोकप्रिय मेलों में से एक है मेरठ का नौचंदी मेला
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     23-01-2023 03:05 PM


  • टेलीप्रेजेंस का एक रूप है, रिमोट सर्जरी
    संचार एवं संचार यन्त्र

     22-01-2023 03:01 PM


  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स के कारण अर्थव्यवस्था भी है अलग राह पर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     21-01-2023 12:38 PM


  • पशुओं के चारे की समस्या को सुलझाने में कीट किस प्रकार हो सकते हैं सहायक
    तितलियाँ व कीड़े

     20-01-2023 11:37 AM


  • मेरठ में निर्मित भारतीय सेना व शादियों में उपयोग होने वाले बैंड के सुखदायक संगीतमय धुनों का सफर
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     19-01-2023 11:29 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id