पाषाण युग के गेरू रंग के बर्तन कला और विज्ञान के बीच की खाई को विभक्त करते है

मेरठ

 16-10-2021 05:28 PM
खनिज

गेरू रंग के मिट्टी के बर्तनों (ओसीपी) संस्कृति के पहले अवशेष मेरठ जिले के हस्तिनापुर में 1951 में और बाद में एटा (Etah) जिले के अतरंजीखेड़ा (Atranjikhera) में पाए गए।गेरू रंग की मिट्टी के बर्तनों की संस्कृतिआमतौर पर 2000-1500 ईसा पूर्व की भारत-गंगा के मैदान की कांस्य युग की संस्कृति है, जो पूर्वी पंजाब से पूर्वोत्तर राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक फैली हुई थी।इन मिट्टी के बर्तनों में एक लाल रंग दिखाई देता है, लेकिन ये खुदाई करने वाले पुरातत्वविदों की उंगलियों पर एक गेरू रंग छोड़ते थे। इसी वजह से इनका नाम गेरू रंग के बर्तन पड़ा था। इसके साथ ही इन्हें कभी-कभी काले रंग की चित्रित पट्टी और उकेरे गए पैटर्न (Pattern) से सजाया जाता था। दूसरी ओर, पुरातत्वविदों का कहना है कि गेरू रंग के बर्तनों को उन्नत हथियारों और उपकरणों, भाला और कवच, तांबे के धातु और अग्रिम रथ के साथ चिह्नित किया गया है। इसके साथ ही, इनकी वैदिक अनुष्ठानों के साथ भी समानता को देखा गया है।पुरातत्वविद् अकिनोरी उसुगी इसे पिछली हड़प्पा बारा शैली की पुरातात्विक निरंतरता के रूप में मानते हैं, जबकि परपोला का मानना है कि, इस संस्कृति में पाई गई गाड़ियों की खोज हड़प्पा सभ्यता के संपर्क में भारत उपमहाद्वीप में भारत-ईरानी (Indo- Iranian) प्रवासन को दर्शा सकती है।
गेरू का उपयोग मध्य पाषाण युग और मध्य पुरापाषाण काल ​​में होता था। अफ्रीका (Africa) में इसके प्रयोग का सबसे पहला प्रमाण 285,000 साल पुराना है।अफ्रीका में, गेरू का उपयोग धूप से सुरक्षा के लिए और मच्छरों जैसे कीड़ों से बचाव के लिए किया जाता है। यह पराबैंगनी विकिरण के प्रभावों को रोकने के लिए वैज्ञानिक रूप से सिद्ध भी हुआ है। इसके कई अन्य उपयोग हैं।गेरू लोहे के आक्साइड (Iron oxides) और ऑक्सी हाइड्रॉक्साइड (Oxyhydroxides) से बनी मिट्टी, लोहे से भरपूर चट्टानों की एक श्रृंखला के लिए एक छत्र शब्द है। मध्य पाषाण युग के कई स्थलों पर इसका उपयोग लगभग 100,000 साल पहले से अधिक बार हुआ। साथ ही, हम भौतिक संस्कृति में अन्य महत्वपूर्ण विकास पाते हैं, जैसे कि नई उपकरण प्रौद्योगिकियां और कच्चे माल की एक विस्तृत श्रृंखला का उपयोग। नतीजतन, गेरू को अक्सर "आधुनिक मानव व्यवहार" के संकेतक के रूप में देखा जाता है और प्रतीकात्मक व्यवहार के संकेतक के रूप में इसके उपयोग के माध्यम से संज्ञानात्मक विकास होता है।यह चमकीले लाल गेरू और गेरू पाउडर के तरजीही उपयोग के साथ-साथ गेरू के सावधानी पूर्वक उत्कीर्णन द्वारा प्रबलित किया जाता है। इसलिए, गेरू के उपयोग के पुरातात्विक अध्ययन हमारे प्रारंभिक पूर्वजों के संज्ञानात्मक विकास में नई अंतर्दृष्टि दे सकते हैं।
गेरू के वर्तमान और नृवंशविज्ञान संबंधी उपयोगों ने व्याख्याओं को प्रभावित किया है कि मध्य और बाद के पाषाण युग में इसका उपयोग कैसे किया गया था। यह सावधानी के साथ किया जाना चाहिए क्योंकि गेरू के कई अलग-अलग उपयोग हैं और हम यह नहीं मान सकते कि इसका उपयोग उसी तरह से किया गया था जैसे आज किया जा रहा है।फिर भी, गेरू के गुणों के बारे में अब बहुत कुछ जाना जाता है। यहाँ इसके कुछ निश्चित उपयोग दिए गए हैं:
1. गेरू का उपयोग आसंजक के रूप में किया जाता है। इसके पाउडर को किसी उपकरण के अन्य भाग को चिपकाने के लिए उपयोग किए जाता है, जैसे हैंडल (Handle) या शाफ्ट (Shaft)। इसके इस प्रकार प्रयोग होने के प्रमाण मध्य पाषाण युग में मिलते हैं।
2. गेरू में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो श्लेषजन के टूटने को रोकते हैं। यह खाल को संरक्षित करने में मदद करता है। मध्य पाषाण युग में पदार्थों को संरक्षित करने के लिए इसके उपयोग का कोई प्रत्यक्ष प्रमाणमौजूद नहीं है। लेकिन गेरू के टुकड़ों पर निशान से संकेत मिलता है कि कुछ टुकड़ों को नरम सामग्री पर रगड़ा गया था।
3. गेरू रंगद्रव्य को पहले और अभी भी व्यापक रूप से पेंट (Paint) और कलाकृति में उपयोग किया जाता है। दुनिया भर में रॉक आर्ट पैनल (Rock art panel) में कई लाल और पीले रंग गेरू-आधारित पेंट से बने होते हैं। मध्य पाषाण युग में गेरू रंग के निर्माण के सीमित प्रमाण पाए गए हैं, लेकिन 30,000 साल पहले एक पेंट के रूप में इसका उपयोग स्थापित किया गया था। वहीं पुरातत्वविद यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि कैसे हमने गेरू की मदद से अपनी संज्ञानात्मक क्षमताओं को विकसित किया है।दशकों से, शोधकर्ताओं का मानना ​​था कि प्रागैतिहासिक स्थलों पर रंगद्रव्य के रूप में उपयोग की जाने वाली लौह समृद्ध चट्टानों का प्रतीकात्मक मूल्य था। लेकिन जैसा कि पुरातत्वविदों ने सामग्री के कार्यात्मक उपयोगों के प्रमाण को बदल दिया है, वे महसूस कर रहे हैं कि गेरू के साथ प्रारंभिक मनुष्यों का संबंध अधिक जटिल था।लोग कह सकते हैं कि गेरू कला और प्रतीकवाद का सबसे प्रारंभिक रूप है, लेकिन इसमें और भी बहुत कुछ है। गेरू बताता है कि उस समय मानव मस्तिष्क कैसे विकसित हो रहा था, और मानव अपने पर्यावरण का उपयोग किस तरह कर रहे थे। यह कला और विज्ञान के बीच की खाई को विभक्त करता है।
गेरू रंग को आमतौर पर लाल माना जाता है, लेकिन वास्तव में यह एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला पीला खनिज रंगद्रव्य है, जिसमें मिट्टी, सिलिसस (Siliceous) सामग्री और लिमोनाइट (Limonite) के रूप में जाना जाने वाला आयरन ऑक्साइड का जलयोजितरूप होता है। लिमोनाइट एक सामान्य शब्द है जो सभी प्रकार के जलयोजित आयरन ऑक्साइड को संदर्भित करता है, जिसमें गोइथाइट (Goethite) भी शामिल है, जो गेरू पृथ्वी का मूल घटक है।
जैसा कि हम सब जानते हैं कि ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं होगा जो कोरोना महामारी के कारण हुए प्रभावों से प्रभावित नहीं हुआ होगा। ऐसे ही रंगद्रव्य व्यापारी भी महामारी के कारण काफी प्रभावित हुए हैं, जहां उन्हें लगा था कि 2019 के बाद 2020 संभावित रूप से काफी सही होगा, लेकिन 2019 की तुलना में 2020 काफी खराब रहा। कोविड-19 (Covid-19) महामारी के कारण दुनिया भर में आर्थिक गतिविधियों और उद्योग के बंद होने पर प्रतिबंध के कारण हुआ है, जिसने लगभग सभी अंतिम उपयोगकर्ताओं को प्रभावित किया है।

चित्र संदर्भ
1. प्राचीन गेरू रंग के मिट्टी के बर्तन का एक चित्रण (istock)
2. गेरू रंग के मिट्टी के बर्तनों के (OCP) स्थलों के मानचित्र का एक चित्रण (wikimedia)
3. गेरुए की चट्टानों का एक चित्रण (flickr)
4. पाषाण युग के बर्तनों को संदर्भित करता हुआ एक चित्रण (wikimedia)

संदर्भ :-

https://bit.ly/3aDAWcK
https://bit.ly/3mSlpM9
https://bit.ly/3aEyhQd
https://bit.ly/3mYCzHI
https://bit.ly/2YO4Wk9
https://bit.ly/3lFo0JY


RECENT POST

  • कहां है सात समंदर पार जहां जाने से पूर्व गांधीजी को करने पड़े थे 3 प्रसिद्द वादे
    समुद्र

     03-12-2021 07:29 PM


  • हिन्दी और उर्दू भाषा के कौन से अद्भुत शब्द है जिनका अंग्रेजी में अनुवाद नहीं किया जा सकता ?
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 11:06 AM


  • अमेरिका में पृथ्वी पर जंगली बाघों और तेंदुए की तुलना में कहीं अधिक हैं पालतू जानवर के रूप में
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत और ब्रिटेन में चुनावी समानताएं एवं अंतर
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 09:04 AM


  • अंग्रेजी शब्द कोष में Bungalow व् Verandah शब्दों की उत्पत्ति हुई भारतीय मूल से
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:33 AM


  • हमारे मेरठ और यूरोप के आयरलैंड के बीच मौजूद रहे है कई आकर्षक संबंध
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 09:00 AM


  • 1997 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली तीसरी भारतीय महिला थी,डायना हेडन
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:11 PM


  • ख़ुशी नहीं, आनंद है जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:31 AM


  • रोमांचक खेल, बर्फ पर स्कीइंग का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:22 AM


  • प्राचीन भारतीय शिक्षा प्रणाली
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id