क्या पूरा हो पायेगा आंध्र और तेलुगु सभ्यता के प्रतीक के रूप में राजधानी अमरावती का सपना?

मेरठ

 03-01-2022 06:23 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

जब तेलंगाना से आंध्रप्रदेश अलग राज्‍य बना तो ‘हैदराबाद’ को तेलंगाना में शामिल कर दिया गया और अमरावती को आंध्रप्रदेश की राजधानी के रूप में बसाने की घोषणा की गयी ।कुछ साल बाद, शहर के मास्टर प्लान (master plan) के विकास के पहले चरण के पूरा होने के बाद, कई समस्याएं सामने आने लगी क्योंकि लोग उम्मीद के मुताबिक नई अमरावती की ओर पलायन नहीं कर रहे थे। नियोजन प्रक्रिया का एक प्रमुख पहलू नए शहरी स्थल के आसपास "ग्रामीण विकास" पर ध्यान न देना प्रतीत होता है।अमरावती एक ग्रीनफील्ड (greenfield) शहर है जिसे कृष्णा नदी के किनारे 217।23 वर्ग किमी भूमि पर विकसित किया जा रहा है, जिसकी अनुमानित क्षितिज आबादी 2050 तक 35 लाख होगी। अमरावती रणनीतिक रूप से गुंटूर जिले में स्थित है।
प्राचीन समय से ही एक विशिष्ट और सुनियोजित राजधानी शहर हमेशा तेलुगु लोगों से दूर रहा है। लगभग 1,500 साल पहले, विष्णुकुंडिनी राजाओं के शासन के दौरान, राजधानी शहर आंध्र क्षेत्र की भौगोलिक सीमा के भीतर स्थित था। राजधानी शहर कुछ समय के लिए विजयवाड़ा में और बाद में विजयवाड़ा के आसपास के अमरावती गांव में स्थित था। पहले आंध्र के राजा सातवाहन थे, जिन्होंने तेलंगाना के निजामाबाद जिले से शासन किया था। उसके बाद चालुक्य, काकतीय, विजयनगर शासक, कुतुब शाही और अंग्रेज आए। इन सभी युगों के दौरान, राजधानी भौगोलिक क्षेत्र के बाहर स्थित थी। उदाहरण के लिए, काकतीय काल के दौरान, राजधानी शहर वारंगल (तेलंगाना में) थी। कुतुब शाही काल के दौरान राजधानी शहर हैदराबाद (गोलकुंडा) थी। जब अंग्रेज आए तो राजधानी मद्रास (चेन्नई) में थी। आंध्र प्रदेश के गठन के बाद राजधानी को हैदराबाद स्थानांतरित कर दिया गया, हालांकि कुरनूल को राजधानी का दर्जा दिया गया।
तेलुगु अपने भौगोलिक क्षेत्र के भीतर एक राजधानी शहर चाहते थे। अमरावती आंध्र प्रदेश का मूल और आंध्र और तेलुगु सभ्यता का उद्गम स्थल, में एक राजधानी शहर बनाने के नायडू के फैसले के पीछे यही भाव था।यह कृष्णा नदी के दक्षिणी तट पर निर्मित किया जाएगा। "अमरावती" शब्द को अमरावती मंदिर के ऐतिहासिक शहर, जो की सतवाहन राजवंश के तेलगु राजाओं की प्राचीन राजधानी थी, से लिया गया है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने उदंडरायणपालम इलाके में 22 अक्टूबर 2015 को नींव का पत्थर रखा था। गुंटूर और विजयवाड़ा का महानगरीय क्षेत्र मिला कर अमरावती महानगर क्षेत्र का निर्माण किऐ जाने की योजना बनायी गयी थी। यह एक नव नियोजित शहर है जो गुंटूर जिले में स्थित प्राचीन अमरावती शहर से इसका नाम प्राप्त करता है। अमरावती पड़ोसी विजयवाड़ा , गुंटूर और तेनाली के साथ अमरावती महानगरीय क्षेत्र, अर्थात् आंध्र प्रदेश राजधानी क्षेत्र, जो 2011 की जनगणना के अनुसार 5।8 मिलियन की आबादी वाला आंध्र प्रदेश राज्य का सबसे बड़ा आबादी वाला क्षेत्र है, और एपीसीआरडीए द्वारा शासित है। अमरावती की राजधानी शहर थुलुर मंडल में एक नया शहर है और ऐतिहासिक बौद्ध शहर अमरवथी से अलग है। अमरावती क्षेत्र एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और प्राचीन इतिहास से कई साम्राज्यों पर शासन किया गया है। अमरावती सातवाहन राजाओं और वासरेड्डी वेंकटदाद्री नायडू के लिए राजधानी शहर थीं।अमरावती को एक सपने के साकार करने का वादा किया गया था। हालांकि, शहर, जिसे आंध्र प्रदेश की नई राजधानी के रूप में विकसित किया जा रहा था, किंतु अब प्रमुख निवेशकों की वापसी के साथ-साथ राज्य में सरकार बदलने के कारण राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के बाद इसका भविष्‍य अंधकारमय दिख रहा है। नई सरकार के सत्ता में आने के तुरंत बाद परियोजना में परेशानी की बड़बड़ाहट शुरू हो गई क्योंकि परियोजना के लिए राजनीतिक और वित्तीय सहायता की कोई गारंटी नहीं थी। हालांकि, सबसे बड़ा झटका जुलाई में आया जब विश्व बैंक ने परियोजना से हटने की घोषणा की।
राजधानी क्षेत्र विकास प्राधिकरण (सीआरडीए) (CRDA) ने 2015 में नायडू द्वारा परिकल्पित एक अनूठी लैंड पूलिंग (land pooling) योजना के तहत किसानों के साथ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इस योजना का उद्देश्य राजकोष द्वारा बिना किसी खर्च के राजधानी के लिए भूमि की व्यवस्था करना था। पूलिंग योजना एक जीत के फार्मूले (formulas) पर आधारित थी। सरकार किसानों द्वारा दी गई भूमि का विकास करेगी, उसका एक हिस्सा अपने पास रखेगी और 1,250 से 1,450 वर्ग गज का विकसित हिस्सा किसानों को लौटा देगी। किसानों को अपनी कृषि भूमि बेचने से कई गुना अधिक मिलेगा। केंद्र सरकार ने इन किसानों को विशेष मामले के रूप में पूंजीगत लाभ कर में छूट दी थी। अमरावती सस्टेनेबल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट प्रोजेक्ट (Sustainable Infrastructure and Institutional Development Project) जिसमें $ 715 मिलियन के निवेश की आवश्यकता थी, जिसमें विश्व बैंक से $ 300 मिलियन, एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (Asian Infrastructure Investment Bank) से $ 200 मिलियन और आंध्रप्रदेश सरकार से $ 215 मिलियन शामिल थे।विश्व बैंक के परियोजना से बाहर होने के कुछ दिनों के भीतर ही एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक द्वारा परियोजना से हाथ खींचने की खबर आई । समाचार रिपोर्टों के अनुसार, एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक के संचार महानिदेशक लॉरेल ओस्टफील्ड (Laurel Ostfield) ने एक ईमेल बयान में रॉयटर्स (Reuters) को बताया कि, "एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक अब अमरावती सस्टेनेबल इन्फ्रास्ट्रक्चर और इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट प्रोजेक्ट को फंडिंग के लिए विचार नहीं कर रहा है।" दो प्रमुख अंतरराष्ट्रीय बैंकों के परियोजना से बाहर होने और आंध्र प्रदेश की नई सरकार के साथ पिछली राज्य सरकार की तरह इसका समर्थन नहीं करने के कारण, परियोजना का भविष्य अनिश्चितता का सामना कर रहा है। अभी अमरावती के प्रस्‍तावित ऊंचे-ऊंचे कार्यालय और आवासीय परिसर आधे-अधूरे और वीरान पड़े हुए हैं। कंटीली झाड़ियाँ और झालरदार खरपतवार अनियंत्रित हो गयी हैं, जहां अब मवेशी चरते हैं। शायद ही कोई मानवीय गतिविधि यहां हो रही है। अमरावती इस तरह दिखती है जैसे कोई विशाल गलियों से नीचे चली गयी हो। पंचायत राज और शहरी विकास मंत्री बोत्चा सत्यनारायण के अनुसार, अब अमरावती एक 'भूतीया शहर' की तरह दिखता है। एक सपने की राजधानी के लिए भूमि प्रदान करने वाले हजारों किसान महत्वपूर्ण कार्यकारी और न्यायिक राजधानियों को क्रमशः विशाखापत्तनम और कुरनूल में स्थानांतरित करने की सरकार की योजना के विरोध में टेंट में बैठे रहते हैं, अमरावती में निर्मित संरचनाएं ढह रही हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3EErRxa
https://bit.ly/3Hnzc5X
https://bit.ly/3JtORT5
https://bit.ly/3pCWPS2

चित्र संदर्भ   
1. एपीसीआरडीए कार्यालय में अमरावती 3डी स्केच मैप को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2 अमरावती के खंडहर अवशेषों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. अमरावती में निर्माणाधीन स्थायी सचिवालय टावर 5, अप्रैल 2019 को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4.अमरावती के प्रस्‍तावित ऊंचे-ऊंचे कार्यालय और आवासीय परिसर आधे-अधूरे और वीरान पड़े हुए हैं, जिनको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • विश्व भर की पौराणिक कथाओं और धर्मों में प्रतीकात्मक महत्व रखते हैं, सरीसृप
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:21 AM


  • क्या है ऑफ ग्रिड जीवन शैली और क्या ये फायदेमंद है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:00 AM


  • प्राकृतिक व मनुष्यों द्वारा जानवरों और पौधों की प्रजातियां में संकर से उत्‍पन्‍न संतान एवं उनका स्‍वरूप
    स्तनधारी

     19-01-2022 05:17 PM


  • महामारी पारंपरिक इंटीरियर डिजाइन को कैसे बदल रही है?
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:04 AM


  • भारतीय जल निकायों में अच्छी तरह से विकसित होती है, विदेशी ग्रास कार्प
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:51 AM


  • माँ दुर्गा का अलौकिक स्वरूप, देवी चंडी का इतिहास, मेरठ में इन्हे समर्पित लोकप्रिय मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:34 AM


  • विंगसूट फ्लाइंग के जरिए अपने उड़ने के सपने को पूरा कर रहा है, मनुष्य
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:45 PM


  • मेरठ कॉलेज, 1892 में स्थापित, हमारे शहर का सबसे पुराना तथा ऐतिहासिक कॉलेज
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:34 AM


  • मकर संक्रांति की भांति विश्व संस्कृति में फसलों को शुक्रिया अदा करते त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:44 PM


  • मेरठ और उसके आसपास के क्षेत्रों में फसल नुकसान का कारण बन रही है, अत्यधिक बारिश
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 06:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id