क्या समानताएं हैं भारत में गणेश पूजन और रोम, इटली में जानूस पूजन में?

मेरठ

 01-01-2022 01:16 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

एकदन्तं महाकायं लम्बोदरगजाननम्ं।
विध्ननाशकरं देवं हेरम्बं प्रणमाम्यहम्।।
श्री गणेश को एक अन्य नाम "भूपति" अर्थात "धरती के मालिक" के रूप में भी अनुसरित किया जाता है। गजानन जो की मूलतः हिंदू भगवान के रूप में पूजे जाते हैं, किंतु ज्ञान, शक्ति और श्रद्धा की सार्वभौमिक अवधारणाओं का प्रतीक भी माने जाते हैं। चूंकि कुछ वर्षों पूर्व तक यह माना जाता था की, श्री गणेश केवल भारत और नेपाल जैसे हिंदू बहुल देशों में पूजे जाते थे, किंतु सामने आये कुछ नए शोध इनके भूपति प्रतीक अर्थात श्री गणेश की विश्व का स्वामी होने की छवि पर मुहर लगाते है। जिसके अंतर्गत गणेश जी से जुडी हुई मूर्तियाँ एवं छवियाँ विश्व के कोने-कोने से प्राप्त हो रही है।
जिस प्रकार श्री गणेश को भारत में प्रारंभ अर्थात शुरुआत का देवता माना जाता है, ठीक उसी तर्ज पर प्राचीनकाल से ही रोम (Rome, Italy, इटली की राजधानी) में जानूस (Janus) को शुरुआत के देवता के रूप में पूजा जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर (Gregorian calendar) के प्रथम माह जनवरी (एक लेटिन शब्द) को जानूस से ही लिया गया है। जानूस को फाटकों और दरवाजों के देवता के रूप में भी जाना जाता है। उन्हें परिवर्तन, संक्रमण और प्रगति के देवता के रूप में भी जाना जाता है। उन्हें पैसा, कानून और कृषि की अवधारणा पेश करने के लिए जाना जाता है। उन्हें ब्रह्मांड का संरक्षक और विशेष रूप से रोम का रक्षक माना जाता है। भारत में श्री गणेश की भांति रोम में सभी कार्यों जैसे रोपण का समय, फसल, विवाह, जन्म और प्रत्येक दिन के पहले घंटे की शुरुआत उनकी पूजा और सुबह की पहली प्रार्थना उन्हें समर्पित की जाती है। उनका नाम "जनुआ" शब्द से आया है, जिसका अर्थ द्वार या पोर्टल होता है। रोम में जानूस के मंदिर में दो द्वार थे, एक पूर्व की ओर और दूसरा पश्चिम की ओर। जानूस को दो सिर वाले देवता के रूप में चित्रित किया गया, जिसमें से एक भविष्य की ओर तथा दूसरा अतीत की ओर देख रहा था। बाद के रोमन साम्राज्य में, जानूस का चेहरा अक्सर विपरीत दिशाओं का सामना कर रहे दो सिर वाले व्यक्ति के रूप में सिक्कों पर चित्रित दिखाई देता था। चूंकि जानूस को रोम का रक्षक माना जाता था, इसलिए युद्ध में सफलता के लिए उसकी पूजा की जाती थी। मान्यता है कि जब रोम युद्ध लड़ रहा था, तो जानूस के मंदिर के द्वार खुले छोड़ दिए गए थे और शांति व्याप्त होने के दौरान उन्हें बंद कर दिया गया था। कहा जाता है कि रोम के इतिहास में केवल एक बार ही इन फाटकों को बंद किया गया था।
एक सर्वविदित ऐतिहासिक तथ्य है कि "भारत से शानदार वस्तुओं को खरीदने में रोमन साम्राज्य की अधिकांश संपत्ति खर्च की गई थी" , जो उस समय दुनिया की सबसे धनी संस्कृति मानी जाती थी। आपको जानकर आश्चर्य होगा की लैटिन और ग्रीक दोनों के साथ-साथ अंग्रेजी सहित अधिकांश यूरोपीय भाषाएँ, भारत की सबसे प्राचीन शास्त्रीय भाषा संस्कृत के भावी शाखा रूप में जानी जाती हैं। संस्कृत व्याकरण का अंतिम रूप भारत में वर्ष 800 ईसा पूर्व के दौरान प्रकाशित हुआ था। यूरोपीय भाषाओं, लैटिन और ग्रीक में कई प्रमुख मूल शब्द संस्कृत में अपनी जड़ों को खोजते हैं। इस आधार पर श्री गणेश को जानूस का ऐतिहासिक स्रोत माना जाता है, जिसके बारे में रोमवासियों ने अपनी कई भारत यात्राओं में सीखा। यही कारण है कि ग्रीक संस्कृति में जानूस का कोई उल्लेख नहीं है, वहीं से पहले रोमन संस्कृति और धर्म के बहुत से स्रोत थे। जानूस और गणेश के बीच कई समानताएँ ध्यान देने योग्य हैं। सबसे पहले, गणेश को उनकी माँ पार्वती या प्रकृति ने अपने शरीर से बनाया था, ताकि उनके स्नान घर के द्वार या दरवाजे की रक्षा की जा सके। अंततः गणेश को वरदान दिया गया कि किसी भी अन्य देवता से पहले उनकी हमेशा पूजा की जाएगी। रखवालों के भगवान के रूप में, उन्हें सभी रक्षकों या देवदूतों का प्रमुख माना जाता है। भारत में गणेश, निश्चित रूप से, बाधाओं के निवारक के रूप में भी जाने जाते हैं। जिस प्रकार जानूस के बारे में कहा गया था कि उन्होंने पैसे का आविष्कार किया था, उसी प्रकार "गण" शब्द गणित के लिए संस्कृत या गिनती की कला "गणिता" का मूल माना गया है। अतः गणेश को "मेजबानों" या गिनती और धन से सम्बंधित सफलता के देवता के रूप में भी जाना जाता है। जहाँ तक ​​गणेश (जानूस) ने धन का परिचय दिया, भारत में उनकी व्यापारिक सफलता या वित्तीय बेहतरी के देवता के रूप में भी पूजा जाता है। जानूस की भांति श्री गणेश के भी दो चेहरे हैं, एक लोकप्रिय हाथी का चेहरा जिसे हम सभी जानते हैं और एक युवा, जिद्दी बच्चे का चेहरा, जिसे, उनकी माता ने हाथी का सिर मिलने से पहले जन्म दिया गया था। शुरुआत के देवता के रूप में गणेश, न केवल भारत में बल्कि बर्मा, थाईलैंड, इंडोनेशिया, जापान, चीन और साथ ही प्राचीन फारस में भी पूजे जाते हैं। श्री गणेश का विस्तार सम्पूर्ण विश्व में दिखाई पड़ता है। उदाहरणतः मध्य अमेरिका, फारस, ईरान, अफगानिस्तान, चीन, जापान, थाईलैंड, कंबोडिया और कई अन्य दक्षिण-पूर्व एशियाई द्वीपों में भगवान गणेश की मूर्तियाँ प्राप्त होती हैं, जो कम से कम 2, 500 साल की प्राचीनता रखती हैं। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि भगवान गणेश एक हिंदू भगवान ज्ञान, शक्ति और श्रद्धा की सार्वभौमिक अवधारणाओं का प्रतीक थे। मध्य अमेरिका में खुदाई और पांडुलिपियाँ निस्संदेह यह दर्शाती हैं कि एज़्टेक संस्कृति (Aztec culture) में भी भगवान गणेश की पूजा की जाती थी।
1769-1859 के बीच एक यूरोपीय मानवविज्ञानी अलेक्जेंडर वॉन हंबोल्ट (Alexander von Humboldt) , प्रारंभिक अमेरिकी सभ्यता को एशियाई मूल का मानने वाले पहले व्यक्ति थे। 150 साल पहले, उन्होंने लिखा था कि मेक्सिको (Mexico) के लोग एक मानव आकृति की पूजा करते थे जिसका सिर एक हाथी जैसा दिखता था। कई प्राचीन सभ्यताओं की पौराणिक कथाओं, धर्म और नृविज्ञान पर विपुल लेखक, डोनाल्ड अलेक्जेंडर मैकेंज़ी (Donald Alexander Mackenzie) (1873-1936) ने एक अवलोकन के साथ पुष्टि की: माया सभ्यताओं में हाथियों के प्रतीकों का धार्मिक महत्त्व था। भगवान गणेश की पूजा सम्पूर्ण विश्व में की जाती है, ईरान में भगवान गणेश को पारसी वस्त्र पहने दिखाया जाता है, थाईलैंड में अपने हाथों में एक पौधा लिए दर्शाया जाता है। दक्षिण भारत और श्रीलंका में उन्हें कुलीन बच्चा या पिल्लैयार कहा जाता है, जबकि तिब्बती लोग उन्हें त्सोग्सबदग (tsogsbadg) कहते हैं। कंबोडियाई लोगों ने उन्हें प्राह केनेस (Prah Kenes) के रूप में अपनाया, मंगोलियाई उन्हें तोतखरौर खगन (Totkhor Khagan) कहते हैं जबकि उन्हें जापान में विनायक या शो-टेन (Sho-ten.) के नाम से जाना जाता है। इंडोनेशिया की मुद्रा, रुपिया नोट में भी भगवान गणेश की एक छवि है, जो उन्हें संख्याओं और ज्ञान के लिए एक देवत्व के रूप में दर्शाती है। कंबोडिया में हिंदू राजाओं की पीढ़ियों द्वारा निर्मित प्राचीन मंदिर परिसर में भगवान शिव, भगवान विष्णु, भगवान गणेश को प्रतिष्ठित किया गया है।
सर्वप्रथम दिए गए श्लोक का हिन्दी भावार्थ: जो एक दाँत से सुशोभित हैं, विशाल शरीरवाले हैं, लम्बोदर हैं, गजानन हैं तथा जो विघ्नोंके विनाशकर्ता हैं, मैं उन दिव्य भगवान् हेरम्बको प्रणाम करता हूँ।

संदर्भ
https://bit.ly/3mHIbHm
https://bit.ly/3pHCGdv
https://www.speakingtree.in/blog/janus-and-ganesha

चित्र संदर्भ   
1.सिक्के पर जानूस और श्री गणेश की मूर्ति को दर्शाता एक चित्रण (reddit)
2.जानूस के सिक्के को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3.गणेश, चित्रदुर्ग मूर्ति को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
4.राजा भूमिबोल अदुल्यादेज के मेरुमत में गणेश मूर्ति को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • विश्व भर की पौराणिक कथाओं और धर्मों में प्रतीकात्मक महत्व रखते हैं, सरीसृप
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:21 AM


  • क्या है ऑफ ग्रिड जीवन शैली और क्या ये फायदेमंद है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:00 AM


  • प्राकृतिक व मनुष्यों द्वारा जानवरों और पौधों की प्रजातियां में संकर से उत्‍पन्‍न संतान एवं उनका स्‍वरूप
    स्तनधारी

     19-01-2022 05:17 PM


  • महामारी पारंपरिक इंटीरियर डिजाइन को कैसे बदल रही है?
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:04 AM


  • भारतीय जल निकायों में अच्छी तरह से विकसित होती है, विदेशी ग्रास कार्प
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:51 AM


  • माँ दुर्गा का अलौकिक स्वरूप, देवी चंडी का इतिहास, मेरठ में इन्हे समर्पित लोकप्रिय मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:34 AM


  • विंगसूट फ्लाइंग के जरिए अपने उड़ने के सपने को पूरा कर रहा है, मनुष्य
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:45 PM


  • मेरठ कॉलेज, 1892 में स्थापित, हमारे शहर का सबसे पुराना तथा ऐतिहासिक कॉलेज
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:34 AM


  • मकर संक्रांति की भांति विश्व संस्कृति में फसलों को शुक्रिया अदा करते त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:44 PM


  • मेरठ और उसके आसपास के क्षेत्रों में फसल नुकसान का कारण बन रही है, अत्यधिक बारिश
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 06:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id