भारतीय अजगर

मेरठ

 21-12-2017 04:19 PM
रेंगने वाले जीव
मानव के सम्पूर्ण इतिहास में सापों से इसका रिश्ता अत्यन्त दिलचस्प तो है पर साथ-साथ डरावना भी है। कई संस्कृतियों में सापों को दानव के साथी के रूप में प्रदर्शित किया गया है। बाइबल से लेकर कालिया नाग तक हम इसके साक्ष्य पाते हैं। साँप सम्पूर्ण विश्व में पाए जाते हैं बस बर्फीले इलाकों को छोड़कर। साँप भी कई रूपों के होते हैं। किंग कोबरा से लेकर विश्व के सबसे छोटे साँप –वेस्टइंडीज़ थ्रेड स्नेक तक। भारत में एकतरफ साँप को यदि कालिया नाग के रूप में प्रदर्शित किया गया है तो वहीं भगवान शंकर से भी जोड़ कर दिखाया गया है जिसके कारण नागपंचमी पर साँपों की पूजा अर्चना की जाती है। मेरठ में भी कई नस्लों के साँप पाए जाते हैं जैसे करैत, कोबरा, गेहुअन आदि। उल्लखित नामों के अलावा मेरठ व भारत में कई स्थानों पर एक और साँप पाया जाता है जो एकदम से जहरीला नही होता और आकार में किंग कोबरा से भी बड़ा होता है। यह है अजगर। अजगर (पाइथॉन) मुख्यरूप से गर्म स्थानों पर पाया जाता है। अजगर एनीमेलिया जगत से सम्बन्धित होते हैं तथा इनका संघ कार्डेटे, वर्ग सरीसृप, गण स्कूमाटा, उपगण सर्प है। अजगर का निवास स्थान पेड़ पर या फिर पानी के किनारों पर होता है। जैसा की यह जहरीला नही होता इसलिये यह साँप शिकार को जकड़ कर मारते हैं। मारने के उपरांत यह अपने शिकार को निगल कर खाते हैं। आकार के अनुसार भारतीय अजगर 25 फुट तक लम्बाई का हो सकता है तथा 18 फुट के ऊपर के अजगर दुर्लभ श्रेणी में आते हैं। अजगर के सपोलों का आकार करीब 40 से 45 सें.मी. होता है। भारतीय अजगर के शारीरिक संरचना में तीन बाते प्रमुख हैं- पृष्ठीय भाग, उदर भाग व सर। यदि भारतीय अजगर की बात की जाये तो इनकी पृष्ठीय संरचना पर अनियमित प्रकार के धब्बे पड़े रहते हैं जो देखने में गहरे भूरे, काले, सफेद व पीले रंग के होते हैं। इनका उदर भाग अन्य सापों से ज्यादा सिकुड़ा हुआ होता है तथा रंग सफेद व हल्के पीले रंग के मिश्रण का बना होता है। अजगरों में मादा या नर दोनों में गुदा के पास उभार होता है। अजगर का सर त्रिकोणात्मक होता है जो कि साफ तौर पर गले से ज्यादा बड़ा होता है। अक्सर लोग अजगर को मार देते हैं तथा कई इनका शिकार भी करते हैं जिस वजह इनकी संख्या अत्यन्त कम होने लगी है। मेरठ के आसपास के क्षेत्र में अजगर बड़ी संख्या में पाए जाते थे पर अब इनकी संख्या अत्यन्त कम हो गया है। 1. इंडियन स्नेक: ओ.आर.जी. इंडियन रॉक पाइथॉन 2. इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ लाइफ, पाइथॉन मोल्युरस, इंडियन पाइथॉन 3. http://www.bagheera.com/inthewild/van_anim_python.htm

RECENT POST

  • बेशकीमती खाने वाला घोंसले (nest) का सूप
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-01-2021 10:51 AM


  • मेरठ में मौजूद शनिदेव की अष्‍टधातु की प्रतिमा का संक्षिप्‍त विवरण
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:13 PM


  • 7 वीं (मेरठ) डिवीजन का प्रथम विश्व युद्ध में अपरिहार्य भूमिका
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:54 PM


  • बकरी पालन व्‍यवसाय का संक्षिप्‍त विवरण
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:32 AM


  • पिछले वर्ष लॉकडाउन के तहत सड़क दुर्घटनाओ में देखी गई कमी
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 11:48 AM


  • विभिन्न वर्गों के लिए दिए जाते हैं, विभिन्न प्रकार के पासपोर्ट
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:27 PM


  • बुलियन (bullion) और न्यूमिज़माटिक (Numismatic ) में अंतर
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:44 PM


  • जीवन को बेहतरीन बनाती है, निस्वार्थ भावना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 12:03 PM


  • कोरोना महामारी के तहत चमड़े के निर्यात में 10.89% की गिरावट
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:26 PM


  • जैन धर्म के पवित्र मंदिर की दीवारों पर चित्रित दैवीय कलाकृतियाँ
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id