अपने पुष्‍पों के सौंदर्य के साथ अद्भुत औषधीय गुणों के धनी नागलिंग के पेड़

मेरठ

 21-06-2021 07:29 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

नागलिंग के पेड़ के फूल एक विशेष जिज्ञासा जागृत करते हैं। वे स्त्रीकेसर पर इस प्रकार फैले होते हैं मानों शिवलिंग पर नाग का फन फैला हो। इसलिए इस पेड़ को नागलिंगम कहा जाता है। इन वृक्षों की एक विशिष्‍ट प्रवृत्ति होती है यह बिना किसी चेतावनी के अपने सभी पत्‍ते गिरा देते हैं और 7- 10 दिनों के भीतर इसकी शाखाओं के शीर्ष पर पत्तियों का एक हल्का हरा गुच्छा दिखाई देने लगता है। औद्योगिक क्षेत्रों में यह देखा गया है कि अगर नागलिंगम क्लोरीन (chlorine) जैसी गैसों के संपर्क में आता है, तो यह दो घंटे के भीतर पूरी तरह से मुरझा जाता है और 24 घंटे के भीतर नए सिरे से अंकुरित हो जाता है। इसलिए इसे प्रदूषण सूचक वृक्ष भी कहा जाता है।
इसे कैनन बॉल ट्री (Canon Ball Tree) के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसके फल तोप के गोले की भांति होते हैं और जब ये फल जमीन पर गिरते हैं, तो ये इतनी तेज आवाज करते हैं कि लोगों को डर लग जाता है कि कोई विस्फोटक फट गया है। सुरक्षा कारणों से, इन पेड़ों को कभी भी फुटपाथों या दर्रों के पास नहीं लगाया जाता है क्योंकि इसके गिरने से कोई भी घायल हो सकता है। जब फल पक जाते हैं और धरती पर गिर जाते हैं, और काफी तेज आवाज के साथ खुलते हैं तथा इसकी काफी तेज गंध आती है, जो जानवरों और कीड़ों को खाने के लिए आकर्षित करती है।चमगादड़ इन फलों को पसंद करते हैं लेकिन यह अपनी तीव्र गंध के कारण लोगों को पसंद नहीं आते हैं। इसके फूल मीठे-सुगंधित होते हैं और इनमें गुलाबी-बैंगनी, सफेद-पीले आदि रंगों का मनभावन संयोजन होता है। इस पेड़ की उत्पत्ति दक्षिण अमेरिका में हुई थी। यह पेड़ 3 मीटर ऊंचाई तक बढ़ता है और पत्तियां, जो शाखाओं के सिरों पर गुच्छों में होती हैं, आमतौर पर 8 से 31 सेंटीमीटर (3 से 12 इंच) लंबी होती हैं, लेकिन 57 सेंटीमीटर (22 इंच) तक की लंबाई तक पहुंच सकती हैं। इसके फूल गुच्छों में 80 सेंटीमीटर (31 इंच) के आकार के होते हैं। एक पेड़ में प्रति दिन 1000 से अधिक फूल मौजूद रहते हैं। इसके फूल एक तीव्र गंध का उत्सर्जन करते हैं, जो रात में अधिक प्रचुर मात्रा में होती है। यह छह पंखुड़ियों के साथ 6 सेंटीमीटर (2.5 इंच) व्यास के होते हैं। हालांकि फूलों में पराग की कमी होती है, ये मधुमक्खियों के लिए बहुत आकर्षक होते हैं, जो इन्‍हें परागित करने में सहायता करती हैं। फूल दो प्रकार के पराग का उत्पादन करते हैं: केंद्र में वृत आकार के पुंकेसर से, और फण के आकार में संशोधित पुंकेसर। बढ़ई मधुमक्खी (Xylocopa brasilianorum) इसका एक आम परागणकर्ता है। अन्य बढ़ई मधुमक्खियाँ जैसे कि क्षयलोकोप फ़रोंटलीस (Xylocopa frontalis), साथ ही ततैया, फूल मक्खियों, और भौंरा द्वारा इन फूलों का परागण किया जाता है। परागकणों द्वारा इन दो हिस्सों से पराग इकट्ठा किया जाता है।
वास्‍तव में यह वर्षावन में उगने वाला वृक्ष है जो अमेजन (amazon) के जंगलों से यात्रा करते हुए भारत पहुंचा और अपने अनुकूलित जलवायु पाकर यहां पर भी पनप गया। हालांकि कुछ शोधकर्ता इसे भारत भूमि का ही मानते हैं, यह वृक्ष दक्षिण-पूर्व एशिया (Southeast Asia) में भी पाया जाता है।कई लोगों का कहना है कि आप इसके फूलों की खुशबू को कई मीलों की दूरी तक सूंघ सकते हैं, किंतु इस तथ्‍य की पुष्टी करना थोड़ा कठिन कार्य है। भारत में इसके फूलों को पवित्र माना जाता है क्योंकि इसकी पंखुड़ियां नाग के फन के समान होती हैं, जो शिवलिंग की रक्षा करती हैं। यह वृक्ष अन्‍य वृक्षों के लिए यहूदी नव वर्ष मनाते हैं, और अमेज़ॅन के शमां (Shamans of Amazon) मानते हैं कि यह बुरी आत्माओं से सुरक्षा प्रदान करते हैं। इनकी खेती व्यावसायिक रूप से नहीं की जाती है क्योंकि इसकी लकड़ी बढ़ईगिरी के लिए उपयुक्त नहीं है और साथ ही इसके फल भी मीठे नहीं होते हैं।खाद्य औषधीय और गैर-औषधीय पौधों में कहा गया है कि इसका गूदा "विनस (vinous) (शराब जैसा), एसिड (acid) अप्रिय नहीं है।" नोनी (noni) की तरह, इसे भुखमरी के फल के रूप में वर्गीकृत किया गया है।यह पेड़ प्राकृतिक औषधियों का एक स्थायी कारखाना है। बुखार के उपचार हेतु कच्चे फल के गूदे को पेय में मिलाया जाता है। लोक चिकित्सा में, फलों के गूदे को घावों को कीटाणुरहित करने, त्वचा रोगों को ठीक करने के लिए लगाया जाता है। पक्षियों और सूअरों में सांस से संब‍धित समस्‍या के उपचार हेतु किसान इसके गूदे को खिलाते हैं। माना जाता है कि इसमें एंटीबायोटिक (antibiotic), एंटीफंगल (antifungal), एंटीसेप्टिक (antiseptic), एनाल्जेसिक (analgesic) गुण होते हैं, इसके फूल, पत्ते, छाल और फलों का उपयोग सर्दी और पेट दर्द को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। शमां ने इसकी छाल का उपयोग मलेरिया के इलाज के लिए भी किया है, और इसकी युवा पत्तियों को दांत दर्द को कम करने के लिए इस्तेमाल किया है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में, पत्तियों को खालित्य, त्वचा रोगों और बुखार के उपचार में प्रयोग किया जाता है। इसके खोल सख्त और टिकाऊ होते हैं, और जिससे गहने और कटोरे बनाए जाते हैं।
भारतीय शोधकर्ताओं ने इसके मेथनॉलिक (methanolic) अर्क में एंटी-डिप्रेसेंट (anti-depressant) गुण पाए हैं और फलों के अर्क में ई-कोलाई (E-coli), बैसिलस (Bacillus ) और स्टैफिलोकोस (Staphyloccous ) जैसे रोगजनकों के खिलाफ जीवाणुरोधी गतिविधि की है। तमिलनाडु के शोधकर्ताओं ने फूलों के अर्क में महत्वपूर्ण, शक्तिशाली एंटीवार्म / एंटीपैरासाइट (antiworm/antiparasite) गतिविधियों को पाया है। ब्राजील (Brazilian ) के शोधकर्ताओं ने पाया कि इसकी पत्तियों में दर्द-सुन्न करने की क्षमता होती है, दूसरों ने कहा है कि अर्क हमारी त्वचा को यूवी (UV) क्षति से बचा सकता है, बालों को स्वस्थ रख सकता है और उम्र बढ़ने के संकेतों को दूर कर सकता है।श्रीलंका में बौद्ध संस्कृति में इनके फूलों का विशेष महत्व है। कैथरीन रेड्डी (Catherine Reddy), अपने फ्रूट्स ऑफ इंडिया (Fruits of India) में कहती हैं, बौद्ध ग्रंथों के अनुसार, बुद्ध का जन्म इसी प्रकार के पेड़ के नीचे हुआ था और "भगवान बुद्ध ने जैसे ही अपनी अंतिम सांस ली उनके चारों ओर मधुर,सुगंधित फूल गिरे।"

संदर्भ:
https://bit.ly/3iOcjzB
https://bit.ly/3xpUfQ8
https://bit.ly/3xzI4AD
https://bit.ly/3zCzuTi

चित्र संदर्भ
1. नागलिंगम पुष्प का एक चित्रण (wikimedia)
2. नागलिंगम वृक्ष का एक चित्रण (wikimedia)
3. पुष्प सहित नागलिंगम वृक्ष का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • दुनिया के सबसे बड़े पुष्प खिले हैं इस वर्ष केरल राज्य और हिमालय की घाटियों में
    बागवानी के पौधे (बागान)

     04-08-2021 10:02 AM


  • शहरीकरण में कृत्रिम बुद्धिमत्ता और ऑटोमेशन की भूमिका, एक उदाहरण मेरठ से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     03-08-2021 10:07 AM


  • एपोथोसिस (Apotheosis), जब मनुष्य स्वयं ईश्वर बन जाता है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-08-2021 09:29 AM


  • ऑप्टिकल भ्रम का सुंदर दृश्य उत्पन्न करता है, डेडवेली
    मरुस्थल

     01-08-2021 01:25 PM


  • कैसे हुई चिकन टिक्का मसाला की उत्पत्ति ?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:07 AM


  • अवैध उपनिवेशों पर सख्ती से लगाम लगा रहा है, मेरठ विकास प्राधिकरण
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-07-2021 10:43 AM


  • बोन्‍साई कला लाये घर में बहार और सिखाये धैर्य व् जीवन की तरलता का मूल्‍य
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:39 AM


  • प्रलय में क्या संदेश देता है बाल कृष्ण का अंगूठा चूसते हुए चित्र ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-07-2021 10:22 AM


  • विश्व में सर्पदंश से होने वाली मौतों की लगभग आधी होती हैं भारत में
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:04 AM


  • सुरक्षित वातावरण देख करती हमारी नाज़ुकमिज़ाज काली गर्दन वाली सारस प्रजनन
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:35 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id