किस युगांतरकारी पुरापाषाण खोज नेभारत को विश्व प्रागितिहास के नक्शे पर ला खड़ा किया?

मेरठ

 01-06-2022 08:56 AM
शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

30 मई, 1863 को दक्षिण भारत में रॉबर्ट ब्रूस फुट (Robert Bruce Foote) द्वारा की गई एक अनूठी खोज "एक्यूलियन टूल" (Acheulean Tool) जिसने भूविज्ञान की दुनिया को हिलाकर रख दिया। यह एक युगांतरकारी खोज साबित हुई और इसनेभारत को विश्व प्रागितिहास के नक्शे पर ला खड़ा किया। यह औजार क्वार्टजाइट (quartzite) नामक कठोर चट्टान से बनी एक हस्‍तनिर्मित कुल्हाड़ी थी। संभवत: प्रागैतिहासिक मानव ने इसे मिट्टी से कंद और जड़ें खोदने, जानवरों का शिकार आदि के लिए बनाया होगा। फुट ने इस हस्‍त-कुल्हाड़ी को एक पुरापाषाण उपकरण के रूप में पहचाना। फुट ने भारत में की गयी अपनी खोजों को अपने 1866 के लेख लेटरिटिक फॉर्मेशन में स्टोन इम्प्लीमेंट्स (Stone Implements in Lateritic Formations) की घटना पर बड़े विस्तार से प्रकाशित किया। पलक झपकते ही इनकी खोज ने भारतीय उपमहाद्वीप में रहने वाले मानव जाति की प्राचीनता को बदल कर रख दिया! हाल के एक शोध ने यह निर्धारित किया कि भारत में पुरापाषाण काल के लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले ऐसे उपकरण वर्तमान से 1.5 मिलियन वर्ष पहले के हो सकते हैं। फुट की खोज के चार महीने बाद, 28 सितंबर, 1863 को, फुट और विलियम किंग ने एक और मौलिक खोज की। चेन्नई से 60 किलोमीटर दूर तिरुवल्लूर जिले में कोर्तल्लायर नदी के पास अत्तिरमपक्कम में उन्हें हाथ की कुल्हाड़ी, क्लीवर और परतदार औजार सहित कई पत्थर के औजार मिले। प्रागैतिहासिक काल के मानव ने इनका उपयोग जलाशयों के आसपास एकत्रित जानवरों का शिकार करने और पौधों और जलीय संसाधनों का दोहन करने के लिए किया होगा। फुट को बाद में पल्लवरम में कुछ और पत्थर के औजार मिले और उन्हें यकीन हो गया कि भारत में एक पुरापाषाण काल ​​की आबादी रहती थी।
फुट ने न केवल पत्थर के औजारों की खोज की बल्कि उन्हें वर्गीकृत, सूचीबद्ध और व्यवस्थित रूप से वर्णित भी किया। उन्होंने उस तकनीक को समझने की कोशिश की जो उनके निर्माण में उपयोग की गयी होगी। उन्होंने अध्ययन किया कि क्या उपकरण क्वार्टजाइट (Quartzite), एगेट (agate), चाल्सेडोनी (chalcedony) या चर्ट (chert)(माइक्रोक्रिस्टलाइट क्वार्ट्ज (microcrystalline quartz) का एक रूप) से बना था, चाहे वह पुरापाषाण, नवपाषाण या लौह युग का हो।
तमिलनाडु के प्रागितिहास के विशेषज्ञ शांति पप्पू और कुमार अखिलेश के अनुरोध पर फ्रांस में दो तरह की तिथि-निर्धारण किया गया है जिसमें पाया गया कि अत्तिरमपक्कम से मिले पत्थर के औजार 15 लाख साल पुराने हो सकते हैं। इस तिथि के निर्धारण के लिए पैलियोमैग्नेटिक (paleomagnetic ) और कॉस्मोजेनिक न्यूक्लाइड (cosmogenic nuclide) विधियों का उपयोग किया गया।द्वि-मुख वाले पत्थर के यह औजार (टूल्स (tools ) को इस तरह से तराशा गया था कि दोनों तरफ से तेज धार हो) जैसे हस्‍तनिर्मित कुल्‍हाड़ी और क्लीवर बनाने की ऐचुलियन परंपरा से संबंधित है, जो कि हमारे सबसे करीबी पूर्वजों में से एक - होमो इरेक्टस (Homo erectus) (1.8 - 0.25 मिलियन वर्ष पूर्व या मैया (mya)) की उत्‍पत्ति मानी जाती है।
इन उपकरणों का वर्णन सबसे पहले फ्रांस (France) में अमीन्स (Amiens) के उपनगर सेंट- अचेउल (Saint-Acheul) की साइट से किया गया था। यह उपकरण पहली बार 1789 की शुरुआत में खोजे गए थे, 1836 और 1864 के बीच जैक्स बाउचर डी पर्थ (Jacques Boucher de Perth) ने इन्‍हें पुरातात्विक दुनिया के नक्शे पर रखा।सबसे पहले ज्ञात ऐचुलियन उपकरण केन्या (Kenya ) के पश्चिम तुर्काना (Turkana ) क्षेत्र से आते हैं और 1.76 मिलियन वर्ष पहले के हैं।अफ्रीका (Africa) महाद्वीप में कांगो नदी के चारों ओर घने वर्षावन में एच्यूलियन (Acheulian) पत्थर के उपकरण पाए गए। ऐसा माना जाता है कि अफ्रीका से उनका उपयोग उत्तर और पूर्व में एशिया (Asia) तक फैला: अनातोलिया से, अरब प्रायद्वीप, आधुनिक ईरान, पाकिस्तान, तथा भारत और उससे आगे फैला। यूरोप (Europe) में उनके उपयोगकर्ता पैनोनियन बेसिन (pannonian basin) और पश्चिमी भूमध्यसागरीय क्षेत्रों, आधुनिक फ्रांस (France), पश्चिमी जर्मनी (West Germany) और दक्षिणी और मध्य ब्रिटेन (Britain) तक पहुंचे। आगे के क्षेत्रों में हिमनद के कारण बहुत बाद तक मानव द्वारा की गयी कोई गतिविधि नहीं देखी गयी। तमिलनाडु में चेन्नई में अथिरामपक्कम में अचुलियन युग 1.51 मिलियन वर्ष पहले शुरू हुआ जो कि उत्तर भारत और यूरोप से भी पहले का है।
फुट के काम के आधार पर ही भारत, पुरापाषाण काल के सांस्कृतिक चरण में पहुंचा। दिलचस्प बात यह है कि फुट की खोजों से बमुश्किल डेढ़ साल पहले, अलेक्जेंडर कनिंघम को भारत में पुरातत्व सर्वेक्षणकर्ता नियुक्त किया गया था। तीन दशकों में, फूटे ने 450 से अधिक प्रागैतिहासिक स्थलों की खोज की। उनके काम ने भारत के प्रागितिहास में एक ठोस अध्याय जोड़ा और पहली बार पूर्व-साक्षर चरण की बात की गयी। फुट ने यूरोप की अपनी यात्राओं पर अपने काम की कई जोरदार प्रस्तुतियाँ दीं, इस प्रकार यह स्थापित किया कि दुनिया भर के प्रागितिहासियों के बीच 'मद्रासीय संस्कृति' को जाना जाने लगा। फुट ने भारतीय मानव अतीत को बहुत व्यापक रूप से पुरापाषाण, नवपाषाण, प्रारंभिक लौह युग और उत्तर लौह युग में विभाजित किया। उनके अन्वेषणों से 459 स्थल प्राप्त हुए जिनमें 42 पुरापाषाण, 252 नवपाषाण, 17 प्रारंभिक लौह युग शामिल थे। आधुनिक समय की तिथि-निर्धारण विधियों की कमी के कारण, फुट ने अपने उपकरणों की तारीख के लिए भूविज्ञान और स्ट्रेटीग्राफी (stratigraphy) का इस्तेमाल किया। उन्होंने प्राचीनता का पता लगाने के लिए तलछटी का बारीकी से अध्ययन किया। वह मध्य पुरापाषाण संचयन की पहचान करने वाले पहले लोगों में से थे। कुरनूल में बिल्ला सर्गम की खुदाई में, फुट और उनके बेटे हेनरी ने कई जीवित और विलुप्त प्रजातियों के जीवाश्मों की खोज की, जिनमें से कई हड्डियों में कटे के निशान और काम करने के संकेत थे। इनमें से कई को उन्होंने हड्डी के औजारों के रूप में वर्गीकृत किया। उन्होंने उनकी तुलना फ्रांस के ऊपरी पुरापाषाणकालीन मैग्डालेनियन (Magdalenian) हड्डी के औजारों से भी की। एमएलके मूर्ति (1974) और के थिम्मा रेड्डी (1976) द्वारा आसन्न गुफाओं में किए गए बाद के कार्यों ने कई पत्थर और हड्डी के औजारों का उपयोग करके एक जटिल ऊपरी पुरापाषाण संस्कृति प्राप्त की और स्थानीय जंगल संसाधनों का उनकी इष्टतम क्षमता का दोहन किया।
फुट के बाद भारत के कई महान प्रागितिहासकार आए, पप्पू और उनकी टीम ने सही मायने में अभूतपूर्व काम किया है और आगे भी कर रहे हैं। उन्होंने निचले पुरापाषाण काल ​​​​के दौरान अत्तिरंबक्कम स्थल की प्रकृति को एक झील के वातावरण के साथ एक बड़ी आर्द्रभूमि के रूप में स्थापित किया है, जहां प्रागैतिहासिक आदमी भोजन और पानी के लिए आया था। इस झील के तट पर उपकरण पाए गए थे।
यूरोपीय संग्रहालयों से कई प्रस्तावों के बावजूद, फुट ने उन्हें अपना संग्रह नहीं बेचा क्योंकि उनका मानना ​​था कि यह भारत में रहना चाहिए। उनके संग्रह को मद्रास संग्रहालय ने 1904 में 33,000 रुपये की राशि में अधिग्रहित किया था। यह सभी भारतीयों के लिए चीजों की विकासवादी योजना में अपने अस्तित्व को देखने और चिंतन करने के लिए है। पल्लवरम से हाथ की कुल्हाड़ी और अत्तिरंबक्कम से क्लीवर, जिसने इसे शुरू किया, अब चुपचाप संग्रहालय के शोकेस में स्‍थापित हैं।

संदर्भ:

https://bit.ly/3lPPImB
https://bit.ly/3LRiTjC
https://bit.ly/3GumPWu

चित्र संदर्भ
1. मद्रासियन एक निचली पुरापाषाणकालीन पुरातात्विक संस्कृति है जो भारत में लगभग 1.5 मिलियन वर्ष पहले विकसित हुई थी। यह ऐचुलियन उद्योग से संबंधित है। जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. मध्य प्लीस्टोसिन (एचुलियन) में मुख्य क्लीवर साइटों का वितरण मानचित्र; विन्सेंट मौरे 2003 (डॉट्स ज्ञात साइटों को इंगित करते हैं और उनका व्यास खोजे गए क्लीवरों की संख्या के समानुपाती होता है, लाल रंग के क्षेत्र ऐसे क्षेत्र होते हैं जहां क्लीवर ज्ञात होते हैं) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. एक एच्यूलियन हैंडैक्स (Acheulean handaxe), हाउते-गेरोन फ्रांस (Haute-Garonne France) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. पुस्तक में मुख्य पृष्ठ में रॉबर्ट ब्रूस फुट (Robert Bruce Foote) को दर्शाता एक चित्रण (amazon)

RECENT POST

  • टोक्सोप्लाज़मोसिज़ गोंडी- एक ऐसा  परजीवी जो चूहों और इंसानों को भयमुक्त कर सकता है
    कोशिका के आधार पर

     29-11-2022 10:37 AM


  • प्राचीन काल में अनुमानित तरीके से, इस तरह होता था, शरीर की ऊंचाई और जमीन का मापन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     28-11-2022 10:24 AM


  • अरब की भव्य इमारतें बहुत देखी होंगी आपने, पर क्या कभी अरबी शादी भी देखी ?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     27-11-2022 12:21 PM


  • प्रदूषण और कोहरा मिलकर बड़ा रहे है, हमारे शहरों में अँधेरा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-11-2022 10:53 AM


  • भारतीय किसानों को अधिक दूध के साथ-साथ अतिरिक्त लाभ भी पंहुचा सकती हैं, चारा फसलें
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     25-11-2022 10:49 AM


  • किसी भी व्यवसाय के सुख-दुःख का गहराई से विश्लेषण करती पुस्तक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2022 11:07 AM


  • पहनावे और सुगंध का संयोजन, आपको भीड़ में भी सबसे अलग पहचान दिलाएगा
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     23-11-2022 10:50 AM


  • कैसे कर रहे हैं हमारे देश के आदिवासी समुदाय पवित्र वनों का संरक्षण?
    जंगल

     22-11-2022 10:45 AM


  • भारतीय बाजार में टेलीविजन की बढ़ती मांग को पूरा करेंगे, भारतीय टेलीविज़न निर्माता
    संचार एवं संचार यन्त्र

     21-11-2022 10:37 AM


  • शून्य-गुरुत्वाकर्षण में इस टी-हैंडल की हरकतें आपको भी हैरान कर देंगी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     20-11-2022 12:54 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id