फ्लोरियोग्राफी है फूलों की भाषा से अपनी भावना प्रकट करना

मेरठ

 21-10-2021 08:21 AM
बागवानी के पौधे (बागान)

भाषा क्या है? केवल शब्दों के ज्ञान होने को भाषा कहना बिल्कुल भी तर्क संगत नहीं होगा! क्यों की भाषा के ज्ञान का वास्तविक अर्थ शब्दज्ञान होना ही नहीं, वरन अपनी बात को सम्प्रेषित करना अथवा अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त कर देना भी है। शब्दों का प्रयोग किये बिना भी हम केवल चेहरे के हाव भाव से आमुख व्यक्ति को अपनी भावना प्रकट कर सकते हैं। यदि आपको फिर भी अपनी बात को अभिव्यक्त करने में कठनाई होती है, तो आप "फूलों की भाषा" का उपयोग कर सकते हैं। और यदि आपको फूलों की भाषा का बेहतर ज्ञान है, तो यकीनन किसी अन्य भाषा ज्ञान की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।
तर्कशास्त्रियों द्वारा फूलों की भाषा को फ्लोरियोग्राफी (Floriography) का नाम दिया गया है। हम सभी जानते हैं की अपने रंगों और प्रकार के आधार पर सभी फूल स्वयं में अलग-अलग अर्थ रखते हैं। फ्लोरियोग्राफी भी विभिन्न प्रकार के फूलों के माध्यम से संचार करने की कला है। यदि अपने उपहार में सही फूल भेंट करना सीख लिया तो, आप फूलों की भाषा समझ जाते हैं। यूरोप, एशिया और अफ्रीका की कई संस्कृतियों में हजारों वर्षों पूर्व से ही फ्लोरियोग्राफी का अभ्यास किया जाता रहा है।
प्राचीन मिथकों और किंवदंतियों के आधार पर विभिन्न फूलों को उनके अर्थ और प्रतीकवाद प्राप्त हुए हैं। आज हजारों वर्ष बाद भी इन फूलों का वह अर्थ है, जो इसकी पौराणिक कथाओं से जुड़ा हुआ है। उदाहरण के लिए हम एक बहुचर्चित लोकप्रिय मिथक, नार्सिसस (Narcissus) की प्राचीन कहानी को ले सकते हैं।
नार्सिसस एक बेहद खूबसूरत आदमी था। एक दिन पानी में अपना ही प्रतिबिंब देखकर उसे खुद से प्रेम हो गया। उसने झील में बनने वाले प्रतिबिंब को कभी नहीं छोड़ा। हालांकि समय के साथ झील ख़त्म हो गई, जहां फूल नार्सिसस, या डैफोडिल (daffodil), के फूलों ने अपना स्थान लिया। आज यह फूल अपेक्षित प्यार, स्नेह की वापसी, सहानुभूति और वसंत के आने का प्रतीक है। हालांकि फ्लोरियोग्राफी एक प्राचीन परंपरा है लेकिन यह आमतौर पर विक्टोरियन युग से जुडी हुई मानी जाती है, जिस दौरान प्रत्येक फूल के पीछे अद्वितीय प्रतीकवाद सीखना एक लोकप्रिय शौक बन गया। उस समय, फूलों का उपयोग गुप्त संदेश देने के लिए किया जाता था। 19वीं शताब्दी के दौरान विक्टोरियन इंग्लैंड (Victorian England) और संयुक्त राज्य अमेरिका में फ्लोरियोग्राफी की लोकप्रियता में अपार वृद्धि हुई। इस समय खिले हुए फूलों, पौधों और विशिष्ट का उपयोग एक दूसरे को कोडित संदेश भेजने के लिए किया जाता था। इससे प्रेषक उन गहरी भावनाओं को व्यक्त कर सकता था, जो विक्टोरियन समाज में जोर से नहीं बोली जा सकती थीं। विक्टोरियन फूलों के छुपे हुए शब्दकोशों के ज्ञाता बन गए। वे अक्सर छोटे "बात करने वाले गुलदस्ते" का आदान-प्रदान करते थे, जिन्हें नोजगे या टस्सी-मुसी (nojge or tussi-musi) कहा जाता था। अगर आप किसी पर मोहित होते, तो आप उन्हें एक लाल गुलाब भेजेंगे और अगर उन्होंने पीले रंग का कार्नेशन वापस भेज दिया, तो संदेश स्पष्ट होगा कि उन्हें कोई दिलचस्पी नहीं थी। इस प्रकार हर फूल के रंग का अपना एक अर्थ होता है, जो इसे और भी खास बनाता है। इसलिए यदि आप किसी को गुलदस्ता भेज रहे हैं और अपनी भावनाओं को व्यक्त करना चाहते हैं, तो यह जानना बेहद जरूरी है की आपको कौन से रंग फूल गुलदस्ते में शामिल करने चाहिए। इस चुनाव को करने में हम आपकी सहायता कर सकते हैं।
1.लाल फूल : लाल फूल उपहार में देने वाले सबसे लोकप्रिय फूलों के रंगों में से एक हैं। इस रंग के फूल को जुनून, प्यार और स्नेह के अर्थ में देखा जाता है। अतः किसी के लिए अपने प्रेम की अभिव्यक्ति करने के लिए आप लाल रंग के फूलों का प्रयोग कर सकते हैं। लाल फूलों का उपयोग साहस, सम्मान और इच्छा के प्रतीक के रूप में भी किया जाता है।
2.गुलाबी फूल: विभिन्न संस्कृतियों में गुलाबी फूलों के कई अलग-अलग अर्थ होते हैं। हालांकि आमतौर पर यह फूल अनुग्रह, खुशी और मासूमियत का प्रतिनिधित्व करते हैं। थाईलैंड में, गुलाबी फूल विश्वास का प्रतीक हैं, चीन में, वे अच्छे भाग्यऔर जापान में, वे अच्छे स्वास्थ्य का प्रतीक हैं। लेकिन, पश्चिमी संस्कृतियों में, स्त्रीत्व और चंचलता का प्रतिनिधित्व करने के लिए गुलाबी फूलों का उपयोग किया जाता है। इन्हे आप अपने दोस्तों को भेंट कर सकते हैं।
3.पीले फूल: पीले रंग के फूल ख़ुशी का प्रतिनिधित्व करते हैं। अगर आप किसी दोस्त को खुश करना चाहते हैं, तो उन्हें पीले रंग के फूलों का गुलदस्ता दे सकते हैं। पीले फूल किसी भी घर को रोशन करने का एक शानदार तरीका हैं। यह हमारे घर और देखने वाले की आंखों में ख़ुशी की चमक ला सकते हैं।
4.सफेद फूल: गुलाबी फूल की तरह सफ़ेद रंग के फूल भी सांस्कृतिक भिन्नता रखते हैं। पश्चिमी संस्कृति में सरल लेकिन सुंदर, सफेद फूल पवित्रता, नम्रता और मासूमियत का अर्थ रखते हैं, और शादी में उपयोग करने के लिए या किसी ऐसे व्यक्ति को भेजने के लिए एकदम सही होते हैं। लेकिन, भारत सहित अन्य एशियाई देशों में लोगों को सफेद फूल भेजते समय सावधान रहें, क्योंकि वहां वे मृत्यु और शोक का प्रतीक माने जाते हैं, फूल के रंगो के अलावा फूल के प्रकार भी अपने आप में गुप्त कोड होते हैं। जैसे:
लाल गुलाब: क्लासिक लाल गुलाब अक्सर स्थायी जुनून और अंतहीन प्यार का प्रतीक होता है।
पीला गुलाब: पीला गुलाब दोस्ती और खुशी दोनों का प्रतीक है।
अलस्ट्रोएमरिया : Alstroemeria खूबसूरत फूल हमेशा आपसी सहयोग, भक्ति और शक्ति के अर्थ के साथ दोस्ती से जुड़े रहे हैं।
हाइड्रेंजस: हाइड्रेंजस एक सुंदर, पूर्ण फूल है, जो ईमानदार, हार्दिक भावना व्यक्त करता है, और कृतज्ञता और समझ का प्रतिनिधित्व करता है।
लिली: लिली फूल पवित्रता, मासूमियत और सहानुभूति का प्रतीक होता है।
चपरासी: सुंदर चपरासी का फूल समृद्धि, सौभाग्य और सुखी जीवन का प्रतिनिधित्व करता है।

संदर्भ
https://bit.ly/3mMJoMC
https://bit.ly/3AASMHX
https://en.wikipedia.org/wiki/Language_of_flowers

चित्र संदर्भ
1. ले बाउक्वेट, मार्क सेंट-सेन्स (Le Bouquet) by Marc Saint)1951 द्वारा फ्रेंच टेपेस्ट्री (Le Bouquet) का एक चित्रण (wikimedia)
2. पानी में अपना ही प्रतिबिंब देखकर उसे खुद से प्रेम करने वाले नार्सिसस का एक चित्रण (wikimedia)
3.बेहद सुंदर लाल पुष्प का एक चित्रण (flickr)
4.गुलाबी फूल विश्वास का प्रतीक हैं, जिसको दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5.पीले रंग के फूल ख़ुशी का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिसको दर्शाता एक चित्रण (flickr)
6.सफ़ेद रंग के फूल सांस्कृतिक भिन्नता रखते हैं, जिनको दर्शाता एक चित्रण (flickr)

RECENT POST

  • कहां है सात समंदर पार जहां जाने से पूर्व गांधीजी को करने पड़े थे 3 प्रसिद्द वादे
    समुद्र

     03-12-2021 07:29 PM


  • हिन्दी और उर्दू भाषा के कौन से अद्भुत शब्द है जिनका अंग्रेजी में अनुवाद नहीं किया जा सकता ?
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 11:06 AM


  • अमेरिका में पृथ्वी पर जंगली बाघों और तेंदुए की तुलना में कहीं अधिक हैं पालतू जानवर के रूप में
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत और ब्रिटेन में चुनावी समानताएं एवं अंतर
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 09:04 AM


  • अंग्रेजी शब्द कोष में Bungalow व् Verandah शब्दों की उत्पत्ति हुई भारतीय मूल से
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:33 AM


  • हमारे मेरठ और यूरोप के आयरलैंड के बीच मौजूद रहे है कई आकर्षक संबंध
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 09:00 AM


  • 1997 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली तीसरी भारतीय महिला थी,डायना हेडन
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:11 PM


  • ख़ुशी नहीं, आनंद है जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:31 AM


  • रोमांचक खेल, बर्फ पर स्कीइंग का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:22 AM


  • प्राचीन भारतीय शिक्षा प्रणाली
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id