क्या होती है आर्द्रभूमि, जिस कारण मेरठ व् पूरे भारत में बढ़ रहा है, शानदार गुलाबी राजहंसों का आगमन?

मेरठ

 30-12-2021 09:27 AM
पंछीयाँ

आज लगभग विश्व के प्रत्येक देश में हमारे पर्यावरण ह्रास और जैव विविधताओं में आ रहे नकारात्मक बदलावों की चर्चाएं चरम पर हैं। हालांकि भारत में भी पर्यावरण संरक्षण के संदर्भ में नकारात्मक खबरे आम हैं, लेकिन इसी बीच हमारे मेरठ सहित देश के विभिन्न हिस्सों से जल, जंगल, जमीन और जीवन के संदर्भ में कुछ बहुत अच्छा हो रहा है।
सरकार द्वारा संचालित एजेंसी की मदद से हमारे मेरठ शहर में चार नई आर्द्रभूमियों के एक समूह की "खोज" की गई है, और इसे मेरठ वन विभाग, यूपी द्वारा विकसित किया जा रहा है। वानिकी अधिकारियों के अनुसार, इन चारों आर्द्रभूमि का आकार 0.03 हेक्टेयर से 2,563 हेक्टेयर तक है, जो सभी गंगा के आसपास मौजूद हैं।
दरअसल जलीय या दलदली भूमि वाले क्षेत्र को आर्द्रभूमि या वेटलैंड (wetland) के नाम से जाना जाता है। जमीन के इस हिस्से में पारितंत्र का बड़ा हिस्सा स्थाई रूप से या प्रतिवर्ष अधिकांश समय में जल से संतृप्त रहता है। ईरान के रामसर शहर में 1971 में पारित एक अभिसमय ("ऐसे सम्मेलन जहाँ किसी समान उद्देश्य को लेकर चर्चा हो।" convention) के अनुसार आर्द्रभूमि ऐसा स्थान है, जहाँ वर्ष में आठ माह पानी भरा रहता है। रामसर एक आर्द्रभूमि स्थल है, जिसे यूनेस्को द्वारा 1971 में स्थापित एक अंतर सरकारी पर्यावरण संधि रामसर कन्वेंशन के तहत नामित किया गया है, जो 1975 में लागू हुई थी। इसे रामसर कन्वेंश इसलिए कहा गया था क्यों की यह सम्मेलन रामसर, ईरान में आयोजित किया गया था। यह सम्मेलन राष्ट्रीय कार्य योजनाओं को सुगम बनाता है और आर्द्रभूमि के संरक्षण के साथ-साथ उनके संसाधनों के बुद्धिमान स्थायी उपयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्रदान करता है। हमारे शहर मेरठ के साथ ही उत्तर प्रदेश में हैदरपुर को भी देश की 47वीं साइट और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 2,463वें रामसर साइट अथवा स्थल के रूप में नामित किया गया है। जो बिजनौर से लगभग 10 किमी दूर है। हैदरपुर वेटलैंड 6,908 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला है और उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर-बिजनौर सीमा पर स्थित है। यह 1984 में सोलानी और गंगा नदियों के संगम पर मध्य गंगा बैराज के निर्माण द्वारा कृतिम तौर पर बनाया गया था। साथ ही यह हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य का एक हिस्सा भी है। मीठे पानी और भूजल पुनर्भरण का स्रोत मानी जाने वाली आर्द्रभूमि स्थल विभिन्न प्रकार की पौधों और जीव की प्रजातियों का संरक्षण एवं पालन- पोषण करती है, जिनमें दलदल हिरण, ऊदबिलाव, घड़ियाल और मछली पकड़ने वाली बिल्ली शामिल हैं। आर्द्रभूमि स्थल पक्षियों की 300 से अधिक प्रजातियों की मेजबानी भी करते है, इनमे अधिकांश सर्दियों के दौरान यहां आते हैं।
आर्द्रभूमि में देखी जाने वाली पक्षियों की एक प्रजाति ग्रेटर फ्लेमिंगो (Phoenicopterus roseus)या ग्रेटर राजहंस, राजहंस परिवार की सबसे व्यापक और सबसे बड़ी प्रजाति है। यह अफ्रीका, भारतीय उपमहाद्वीप, मध्य पूर्व और दक्षिणी यूरोप में फैली हुई है। इसे पहले अमेरिकी फ्लेमिंगो (फीनिकोप्टेरस रूबर "Phoenicopterus ruber") के समान प्रजाति माना जाता था, लेकिन इसके सिर, गर्दन, शरीर और बिल के रंग के अंतर के कारण इसे अलग प्रजाति माना जाता है। ग्रेटर फ्लेमिंगो की कोई उप-प्रजाति नहीं होती है। ग्रेटर फ्लेमिंगो राजहंस परिवार की सबसे बड़ी जीवित प्रजाति भी है, जिसका औसत आकार 110-150 सेंटीमीटर (43-59 इंच) लंबा और वजन 2-4 किलोग्राम (4.4-8.8 पाउंड) होता है।
अधिकांश ग्रेटर राजहंसों के पंख गुलाबी-सफेद होते हैं, लेकिन पंखों के आवरण लाल होते हैं और प्राथमिक और द्वितीयक उड़ान पंख काले होते हैं। चोंच पर प्रतिबंधित काली नोक, और पैर पूरी तरह से गुलाबी होते हैं। यह अफ्रीका, दक्षिणी एशिया (बांग्लादेश और पाकिस्तान, भारत और श्रीलंका के तटीय क्षेत्रों), मध्य पूर्व (बहरीन, साइप्रस, इराक, ईरान, इज़राइल, कुवैत, लेबनान, फिलिस्तीन, कतर, तुर्की और के कुछ हिस्सों में पाया जाता है। भारत के एक राज्य गुजरात में, नाल सरोवर पक्षी अभयारण्य, खिजड़िया पक्षी अभयारण्य, फ्लेमिंगो सिटी और थोल पक्षी अभयारण्य में राजहंस देखे जा सकते हैं। वे पूरे सर्दियों के मौसम में वहाँ रहते हैं।
भारत में राजहंस की दो प्रजातियाँ हैं - बड़ी और छोटी राजहंस। यहां वे बेंटिक जानवरों जैसे मोलस्क, क्रस्टेशियंस (mollusks, crustaceans) और नीले-हरे शैवाल को खाते हैं, और महासागरों, झीलों, नदियों आदि के तल पर रहते हैं। आज देश भर में कई अन्य पक्षियों और जानवरों की तरह, उनके आवास और उनके रहने के लिए आवश्यक प्राकृतिक संसाधनों को भी खतरा है। 2018 से, बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (Bombay Natural History Society (BNHS) मुंबई के वेटलैंड्स के आसपास फ्लेमिंगो नंबरों की निगरानी कर रही है। उन्होंने मई 2018 और मई 2019 के बीच कम राजहंसों की संख्या में धीरे-धीरे वृद्धि दर्ज की - लेकिन उसी अवधि में बड़े राजहंसों की संख्या में थोड़ी गिरावट आई। IUCN लाल सूची में, छोटे राजहंस को 'खतरे के करीब' और बड़े राजहंस को 'कम से कम चिंता' के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। आमतौर पर ग्रेटर फ्लेमिंगो महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान और कुछ अन्य राज्यों में मीठे पानी और मुहाना के आवासों में प्रवास करते हैं। लेकिन अच्छी खबर यह है की पिछले कुछ वर्षों के दौरान उत्तरप्रदेश के ओखला पक्षी अभयारण्य में भी राजहंस देखे गए हैं। ओखला में पिछले दो साल से राजहंस नियमित रूप से देखे जा रहे हैं। वे आमतौर पर पानी के अंदर उथले पैच पर गहरे रहते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार फ्लेमिंगो अब टार रोड के करीब तैर रहे हैं, ताकि उथले पानी में चारा मिल सके, क्योंकि वर्तमान में जल स्तर कम है।
विशेषज्ञों के अनुसार, ओखला में अब अधिक राजहंस पक्षी देखे जा रहे हैं, जो केवल गुजरात और महाराष्ट्र में प्रजनन के लिए जाने जाते थे। आज दिल्ली में नजफगढ़ झील भी इन विशाल गुलाबी पक्षियों के लिए एक लोकप्रिय अड्डा है। नल सरोवर पक्षी अभयारण्य, खिजड़िया पक्षी अभयारण्य, नेलापट्टू पक्षी अभयारण्य और भिगवान पक्षी अभयारण्य में भी राजहंस देखे जा सकते हैं। गौतमबुद्धनगर के वन अधिकारी पीके श्रीवास्तव के अनुसार राजहंस कुछ समय से ओखला में रह रहे हैं जो उनका स्थायी निवासी बन सकता हैं।

संदर्भ
https://bit.ly/3qtW9NT
https://bit.ly/3qwWiAb
https://bit.ly/3mG3OHN
https://bit.ly/3pA5F2X
https://bit.ly/3pBRv1k
https://bit.ly/32BB3oB

चित्र संदर्भ   
1.चारा ढूंढते ग्रेटर फ्लेमिंगो को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. आर्द्रभूमि को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. आर्द्रभूमि में देखी जाने वाली पक्षियों की एक प्रजाति ग्रेटर फ्लेमिंगो (Phoenicopterus roseus) ,को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. कच्छ के मैदान में ग्रेटर फ्लेमिंगो को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • विश्व भर की पौराणिक कथाओं और धर्मों में प्रतीकात्मक महत्व रखते हैं, सरीसृप
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:21 AM


  • क्या है ऑफ ग्रिड जीवन शैली और क्या ये फायदेमंद है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:00 AM


  • प्राकृतिक व मनुष्यों द्वारा जानवरों और पौधों की प्रजातियां में संकर से उत्‍पन्‍न संतान एवं उनका स्‍वरूप
    स्तनधारी

     19-01-2022 05:17 PM


  • महामारी पारंपरिक इंटीरियर डिजाइन को कैसे बदल रही है?
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:04 AM


  • भारतीय जल निकायों में अच्छी तरह से विकसित होती है, विदेशी ग्रास कार्प
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:51 AM


  • माँ दुर्गा का अलौकिक स्वरूप, देवी चंडी का इतिहास, मेरठ में इन्हे समर्पित लोकप्रिय मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:34 AM


  • विंगसूट फ्लाइंग के जरिए अपने उड़ने के सपने को पूरा कर रहा है, मनुष्य
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:45 PM


  • मेरठ कॉलेज, 1892 में स्थापित, हमारे शहर का सबसे पुराना तथा ऐतिहासिक कॉलेज
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:34 AM


  • मकर संक्रांति की भांति विश्व संस्कृति में फसलों को शुक्रिया अदा करते त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:44 PM


  • मेरठ और उसके आसपास के क्षेत्रों में फसल नुकसान का कारण बन रही है, अत्यधिक बारिश
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 06:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id