भारतीय अजगर

मेरठ

 21-12-2017 04:19 PM
रेंगने वाले जीव
मानव के सम्पूर्ण इतिहास में सापों से इसका रिश्ता अत्यन्त दिलचस्प तो है पर साथ-साथ डरावना भी है। कई संस्कृतियों में सापों को दानव के साथी के रूप में प्रदर्शित किया गया है। बाइबल से लेकर कालिया नाग तक हम इसके साक्ष्य पाते हैं। साँप सम्पूर्ण विश्व में पाए जाते हैं बस बर्फीले इलाकों को छोड़कर। साँप भी कई रूपों के होते हैं। किंग कोबरा से लेकर विश्व के सबसे छोटे साँप –वेस्टइंडीज़ थ्रेड स्नेक तक। भारत में एकतरफ साँप को यदि कालिया नाग के रूप में प्रदर्शित किया गया है तो वहीं भगवान शंकर से भी जोड़ कर दिखाया गया है जिसके कारण नागपंचमी पर साँपों की पूजा अर्चना की जाती है। मेरठ में भी कई नस्लों के साँप पाए जाते हैं जैसे करैत, कोबरा, गेहुअन आदि। उल्लखित नामों के अलावा मेरठ व भारत में कई स्थानों पर एक और साँप पाया जाता है जो एकदम से जहरीला नही होता और आकार में किंग कोबरा से भी बड़ा होता है। यह है अजगर। अजगर (पाइथॉन) मुख्यरूप से गर्म स्थानों पर पाया जाता है। अजगर एनीमेलिया जगत से सम्बन्धित होते हैं तथा इनका संघ कार्डेटे, वर्ग सरीसृप, गण स्कूमाटा, उपगण सर्प है। अजगर का निवास स्थान पेड़ पर या फिर पानी के किनारों पर होता है। जैसा की यह जहरीला नही होता इसलिये यह साँप शिकार को जकड़ कर मारते हैं। मारने के उपरांत यह अपने शिकार को निगल कर खाते हैं। आकार के अनुसार भारतीय अजगर 25 फुट तक लम्बाई का हो सकता है तथा 18 फुट के ऊपर के अजगर दुर्लभ श्रेणी में आते हैं। अजगर के सपोलों का आकार करीब 40 से 45 सें.मी. होता है। भारतीय अजगर के शारीरिक संरचना में तीन बाते प्रमुख हैं- पृष्ठीय भाग, उदर भाग व सर। यदि भारतीय अजगर की बात की जाये तो इनकी पृष्ठीय संरचना पर अनियमित प्रकार के धब्बे पड़े रहते हैं जो देखने में गहरे भूरे, काले, सफेद व पीले रंग के होते हैं। इनका उदर भाग अन्य सापों से ज्यादा सिकुड़ा हुआ होता है तथा रंग सफेद व हल्के पीले रंग के मिश्रण का बना होता है। अजगरों में मादा या नर दोनों में गुदा के पास उभार होता है। अजगर का सर त्रिकोणात्मक होता है जो कि साफ तौर पर गले से ज्यादा बड़ा होता है। अक्सर लोग अजगर को मार देते हैं तथा कई इनका शिकार भी करते हैं जिस वजह इनकी संख्या अत्यन्त कम होने लगी है। मेरठ के आसपास के क्षेत्र में अजगर बड़ी संख्या में पाए जाते थे पर अब इनकी संख्या अत्यन्त कम हो गया है। 1. इंडियन स्नेक: ओ.आर.जी. इंडियन रॉक पाइथॉन 2. इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ लाइफ, पाइथॉन मोल्युरस, इंडियन पाइथॉन 3. http://www.bagheera.com/inthewild/van_anim_python.htm

RECENT POST

  • विश्व भर की पौराणिक कथाओं और धर्मों में प्रतीकात्मक महत्व रखते हैं, सरीसृप
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:21 AM


  • क्या है ऑफ ग्रिड जीवन शैली और क्या ये फायदेमंद है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:00 AM


  • प्राकृतिक व मनुष्यों द्वारा जानवरों और पौधों की प्रजातियां में संकर से उत्‍पन्‍न संतान एवं उनका स्‍वरूप
    स्तनधारी

     19-01-2022 05:17 PM


  • महामारी पारंपरिक इंटीरियर डिजाइन को कैसे बदल रही है?
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:04 AM


  • भारतीय जल निकायों में अच्छी तरह से विकसित होती है, विदेशी ग्रास कार्प
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:51 AM


  • माँ दुर्गा का अलौकिक स्वरूप, देवी चंडी का इतिहास, मेरठ में इन्हे समर्पित लोकप्रिय मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:34 AM


  • विंगसूट फ्लाइंग के जरिए अपने उड़ने के सपने को पूरा कर रहा है, मनुष्य
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:45 PM


  • मेरठ कॉलेज, 1892 में स्थापित, हमारे शहर का सबसे पुराना तथा ऐतिहासिक कॉलेज
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:34 AM


  • मकर संक्रांति की भांति विश्व संस्कृति में फसलों को शुक्रिया अदा करते त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:44 PM


  • मेरठ और उसके आसपास के क्षेत्रों में फसल नुकसान का कारण बन रही है, अत्यधिक बारिश
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 06:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id